मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

कैसे Bali MMA दुनिया के सबसे लोकप्रिय मार्शल आर्ट्स जिम में से एक बना

Bali MMA को एशिया के सबसे टॉप लेवल के मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स जिम में से एक माना जाता है और इसमें एक से बढ़कर एक बेहतरीन एथलीट्स मौजूद हैं, जिन्हें टॉप लेवल के ट्रेनर्स से अलग-अलग तरह के मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग मिल रही है।

लेकिन ये बात आपको जरूर चौंका सकती है कि इंडोनेशिया में स्थित इस जिम की स्थापना 2 अमेरिकी लोगों ने की थी, जिनके नाम ONE Championship स्टार एंड्रयू लियोन और उनके बड़े भाई एंथनी हैं।

मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के प्रति लगाव कैसे शुरू हुआ

Andrew Leone as a all-time New York state wrestler

लियोन ब्रदर्स, जो अमेरिकी राज्य न्यू यॉर्क के लॉन्ग आइलैंड इलाके में पले-बढ़े हैं और बचपन से ही वो खेलों से जुड़े रहे हैं। वो साथ में सर्फिंग करते और रेसलिंग भी करते थे।

खेलों के प्रति जुनून का ही नतीजा था कि धीरे-धीरे वो मार्शल आर्ट्स के प्रति भी आकर्षित होने लगे लेकिन उस समय वहां सुविधाओं की काफी कमी थी।

एंड्रयू ने कहा, “हमने शुरुआत में एक कराटे स्कूल में ट्रेनिंग करनी शुरू की।”

“हमारे शहर में रेसलिंग के अलावा केवल कराटे के ही साधन मौजूद थे। मुझे याद है कि मेरे कोच मुझ पर हंसा करते थे क्योंकि मैं कराटे की ट्रेनिंग के लिए रेसलिंग क्लास से 10 मिनट पहले ही निकल जाता था। उस समय मेरी उम्र 14 या 15 साल रही होगी।

“उसके बाद एंथनी ने कार खरीदी, इसलिए हम गाड़ी से दूसरी जगहों पर आसानी से जा सकते थे। एंथनी शुरू से ही मेरे लिए प्रेरणा का स्त्रोत रहे हैं और वो मुझे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया करते थे।”

एक तरफ एंड्रयू अलग-अलग तरह की चीजें सीख रहे थे, उन्हें रेसलिंग में सबसे अधिक सफलता मिल रही थी। वो 2 बार के ऑल-स्टेट रेसलर भी बने और उन्हें 2008 में मिसूरी वैली कॉलेज के रेसलिंग स्क्वॉड को जॉइन करने के लिए स्कॉलरशिप भी मिली थी।

लेकिन कॉलेज की एक साल की पढ़ाई के पश्चात एंड्रयू का रेसलिंग के प्रति लगाव कम होने लगा था और वो मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के प्रति आकर्षित होने लगे। उनके बड़े भाई उन्हें प्रोत्साहित कर रहे थे, जो पहले ही इस स्पोर्ट में प्रोफेशनल एथलीट का दर्जा प्राप्त कर चुके थे और नॉर्थ अमेरिका में कई बड़े मैच भी जीत चुके थे।

आखिरकार, एंड्रयू ने पढ़ाई छोड़ने का फैसला किया और अपना पूरा ध्यान मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स पर लगा दिया। ‘A Fighter’s Heart: One Man’s Journey Through The World of Fighting’ नाम की किताब को पढ़कर उन्हें और भी अधिक प्रोत्साहन मिला।

एंड्रयू ने कहा, “वो किताब एक लड़के पर आधारित थी, जो मार्शल आर्ट्स सीखने के लिए दुनिया भर का सफर तय कर रहा था। वो जिउ-जित्सु सीखने के लिए ब्राजील गया और मॉय थाई के लिए थाईलैंड।”

उस किताब ने एंड्रयू पर गहरी छाप छोड़ी, जो खुद के मार्शल आर्ट्स सफर की शुरुआत करना चाहते थे। उन्होंने 2 हजार यूएस डॉलर्स की बचत कर साल 2010 में बैंकॉक शिफ्ट होने का फैसला लिया।

यहां आने के बाद उन्होंने इंग्लिश की शिक्षा देनी शुरू की और साथ ही रेसलिंग भी सिखा रहे थे। इसके साथ-साथ उन्होंने ट्रेनिंग भी जारी रखी और जल्द ही उन्हें मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में प्रोफेशनल लेवल के मैच मिलने लगे।

2011 में वो सिंगापुर आ गए, जहां उन्होंने सिंगापुर की नेशनल रेसलिंग टीम में कोचिंग देने का काम किया और Juggernaut Fight Club के साथ भी जुड़े हुए थे। एक साल बाद उन्होंने वर्ल्ड-फेमस Phuket Top Team को रेसलिंग कोच के तौर पर जॉइन किया।

उस जगह का नाम फुकेत ही था, जहां उनकी एक बार फिर एंथनी से मुलाकात हुई और खुद को एशिया के सबसे उभरते हुए स्टार्स में से एक बनाने की ओर मजबूती से कदम आगे बढ़ाने शुरू कर दिए।

एक बड़ा अवसर

साल 2014 तक लियोन भाइयों को प्रोफेशनल मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में सफलता मिलने लगी थी।

उसी साल मई में दोनों इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में आ बसे, जहां स्टीव सूर्यादिनाता ने उन्हें Jakarta Muay Thai & MMA के सह-मालिकाना हक का ऑफर दिया। उसे स्वीकार करने के बाद दोनों भाइयों ने ब्राजीलियन जिउ-जित्सु और मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स प्रोग्राम को आगे बढ़ाया।

एंड्रयू ने बताया, “स्टीव ने मुझसे और मेरे भाई से संपर्क साधा, जहां से हमें पार्टनरशिप का ऑफर मिला। Jakarta Muay Thai and MMA हमारे लिए केवल शुरुआत मात्र थी।”

सूर्यादिनाता के साथ उनके संबंध समय के साथ और भी अच्छे होते जा रहे थे। स्टीव जानते थे कि लियोन भाइयों को सर्फिंग करना पसंद है, इसलिए उन्होंने दोनों भाइयों को बाली का भ्रमण कराया। यहां आकर उन्होंने सुझाव दिया कि वो बाली में ट्रेनिंग सेंटर खोलना चाहते हैं।

एंड्रयू ने कहा, “हमें वहां सफलता के अवसर नजर आ रहे थे। बाली में ऐसे बहुत से लोग थे, जो छुट्टियों के सीजन में ट्रेनिंग के इच्छुक थे, लेकिन वहां साधनों का काफी अभाव हुआ करता था। उस समय वहां कोई और वर्ल्ड-क्लास ट्रेनिंग मुहैया नहीं कराने में सक्षम नहीं था, जो हमारे लिए एक बड़े अवसर के समान था।”

इसलिए आइडिया की जांच और परख करने के बाद भाइयों ने अपना अंतिम निर्णय लिया।

30 वर्षीय स्टार ने कहा, “उस समय हमारी उम्र ज्यादा नहीं थी, साथ में रेसलिंग और सर्फिंग करना पसंद करते थे। जब स्टीव हमें बाली लेकर आए तो हमें पता चला कि हमारे घर से हजारों मील दूर ऐसी भी कोई जगह है। इसलिए हमने वहीं रहने का फैसला लिया।”

तुरंत सफलता मिली

अगस्त 2014 में लियोन भाइयों ने सूर्यादिनाता और कोच डॉन कार्लो-क्लॉस ने मिलकर एक पुराने गोदाम को खरीदा और अपने नए ट्रेनिंग सेंटर के निर्माण की शुरुआत की।

करीब एक महीने बाद जिम के दरवाजे ट्रेनिंग के लिए खुल चुके थे। हालांकि, शुरुआत में Bali MMA को टॉप लेवल ट्रेनिंग सेंटर्स की तुलना में साधनों की कमी के कारण संघर्ष करना पड़ा लेकिन जिम के खुलने के कुछ समय बाद ही सफलता ने उनके कदम चूमने शुरू कर दिए थे।

एंड्रयू ने कहा, “जब हमने ट्रेनिंग के लिए दरवाजे खोले, तो हमारे पास रिंग नहीं हुआ करती थी। यहां तक कि हमारे पास ग्राउंड पर मैट भी नहीं थे। लेकिन पहले ही दिन से लोग वहां आने लगे थे, उस दिन हमारे पास 8 ऑस्ट्रेलियाई लोग आए थे। उनकी ट्रिप की शुरुआत तभी हुई थी, जब हमने जिम को खोला था।”

“VICE की फाइट ब्रांच FIGHTLAND ने हमारे जिम के बारे में काफी अच्छा आर्टिकल छापा था और उस आर्टिकल की वजह से भी लोग हमारे पास आने शुरू हुए थे। वो अनुभव काफी यादगार रहा।”

जनवरी 2015 तक जिम में रिंग भी नजर आने लगी और सुविधाओं में भी काफी हद तक सुधार कर लिया। यहां तक कि उन्होंने ग्रैफिटी आर्टिस्ट को बुलाकर दीवारों पर अलग-अलग तरह के चित्र भी बनवाए। उसके बाद और भी बड़े स्टार्स उनके पास आने लगे।

एंड्रयू ने बताया, “शुरू में ईव टिंग ने हमें जॉइन किया और उसके बाद टिफनी वैन सुएस्त भी हमारी टीम से जुड़ीं। हम जो भी कर रहे थे, वो उसका हिस्सा बनना चाहती थीं। सूबा ब्रदर्स (जियानी और कियानू) भी हमारे पास आए, दूसरी ओर मेरे भाई यूरोप में रहकर मैचों में भाग ले रहे थे, जो हमारे लिए एक तरह से फायदेमंद साबित हो रहा था।”

इसमें उन्हें हेड कोच कार्लो-क्लॉस का भी साथ मिल रहा था, जो लियोन ब्रदर्स के लिए एक बड़ी प्रेरणा के तौर पर उनके साथ जुड़े रहे हैं।

एंड्रयू ने कहा, “अपने बचपन से आज तक डॉन से मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला है। वो 2 बार के न्यू यॉर्क स्टेट रेसलिंग चैंपियन रहे। वो हाई स्कूल लेवल पर अपराजित रहे थे। यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जीनिया में चौथी रैंक के रेसलर और 2 बार के नेशनल क्वालीफायर भी रहे। उनकी ये उपलब्धियां ही हमें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती आई हैं। वो हमें सुझाव देते कि क्या करना सही है और क्या नहीं।”

जिम में उन्होंने कई अन्य टॉप लेवल के ट्रेनर्स को भी जोड़ा, जिनमें BJJ कोच जोआओ पाउलो और स्ट्राइकिंग कोच माइक इकीलेई भी शामिल थे।



खुद को दूसरों से अलग साबित किया

टॉप लेवल के कोचिंग स्टाफ के दिशा-निर्देश से Bali MMA की लोकप्रियता बढ़ती जा रही थी और जल्द ही वो इंडोनेशिया के सबसे अनोखे और बड़े जिम में से एक भी बन चुका था।

एंड्रयू ने बताया, “इंडोनेशिया में मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग देने वाले कई जिम मौजूद थे लेकिन अंतर्राष्ट्रीय स्तर की ट्रेनिंग के मामले में वो सफल नहीं हो पा रहे थे।”

“लोग जिउ-जित्सु सीख रहे थे, हमारे यहां आने से पहले नो-गी जिउ-जित्सु का काफी क्रेज़ था लेकिन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कोई एथलीट नहीं पहुंच पा रहा था। मुझे लगता है जैसे ही यहां हमारा आगमन हुआ, काफी संख्या में लोग हमारी टीम पर भरोसा जताने लगे थे।”

हमें स्टेफ़र “द लॉयन” रहार्डियन, मारियो सत्या विरावन, एंथनी “द आर्केंजल” एंगलेन और अब स्वर्ग सिधार चुके केसी सुएर जैसे बड़े स्टार्स द्वारा भरोसा प्राप्त हो रहा था। इन सभी के साथ एंड्रयू ने तब ट्रेनिंग की थी, जब वो पहली बार Jakarta Muay Thai & MMA में आए थे।

जल्द ही और भी बड़े सुपरस्टार्स उनके जिम के साथ जुडने लगे, जिनमें फ्यूचर ONE विमेंस स्ट्रॉवेट वर्ल्ड चैंपियन “द पांडा” जिओंग जिंग नान, “जंगल कैट” मुहम्मद आइमान, जियानी सूबा और उनके भाई कियानू सूबा भी शामिल रहे।

साथ ही टिंग जैसे कई मार्शल आर्टिस्ट्स समय-समय पर जिम के ट्रेनिंग कैंप्स का हिस्सा बन रहे थे।

इन चीजों ने Bali MMA को एक अनोखा जिम बना दिया था और इसके एलीट एथलीट्स दूसरे देशों के जिम के एथलीट्स को भी कड़ी चुनौती देने में सफल हो रहे थे। यहां तक कि थाई एथलीट्स को भी वो चुनौती दे रहे थे।

एंड्रयू ने कहा, “दक्षिण-पूर्वी एशिया में थाईलैंड को सबसे बेस्ट मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग के लिए जाना जाता था।”

“स्पष्ट तौर पर Bali MMA से हमने लोगों की इस मानसिकता को काफी हद तक बदल कर रख दिया था। हमसे पहले किसी ने नहीं सोचा होगा कि बाली का नाम कभी वर्ल्ड-क्लास मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग के लिए जाना जाएगा।

“हालांकि, ऐसे लोग हमेशा सामने आते रहेंगे जो बेहतर ट्रेनिंग के लिए थाईलैंड को ही तवज्जो देंगे। मॉय थाई एक ऐसा स्पोर्ट है, जिससे अगर कोई एक बार जुड़ जाता है तो उससे अलग हो पाना उसके लिए लगभग नामुमकिन हो जाता है और लोग वहीं जाना अधिक पसंद करते हैं, जहाँ से उस स्पोर्ट की शुरुआत हुई हो। इसलिए मुझे लगता है कि थाई जिम्स को इस मामले में हमेशा सफलता मिलती रहेगी। लोगों को ट्रेनिंग के लिए इंडोनेशिया लाना एक बहुत बड़ा चैलेंज रहा।”

जाहिर तौर पर, Bali MMA को अन्य समस्याओं का भी सामना करना पड़ रहा था लेकिन उसके मालिकों ने धैर्य नहीं खोया और अपने जिम को सफल बनाने के लिए हमेशा से प्रतिबद्ध रहे।

एंड्रयू ने कहा, “मुझे लगता है कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लोगों का भरोसा पाना किसी ट्रेनिंग कैंप के लिए सबसे बड़ा चैलेंज होता है।”

“आमतौर पर मालिक जैसा चाहते हैं, उन्हें वैसे कोच नहीं मिल पाते इसलिए उनमें कोचों का आना-जाना लगा रहता है। सफलता प्राप्त करने के लिए इस बड़ी समस्या से निजात पाना सबसे मुश्किल काम होता है क्योंकि हर कोई अपने मन-मुताबिक काम करना चाहता है। हर कोई अपने सपनों को पूरा करना चाहता है, लेकिन जब मालिक ही आपके कोच हों, तो आपके संबंध उनसे बहुत अच्छे भी बन सकते हैं। हमें अंतर्राष्ट्रीय लेवल के एथलीट्स का भरोसा मिलता आया है और इसी कारण हमें इतनी सफलता मिल पाई है।”

जिम की सफलता का श्रेय इंडोनेशिया के उन युवा मार्शल स्टार्स को भी जाता है जो देश के क्षेत्रीय टूर्नामेंट्स और अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट्स में भाग लेना चाहते हैं। इसके अलावा कार्लो-क्लॉस और लियोन ब्रदर्स Canggu Fight Night का भी आयोजन करते हैं, एक ऐसा इवेंट जिसमें लोग जिम में एक-दूसरे के खिलाफ रिंग में उतरते हैं और अपनी स्किल्स का प्रदर्शन करते हैं।

एंड्रयू ने कहा, “हमारे साथ काफी संख्या में इंडोनेशियाई स्टार्स जुड़े हुए हैं, जकार्ता में भी और बाली में भी। हमारे साथ सीख रहे हैं, खुद में सुधार कर रहे हैं और कड़ी ट्रेनिंग कर खुद को फिट रखने के साथ-साथ अपने मार्शल आर्टिस्ट बनने के सपने को पूरा करने के प्रति धीरे-धीरे आगे बढ़ रहे हैं। जिम में नियमित तौर पर इवेंट्स का आयोजन होता है, जिससे वो एक-दूसरे के खिलाफ अपनी स्किल्स को टेस्ट कर सकें। हमारी टीम बड़े लक्ष्यों को ध्यान में रख आगे बढ़ रही है और हमें विश्वास है कि हम सही रास्ते पर आगे बढ़ रहे हैं।”

Bali MMA की आज की स्थिति

Bali MMA निश्चित तौर पर सही राह पर आगे बढ़ रहा है और जब से जिम खुला है, तब से लेकर अभी तक इसमें काफी बड़े बदलाव किए जा चुके हैं।

एक समय जो पुराना गोदाम हुआ करता था, वो आज दुनिया के सबसे बड़े मार्शल आर्ट्स जिम में से एक बन चुका है। दीवारों पर ग्रैफिटी आर्ट शानदार लगता है, उन्होंने जगह में विस्तार भी किया है और उसमें वो सब कुछ है जो एक वर्ल्ड-क्लास जिम में होना चाहिए।

एंड्रयू ने कहा, “कुछ लोग ये मान सकते हैं कि हमने इसे कॉर्पोरेट लुक दिया हुआ है लेकिन मेरा कहना ये होगा कि हमारे पास जो भी है, हम उससे बहुत खुश हैं। इस बदलाव को करने में काफी लंबा वक्त गुजर गया है और आज हम जिस मुकाम पर हैं, उससे हम बहुत खुश हैं।”

इन दिनों नायरीन “न्यूट्रॉन बॉम्ब” क्राओली, “जंगल कैट” मुहम्मद आइमान, ज़करिया लॉन्ज, पुण्या साई, बोजेना “टोटो” अँटोनियर और क्रिस्टी ओब्स्ट के अलावा कई अन्य स्टार्स ONE Championship में Bali MMA टीम का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

जिम में निरंतर दुनिया भर से लोग आते रहते हैं। यहां तक कि ONE मिडलवेट वर्ल्ड चैंपियन आंग ला “द बर्मीज़ पाइथन” न संग भी अपने हमवतन एथलीट्स से भी आग्रह कर चुके हैं कि अगर वो अपने गेम को टॉप लेवल पर पहुंचाना चाहते हैं तो Bali MMA का रुख करें।

एंड्रयू ने कहा, “हमारे आंग ला न संग के साथ संबंध काफी अच्छे हैं और वो हमें कई ऐसे एथलीट्स भेज चुके हैं, जो केवल कड़ी मेहनत करने में विश्वास रखते हैं। उन्हें स्ट्राइकिंग पहले से आती है और हम उन्हें ग्रैपलिंग में भी बेहतर बना रहे हैं, ये इसी का नतीजा है कि हम मार्शल आर्ट्स कम्यूनिटी के लिए विश्वास का पात्र बन पाए हैं।”

लियोन ब्रदर्स भी अपने सपने को पूरा कर रहे हैं, इंडोनेशिया और बाहर से आकर Bali MMA से जुडने वाले एथलीट्स को भी सफलता दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

एंड्रयू ने बताया, “हमें बेहद खुशी है कि हम इसका हिस्सा हैं। इन युवाओं को उनके सपनों को पूरा करने में मदद करने से बहुत उत्साहित महसूस कर रहे हैं।”

ये भी पढ़ें: इंडोनेशिया की Han Academy अज़ीज़ कालिम और एब्रो फर्नांडीस के लिए है खास