मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

रयो चोनन का Tribe Tokyo MMA कैसे बना पावरहाउस जिम

रयो चोनन 35 प्रोफेशनल मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स बाउट्स के साथ रिटायर हो गए थे। उनके रेज्यूमे में DEEP वेल्टरवेट वर्ल्ड चैंपियनशिप शामिल रही।

अपने करियर में उन्होंने एंडरसन “द स्पाइडर” सिल्वा और हयाटो “मैक” सकुराई जैसे लैजेंड्स के साथ मुकाबला करने के साथ ही अपने खतरनाक व तेज-तर्रार स्टाइल से “पिरान्हा” निकनेम कमाया।

उतना ही जरूरी काम 43 साल के एथलीट ने Tribe Tokyo MMA की स्थापना करके किया, जो इस समय विश्व के सबसे जाने-माने जिम में से एक है। अप्रैल 2012 में शुरुआत के बाद से इस जिम ने कई वर्ल्ड क्लास एथलीट्स को तैयार किया है।

ये कहानी है कि कैसे टोक्यो के नारीमा जिले का एक जिम आज काफी बड़ा बन चुका है। उसने ऐसे स्थिर वर्ल्ड चैंपियन तैयार किए हैं, जो भविष्य में ONE Championship में इंटनेशनल हीरोज बनेंगे।

नाम

ONE Warrior Series CEO Rich Franklin stops by Tribe Tokyo MMA

चोनन असल में मार्शल आर्ट्स की जानी-मानी टीम MAD के साथ ट्रेनिंग करते थे। इसमें उनके साथ पूर्व DEEP लाइट हेवीवेट वर्ल्ड चैंपियन योशीयुकी नाकानिशी, DEEP वेल्टरवेट वर्ल्ड चैंपियन युया शिराई और Pride के दिग्गज याशुहितो नामेकावा भी शामिल थे।

हालांकि, इन एथलीट्स के पास अपना कोई आधिकारिक जिम नहीं था और वो ज्यादातर डोजो और सुयोशी कोसाका के Alliance जिम में वर्कआउट किया करते थे।

समय आने पर चोनन ने अपने जिम का नाम Tribe Tokyo रखा। ये नाम जापानी शब्द काकूतो-जोकू से आया है, जिसका मतलब “मार्शल ट्राइब” होता है।

चोनन ने जिम का ये नाम सुव्यवस्थित दृष्टिकोष और पारिवारिक मूल्यों को दिखाने के लिए रखा। दुनिया भर में अपनी पहचान दिखाने के लिए वो जिम की ब्रांडिंग “टोक्यो” के नाम से करना चाहते थे, ताकि पूरी दुनिया को पता चल जाए कि इसका जन्म कहां हुआ था।

मुसीबतों से लड़ने की मिली ताकत

चोनन का सपना लोगों की जिंदगी बेहतर बनाना और वर्ल्ड चैंपियंस तैयार करना था, जिसकी कल्पना उन्होंने अपनी मुसीबतों के दौरान की थी।

उनका मुकाबला 2005 में हुए Pride Bushido 9 में पूर्व ओलंपिक एथलीट और मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स वर्ल्ड चैंपियन डेन हेंडरसन से हुआ था लेकिन वो मैच उनके पक्ष में नहीं रहा था। हार के बाद “पिरान्हा” ने ईमानदारी और विनम्रता से अमेरिकन लैजेंड से संपर्क किया और रिक्वेस्ट की ताकि अंतरराष्ट्रीय संबंध बनाए जा सकें।

कोनन को याद है, “मैंने उनसे पूछा कि क्या मैं उनके साथ ट्रेनिंग कर सकता हूं। मुझे लगा कि मुझमें सुधार की जरूरत है। मैंने बाहर जाकर ट्रेनिंग करने के बारे में सोचा था लेकिन मुझे इंग्लिश नहीं आती थी। सिर्फ एक पेपर डिक्शनरी मेरे पास थी।”

हाथ में पेपर डिक्शनरी के साथ इस जापानी एथलीट ने 2007 में कैलिफोर्निया के लिए उड़ान भरी, ताकि वो “हेंडो” के साथ Team Quest में ट्रेनिंग कर सकें।

वहां की सुविधाएं और ट्रेनिंग में अंतर देखकर चोनन को पहली बार खुद का मार्शल आर्ट्स जिम चलाने का आइडिया आया। ये डोजो से कहीं ज्यादा होगा। ये ऐसी जगह होगी, जहां लोग आर्ट्स और फिटनेस दोनों के लिए प्रेरित हो सकेंगे।

उन्होंने बताया, “जब मैं अमेरिका में ट्रेनिंग कर रहा था, तब कई तरह से जिम चलाने के आइडिया सोचे थे। उस समय जापान में उस तरह का कुछ भी नहीं था।”



रिस्क उठाया

टोक्यो शहर में किराए पर जगह की कीमत काफी ऊंची रहती है। साथ ही पास में रहने वाले लोग वहां जिम खोलने की अनुमति भी नहीं देते। इस तरह से ऐसा करना काफी तिकड़म भरा और महंगा सौदा होने वाला था।

इसी कारण वहां ज्यादातर जिम आपके अपने कमरे से ज्यादा बड़े नहीं होते थो, जबकि Tribe Tokyo मॉडर्न होने के साथ काफी बड़ा भी था।

चोनन ने बताया, “मैंने बिजनेस में एक सफल मित्र से पैसे उधार लिए, जो जूडो भी करता था। हमने ऐसे फाइटर्स के बारे में भी बात की, जो संघर्ष कर रहे थे। उनके पास ट्रेनिंग करने की कोई जगह नहीं थी और उन्हें ज्यादा सपोर्ट की जरूरत थी।”

“मैं अपने पैसों से ज्यादा बड़ी जगह नहीं ले पाता। ऐसे में दोस्त ने भी अच्छी मशीनों के साथ जिम खोलने में मेरे साथ निवेश किया।”

अपने कंस्ट्रक्शन बैकग्राउंड के चलते चोनन खुद भी लेबरों के साथ जुट गए क्योंकि उन्होंने Tribe Tokyo के लिए बिल्डिंग का पूरा बेसमेंट ले लिया था।

तेजी से की शुरुआत

जहां कई सारे बिजनेस की शुरुआत धीमी रहती है, Tribe Tokyo के पास शुरुआत के दूसरे ही महीने में करीब 150 मेंबर्स थे। सही टाइमिंग, लोकेशन और बिजनेस मॉडल के साथ शहर में ये एकेडमी तुरंत हिट हो गई थी।

चोनन ने बताया, “उस जगह काफी सारे लोग रहते थे और जब हमने जिम खोला था, तब वहां कोई और जिम भी नहीं था।”

“उसके बाद काफी सारे जिम ने हमारी नकल करने की कोशिश की लेकिन तब तक कोई ऐसी जगह नहीं बची थी, जहां मार्शल आर्ट्स या वेट ट्रेनिंग की जा सके।”

आजकल ONE Championship के बेस्ट मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट की लिस्ट में जापानी एथलीट्स का नाम काफी गर्व से लिया जाता है। इसमें Tribe Tokyo एथलीट की एक जोड़ी भी शामिल है, जिसमें #4 रैंक वाली विमेंस स्ट्रॉवेट दावेदार अयाका “जॉम्बी” मियूरा और #4 रैंक के फ्लाइवेट दावेदार युया “लिटल पिरान्हा” वाकामत्सु भी शामिल हैं।

साथ ही चोनन ने शोको साटो का खेल भी निखारा है, जिसने उन्हें बेंटमवेट के #2-रैंक का दावेदार बनने में मदद की। इसके अलावा, पूर्व ONE लाइटवेट वर्ल्ड चैंपियन शिन्या “टोबीकन जुडन” एओकी भी जिम में ट्रेनिंग और कोचिंग करते हैं।

और ज्यादा वर्ल्ड चैंपियन बनाने की कोशिश

Japan's Yuya Wakamatsu jumps as he is introduced at ONE: DAWN OF HEROES in Manila

Tribe Tokyo के प्रोफेशनल ट्रेनिंग सेशन अपनी कठोरता और व्यवस्थित होने के लिए जाने जाते हैं, जो चोनन के परंपरिक और मॉडर्न अनुभव के मेल की वजह से है।

घरेलू और विदेशी स्टाइल के मेल से उनके पास दुनिया भर से टैलेंट खिंचे चले आते हैं।

चोनन ने बताया, “मेरा लक्ष्य ऐसे एथलीट्स को कोचिंग देना और उन्हें प्रोफेशनल बनाने का रहा है, जो मुझसे भी ज्यादा ऊंचाई हासिल कर सकें।”

“हमारी सॉलिड प्रो ट्रेनिंग दूसरे जिमों से भी एथलीटों को आकर्षित करती है। मेरे एथलीट और मेंबर्स काफी करीबी हैं और वो जिम को अच्छे से चलाते हैं। कुछ मेंबर्स साथ में बिजनेस करते हैं। हमने सोशल एक्सचेंज के लिए अच्छी जगह बना रखी है।”

शानदार Tribe Tokyo को चलाना और इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफल बनाना आज के दिन तक चोनन के लिए काफी कमाल का अनुभव साबित हुआ। उनकी बॉडी और माइंड दोनों प्रोफेशनल मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट को उनकी सीमा तक धकेलते हैं। साथ ही वो अपने पूरे समय को नई पीढ़ी के बेहतरीन एथलीट बनाने में झोंक देते हैं।

Tribe Tokyo की मेंबरशिप, कोचिंग, एथलीट केयर और मैनेजमेंट जैसी सब चीजें “पिरान्हा” खुद देखते हैं। इतनी मेहनत के बावजूद वो अपनी लोकल कम्युनिटी में बदलाव न ला पाने से खुश नहीं हैं, जबकि ग्लोबल स्टेज पर वो कई सारे हीरोज बना चुके हैं।

जापानी लेजेंड ने बताया, “मार्शल आर्ट्स ने मेरी जिंदगी बचाई है इसलिए ये मेरे लिए बहुत जरूरी चीज है। जब वो मेरे पास ट्रेनिंग के लिए आएंगे तो भले थोड़ा सा ही सही, मैं उसे दूसरे लोगों तक पहुंचाना चाहता हूं।”

Tribe Tokyo के आदर्शों पर इसका ये एटिट्यूड एक बड़ा कारण है क्योंकि उनका मानना है, “ट्रेनिंग मुस्कुराहट के साथ पूरी करो।”

ये भी पढ़ें: फिलीपींस की वर्ल्ड फेमस Team Lakay की अनकही कहानी