मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

United MMA: एक फैमिली जिम जहां वर्ल्ड चैंपियन बनते हैं

वर्ल्ड चैंपियन भाई-बहन “अनस्टॉपेबल” एंजेला ली और क्रिश्चियन “द वॉरियर” ली के लिए मार्शल आर्ट्स हमेशा परिवार का हिस्सा रहा है। सफल बनाने के लिए बचपन से उनके माता-पिता ने उन्हें अपने संरक्षण में तैयार किया।

उनके पिता कैन और माता ज्वेल्ज दोनों पूरी जिंदगी मार्शल आर्टिस्ट रहे हैं। उन्होंने दूसरों की मदद करने के लिए एक जिम भी खोल रखा है, जिसे वो गाड़ी की तरह दशकों से चला रहे हैं। हालांकि, हवाई के वाईपाहू में वर्तमान में उनका United MMA का सेटअप नौनिहालों की इच्छा को देखते हुए बनाया गया है।

एंजेला और क्रिश्चियन दोनों में ही गजब की प्रतिभा थी। इससे ये बात एकदम साफ होती थी कि उन्हें अपने करियर को तेजी से आगे बढ़ाने के लिए सही सुविधाओं की जरूरत थी।

आइए जानते हैं कि उनका फैमिली जिम कैसे शुरू हुआ और किस तरह बढ़कर एक बेहतरीन टैलेंट हब में बदल गया, जिसे आज हम सब जानते हैं।

यूनाइटेड MMA के पूर्वजAngela Lee with her brother, Christian, her dad, Ken, and her mom, Jewelz

मार्शल आर्ट्स कैन और ज्वेल्ज की रगों में बसता है और वो इसी के लिए जाने जाते हैं।

दोनों ही टायक्वोंडो में ट्रेनिंग करते हुए बड़े हुए, जो उन्होंने अपने माता-पिता से सीखा। काफी साल तक कैन ने कई तरह की स्ट्राइकिंग और ग्रैपलिंग कलाओं को सीखना जारी रखा। वो अपनी स्किल सेट और नॉलेज बेस बढ़ाते रहे।

साल 1996 में इस जोड़े ने कनाडा में अपना पहला जिम खोला था। ये बिजनेस बढ़कर तीन लोकेशन तक फैल गया। फिर कैन ने कैनेडियन पैंक्रेशन फेडरेशन की कमान 2002 में संभाल ली।

बिजनेस के फलने-फूलने और उनके स्टूडेंट्स के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफल होने के बावजूद ली दंपत्ति 2003 में हवाई चले गए, जहां ली ने एक रियल एस्टेट कंपनी एशियन पैसेफिक इंवेस्टमेंट बनाने पर ध्यान देना शुरू कर दिया।

उन्होंने याद करते हुए बताया, “मैं शुरुआत में टीचिंग से ब्रेक लेना चाहता था लेकिन अपने बच्चों की मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग जारी रखना चाहता था। मैं ऐसी कोई एकेडमी नहीं तलाश पाया, जो पूरी तरह मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स को सिखा सके इसलिए मैंने घर में ही एक जिम बनाया और टीचिंग देने लगा।”

Ken Lee teaches children at United MMA

प्रगति मिलने के चलते कैन ने परिवार के दूसरे सदस्यों को भी ट्रेनिंग देनी शुरू कर दी। फिर उन्होंने छोटी पब्लिक क्लासेज भी शुरू कर दीं। जैसे-जैसे उनका बिजनेस बढ़ा, उसके साथ वहां कई तरह के संघर्ष भी आए क्योंकि हवाई में वॉरियर कल्चर बहुतायत के चलते अलग तरह की चुनौती पेश करने लगा।

उन्होंने याद करते हुए बताया, “हवाई में चीजें काफी कुछ अलग हैं। यहां ऐसा कल्चर (मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग का) हर ओर देखने को मिलता है।”

“वहां जैसे ही बच्चे चल सकने लायक होते हैं, वो जूडो या रेसलिंग क्लास में जाने लगते हैं। वहां बॉक्सिंग और किकबॉक्सिंग का बहुत जुनून हर जगह दिखता है। आप अपनी आंटी-अंकल से घर के पीछे इसे सीख सकते हैं।

“वहां की इकॉनमी भी काफी चुनौती देने वाली है। वहां के लोग मार्शल आर्ट्स सिखाने वालों को पैसा देने के आदि नहीं थे क्योंकि वो लोग मेनलैंड (नॉर्थ अमेरिका) में थे।”

कैन और ज्वेल्ज का अनुभव एक ही छत के नीचे और पूरी निगरानी में कई तरह की आर्ट्स एकसाथ सीखने का खास मौका देता था। ऐसे में मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स का स्टाइल को लेकर काफी सारे माता-पिता की चिंता खत्म करने के लिए कैन ने अपने तरीके से ब्रांडिंग शुरू की।

उन्होंने बताया, “काफी सारे माता-पिता को लगता था कि मार्शल आर्ट्स का मतलब फाइट से है। इस वजह हमने अपने खुद के सिस्टम को रजिस्टर करवाया और उसे टोटल डिफेंस सिस्टम (टीडीएस) का नाम दिया क्योंकि हम सेल्फ डिफेंस पर जोर देना चाहते थे। वैसा ही हमारा सिस्टम बना था।”



शुरुआत से मिली कामयाबी

Christian Lee, Ken Lee, and Angela Lee

ली दंपत्ति भले ही वाईपाहू समुदाय की सेवा करना चाहता था लेकिन उनका पूरा ध्यान अपने बच्चों की स्किल्स को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाना था।

कैन ने बताया, “कनाडा में हमारे पास जिम थे लेकिन वो पूरी तरह से कमर्शियल लेवल पर थे जबकि हवाई में जिम पूरी तरह से बच्चों के लिए थे।”

एंजेला और क्रिश्चियन मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग के लिए उत्सुक थे। वो अपनी स्किल्स को सबसे अच्छे विरोधी के सामने परखने को तैयार थे। साथ ही कैन और ज्वेल्ज ने इसे मुमकिन बनाने के लिए अपनी ओर से कोई कसर नहीं छोड़ी थी। इन दोनों किशोरों ने स्थानीय प्रतियोगिताओं में अच्छा प्रदर्शन किया। यहां तक कि उन्होंने नेशनल पैंक्रेशन टाइटल जीते और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए भी क्वालीफाई किया।

इसके बाद परिवार 2012 में वर्ल्ड पैंक्रेशन एथलीमा फेडरेशन वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेने ग्रीस, एथेंस गया। वहां एंजेला ने पैंक्रेशन और मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के दो डिविजन में गोल्ड जीता। क्रिश्चियन ने भी पैंक्रेशन डिविजन में गोल्ड जीता था।

बेहतरीन प्रदर्शन को देखते हुए उनके टैलेंट का निखारने के लिए और बेहतर माहौल बनाने की जरूरत महसूस हो रही थी।

वो पहले ही अपने छोटे जिम छोड़कर बड़े वेयरहाउस जिम में शिफ्ट हो चुके थे लेकिन परिवार ने अपने वर्ल्ड चैंपियन बच्चों की जरूरतों को देखते हुए दूसरी लोकेशन पर जाने का फैसला लिया।

कैन को याद है, “वो एक-दूसरे से बातें किया करते थे। वो हमेशा से ही अच्छे दोस्त रहे और दोनों ने ये तय किया कि उन्हें यही करना है।”

“वो वही समय था, जब वेयरहाउस की लीज खत्म होने वाली थी, तब हमने ये तय किया था ‘ओके’। हमने दोनों से बड़ों की तरह बात की और कहा कि अगर तुम लोग यही करना चाहते हो तो हम इसमें इंवेस्ट कर देते हैं। हम ऐसी फैसिलिटी बनाने वाले हैं, जिससे इसमें सहयोग मिल सके।”

Christian and Angela Lee spar

अप्रैल 2013 में कैन ने United MMA अपनी वर्तमान लोकेशन वाईपाहू में खोला और इसने फैमिली के लिए ट्रेनिंग ग्राउंड की तरह काम किया।

इसके बस चार महीने बाद परिवार क्रोएशिया की यात्रा करने गया, ताकि दोनों भाई-बहन इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ एसोसिएटेड रेसलिंग स्टाइल्स वर्ल्ड चैंपियनशिप्स में मुकाबला कर सकें।

किश्चियन ने पूरे मैदान में धमाल मचा दिया और ब्राजीलियन जिउ-जित्सु, पैंक्रेशन, एमेच्योर मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स और सबमिशन ग्रैपलिंग के दो अलग वेट क्लास (भार वर्ग) में पांच टाइटल जीत लिए।

एंजेला साल की शुरुआत में ही हवाई हाईस्कूल स्टेट रेसलिंग चैंपियन बन चुकी थीं। उन्होंने भी पैंक्रेशन और एमेच्योर मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में टाइटल जीते थे।

उनका प्रदर्शन और भी बेहतरीन रहा क्योंकि उन्होंने कंधे में चोट होने के बावजूद चैंपियनशिप पर कब्जा जमाया। इससे पहले भी उनका कॉलरबोन फ्रैक्चर हो चुका था।

कैन ने बताया, “अपनी फाइटिंग स्प्रिट और क्षमता के कारण उन दोनों को बॉय और गर्ल कैटेगरी में मोस्ट आउटस्टैंडिग एथलीट ऑफ द होल टूर्नामेंट के खिताब से नवाजा गया था।”

“मुझे हमेशा से पता था कि वो दोनों स्पेशल हैं लेकिन उनके प्रदर्शन के बाद ही लोगों ने इन चीजों पर ध्यान देना शुरू किया। हमारे पास दूसरे देशों के कोच अपने कैमकॉरडर लेकर आ रहे थे और उनके मैच रिकॉर्ड कर रहे थे।”

Angela Lee and Christian Lee with their ONE Championship belts at ONE: CENTURY

हवाई में कुछ एमेच्योर बाउट्स के बाद जब एंजेला 18 की हुईं तो कैन अपने एक पुराने साथ मैट ह्यूम के पास गए, जो ONE Championship के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट ऑफ ऑपरेशन थे, ताकि ये देख सकें कि क्या ग्लोबल स्टेज पर वो अपने टैलेंट का प्रदर्शन कर सकते हैं या नहीं।

मई 2015 में अपने प्रोमोशनल डेब्यू के कुछ समय बाद ही एंजेला और किश्चियन दोनों ने Evolve Fight Team ट्राइआउट में हाथ आजमाया। उस समय 16 साल के किश्चियन ने कम उम्र होने के चलते लोगों का दिल अपने प्रदर्शन से जीत लिया।

अब वो दोनों अपने डिविजन के शिखर पर हैं।

एजेंला ONE विमेंस एटमवेट वर्ल्ड चैंपियन हैं। क्रिश्चियन ONE लाइटवेट वर्ल्ड चैंपियन और ONE लाइटवेट वर्ल्ड ग्रां प्री चैंपियन हैं।

अपनी सफलता के दौरान भी दोनों विनम्र बने रहे और उनके पिता का मानना है कि ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि वो अपने आप में सच्चे बने रहे।

उन्होंने बताया, “ये सच है कि काफी सारे ऐसे लोग थे, जो उनकी जीत के बाद उनके साथ ट्रेनिंग करना चाहते थे।”

“कई बार आप इस चीज का फायदा उठाना चाहते हैं लेकिन आप जितना इस तरह की चीजों में शामिल होते हैं, उतने ही ज्यादा लोग वहां आना चाहते हैं। वो दोनों किसी के साथ भी खुद के सुपरस्टार होने का दिखावा नहीं करते हैं। वो जो हैं वही रहते हैं।”

वर्तमान में United MMA

Ken Lee teaches a class at United MMA

कई सारे डोजो और एकेडमियां भले ही केवल सीखने वाले संस्थान हों लेकिन कैन और उनके परिवार के लिए United MMA उससे कहीं बढ़कर है।

ली परिवार के बुजुर्ग ने बताया, “एक जिम बस जिम होता है। ऐसे में जो माहौल हमने बनाया है, उस पर मुझे गर्व है। मकान तो बस मकान होता है, घर तो परिवार के लोगों से मिलकर बनता है। इस जिम को लेकर मैं ऐसा ही महसूस करता हूं।”

इस तरह का माहौल बनाए रखना जरूरी है। इस वजह से कैन ने बुरी मानसिकता वाले लोगों को जिम में नहीं आने देते। उन चीजों से जुड़े रहना जो सच में मार्शल आर्ट्स के लिए जरूरी हैं, यही United MMA की सफलता का राज है।

उन्होंने बताया, “इस समय जिस तरह के लोग हैं, मैं उनसे बहुत खुश हूं, ताकि अच्छे दिल के साथ सही एटिट्यूड से मार्शल आर्ट्स का विकास हो सके।”

इस विचार के साथ ली दंपत्ति ने खुद की इस समुदाय के बीच अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। बच्चों के लिए चल रहे प्रोग्राम को वो काफी रोचक बनाना जानते हैं। इसी के चलते उनके 50 प्रतिशत बच्चे सप्ताह के पांच दिन ट्रेनिंग करते हैं।

यही कारण है कि बच्चों के बीच से बेहतरीन प्रतिभाएं निकलकर सामने आ रही हैं। साथ ही वहां वर्ल्ड चैंपियन कोच भी हैं। कैन इस बात से भी खुश हैं कि उनके बच्चे भी मार्शल आर्ट्स की दुनिया में बेहतर करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

एंजेला और उनके पति ONE चैंपियनशिप बेंटमवेट एथलीट ब्रूनो पुची मिलकर यूनाइटेड हवाई नाम का एक सिस्टर स्कूल कुछ ही महीनों में खोलने जा रहे हैं।

View this post on Instagram

Hi everyone! It's Angela & Bruno here ???????????? We have been blessed with an amazing new opportunity!!! We are going to be opening a sister school to @unitedmmahawaii that will be entirely grappling based. Our gym's name is, United BJJ Hawaii and it will be located in Wahiawa, HI. We will be offering Gi and No Gi classes for Kids, Teens and Adults of all skill levels. We are still in the beginning phases of our gym but we will be working hard to get United BJJ Hawaii up and running as soon as Hawaii's stay-at-home orders are no longer in effect. Join us on this exciting journey! We will be posting updates on the gym's page, as well as our personal pages. Stay Safe. Stay Healthy. Stay Tuned! ???????????????? #UnitedBJJHawaii

A post shared by United BJJ Hawaii (@unitedbjjhawaii) on

कैन ने बताया, “एंजेला और किश्चियन एक ऐसा प्लेटफॉर्म बनाने को उत्सुक हैं, जिस तक समुदाय आसानी से पहुंच सके। ये उनका सम्मान वापस देने का तरीका है। सब लोग बहुत खुश हैं कि मार्शल आर्ट्स ने उन्हें ऐसा कर पाने की क्षमता दी है।”

“उनकी उपलब्धियों की परवाह किए बिना मुझे अपने सभी बच्चों पर बहुत गर्व है। मेरे दो सबसे छोटे बच्चे (विक्टोरिया एंड एड्रियन) कई बार के वर्ल्ड चैंपियन हैं और उनके पास एंजेला और क्रिश्चियन से भी ज्यादा टाइटल्स हैं। हालांकि, वो जो हैं, हमें उन पर गर्व है। ये गर्व इसलिए भी नहीं है क्योंकि उन्होंने ट्रॉफियां और मेडल जीते हैं।”

United MMA ने अपनी जड़ें मजबूती से ग्लोबल स्टेज पर जमा ली हैं। इसका बड़ा श्रेय एंजेला और क्रिश्चियन को जाता है।

अब वर्ल्ड चैंपियन बनने का सपना पालने और सच करने वालों के लिए ये जिम सबसे पसंदीदा ठिकाना बन गया है लेकिन पूरे मन से United MMA अपनी जड़ों से जुड़ा हुआ है।

कैन ने बताया, “ये एक मार्शल आर्ट्स एकेडमी है और हम सेल्फ डिफेंस सिखाते हैं। साथ ही हमारे पास प्रतियोगिता का बोनस प्रोग्राम भी है। हमारे पास ऐसे एथलीट्स हैं, जो कई संस्थों में ट्रेनिंग देते हैं लेकिन ये सेकेंड्री है। जो लोग यहां आते हैं वो सेल्फ डिफेंस सीखने और खुद को बेहतर फाइटर बनाने आते हैं।”

“दिन के अंत में ये हमारे लिए फैमिली जिम है, फाइट क्लब नहीं।”

ये भी पढ़ें: फिलीपींस की वर्ल्ड फेमस Team Lakay की अनकही कहानी