विशेष कहानियाँ

कैसे एक छोटे से जिम से वैश्विक स्तर पर अपनी छाप बना गया Tiger Muay Thai

सबसे पहले आपको थाईलैंड के बारे में समझना होगा क्योंकि यही वो जगह है, जहां से सब शुरू हुआ है।

इसके बाद आप उष्णकटिबन्धीय समुद्र तटों और घूमती हुई पहाड़ की चोटियों के बारे में सोचें, जो बिग बुद्धा की मूर्ति के रूप में जानी जाती है। ये फुकेत आइलैंड पर है, जिसे उपनगर, टैमबॉन या चैलॉन्ग भी कहते है।

चैलॉन्ग अपनी प्राकृतिक सुंदरता, मानव निर्मित लैंडमार्क और Tiger Muay Thai & MMA Training Camp के लिए जाना जाता है। प्राकृतिक इसलिए क्योंकि यहां के स्थानीय पेड़-पौधों से इसकी छत बनी थी और मानव निर्मित इसलिए क्योंकि यहां अमेरिकी यात्री और थाई बिजनेसमैन का काम दिखता है।

शुरुआत में Tiger स्लीपी रोड पर केवल एक छोटा सा जिम था, जहां लोग बेहतरीन मॉय थाई तकनीक सीख सकते थे। इसके बाद एक बेहतरीन नजरिए के चलते ये जगह दुनिया की सबसे ताकतवर और बेहतरीन ट्रेनिंग डेस्टिनेशन बनकर उभरी।

शुरुआती साल

टाइगर को सबसे पहले 2005 में विलियम मैकनामारा ने चैलॉन्ग में बनाया था, जिसे अब सोई टा-ईअद या फिटनेस स्ट्रीट के नाम से जाना जाता है। उस समय अमेरिकी एक ऐसी जगह की तलाश में थे, जहां ठीक से मॉय थाई सीखा जा सके। ऐसे में कहीं और न जाकर उन्होंने खुद ही जिम खोलने का फैसला किया।

कैंप दो बॉक्सिंग रिंग, कुछ बैग्स के साथ छप्पर के नीचे खोला गया था। मॉय थाई के उत्साही लोग जानते थे कि उस समय सोई टा-ईअद में रेस्टोरेंट्स, जिम और होटल बनने थे। हालांकि, इसकी बजाय रबर ट्री के प्लॉट्स, फूड स्टॉल्स और कुछ स्लीपिंग क्वॉटर्स वहां 1.5 किलोमीटर तक की सड़क पर बनाए गए।

सोई में बढ़ने वाला पहला बिजनेस टाइगर बना। ये वो पहला जिम था, जिसकी वजह से मॉय थाई टूरिज्म की शुरुआत हुई। ऐसा नहीं था कि टाइगर वहां का पहला या अकेला जिम था बल्कि चैलॉन्ग में तीन अन्य एकेडमी भी थीं और उन मुट्ठीभर जिमों ने आइलैंड पर कब्जा जमाया हुआ था।

मैकनामारा भी मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के फैन थे और उन्होंने जल्द ही वहां के प्रोग्राम में रोजाना दो मॉय थाई सत्र के साथ एक ट्रेनिंग सेशन भी शामिल किया। उस समय ये थाइलैंड की कुछ ऐसी जगहों में से एक था, जो मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग ऑफर करता था।

इसने एलेक्स शिल्ड का ध्यान खींचा, जो भविष्य में ONE Warrior Series में मुकाबला करने वाले थे। वो फुकेत स्थित फैसिलिटी में साल 2011 में आए थे।

उन्होंने बताया, “मैंने टाइगर के बारे में गूगल पर देख रखा था।”

“मैं पहले इसकी ओर इसलिए आकर्षित हुआ था क्योंकि थाइलैंड में ये वो अकेला जिम था, जो ग्रैपलिंग और मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स सिखाता था। मुझे पता था कि मुझे मॉय थाई सीखनी है लेकिन ग्रैपलिंग में अच्छा बनने का विचार ऐसा था, जिससे मैं खुद को नहीं रोक पाया।”

जैसे ही शिल्ड ने इस जिम में कदम रखा, उसके कुछ समय बाद थाई मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के बेहतरीन एथलीट शेनन “वनशिन” विराचाई ने कैंप में आने की बात रखी। वो भाग्यशाली रहे कि उनकी ट्रेनिंग मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के सुपरस्टार ने कराई, जो उस वक्त अमेरिका से फुकेत आए थे।

उन्होंने याद करते हुए बताया, “पहली बार मैं टाइगर में करीब आठ साल पहले आया था। जॉन नट ने उनसे मुझे मिलवाया और ONE Championship बाउट के लिए मेरी तैयारी करवाई।”

“उस वक्त मुझे जरा भी अंदाजा नहीं था (टाइगर क्या है)। बस ये पता था कि जीवन में मिलने वाले इस मौके के लिए जो हो सकेगा, वो करूंगा।

“जब मैंने सुना कि रोजर हुएर्ता टाइगर में हेड कोच हैं और वहां मेरा खयाल उन्हें रखना है तो मैं बहुत खुश हो गया क्योंकि उससे पहले एक दूसरे जिम में उनकी क्लास में था। मुझे उनकी ये बात बहुत पसंद थी कि वो बहुत अच्छे और समझदार थे।”

कई अन्य लोग टाइगर में फुकेत की खूबसूरती के चलते भी चले आए। वहां कई सारे बीच, ताजी हवा और प्रकृति की बहुतायत है। इसके चलते ये आइलैंड थाइलैंड में छुट्टियों के दौरान ट्रेनिंग करने के लिए आदर्श जगह बन गई थी। मैकनामारा इन चीजों का ही फायदा उठाना चाहते थे।

अमेरिकी बिजनेसमैन और उनकी टीम ने इस जिम की मार्केटिंग इंटरनेट पर की। उन्होंने यूट्यूब पर मॉय थाई से संबंधित पहला चैनल शुरू किया, जिससे उन्होंने लाखों दर्शक बना लिए। इसके अलावा, उन्होंने अपनी इंग्लिश भाषा की वेबसाइट भी बनाई, जिसे नेविगेट करना बहुत आसान था। साथ ही वो पहला जिम भी बना, जिसने मॉय थाई का फेसबुक पेज बनाया।

समय के साथ ये जिम फुकेत के प्रमुख कैंप में से एक बन गया, जिसकी क्वालिटी और ट्रेनिंग खुद अपनी गवाही देती थी।

डिजिटल मार्केटिंग और भरोसेमंद कस्टमर बेस के चलते टाइगर ने बहुत से फॉलोअर्स जुटा लिए। इसके साथ ही ज्यादातर कस्टमर्स वापस भी आते रहे, जिससे वहां परिवार जैसा माहौल बन गया।

अगले स्तर पर जाने की तैयारी

साल 2015 में मैकनामारा ने टाइगर को थाई बिजनेसमैन ग्रुप को बेच दिया, जिसमें से एक थे विवट सकुलरत। वो उसके मैनेजिंग डायरेक्टर बने।

उन्होंने कहा, “सच बताऊं तो जिस कारण से हमने टाइगर को खरीदा, वो उसकी प्रतिभा नहीं थी बल्कि हमने इसलिए इसे खरीदा क्योंकि हमें मॉय थाई से प्यार है। हम बाकी जिमों से कुछ अलग करना चाहते थे।”

“इसके असली मालिक ने जिम की बहुत तगड़ी नींव डाली थी। ऐसे में वहां से इसे आगे ले जाना और बदलाव करना काफी आसान हो गया था।”

सकुलरत और उनके बिजनेस पार्टनर्स ने उस नींव को और सुधारते हुए इस सफल बिजनेस मॉडल को और सफल बनाया। इसके बाद उन्होंने फुकेत के जिम को रेनोवेट किया, बढ़ाया और मॉडर्न बनाया।

नया टाइगर 9200 वर्ग मीटर में फैला है। हैवी बैग स्टेशन जिम के चारों ओर हैं। पांच बॉक्सिंग रिंग और बीच में एक प्रो साइज मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स केज बना है। स्ट्रेंथ और कंडिशनिंग स्टेशन यहां से पुराने एक्सरसाइज वाले सामान बाहर कर देते हैं। इन सबके ऊपर मालिक ने दुनिया भर के 40 सबसे बेहतरीन ट्रेनरों को यहां क्लासेज लेने के लिए रखा हुआ है।

इसके साथ ही आखिरकार जिम की लोकप्रियता रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई।

सकुलरत ने बताया, “मुझे लगता है कि टाइगर का टर्निंग पॉइंट तब आया, जब हमने रेनोवेशन किया और नई फैसिलिटीज दीं। हमारे पास बेहतरीन स्टाफ, काम करने का बढ़िया माहौल और बेहतरीन ट्रेनिंग फैसिलिटी थी।”

George Hickman teaches Rika Ishige technique at Tiger Muay Thai

अमेरिकी ट्रेनर जॉर्ज हिकमैन यहां साल 2014 से मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स का प्रोग्राम चला रहे हैं। उनके व अन्य कोचों के बिना आज टाइगर इन ऊंचाइयों पर नहीं पहुंच पाता।

उन्होंने बताया, “मेरे आसपास का कोचिंग स्टाफ बहुत ही शानदार है।”

“कोचों के लगातार कड़े प्रयास से ही हम सबसे आगे हैं। फिर चाहे वो मॉय थाई, ब्राजीलियन जिउ-जित्सु, मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स, फिटनेस या बॉक्सिंग कोच क्यों न हों। ये हमारे कोच ही हैं, जिनसे हम इतने आगे बने हुए हैं।”

रेनोवेटेड फैसिलिटी के साथ ही कैंपस में अपना खुद का इन-हाउस रेस्टोरेंट टाइगर ग्रिल बना हुआ है, जहां लजीज थाई डिश पर्यटकों और दुनिया भर से आने वालों को परोसी जाती हैं।

साथ ही वहां खाने के मेन्यू में एथलीट्स के लिए हेल्दी चीजें हैं, जो बिना स्वाद से समझौता किए उनके पोषण की खुराक को पूरा कर सकती हैं। बाहर से आने वालों के लिए वहां प्रोटीन शेक, स्मूदीज और फ्रेश ऑर्गेनिक जूस भी हैं, जो टाइगर के ऑन साइट डाइटीशियन आपके लिए चुन सकते हैं।

टाइगर ने भले ही मॉय थाई पर फोकस करने वाली एकेडमी के तौर पर शुरुआत की थी लेकिन इसे जल्दी ही अपने आपको एक मेगा जिम में बदल लिया, जिसकी धूम पूरे विश्व में है। जिम के थाइलैंड में जन्मे मैनेजिंग डायरेक्टर मानते हैं कि वो और उनके बिजनेस पार्टनर्स ने इसे बहुत बड़ी उम्मीद के साथ शुरू नहीं किया था।

सकुलरत ने बताया, “हमारी योजना दुनिया में नंबर-1 बनने की नहीं थी लेकिन हमने ये सुनिश्चित किया था कि हमारा स्टाफ अच्छा जीवन जी सके, काम करने की जगह पर आसानी हो और माहौल बहुत ही अच्छा रहे।”

“छह महीने के बाद कस्टमर्स की ओर से हमें अच्छा फीडबैक मिला और उस समय हमें लगा कि हम में नंबर-1 बनने की काबिलियत है। इस वजह से हम खुद को बिजनेस के हर क्षेत्र में सुधारते गए। मुझे लगता है कि उसी जगह से हम अपने आप फेमस हो गए।”

भरोसेमंद भविष्य

Pongsiri Mitsatit trains at Tiger Muay Thai

कई साल तक टाइगर की लोकप्रियता और बिजनेस काफी तेजी से बढ़ते रहे।

अब ये जिम विश्व में मॉय थाई और मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के सबसे बड़े ठिकानों में से एक बन गया है। सोशल मीडिया पर दिन पर दिन इसकी फॉलोइंग भी बढ़ती जा रही है। अकेले फेसबुक पर ही इसके 10 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हो गए हैं। इस ब्रांड के अपने खुद के गीयर और क्लोथिंग लाइन भी हैं।

पूरी दुनिया से लोग किसी भी दिन अपने खुद के फिटनेस गोल के लिए टाइगर जिम आ सकते हैं। यही कारण है, जो जिम को इतना खास बनाता है। यहां कुछ किलोग्राम वजन घटाने से लेकर ONE Championship में हिस्सा लेने वालों तक की भीड़ लगी रहती है। इसमें दुनिया के सबसे शक्तिशाली लोगों के साथ कोई भी आ सकता है।

हिकमैन जो विराचाई, रिका “टाइनी डॉल” इशिगे और पोंगसिरी “द स्माइलिंग असासिन” मिटसाटिट को ट्रेन करते हैं, उनका मानना है कि टाइगर की बहुआयामी अप्रोच को बहुत कम जिम ही टक्कर दे सकते हैं।

हिकमैन ने बताया, “हमारे पास काफी सारे ONE Championship के एथलीट्स हैं लेकिन हमारे पास ONE में मुकाबला करने वाले कई एथलीट भी खुद की पहचान बनाने के लिए आते हैं। फिलहाल, ONE केवल खुद को एशिया में ही प्रोमोट कर रहा है।”

“यहां बहुत ही दोस्ताना माहौल है। जहां तक मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स की बात है तो हमारे पास पूरी दुनिया से ट्रेनिंग पार्टनर्स आते हैं, जो कई तरह के सेशन में ट्रेनिंग दे रहे हैं।”

इसके कारण टाइगर ने अपने दूसरे एथलीट्स को भी आकर्षित किया है। इसमें रूसी नॉकआउट आर्टिस्ट टिमोफी नास्तुकिन और वियतनाम-अमेरिकी स्टार बी “किलर बी” गुयेन शामिल हैं।

Thai mixed martial artists Shannon Wiratchai and Rika Ishige train at Tiger Muay Thai

इसके अलावा, मॉय थाई वहां के स्थानीय संस्कृति में रचा बसा है और थाइलैंड के लोग आमतौर पर भी काफी दोस्ताना होते हैं। अगर कोई टाइगर में ट्रेनिंग करने की सोच रहा है तो उसे वहां काफी रिलैक्स करने वाला माहौल मिलेगा।

हिकमैन ने बताया, “मुझे लगता है कि अमेरिका के मुकाबले बाउट के लिए थाइलैंड में ट्रेनिंग क़रना काफी तनावमुक्त रहता है।”

“टाइगर की लोकशन बहुत ही अच्छी है। आपके पास यहां बीच और रोड पर काफी सारे हेल्दी फूड खाने की जगह हैं। आपको यहां आने के बाद हर चीज के लिए अलग जिम नहीं जाना पड़ेगा। टाइगर में आपको सब कुछ एक ही छत के नीचे मिल जाता है। आपको यहां मौसम का मजा, बेहतरीन जलवायु और खूबसूरत बीच मिल जाते हैं।”

एमिलियो “द हनी बैजर” उरुतिया जो ONE Championship में साल 2017 से मुकाबला कर रहे हैं, वो इस जिम के बैक डोर से साल 2014 में पहले बार दाखिल हुए थे।

उन्होंने “टाइगर मॉय थाई फाइट टीम ट्रायआउट” के सालाना इवेंट में स्कॉलरशिप जीती थी और तब से वहां हैं।

उन्होंने बताया, “टाइगर एक खास जगह है क्योंकि यहां आपको हर तरीके की स्किल ट्रेनिंग किसी भी लेवल पर मिल जाती है। इसमें मॉय थाई से वेस्टर्न बॉक्सिंग क्लासेज, फ्रीस्टाइल रेसलिंग और करबी करबॉग तक शामिल हैं।”

“इसमें फिटनेस के भी सभी पक्ष शामिल हैं, जिसमें क्रॉसफिट से रिकवरी प्रोग्राम जैसे स्विमिंग व योग तक को रखा गया है।”

Emilio Urrutia with his coach, George Hickman, behind him, representing Tiger Muay Thai

टाइगर जो वर्तमान में है, उसको खुद ग्लोबल शक्ति बनने में करीब एक दशक का समय लगा था। इस दौरान एक जिम ने ब्रांड से बढ़कर वहां की गलियों और समुदायों को बढ़ने का मौका दिया। ये वही जगह थी, जहां छप्पर के नीचे सोई के चैलॉन्ग की शांत जगह में इसका जन्म हुआ।

शिल्ड ने बताया, “मैं आठ साल से ज्यादा समय में यहां के विकास (सोई टा-ईअद) का साक्षी बना और अगर आप मेरी मानें तो टाइगर यहां के पूरे समुदाय का अस्तित्व बन गया है। मॉय थाई से मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स और फुकेट की फिटनेस इंडस्ट्री तक सब कुछ टाइगर मॉय थाई से शुरू हुआ।”

ये भी पढ़ें: फिलीपींस की वर्ल्ड फेमस Team Lakay की अनकही कहानी