किकबॉक्सिंग

जेनेट टॉड के खिलाफ एक और 5 राउंड के जबरदस्त मुकाबले की उम्मीद कर रही हैं स्टैम्प फेयरटेक्स

पिछली बार स्टैम्प फेयरटेक्स का सामना जेनेट “JT” टॉड से हुआ था तो वो मुकाबला पाँच राउंड तक खिंचा था। जो ONE Super Series के 2019 सीजन के सबसे बेहतरीन मुकाबलों में से एक साबित हुआ और अब स्टैम्प एक बार फिर ऐसा करने के लिए तैयार हैं।

पिछले साल फरवरी में थाई सुपरस्टार ने अपनी अमेरिकी प्रतिद्वंदी को हराकर ONE एटमवेट मॉय थाई वर्ल्ड टाइटल अपने नाम किया था। लेकिन इस बार नियम अलग होने वाले हैं क्योंकि शुक्रवार, 28 फरवरी को ONE: KING OF THE JUNGLE में स्टैम्प का ONE एटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल दांव पर लगा होगा।

जगह पहली वाली ही होगी, सिंगापुर इंडोर स्टेडियम लेकिन 22 वर्षीय थाई स्टार का मानना है कि उनके पहले और इस मैच में केवल ये समानता होगी कि उन्हें यहाँ भी कड़ी चुनौती मिलने वाली है।

उन्होंने कहा, “जेनेट के साथ किकबॉक्सिंग रीमैच पूरी तरह एक अलग अनुभव होने वाला है।”

“मुझे लगता है कि हम दोनों को ही इंतज़ार करना होगा कि कौन बेहतर कॉम्बो लगा सकता है और किसके शॉट क्लीन और ज्यादा प्रभावशाली होंगे।”

टॉड का सामना करने के बाद स्टैम्प एक व्यस्त कार्यक्रम से होकर गुजरी हैं क्योंकि पहले मॉय थाई वर्ल्ड टाइटल डिफेंस के बाद वो 3 मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स मुकाबलों का भी हिस्सा रहीं।

“JT” स्ट्राइकिंग से घिरी रही हैं और पिछले एक साल में उन्होंने सुधार भी किया है जिससे उन्हें 3 जीत भी मिली हैं। जिनमें वांग चिन लोंग, पूर्व ONE वर्ल्ड चैंपियन चुआंग काई टिंग और एकातेरिना वंडरीएवा शामिल रहीं।

स्टैम्प को नहीं लगता कि टॉड के साथ अपने पिछले मैचों को देखकर उन्हें कुछ फायदा मिलने वाला है लेकिन उन्होंने टॉड के दूसरे मुकाबलों को जरूर स्टडी किया है और उनका मानना है कि इस बाउट में उनके पास एडवांटेज होगी।



उन्होंने बताया, “मैं उनके पिछले मुकाबलों की वीडियो देख रही हूँ और उनका प्रयोग मैं अपना गेम प्लान तैयार करने के लिए करने वाली हूँ।”

“मुझे लगता है कि मेरा प्लान उनसे बेहतर साबित होगा लेकिन ऐसी कोई जगह नहीं है जहाँ मुझे सीधे तौर पर लाभ मिल सकता है। मेरा प्लान यही होगा कि मैं कॉम्बिनेशन का प्रयोग करूं, बैलेंस बनाए रखूं, डिफेंसिव होने के साथ अपनी तकनीक से मैच में बढ़त बनाने की कोशिश करूं।”

रायोंग से आने वालीं स्टैम्प ने अपने ट्रेनिंग कैंप में अलग से बॉक्सिंग कोच को जोड़ा है जिससे उन्हें किकबॉक्सिंग नियमों पर पकड़ बनाने में मदद मिल सके।

ना क्लिंचिंग, ना एल्बोज़ और ना ही डंप करने की इजाजत होगी। इसलिए स्टैम्प उन स्किल्स पर ज्यादा ध्यान देने की कोशिश कर रही हैं जिनसे उन्हें सबसे ज्यादा फायदा पहुंच सकता है। टॉड के साथ अपने पहले मुकाबले में स्टैम्प ने हाथों का बढ़िया तरीके से उपयोग किया था इसलिए अगर वो बॉक्सिंग पर ज्यादा ध्यान देती हैं तो जरूर उन्हें टॉड पर बढ़त मिल सकती है।

Fairtex टीम की मेंबर ने कहा, “मैं पंचों का ज्यादा प्रयोग करने वाली हूँ क्योंकि मैं साल में केवल 1 बार इस टाइटल को डिफेंड करने वाली हूँ, मुझे ज्यादा से ज्यादा बॉक्सिंग पर ध्यान देना है। मेरा फ़ोकस पूरी तरह बॉक्सिंग का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग करने पर है।”

अपनी प्रतिद्वंदी के पिछले मुकाबलों को परखने से अलग स्टैम्प अब टॉड को इंस्टाग्राम पर भी फॉलो करने लगी हैं और वो 34 वर्षीय स्टार की ट्रेनिंग से काफी प्रभावित हैं।

हालांकि, उन्हें एक बार फिर अनुभव का लाभ मिलने वाला है। थाई सुपरस्टार जानती हैं कि उन्हें 5 राउंड तक चलने वाले मुकाबले के लिए तैयार रहना होगा और ज्यादा स्ट्राइक्स के सहारे जजों को भी इम्प्रेस करना होगा।

स्टैम्प ने बताया, “मुझे लगता है कि जेनेट की फिज़िक उनकी सबसे बड़ी ताकत है। उनकी मसल्स उन्हें ताकत देती हैं और वो कंडिशनिंग पर ज्यादा ध्यान देती हैं। मैंने उन्हें इंस्टाग्राम पर देखा है और वो प्राकृतिक रूप से शानदार एथलीट हैं।

“मुझे जीत मिलने वाली है लेकिन मुझे लगता है कि ये मुकाबला लंबा चलने वाला है। मुझे नहीं लगता कि मैं उन्हें नॉकआउट कर सकती हूँ क्योंकि मैं पहले भी ऐसा करने में सफल नहीं हो पाई थी।”

इस वर्ल्ड टाइटल मुकाबले का सबसे दिलचस्प पहलू ये है कि स्टैम्प कुछ हफ़्तों के अंतराल में दूसरे मुकाबले में उतरने वाली हैं। क्योंकि ONE: A NEW TOMORROW में उन्होंने पूजा “द साइक्लोन” तोमर के साथ मैच को पहले ही राउंड में फिनिश कर दिया था। उन्हें इतनी जल्दी दूसरे मुकाबले से कोई परेशानी नहीं है और वो इस बड़ी चुनौती के लिए तैयार हैं।

22 वर्षीय एथलीट हमेशा ट्रेनिंग पर ध्यान देती आई हैं और इस पल की अहमियत से युवा थाई सुपरस्टार पर कोई खास असर नहीं पड़ा है, वो ONE Super Series की अनडिसप्यूटेड क्वीन बनी रहने को लेकर बेहद उत्साहित हैं।

Stamp Fairtex celebrates her win against Janet Todd

उन्होंने कहा, “मुझे आराम के लिए काफी समय मिला, ट्रेनिंग मेरे लिए रोज का काम है। मैं केवल ट्रेनिंग करती हूँ और सो जाती हूँ, फिलहाल जिंदगी में यही सब कुछ हो रहा है। अभी मैं 75 प्रतिशत एक्टिव फील कर रही हूँ।”

“ये मेरे लिए महत्वपूर्ण फाइट है। चैंपियन होने के नाते, मुझे किसी भी हालत में टाइटल डिफेंड करना है। मैं अकेली महिला एथलीट हूँ जो 2-स्पोर्ट वर्ल्ड चैंपियन बनी है।

“मैं थाईलैंड के लोगों से आग्रह करती हूँ कि वहाँ मौजूद रहें और मुझे चीयर करें। इससे मैं ना केवल अपना बेस्ट प्रदर्शन कर सकूंगी बल्कि ये भी वादा करती हूँ कि टाइटल वापस थाईलैंड ही आने वाला है और जितना हो सकेगा उतने लंबे समय तक इसे अपने पास रखूंगी।”

ये भी पढ़ें: सिंगापुर में मेई यामागुची का सामना डेनिस ज़ाम्बोआंगा से होगा