मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

हर एक जीत के साथ अपने पूर्व कोच का सिर गर्व से ऊंचा करते आए हैं अलेक्सी टोइवोनन

अलेक्सी “द जायंट” टोइवोनन ONE Championship में Evolve MMA टीम का प्रतिनिधित्व करते हुए नजर आते हैं, लेकिन कॉम्बैट स्पोर्ट्स में उनके सफर की शुरुआत फिनलैंड के लाह्टी शहर से हुई थी। उस समय कोच यान लाइतिआइनन उन्हें ट्रेनिंग दिया करते थे।

शुक्रवार, 9 अक्टूबर को ONE: REIGN OF DYNASTIES में #5-रैंक के फ्लाइवेट कंटेंडर रीस “लाइटनिंग” मैकलेरन के खिलाफ मैच से पहले टोइवोनन ने उस व्यक्ति के बारे में बताया, जिसने उन्हें अपने करियर में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया और एक अच्छा इंसान भी बनाया।

28 वर्षीय स्टार ने कहा, “अपने माता-पिता के कारण ही आज मैं इस मुकाम तक पहुंच सका हूं, लेकिन मेरे कोच यान भी मेरे लिए पिता समान ही रहे हैं।”

“मार्शल आर्ट्स जिम में ट्रेनिंग लेने के दौरान यान ने मुझे जिंदगी में आने वाले उतार-चढ़ाव के बारे में भी बताया। ये भी सिखाया कि एक अच्छा मार्शल आर्टिस्ट, फाइटर और एक अच्छा इंसान किस तरह बना जाए।”

लेकिन परिस्थितियां हमेशा इस तरह से नहीं रही हैं।

लाइतिआइनन से टोइवोनन की मुलाकात तब हुई थी, जब वो केवल 10 साल के थे। इस मुलाकात के बाद उन्होंने हॉकी और सॉकर खेलना छोड़कर मार्शल आर्ट्स पर ध्यान देना शुरू किया था। शुरुआत में उन्हें अपने कोच से ट्रेनिंग के दौरान कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था।

टोइवोनन ने हंसते हुए कहा, “उनका वजन 100 किलोग्राम हुआ करता था और पूरे शरीर पर टैटू हुआ करते थे। लेकिन जैसे-जैसे मैं बड़ा हुआ उनसे मुझे काफी नई-नई चीजें सीखने को मिलती रहीं।”

दोनों के बीच किसी पिता-पुत्र जैसे संबंध स्थापित हो चुके थे और जब भी टोइवोनन को अपनी जिंदगी या मार्शल आर्ट्स से संबंधित किसी भी समस्या से जूझना पड़ता तो हर बार लाइतिआइनन उन्हें सही राह दिखाने के लिए उनके साथ मौजूद रहते।

फ्लाइवेट स्टार ने कहा, “वो अभी तक मेरी बहुत मदद करते आए हैं, सही रास्ता दिखाते आए हैं और ये भी बताते रहे हैं कि मुझे अपने मैचों के लिए किस तरह खुद को तैयार करना चाहिए। वो बचपन से लेकर अभी तक हर कदम पर मेरे साथ खड़े रहे हैं।”

यान का साथ मिलने के कारण ही टोइवोनन 2 बार फिनलैंड के नेशनल एमेच्योर मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स चैंपियन और 3 बार IBJFF नो-गी यूरोपियन चैंपियन भी बने। ये सभी उपलब्धियां उन्होंने 18 साल की उम्र से पहले ही हासिल कर ली थीं।

कुछ समय बाद ही बर्जोनिंग निवासी एथलीट खुद को प्रोफेशनल लेवल पर परखना चाहते थे, इसलिए उन्होंने मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स स्किल्स को और भी अधिक समय देना शुरू कर दिया था।

अपने कोच की निगरानी में टोइवोनन ने 6 मैचों में जीत दर्ज कीं, जिनमें से 5 में जीत सबमिशन से आईं और एक TKO (तकनीकी नॉकआउट) से। उनका कहना था कि इतनी सफलता उन्हें लाइतिआइनन द्वारा दी गई ट्रेनिंग के कारण ही मिल रही थी।



टोइवोनन ने कहा, “बहुत से कोच सोचते हैं कि उन्हें सभी चीजों की जानकारी होती है, लेकिन मेरे कोच हमेशा मुझसे अपने साथियों के साथ ट्रेनिंग करने के लिए कहते आए हैं, जिससे मुझे उनके नए मूव्स भी सीखने को मिल सकें।”

“जहां तक नई तकनीक सीखने की बात आती है, वो हमेशा खुले विचार मेरे सामने रखते आए हैं। जैसे जब भी मुझे किसी लेगलॉक स्पेशलिस्ट का साथ मिलता तो वो मुझे उसी के साथ ट्रेनिंग करने के लिए कहते। अच्छे बॉक्सर या किकबॉक्सर मिलते तो उन्हीं के साथ ट्रेनिंग करने के लिए कहते। उनकी सबसे अच्छी तकनीक को सीखने का आदेश मुझे देते। इसके अलावा वो मुझसे उनकी नकल करने के लिए भी कहते थे।

“वो हमेशा हर चीज में सबसे अच्छी सलाह देते आए हैं और हमेशा इस चीज पर जोर देते रहे जो मुझे अपने क्षेत्र में बेस्ट बना सकती थीं।”

नवंबर 2018 में टोइवोनन ने उसी सलाह को मानते हुए Evolve से जुड़ने का फैसला लिया। बड़ा अवसर मिलने के बाद भी उनका मानना था कि आगे सफलता प्राप्त करने के सफर में उन्हें कई त्याग भी करने पड़ेंगे। अपने घर, परिवार, दोस्तों और लाइतिआइनन को भी पीछे छोड़ना होगा।

बिना कोई घबराहट कोच ने “द जायंट” को अपना आशीर्वाद दिया। इसी आशीर्वाद को साथ लिए फ्लाइवेट स्टार फिनलैंड को छोड़ सिंगापुर में आ गए।

टोइवोनन ने कहा, “उन्होंने मुझे हमेशा आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया है, बड़े मौकों को सफलता में तब्दील करना सिखाया है, खुद में सुधार करते हुए अपने करियर में आगे बढ़ना सिखाया है। इसलिए हमने पहले ही अंदाजा लगा लिया था कि अगर मुझे कोई अवसर मिला तो मैं सिंगापुर चला जाऊंगा।”

Evolve टीम के कोचों को जब उनकी क्षमता का अंदाजा हुआ तो उन्हें भी अहसास हुआ कि टोइवोनन बहुत सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

अभी तक अपराजित रहे टोइवोनन मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स वर्ल्ड के जाने पहचाने नामों में से एक बन चुके हैं। ONE: MASTERS OF DESTINY में अपने प्रोमोशनल डेब्यू में उन्होंने जापानी सुपरस्टार अकिहिरो “सुपरजैप” फुजिसावा को पहले राउंड में सबमिशन से हराकर अपने 100 प्रतिशत फिनिशिंग रेट को कायम रखा था।

टोइवोनन का करियर एक नई उड़ान भरने के लिए तैयार था, लेकिन इस बीच उन्हें गंभीर चोट आई थी। अब करीब 15 महीने बाद वो पहले से स्वस्थ महसूस कर रहे हैं और उनका पूरा ध्यान मैकलेरन के खिलाफ मुकाबले पर है। जहां वो ना केवल ONE फ्लाइवेट वर्ल्ड चैंपियनशिप के एक कदम करीब पहुंचना चाहेंगे बल्कि ONE एथलीट्स रैंकिंग्स में भी स्थान पक्का करना चाहेंगे।

अब चाहे वो अपने करियर में कितनी ही सफलता प्राप्त क्यों ना कर लें, लेकिन वो उस व्यक्ति की मेहनत को कभी भुला नहीं पाएंगे, जिन्होंने उन्हें इस मुकाम तक पहुंचाने में बहुत बड़ा योगदान दिया है।

टोइवोनन ने कहा, “जब भी कोई इंटरव्यू होता है, कोई मैच या उसमें जीत की बात होती है तो उसका श्रेय यान को ही जाता है।”

“मैंने अपने करियर में जो भी निर्णय लिए हैं, यान का उन सभी से कुछ ना कुछ संबंध रहा है। मुझे जो भी जीत मिली हैं, उनमें यान का बहुत योगदान रहा है और मुझे लगता है कि मेरी जीत जरूर उनके सिर को गर्व से ऊंचा कर देती होगी।”

ये भी पढ़ें: लंबे समय बाद वापसी कर मैकलेरन को सबमिशन से हराना चाहते हैं टोइवोनन