न्यूज़

मैग्नस एंडरसन: ‘पेटमोराकोट को हराना मेरे करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि होगी’

मैग्नस “क्रेज़ी वाइकिंग” एंडरसन को उम्मीद है कि वो अपने ONE Championship डेब्यू में वर्ल्ड चैंपियन बन सकते हैं।

26 वर्षीय स्वीडिश स्टार शुक्रवार, 18 सितंबर को ONE: A NEW BREED III में ONE फेदरवेट मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन पेटमोराकोट पेटयिंडी एकेडमी को उनके वर्ल्ड टाइटल के लिए चैलेंज करने वाले हैं।

केवल वर्ल्ड चैंपियनशिप बेल्ट को अपनी कमर पर बांधने के बारे में सोचकर ही एंडरसन बेहद उत्साहित महसूस कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, “मैं नहीं जानता कि मैं इस लम्हे को किस तरह बयां करूं। ये मेरे लिए बहुत बड़ी उपलब्धि के समान होगा क्योंकि इस खेल में इससे बड़ा कोई टाइटल है ही नहीं।”

इस तरह का बयान दर्शाता है कि वो पेटमोराकोट के खिलाफ मैच के प्रति कितने उत्साहित महसूस कर रहे हैं। एंडरसन इससे पहले भी काफी सफलता प्राप्त कर चुके हैं।

“क्रेज़ी वाकिंग” पहले कई बड़े-बड़े टाइटल्स को अपने नाम कर चुके हैं, जिनमें स्वीडिश नेशनल टाइटल और MX Muay Thai Xtreme टाइटल भी शामिल है। लेकिन करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि उन्होंने करीब एक साल पहले हासिल की थी।

अगस्त 2019 में उन्होंने अपने पूर्व प्रतिद्वंदी पेटसंगुआन सोर. थानासिट को नॉकआउट कर Lion Fight सुपर-वेल्टरवेट वर्ल्ड चैंपियनशिप जीती थी।

उसी जीत के कारण एंडरसन ONE में जगह बना पाए हैं, जहां वो भविष्य में और सफलता प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। लेकिन यहां नई ऊंचाइयों को छू पाना उनके लिए उतना आसान नहीं होगा।



उनका सामना पेटमोराकोट से होने वाला है, जो जून 2018 में ONE Championship को जॉइन करने के बाद से ही शानदार प्रदर्शन करते आ रहे हैं।

डिविजन के मौजूदा चैंपियन का शानदार रिकॉर्ड मॉय थाई और किकबॉक्सिंग को मिलाकर 161-35-2 (1 नो कॉन्टेस्ट) का हो चुका है। वो अभी तक “द फंकी ड्रमर” फैब्रिस डेलानोन, लियाम “हिटमैन” हैरिसन और चार्ली “बॉय” पीटर्स को भी हरा चुके हैं।

इसी साल फरवरी में हुए सबसे पहले ONE फेदरवेट मॉय थाई वर्ल्ड टाइटल मुकाबले में पेटमोराकोट अपने हमवतन एथलीट पोंगसिरी पीके.साइन्चे मॉयथाईजिम को हराकर चैंपियन बने थे।

वहीं, अपने पिछले मैच यानी जुलाई में 26 वर्षीय स्टार ने थाई लैजेंड “द बॉक्सिंग कंप्यूटर” योडसंकलाई IWE फेयरटेक्स को हराकर टाइटल को सफलतापूर्वक डिफेंड किया था।

एंडरसन मौजूदा चैंपियन पेटमोराकोट के स्किल सेट से भलि-भांति वाकिफ हैं और ये भी जानते हैं कि उन्हें थाई साउथपॉ (बाएं हाथ के) एथलीट की तकनीक को काउंटर करने का कोई रास्ता जरूर निकालना होगा।

स्वीडिश स्टार ने कहा, “मैं जानता हूं कि उन्हें हरा पाना आसान नहीं है और उनके पास ताकत की भी कोई कमी नहीं है।”

“वो लंबे हैं और मैं जानता हूं कि वो बाईं तरफ से शानदार अटैक करते हैं। उनके लेफ्ट स्ट्रेट पंच और लेफ्ट किक्स में गज़ब की ताकत है और यहां तक कि उनका क्लिंचिंग गेम भी बहुत अच्छा है।

“मुझे उनके इन मूव्स से दूरी बनाए रखनी होगी। लेफ्ट किक को ब्लॉक कर मुझे उससे दूर रहना होगा और मैं अगर किसी स्थिति में उनके पास आ भी गया तो साथ ही मुझे उनकी एल्बोज से भी बचकर रहना होगा। क्योंकि एक ही स्ट्राइक मैच को तुरंत समाप्त कर सकती है।”

इस बाउट के लिए एंडरसन ने Revolution Muay Thai Phuket टीम में टिम फिशर की निगरानी में ट्रेनिंग ली है और वहां उन्हें फिलिपे लोबो और यूरिक डवट्यान का भी साथ मिला है। खास बात ये है कि उनके दोनों टीम मेंबर्स भी ONE: A NEW BREED III के कार्ड का हिस्सा हैं।

“क्रेज़ी वाइकिंग” अपने प्रतिद्वंदी से 4 सेंटीमीटर लंबे होने का फायदा उठाने की कोशिश करेंगे। उनका मानना है कि उनकी बॉक्सिंग स्किल्स और अच्छी मूवमेंट उन्हें पेटमोराकोट के खिलाफ जीत दिला सकती है।

एंडरसन ने अपनी रणनीति के बारे में बताते हुए कहा, “मैं उनपर दबाव बनाने और अपने मूव्स के झांसे में डालने की कोशिश करूंगा। साथ ही मैं बाईं तरफ रहने की कोशिश करूंगा, जिससे मैं मैच में अधिकांश समय उनके फ्रंट फुट की पहुंच से बाहर रह सकूं।”

“मैं उनकी किक्स को ब्लॉक करने का हर संभव प्रयास करूंगा और मैं बॉक्सिंग स्किल्स या एल्बोज लगाकर उनके मूव्स को काउंटर कर सकने में सक्षम हूं। मैं इस मैच को इसी तरह आगे बढ़ता हुआ देख पा रहा हूं, लेकिन साथ ही ये मेरे लिए बहुत बड़ा मुकाबला होने वाला है, जिसका मैं पूरा फायदा उठाने की कोशिश करूंगा।”

एंडरसन को उम्मीद है कि ये वर्ल्ड चैंपियनशिप मैच नॉकआउट के जरिए समाप्त होने वाला है और पूरे मैच के दौरान वो नॉकआउट की रणनीति को अपनाकर जीत दर्ज करने की कोशिश करने वाले हैं।

इसके अलावा पेटमोराकोट जैसे बड़े सुपरस्टार को हराना ही बहुत मुश्किल काम होगा, इसलिए अगर वो थाई एथलीट को 5 राउंड्स तक अपने गेम प्लान में फंसाकर जीत दर्ज करने में सफल भी रहते हैं तो भी उन्हें बहुत खुशी होगी।

एंडरसन ने कहा, “अगर मैं उन्हें नॉकआउट कर पाता हूं तो मेरी खुशी का कोई ठिकाना नहीं होगा। लेकिन मैं ये भी सोच रहा हूं कि नॉकआउट से ज्यादा इस मैच में जीत दर्ज करना मेरी प्राथमिकता है, फिर चाहे वो किसी भी तरीके से आए।”

“मैं नहीं जानता कि जीत हासिल कर पाना किस तरीके से संभव हो पाएगा, लेकिन मैं इतना जरूर जानता हूं कि पेटमोराकोट के सामने मैं कड़ी चुनौती पेश कर सकता हूं। मैं दुनिया को ये दिखाना चाहता हूं कि जब फाइट करने की बात आती है तो मैं बड़े-बड़े सुपरस्टार्स को भी हरा सकता हूं।”

ये भी पढ़ें: ONE: A NEW BREED III का पूरा कार्ड सामने आया