मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

13 बातें जो आप आंग ला न संग के बारे में नहीं जानते होंगे

दो डिविजन के ONE वर्ल्ड चैंपियन आंग ला “द बर्मीस पाइथन” न संग मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स की सबसे जानी-पहचानी हस्तियों में से एक बन गए हैं।

वो जून 2017 में डिफेंडिंग टाइटल होल्डर विटाली बिगडैश को सर्वसम्मत निर्णय के जरिये पराजित कर ONE मिडलवेट चैंपियन बने। साथ ही म्यांमार के खेल इतिहास के पहले वर्ल्ड चैंपियन बनने का उन्होंने गौरव हासिल किया।

इसके ठीक आठ महीने बाद उन्होंने ब्राजीलियन ग्रैपलर अलेक्सांद्रे “बेबेजाओ” मशाडो को हेड किक से महज 56 सेकेंड में शिकस्त देकर वेकेंट (खाली पड़े) ONE लाइट हेवीवेट वर्ल्ड टाइटल को अपने गोल्ड कलेक्शन में शामिल कर लिया।

उस बेमिसाल पल से आंग ला न संग इस स्पोर्ट के मेगास्टार और म्यांमार के लोगों के लिए आदर्श बन गए।

अब “द बर्मीस पाइथन” भविष्य में विटाली बिगडैश के साथ होने वाली तीसरी बाउट के लिए अमेरिका के फ्लोरिडा में Sanford MMA में ट्रेनिंग कर रहे हैं। आइए उससे पहले जानते हैं उनके बारे में वो 13 बातें, जो अभी तक आपको नहीं मालूम होंगी।

#1 बचपन के हीरो

Aung La N Sang with his family in Myanmar

आंग ला न संग भी अन्य बच्चों की ही तरह अपने माता-पिता को आदर्श मानते थे।

म्यांमार के स्पोर्ट्स आइकॉन बड़े होकर अपने पिता की शानदार कार्य नीति और दृढ़ संकल्प को विशेष रूप से अपनाना चाहते थे।

Sanford MMA के प्रतिनिधि बताते हैं, “वो केवल चौथी क्लास तक स्कूल गए थे इसलिए ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं थे लेकिन वो हम पांचों को पूरा ध्यान रखते थे। उन्होंने हमारी पढ़ाई यूनिवर्सिटी के स्तर तक पूरी करवाई। वो मेरे हीरो हैं।”

#2 मार्शल आर्ट्स का प्रभाव जल्दी पड़ा

आंग ला न संग के दिमाग पर पहले से ही ब्रूस ली और जैकी चैन बसे हुए थे। हालांकि, उनका सबसे ज्यादा ध्यान मार्शल आर्ट्स और फिल्म लैजेंड जेट ली ने खींचा था।

“द बर्मीस पाइथन” को इस एक्शन स्टार ने अपना दीवाना बना दिया था और उनमें वो बीज बोया, जिससे वो आज ख्याति प्राप्त मार्शल आर्टिस्ट बन गए हैं।

#3 न भुलाए जा सकने वाले शिक्षक

यांगून इंटरनेशनल स्कूल जाने के समय को याद करते हुए उन्हें अपने प्रोफेसर्स मिस्टर एंड मिसेज एंडरसन की याद आती है।

उन्होंने बताया, “मिसेज एंडरसन ने मुझे नौवीं क्लास से 12वीं तक स्पेनिश सिखाई थी और मिस्टर एंडरसन साइंस में बायोलॉजी की क्लास लेते थे। वो वॉलीबॉल में भी हमें कोचिंग देते थे। वो बहुत अच्छे लोग थे।”

#4 सबसे यादगार स्पोर्ट्स आइडल

जब भी बात एथलेटिक्स की आती है तो 90 के दशक में बड़े हो रहे दुनिया भर के बच्चों की तरह आंग ला न संग भी छह बार के NBA चैंपियन माइकल जॉर्डन के प्रशंसक थे।

बास्केटबॉल कोर्ट में कई बार के MVP (मोस्ट वैल्यूबल प्लेयर)  की शानदार स्किल्स और सिल्वर स्क्रीन पर स्पेस जैम ने उन्हें म्यांमार के युवाओं का पसंदीदा हीरो बना दिया था।

#5 सर्कल के बाहर सबसे मुश्किल चुनौती

आंग ला न संग एक सच्चे पारिवारिक व्यक्ति हैं।

वर्ल्ड क्लास मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट्स से लाइट हेवीवेट और मिडलवेट डिविजन में मुकाबला करना तो कठिन है ही, लेकिन उससे भी ज्यादा कठिन काम सर्कल से बाहर अपने जीवन में संतुलन बनाना और परिवार के साथ अच्छी जिंदगी बनाकर रख पाना है।

ये इसलिए भी बहुत जरूरी है क्योंकि उनकी पत्नी केटी ने हाल ही में उनके दूसरे बच्चे को जन्म दिया है। वो एक प्यारी सी बच्ची है, जिसका नाम सेन सेंग ग्रेस न संग रखा गया है।

#6 मार्शल आर्ट्स की सफलता में सबसे बड़ी खासियत

चैंपियन की वो कौन सी चीज है, जिसे वो मानते हैं कि मार्शल आर्ट्स में महान बनने के लिए जरूर होनी चाहिए?

उन्होंने बताया, “धैर्य बहुत जरूरी है। परेशानी वाले समय में भी आपको धैर्य रखना होता है और प्रैक्टिस करते रहना होता है। भले ही आपको ये महसूस न हो लेकिन ये जरूरी होता है।”

#7 प्रतियोगिता के बाद की इच्छाएं

आंग ला न संग के प्रोफेशनल करियर के लिए जैसा कहा जाता है कि उनका पूरा ध्यान म्यांमार की अगली पीढ़ी के टैलेंट को मार्शल आर्ट‌्स की ऊंचाइयों तक पहुंचाना है।

“द बर्मीस पाइथन” अपने देशवासियों को इस बात के लिए प्रेरित करना चाहते हैं कि अगर पूरा मन लगाकर वो प्रयास करें तो कुछ भी पा सकते हैं।



#8 कांसे की मूर्ति

आंग ला न संग का कद तब से काफी बड़ा हो गया, जब से वो दो डिविजन के ONE वर्ल्ड चैंपियन बने।

दिसंबर 2018 में ये चीजें और ऊंचाई पर तब पहुंच गईं, जब कचिन नेशनल मनाऊ पार्क में उनकी कांसे की मूर्ति का अनावरण किया गया।

इसने नि:संदेह उनकी मातृभूमि में उन्हें आदर्श के रूप में स्थापित कर दिया।

#9 चैंपियन को किस चीज से डर लगता है

आपको ये जानकर हैरानी होगी कि उन्हें सांप या ऊंचाई जैसी चीजों से डर नहीं लगता है।

जो चीज “द बर्मीस पाइथन” को डराती है, वो है अपने जीवन में तय किए गए लक्ष्यों का ना पा पाना।

उनका मानना है, “मुझे कोई भी चीज उतना नहीं डराती है, जितना कि दुनिया के मुझसे आगे निकल जाने और मेरा खुद के सपनों को पूरा न कर पाने का डर है।”

#10 अमेरिका और म्यांमार के बीच समय बांटना

“द बर्मीस पाइथन” को अपनी जिंदगी अमेरिका और म्यांमार में मिलकर गुजारनी पसंद आती है।

हालांकि, फ्लोरिडा और साउथ ईस्ट एशिया के देश की तुलना में दोनों जगह उनके लाइफ स्टाइल में बहुत से अंतर आते हैं।

उन्होंने बताया, “ये लगभग दो जिंदगी जीने के जैसा है। अमेरिका में मेरे पास एक सामान्य जिंदगी होती है, जबकि म्यांमार में मैं सेलेब्रिटी होता हूं। ये बहुत अजीब है। इससे आपको अलग तरह का नजरिया मिलता है।”

#11 किचन में शेफ

आंग ला न संग भले ही सर्कल में वर्ल्ड चैंपियन हों लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि वो किचन में शेफ का काम भी कर लेते हैं। असल में, Sanford MMA प्रतिनिधि जब सात साल के थे, तब से वो कुकिंग कर रहे हैं।

उन्हें याद है, “जब मैं बच्चा था, तब पड़ोसी आकर हमें खाना बनाना सिखाती थीं। सप्ताह के अंत पर कभी-कभी वो हमें कुक करने के लिए कहती थीं और तभी से मेरी कुकिंग की आदत पड़ गई है।”

हो सकता है कि एक दिन हम उन्हें थ्रोडाउन विद सिलेब्रिटी शेफ बॉबी फ्ले के साथ हिस्सा लेते टीवी पर देखें।

#12 पसंदीदा क्रिसमस गिफ्ट

Myanmar's Aung La N Sang hits the mitts

एक योद्धा जैसा जज्बा हमेशा से ही म्यांमार के सुपरस्टार में मौजूद था। ऐसे में उनको शुरुआत में बॉक्सिंग ग्लव्स का जोड़ा क्रिसमस गिफ्ट के तौर पर बहुत पसंद था।

उन्होंने मुस्कुराते हुए बताया, “इसे मैं अपने भाई के साथ इस्तेमाल करता था। मैं उससे अपने भाई को हरा देता था और फिर वो ग्लव्स ले लेता था और मुझे परेशान करना शुरू कर देता था।”

#13 पसंदीदा कार्ड गेम

आंग ला न संग किशोरावस्था के दौरान क्लासिक कार्ड गेम मैजिक: द गेदरिंग के शौकीन खिलाड़ी हुआ करते थे।

उन्होंने इस बात को माना, “जब मैं मिडल स्कूल में था, तब काफी उनको काफी खेला करता था। सीनियर हाई स्कूल तक मैंने उन्हें खेला। मेरे पास करीब 1000 कार्ड हुआ करते थे।”

हो सकता है कि वो एक दिन एक और वर्ल्ड टाइटल पर कब्जा कर लें, जिसे मैजिक: द गेदरिंग वर्ल्ड चैंपियन कहा जा सकेगा।

ये भी पढ़ें: 13 बातें जो आप ONE हेवीवेट वर्ल्ड चैंपियन ब्रेंडन वेरा के बारे में नहीं जानते होंगे