लाइफ स्टाइल

मेई यामागुची ने बताई 4 एक्सरसाइज़ जिन्हें आप घर पर कर अच्छा फील कर सकते हैं

मेई “V.V” यामागुची ONE Championship में सबसे ताकतवर एटमवेट एथलीट्स में से एक हैं और उनकी ताकत का राज भी किसी से छिपा नहीं है।

एक तरफ 37 वर्षीय वर्ल्ड टाइटल कंटेंडर जापान की राजधानी टोक्यो में अलग-अलग जिम में ट्रेनिंग लेती रही हैं। वो अपने प्रतिद्वंदियों को बेस्ट प्रदर्शन करने के लिए पुश करती हैं, इसका श्रेय उनकी बॉडीवेट एक्सरसाइज़ को ही जाता है।

यामागुची का रूटीन ना केवल आपको ताकत बढ़ाने में मदद करेगा, बल्कि वजन कम करने में मदद करेगा और COVID-19 के कारण हुए लॉकडाउन के समय घर पर रहकर भी आप इन मार्शल आर्ट्स वर्कआउट्स को आसानी से कर सकते हैं।

#1 स्क्वॉट्स

स्क्वॉट्स एक आसान लेकिन कारगर एक्सरसाइज़ है और ताकत को बढ़ाने के लिए घर पर रहकर भी इसे आसानी से किया जा सकता है। इससे हैमस्ट्रिंग्स, हिप्स और ग्लूट्स की ताकत को बढ़ाती है और यामागुची इसका जीता जागता उदाहरण हैं।

“V.V” स्क्वॉट्स करते समय स्टूडेंट्स को अपने पैरों पर फोकस करने की सलाह देती हैं, खासतौर पर जांघ के हिस्से पर।

उन्होंने कहा, “इससे आपकी जांघ मजबूत बनेंगी। बॉडी के निचले हिस्से का मजबूत होना जरूरी है। जैसे-जैसे व्यक्ति की उम्र बढ़ती है उसके पैरों और जांघों में ताकत कम होने लगती है, इसलिए स्क्वॉट्स कर उन्हें बेहतर स्थिति में रखना बहुत जरूरी होता है।”

#2 लंजेज़

लंजेज़ भी एक ऐसी एक्सरसाइज़ है जिसे आप घर पर रहकर आसानी से कर सकते हैं। यामागुची सलाह देती हैं कि अपने फिटनेस रूटीन में लंजेज़ को जरूर जोड़ें क्योंकि इनका सीधा प्रभाव आपके पैरों पर पड़ता है और ताकत मिलती है।

इस वर्कआउट को करते समय यामागुची कहती हैं कि इसके लिए बॉडी पोश्चर (शरीर का आसन) का सही होना बहुत जरूरी है। सिर को सीधा रखें और आगे की ओर देखें।

लंजेज़ करने से लोअर बॉडी की स्ट्रेंथ बढ़ती है और बढ़ती उम्र में इससे चोटिल होने की संभावनाएं कम हो जाती हैं।

उन्होंने कहा, “बड़ी उम्र के लोगों को ट्रिप करने के दौरान ज्यादा चोट लगती हैं। चोट के कारण वो वीलचेयर पकड़ लेते हैं, पैरों की कमजोरी के कारण ऐसा होता है। आप चल नहीं पाते हैं, इसलिए पैरों की स्ट्रेंथ महत्वपूर्ण होती है जिससे आपको चोट भी नहीं लगेगी और वीलचेयर जैसी चीजों से दूर भी रह सकेंगे।”



#3 सिट-अप्स

यामागुची ना केवल आपको COVID-19 की वजह से लगे लॉकडाउन के दौरान फिट देखना चाहती हैं बल्कि वो ये भी चाहती हैं कि आप इस समय को व्यर्थ ना जाने दें।

इसके लिए वो सिट-अप्स करने की सलाह देती हैं। शुरुआत में 15 सिट-अप्स के 3 सेट करें और फिर सेट और रैप्स (रिपीटिशन) को बढ़ाने पर फ़ोकस करें।

उन्होंने कहा, “आपके एब्स आपको अच्छा पोश्चर देने में मदद करते हैं।” इसके अलावा कई घंटे बैठे रहने से लोअर बैक में दर्द होने लगता है और सिट-अप्स इस दर्द को दूर करने में भी मदद करते हैं।

#4 पुश-अप्स

पुश-अप भी एक ऐसी एक्सरसाइज़ है जिसे आप होम वर्कआउट रूटीन में जोड़ सकते हैं। पुश-अप्स से चेस्ट, बैक, कंधे के मसल्स और खासतौर पर हाथों को भी मजबूती मिलती है।

लेकिन एटमवेट सुपरस्टार का मानना है कि घर पर रहकर जो आप जंक फूड खाते हैं, पुश-अप्स से उस फूड के साइड-इफेक्ट्स को भी काउंटर करने में मदद मिलती है।

उन्होंने बताया, “शुगर आपके हाथों में एंटर होती है, इसलिए आपको अपने हाथों को फिट रखने की इच्छा जागृत होने लगती है। पुश-अप्स करने से आपको मसल्स बिल्ड करने में मदद मिलेगी, इससे शुगर और केक जो भी पदार्थ आपके हाथों तक जा रहे हैं उनके साइड-इफेक्ट्स से आप खुद को बचा पाएंगे।”

10 पुश-अप्स के 3 सेट से शुरुआत करें। जैसे-जैसे आपकी ताकत बढ़ती जाए और इस एक्सरसाइज़ को करने में आप अच्छा महसूस करने लगें तो सेट के साथ-साथ रैप्स को भी बढ़ाएं।

उन्होंने आगे कहा, “हर दिन पुश-अप्स करना बहुत जरूरी है। खुद को ज्यादा पुश करने की जरूरत नहीं है और ना ही ज्यादा रैप्स करने की जरूरत है। अगर आप ज्यादा रैप्स और सेट्स करना चाहते हैं तो घुटनों को जमीन पर टिका लें।”

ये भी पढ़ें: 5 तरीके जिनसे नींद आपके मार्शल आर्ट्स गेम को अच्छा बनाती है