लाइफ स्टाइल

टेक्नोलॉजी से जुड़ी 3 चीज़ें जो मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग में बदलाव ला रही हैं

टेक्नोलॉजी ने रहने, काम करने और खेलने का ढंग बदल दिया है और अब ये मार्शल आर्ट्स में ट्रेनिंग करने के तरीके को भी बदल रही है।

आधुनिक और छोटे डिवाइस से लेकर बड़े सामान तक हर एक वैज्ञानिक चीज़ ने एथलीट्स के गेम को सही बनाने में मदद की है।

आइए जानते हैं टेक्नोलॉजी से जुड़ी तीन चीज़ों के बारे में जो मार्शल आर्ट्स की तैयारी करने के ढंग को बदल रही है।

#1 हार्ट रेट मॉनिटर

हार्ट रेट मॉनिटर एक ऐसा डिवाइस है जिसे आप छाती और हथेली पर पहन सकते हैं। आपकी छाती पर लगाए गए स्ट्रैप्स में एक डिजिटल सेंसर होता है जो ट्रेनिंग के दौरान आपका हार्ट रेट चैक करता है और फिर उसे हथेली पर लगे मॉनिटर में दर्शाता है।

हार्ट रेट के बारे में जानकारी मिलने से आपको मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग के दौरान काफी मदद मिलती है।

उदाहरण के लिए, स्पारिंग और भारी-भरकम बैग के साथ तैयारी करने से आपका हार्ट रेट बढ़ता है और एक अलग स्तर पर पहुंच जाता है। अगर आप एक स्तर तक हार्ट रेट को कायम रखने का प्रयास करेंगे तो आपके स्टैमिना और शारीरिक स्थिति में सुधार होगा।

ट्रॉय “प्रीटी बॉय” वर्थेन के जबरदस्त रेसलिंग स्टाइल से पता चलता है कि उन्होंने ट्रेनिंग से अपनी शारीरिक स्थिति को कितना मजबूत बना लिया है।

Evolve के प्रतिनिधि ने कहा, “अगर मुझे अपने एरोबिक जोन सिस्टम पर काम करना है तो मुझे पता है कि वर्कआउट के दौरान मेरा हार्ट रेट कितना होना चाहिए।”

“हार्ट रेट मॉनिटर से पता चल जाएगा कि आप जरूरत से ज्यादा ट्रेनिंग नहीं कर रहे हैं, आप सही तरह से ट्रेनिंग कर पा रहे हैं और चीज़ें सही तरह से हो रही है या नहीं।”

फिनलैंड के फ्लाइवेट स्टार अलेक्सी “जायंट” टोइवोनन भी अपने ट्रेनिंग सेशंस को सही तरह पूरा करने के लिए हार्ट रेट मॉनिटर का उपयोग करते हैं।

उन्होंने कहा, “मैं मानता हूँ ये हर एक एथलीट के लिए फायदेमंद रहेगा और ये हर एक खिलाड़ी के पास जरूर होना चाहिए।”

“भले ही आप कसरत कर रहे हैं या राउंड्स के बीच कितनी जल्दी रिकवर करने का प्रयास कर रहे हैं, ये जानना काफी मुश्किल है कि आप अपनी लिमिट्स से आगे बढ़ रहे हैं या नहीं। हार्ट रेट मॉनिटर से आपको पता चल जाएगा कि आपको शारीरिक ट्रेनिंग का कितना फायदा मिल रहा है।”



#2 इंटरेक्टिव ट्रेनर

View this post on Instagram

The Personal Boxing Trainer for your home ???? ????

A post shared by Nexersys (@nexersys) on

इंटरेक्टिव ट्रेनर आपको मॉय थाई और किकबॉक्सिंग के कठोर वर्कआउट्स में मदद करता है। अगर आपके पास कोई इंस्ट्रक्टर नहीं है तो ये मशीन आपकी मदद करेगी।

इंटरेक्टिव ट्रेनर में एक्सीलेरोमीटर के साथ स्ट्राइक पैड्स लगे होते हैं जिससे आपको ताकत, तेजी, स्ट्राइक्स की गिनती, समय और अन्य चीज़ों के बारे में जानकारी मिलेगी।

आप इससे खुद में हुए सुधार के बारे में जान सकते हैं और आपको पता चल जाएगा कि किन चीज़ों के आपको सुधार करने की जरूरत है। साथ ही ट्रेनर अलग वर्कआउट्स के लिए अलग प्रोफाइल्स दर्शाएगा जिससे पता चलेगा कि किन क्षेत्रों में आपको सुधार करना है।

वर्थेन मानते हैं कि इंटरेक्टिव ट्रेनर आपके गेम को पूरी तरह से बदल सकता है क्योंकि इसमें ट्रेनिंग के अलग-अलग विकल्प हैं, खासकर स्ट्राइकर्स को इससे फायदा मिलेगा।

उन्होंने कहा, “मैं मानता हूँ कि ये जबरदस्त है क्योंकि इससे एथलीट्स को अपनी एक्यूरेसी को सुधारने में मदद मिलती है और अलग-अलग एंगल और कॉम्बिनेशन्स से स्ट्राइकिंग लगाने में भी मदद मिलती है जिन्हें आप भारी बैग पर नहीं आजमा सकते हैं।”

“साथ ही आपको पैड्स पकड़ने के लिए कोच की भी आवश्यकता नहीं रहेगी और इससे आपको अलग स्किल्स के बारे में सीखने का मौका मिलेगा और आप कॉम्बिनेशंस का उपयोग भी कर सकते हैं।”

#3 ग्रैपलिंग डमी

Former ONE Strawweight World Champion Alex Silva punches a training dummy

अगर आप ब्राजीलियन जिउ-जित्सु का अभ्यास करते हैं है या आप मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग कर रहे हैं और आपके पास स्पारिंग या अभ्यास के लिए कोई साथी नहीं है तो आप ग्रैपलिंग डमी का उपयोग कर सकते हैं।

ये एक ऐसा डमी है जिसके इंसान जैसे हाथ-पैर होते हैं और इसका वजन भारी बैग जितना ही रहता है। आप इसे न सिर्फ ग्रैपलिंग और रेसलिंग के लिए उपयोग कर सकते हैं बल्कि आपके इसे टांगकर किक्स और स्ट्राइक्स का अभ्यास भी कर सकते हैं।

NCWA रेसलिंग चैंपियन वर्थेन ने यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल फ्लोरिडा से अबतक ट्रेनिंग के दौरान ग्रैपलिंग डमी में काफी बदलाव देखा है।

उन्होंने बताया, “इन्हें काफी समय हो चुका है लेकिन अब ये काफी एडवांस हो चुका है।”

“ग्रैपलिंग डमी में अब हाथ, पैर और एक सिर रहता है इसलिए आप बिना किसी साथी की मदद के स्ट्राइक और ग्रैपलिंग मूव्स का अभ्यास कर सकते हैं।”

टोइवोनन ग्रैपलिंग डमी के साथ मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग करते हैं और इससे किसी को चोट लगने की फिक्र भी खत्म हो जाती है।

उन्होंने बताया, “ट्रेनिंग करते समय आप अपने साथी पर पूरी ताकत से स्ट्राइक नहीं लगा सकते। इस वजह से भारी बैग की जगह अभ्यास करते समय डमी एक अच्छा विकल्प होगा।”

ये भी पढ़ें: एडी अल्वारेज़ ने अपनी पसंदीदा फिल्मों के बारे में बात की