मॉय थाई

साल 2019 के आखिरी 3 महीने में ONE Super Series के टॉप-5 मुकाबले

Dec 24, 2019

ONE Super Series के 2019 सीज़न में कई धमाकेदार मुकाबले देखने को मिले। अक्टूबर से दिसंबर के बीच सबसे बेहतरीन किकबॉक्सिंग और मॉय थाई एथलीट्स ने अपनी स्किल्स से सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।

अब जब नया सीज़न शुरू होने वाला है तो हम आपको साल ONE Super Series में 2019 के आखिरी 3 महीने के टॉप-5 मुकाबलों से रूबरू कराने वाले हैं।

#1 चार राउंड के जबरदस्त एक्शन के बाद नोंग-ओ ने सैमापेच को नॉकआउट किया

नवंबर में सिंगापुर इंडोर स्टेडियम में आयोजित हुए ONE: EDGE OF GREATNESS इवेंट में सैमापेच फेयरटेक्स ने मौजूदा ONE बेंटमवेट मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन सैम-ए गैयानघादाओ के सामने कड़ी चुनौती पेश की थी।

शुरुआत में दोनों ने काफी आक्रामक रुख अपनाया लेकिन जैसे-जैसे समय बीता नोंग-ओ ने अपने प्रतिद्वंदी पर पंचों की बरसात शुरू कर दी थी। दूसरे राउंड में उन्होंने सैमापेच को 2 बार जोरदार पंचों से नीचे भी गिराया।

ऐसा लगने लगा था कि नोंग-ओ को इस मैच में आसान जीत मिलने वाली है लेकिन तीसरे राउंड में सैमापेच ने जबरदस्त वापसी की जिससे मुकाबले के प्रति फैंस की दिलचस्पी बढ़ने लगी थी।

चौथे राउंड में नोंग-ओ ने अनुभव और ताकत का फायदा उठाते हुए अपने प्रतिद्वंदी को जोरदार राइट-क्रॉस लगाया, जिससे सैमापेच उबर नहीं पाए और वो अपना टाइटल रिटेन करने में कामयाब हुए।

#2 महमूदी के अटैक और लर्डसीला के डिफेंस के बीच कड़ी टक्कर

दिसंबर में आयोजित हुए ONE: MARK OF GREATNESS इवेंट में इलायस महमूदी “द स्नाइपर” की स्ट्रॉइकिंग और लर्डसीला फुकेत टॉप टीम की डिफेंस स्किल्स के बीच जबरदस्त मुकाबला देखने को मिला।

किसी ने नहीं सोचा था कि अल्जीरिया से आने वाले युवा एथलीट इलायस खुद से काफी ज्यादा अनुभवी एथलीट के पसीने छुटा देंगे। महमूदी को कोई भी मौका मिल रहा था, वो उसका पूरा फायदा उठा रहे थे और उनकी पहुंच (रीच) भी लर्डसीला से ज्यादा थी इसलिए उन्हें पंच और किक्स लगाने में आसानी हो रही थी। दूसरी ओर लर्डसीला भी डिफेंस के साथ काउंटर अटैक के मौके तलाशते रहे।

“द स्नाइपर” लगातार किक्स और पंच लगा रहे थे लेकिन उनमें से अधिकतर कनेक्ट नहीं हो रहे थे क्योंकि उनके प्रतिद्वंदी का डिफेंस काफी अच्छा था। इसके बावजूद महमूदी ने सब्र नहीं खोया।

ये महमूदी के लिए किसी सपने के पूरा होने जैसा था क्योंकि उनकी आक्रामकता ने उन्हें सर्वसम्मत निर्णय से जीत दिलाई थी।

#3 अपने धैर्य के कारण रोडटंग टाइटल डिफेंड करने में सफल रहे

अक्टूबर में टोक्यो में आयोजित हुए ONE: CENTURY PART II में रोडटंग जित्मुआंगनोन “द आयरन मैन” ने 5 राउंड तक चले मुकाबले में वॉल्टर गोंसाल्वेस को हराते हुए अपने ONE फ़्लाइवेट मॉय थाई वर्ल्ड टाइटल डिफेंड किया था।

रोडटंग ने लगातार अपने प्रतिद्वंदी पर जोरदार किक्स लगाईं और अच्छी बॉक्सिंग बॉक्सिंग स्किल्स के सहारे मुकाबले पर अपना वर्चस्व कायम रखा था। इस दौरान उनकी ठोड़ी (चिन) को भी काफी क्षति पहुंची क्योंकि गोंसाल्वेस नियमित रूप से हेड-किक्स का प्रयोग कर रहे थे।

गोंसाल्वेस अपने प्रतिद्वंदी की किक्स का निशाना नहीं बनना चाहते थे इसलिए उन्होंने काउंटर अटैक करने की रणनीति पर काम किया। असल में उनके पास काउंटर अटैक के अलावा कोई अन्य विकल्प भी नहीं बचा था।

“द आयरन मैन” को आखिर में अपने प्रतिद्वंदी पर विभाजित निर्णय से जीत मिली लेकिन डेब्यू कर रहे ब्राजील के गोंसाल्वेस ने भी साहसिक प्रदर्शन करते हुए सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।

#4 रामज़ानोव ने झांग को हराकर जीता पहला ONE बेंटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल

ONE: MARK OF GREATNESS में ONE चैंपियनशिप के इतिहास का पहला बेंटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल मैच अलावेर्दी रामज़ानोव “बेबीफेस किलर” और झांग चेंगलोंग “मॉय थाई बॉय” के बीच लड़ा गया।

रूसी एथलीट रामज़ानोव ने 15 मिनट तक चले इस मुकाबले में अपनी सभी स्किल्स को उजागर किया था। इस मैच में उन्होंने मॉय थाई से लेकर स्विच-हिटिंग और स्पिनिंग अटैक तक का इस्तेमाल किया।

तीसरे राउंड में उन्होंने झांग पर बेहतरीन जैब-क्रॉस कॉम्बिनेशन भी लगाया लेकिन चीनी एथलीट ने इसका जवाब ओवरहैंड राइट पंचों से दिया और इससे वो काफी हद तक इस मुकाबले का रुख अपनी ओर भी मोड़ चुके थे।

“मॉय थाई बॉय” ने कभी रामज़ानोव को आराम करने की स्थिति में पहुंचने ही नहीं दिया और लगातार ताकतवर पंच लगाते रहे लेकिन रुसी एथलीट इस मुकाबले में इतना तो कर ही चुके थे जिसने उन्हें सर्वसम्मत निर्णय से पहला ONE बेंटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन बनाया।

#5 अपने ONE डेब्यू मैच में ही चमके रोमन क्रीकलिआ

तारिक खबाबेज़ “द टैंक” अपने आक्रामक रवैये के कारण फैंस के पसंदीदा एथलीट्स में से एक बन गए हैं और इसी आक्रामक अंदाज ने उन्हें वैश्विक स्तर पर लगातार 4 जीत भी दिलाई हैं।

वहीं, जब उनका सामना चीन की राजधानी बीजिंग के कैडिलैक एरीना में आयोजित हुए ONE: AGE OF DRAGONS में ONE चैंपियनशिप की पहली लाइट हैवीवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियनशिप मुकाबले में रोमन क्रीकलिआ से हुआ तो उनका आक्रामक स्टाइल पूरे 2 राउंड तक भी नहीं टिक सका।

मोरक्को के रहने वाले तारिक ने शुरुआत तो उसी अंदाज में की थी जिसके लिए वो जाने जाते हैं लेकिन क्रीकलिआ भी अपनी मूवमेंट के सहारे पहले राउंड में बचाव की रणनीति पर काम करते रहे। दूसरे राउंड में कुछ समय बाद ही क्रीकलिआ के पंच सटीक निशाने पर लगने शुरू हो गए थे।

मैच में पिछड़ने के बाद भी तारिक ने आगे आने का प्रयास किया लेकिन रोमन ने मौका देखते ही पंच और नी की बरसात शुरू कर दी और इसी के सहारे वो अपने प्रोमोशनल डेब्यू में वर्ल्ड टाइटल जीतने में सफल रहे।

ONE Championship के साल 2020 के पहले लाइव इवेंट ONE: A NEW TOMORROW के लिए हो जाइए तैयार!

बैंकॉक | 10 जनवरी | टिकेट्सClick here  |  TV: भारत में दोपहर 3:30 बजे से देखें