जेनेलिम ओलसिम किसी भी खेल में आगे जा सकती थीं, MMA में कैसे आईं

Jenelyn Olsim enters the arena

Team Lakay की स्टार जेनेलिन ओलसिम बचपन में कुछ भी करतीं तो उसमें सफलता हासिल कर सकती थीं।

हाई स्कूल में फिलीपीना स्टार अलग-अलग खेलों में भाग लेती रहती थीं। शॉट पुट जैसे एकल इवेंट्स से लेकर वॉलीबॉल और बास्केटबॉल टीम स्पोर्ट्स में भी उन्हें सफलता मिल रही थी।

यही सफर उन्हें ONE Championship तक खींच लाया है और वो मौजूदा #5 रैंक की विमेंस स्ट्रॉवेट कंटेंडर हैं। अब शुक्रवार, 27 अगस्त को ONE: BATTLEGROUND III में उनका सामना एटमवेट मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स बाउट में बी “किलर बी” गुयेन से होगा।

अगले मैच में एक जीत उन्हें ONE: EMPOWER से शुरू हो रहे ONE विमेंस एटमवेट वर्ल्ड ग्रां प्री में जगह दिलाने के करीब पहुंचा सकती है।

बचपन में वो किसी भी खेल को चुन सकती थीं, यहां जानिए उनकी प्रोफेशनल मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में एंट्री कैसे हुई?

एक बड़ा सबक सीखा

https://www.instagram.com/p/CONPX7YBV7q/

हाई स्कूल छोड़ने के बाद वो कॉम्बैट स्पोर्ट्स से जुड़ीं।

उन्होंने बताया, “इस सब की शुरुआत मेरी कॉलेज की एक दोस्त के फोन के वॉलपेपर से हुई। उन्होंने रिंग के बीच में खड़े होकर तस्वीर ली थी। मैंने कहा, ‘ये बहुत अच्छा है।'”

“वो Team Lakay में ट्रेनिंग करती थीं। उस समय मेरी उम्र केवल 17 साल थी और वो जानती थी कि मेरे पास ट्रेनिंग शुरू करने के लिए ज्यादा पैसे नहीं थे। वो मुझे कहीं और ले गई, जहां उन्होंने मुझे स्ट्राइकिंग के बेसिक्स सिखाए।”

ओलसिम ने बेसिक्स सीखने के बाद किकबॉक्सिंग पर फोकस किया।

उन्होंने ट्रेनिंग जारी रखी और कुछ समय बाद ही उन्हें अपना पहला मैच मिला। उन्हें थोड़े समय बाद अहसास होने लगा था कि इस खेल में वो काफी आगे जा सकती हैं।

उन्होंने कहा, “2 हफ्तों बाद, मेरी पहली फाइट हुई।”

“मुझे तकनीकी नॉकआउट से हार झेलनी पड़ी। मगर उस समय मुझे अंदाजा नहीं था कि रिंग में क्या होने वाला है। मुझे उम्मीद नहीं थी कि मेरी इतनी पिटाई होगी। उसके बाद मैं उस हार के बारे में सोचती रही, जिससे मुझे कभी-कभी नींद भी नहीं आती थी।

“मेरे पास कोच नहीं था। मुझे कोई अंदाजा नहीं था कि मैं क्या कर रही हूं। मेरी पिटाई हो रही थी लेकिन मैं हंस भी रही थी। मुझे अपने प्रदर्शन पर बाद में निराशा हुई। मैं दूसरों के सामने जाने से भी जैसे लज्जित महसूस कर रही थी।”

बचपन में कई खेलों में अच्छा करने के बाद ओलसिम को अचानक से निराशा के भाव ने घेर लिया था।

मगर चुनौती से भागने के बजाय उन्होंने सफलता की ओर कदम आगे बढ़ाने पर ध्यान दिया। इस बार उनके अंदर कुछ करने का जुनून था और पहले से ज्यादा प्रतिबद्ध थीं।

ओलसिम ने कहा, “मेरे अंदर जैसे नई ऊर्जा आ गई थी। मैं जानती थी कि मैं सफलता हासिल कर सकती हूं, जिसके लिए मुझे इस खेल के बारे में ज्यादा जानकारी प्राप्त करने की जरूरत थी। इसलिए मैंने जिम को जॉइन कर ट्रेनिंग शुरू की।”

उस समय उन्हें एक जिम ढूंढ कर अपनी स्किल्स को बेहतर करने पर ध्यान देना था। उन्हें बागियो शायर के पहाड़ी इलाकों में एक जिम मिला, लेकिन वो Team Lakay जितना फेमस नहीं था।

ओलसिम ने कहा, “उन परिस्थितियों से मुझे अहसास हुआ कि मुझे एक जिम की जरूरत है, जिसके बाद मैंने Tribal Torogi को जॉइन किया।”

Tribal Torogi में उन्होंने खुद में काफी सुधार किया। उन्हें इस खेल से इतना लगाव महसूस होने लगा था कि उन्होंने अपने बड़े भाई और ONE Warrior Series के स्टार जेरी “द बोकोडियन वॉरियर” ओलसिम को अपने साथ काम करने के लिए बुलाया।

उन्होंने कहा, “पहले मैंने जिम को जॉइन किया और उसके बाद जैरी को बुलाया। हम दोनों किंग्स कॉलेज में क्रिमिनोलॉजी की पढ़ाई कर रहे थे और मैं उनसे यही कह रही थी कि कम से कम एक बार जिम आकर इस खेल को ट्राई जरूर करें। वो ट्रेनिंग के लिए आए और आते ही उन्हें इस खेल से लगाव महसूस होने लगा।”



सफलता मिली और एक नए सफर की शुरुआत

ओलसिम का नए जिम में आने का फैसला सही साबित हुआ क्योंकि कुछ समय बाद ही उन्हें सफलता मिलने लगी थी।

केवल 3 साल के अंदर वो फिलीपींस में नेशनल मॉय थाई टीम का हिस्सा बनीं। इस बीच उन्होंने 2018 में ईस्ट एशियन गेम्स में स्वर्ण और 2019 साउथ-ईस्ट एशियन गेम्स में रजत पदक जीता।

24 वर्षीय स्टार को एमेच्योर मॉय थाई करियर में तब सफलता मिली जब फिलीपींस में MMA एक नए खेल के रूप में उभर रहा था।

2018 तक ONE Championship में उनके देश के 5 एथलीट्स वर्ल्ड चैंपियन बन चुके थे, जिनमें से 4 Team Lakay का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। इनमें ONE स्ट्रॉवेट वर्ल्ड चैंपियन जोशुआ “द पैशन” पैचीओ, पूर्व लाइटवेट किंग एडुअर्ड “लैंडस्लाइड” फोलायंग, पूर्व बेंटमवेट चैंपियन केविन “द सायलेन्सर” बेलिंगोन और पूर्व फ्लाइवेट किंग जेहे “ग्रैविटी” युस्ताकियो शामिल हैं।

अपने हमवतन एथलीट्स को सफलता प्राप्त करता देख ओलसिम के मन में भी कुछ कर गुजरने की इच्छा जागृत हुई। कुछ समय बाद वो मॉय थाई और MMA में से किसी एक को चुनने की स्थिति में आ फंसीं।

उस समय उन्होंने Team Lakay को जॉइन कर MMA पर फोकस करना शुरू किया।

ओलसिम ने बताया, “एक समय आया जब मैंने खुद से पूछा, ‘मैं ट्रेनिंग क्यों कर रही हूं? किसलिए ट्रेनिंग कर रही हूं?’ तब मुझे अहसास हुआ कि मुझे केवल एक चीज पर ध्यान देना होगा।”

“मैं 2 चीजों पर ध्यान देकर अपने दिमाग को भटकाना नहीं चाहती थी। अब मैं केवल एक चीज पर फोकस कर वर्ल्ड चैंपियन बनना चाहती हूं।”

उनकी नई टीम में मिल रहे सपोर्ट ने उन्हें अहसास कराया कि उनका सपना जल्द ही पूरा हो सकता है।

उन्होंने बताया, “Team Lakay में आने के बाद मेरे ग्रैपलिंग गेम में बहुत सुधार हुआ। चूंकि मैं मॉय थाई बैकग्राउंड से आती हूं, इसलिए उन्होंने मुझे ग्रैपलिंग और रेसलिंग पर ज्यादा ध्यान देने के लिए कहा। उनकी सलाह हमेशा मुझे फायदा पहुंचाती आई हैं और कोच कहते हैं कि मैं बहुत जल्दी चीजों को सीख लेती हूं।”

ग्लोबल स्टेज पर कदम रखा

चीजों पर जल्दी पकड़ बनाने के कारण ही उन्हें ग्लोबल स्टेज पर फाइट करने का अवसर मिला।

ONE Warrior Series में अच्छा करने के बाद उन्होंने ONE: FISTS OF FURY III में ब्राजीलियाई ग्रैपलर माइरा मज़ार के खिलाफ अपना मेन रोस्टर डेब्यू किया। उन्होंने शानदार प्रदर्शन कर सभी को प्रभावित किया था।

सबसे अहम बात ये रही कि वो चाहे किसी भी पोजिशन में रही हों, वो जल्दबाजी नहीं कर रही थीं। उन्होंने ब्राजीलियाई एथलीट को कई दमदार शॉट्स लगाने के अलावा ग्राउंड गेम में भी मात दी।

अंत में ओलसिम ने तीसरे राउंड में सबमिशन से जीत हासिल की और Team Lakay की ओर से सबसे शानदार ONE डेब्यू करने वाली एथलीट्स में से एक बनीं।

उन्होंने वाकई में खुद में सुधार किया है क्योंकि उन्हें नई टीम से जुड़े कुछ ही महीने हुए हैं। ये सब उनकी प्रतिबद्धता और चीजों पर जल्दी पकड़ बनाने के कारण ही संभव हो पाया है।

ओलसिम ने कहा, “मुझे और मेरे भाई को नई चुनौतियां पसंद हैं और हमें हारना बिल्कुल भी पसंद नहीं है। एक बार मुझसे किसी ने कहा था कि मैं जिस खेल में चाहूं, उसमें सफलता हासिल कर सकती हूं।”

“नेशनल टीम में प्राप्त किए अनुभव ने भी मुझे यहां तक पहुंचने में मदद की है। उस समय हम जानते थे कि हमें टीम में अपनी जगह बनाए रखने के लिए फाइट करनी होती थी, इसलिए जल्द से जल्द खुद में सुधार करना हमारी मजबूरी थी।”

पहले किकबॉक्सिंग मैच की हार के कई साल बाद ओलसिम अब फिलीपींस में अगली जेनरेशन की लीड फाइटर्स में से एक हैं।

अब वो किसी भी मौके को खाली नहीं जाने देना चाहतीं।

उन्होंने कहा, “मुझे खुद पर गर्व है और अब मैं लैजेंड फाइटर्स के नक्शेकदम पर आगे बढ़ना चाहती हूं। इससे मुझे कड़ी मेहनत करने की प्रेरणा मिलती है।”

ONE वर्ल्ड चैंपियन बनना ओलसिम के सबसे बड़े सपनों में से एक है, लेकिन इससे ज्यादा उनके लिए ये बात मायने रखती है कि वो अपने साथ-साथ अगली जेनरेशन के फाइटर्स को भी आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें।

उन्होंने कहा, “मेरे हिसाब से असली सफलता वो है जब आप युवाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत बन जाएं। इससे खासतौर पर मैं अपने प्रांत में इस खेल को बढ़ावा दे पाऊंगी।”

“बच्चे अब मुझे पहचानने लगे हैं, जिससे मुझे बहुत खुशी मिलती है। अगर वो मार्शल आर्ट्स में आना चाहते हैं तो मुझे उनकी मदद कर बहुत खुशी मिलेगी।”

ये भी पढ़ें: निकोलिनी के खिलाफ मैच के लिए जिओंग ने डर को प्रोत्साहन का रूप दिया

मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में और

Sumit Bhyan VS Matheus Pereira
Hiroba Minowa Jeremy Miado ONE Fight Night 23 5 1
Hiroba Minowa Gustavo Balart ONE 165 62 scaled
Shamil Gasanov Oh Ho Taek ONE Fight Night 18 31 scaled
Petsukumvit Boi Bangna Kongsuk Fairtex ONE Friday Fights 53 14 scaled
Songchainoi Kiatsongrit Rak Erawan ONE Friday Fights 71 8
1157
Hiroba Minowa Gustavo Balart ONE 165 53 scaled
Aaron Canarte Akbar Abdullaev ONE Fight Night 12 5
Maurice Abevi Zhang Lipeng ONE Fight Night 22 5
Shamil Gasanov Oh Ho Taek ONE Fight Night 18 19 scaled
Jarred Brooks Joshua Pacio ONE 166 5