न्यूज़

जिसे मानते हैं अपना हीरो, उन्हें हराने के लिए तैयार हैं सैमापेच फेयरटेक्स

नवम्बर 20, 2019

थाईलैंड के सैमापेच फेयरटेक्स ONE: EDGE OF GREATNESS में इतिहास रचने को पूरी तरह तैयार हैं क्योंकि वो जानते हैं कि अगली बाउट उनके करियर की सबसे सबसे बड़ी और अहम बाउट होने वाली है।

22 नवंबर यानी शुक्रवार के दिन इस 25 वर्षीय फाइटर को ONE बेंटमवेट मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियनशिप मुकाबले में नोंग-ओ ग्यांगडाओ का सामना करना है।

अगर थाईलैंड का यह योद्धा इस फाइट को जीतने में साल रहता है तो वो ONE Super Series में नोंग-ओ ग्यांगडाओ को हराने वाले पहले फाइटर बन जाएंगे।

हालांकि 4 बार के लुम्पीनी स्टेडियम मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन को हरा पाना इतना आसान नहीं है लेकिन सैमापेच उस योद्धा के साथ रिंग साझा करने को बेहद उत्साहित हैं जिसका वो सबसे ज्यादा आदर करते हैं।

उन्होंने इस बारे में कहा कि, “मैं ONE को धन्यवाद देना चाहता हूँ कि मुझे यह मौका मिल रहा है। अगर मुझे हार भी मिली, वैसे तो मैं हार के बारे में सोच ही नहीं रहा हूँ क्योंकि मेरे सामने सबसे महान मॉय थाई एथलीट्स में से एक है। वहीँ अगर मुझे जीत मिलती है तो जाहिर तौर पर यह मेरे करियर की सबसे बड़ी जीत होगी।”

जब सैमापेच ने मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में कदम रखा था तो उन्हें सबसे बेहतरीन और खतरनाक फाइटर होने की संज्ञा दी गई थी। इसका श्रेय उनकी आक्रामक फाइटिंग स्किल्स, बेहतरीन रिकॉर्ड और MTGP वेल्टरवेट वर्ल्ड टाइटल को जाता है।

ग्लोबल स्टेज पर अभी तक उनकी सबसे बड़ी जीत डीविडास डेन्ला, अलावेर्दी रमाज़ानोव और ओन्जेन टॉपिक के खिलाफ आई हैं।

खैर चियांग माई से आने वाले इस फाइटर को बेसब्री से अपने करियर की सबसे कठिन फाइट का इंतज़ार है क्योंकि ग्यांगडाओ का मॉय थाई रिकॉर्ड 259-54-1 है, जो अपने आप में उन्हें महान बना रहा है। नोंग-ओ को अपनी बेहतरीन तकनीक और जिस तरह एक दम सटीक तरीके से और सही समय पर वो अपनी राइट किक का इस्तेमाल करते हैं वह लाजवाब है।

यह भी पढ़ें: ONE: AGE OF DRAGONS के विजेताओं का अब किन एथलीट्स से होगा सामना

चाहे मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन सैमापेच से उम्र में 8 साल बड़े हों लेकिन जबसे उन्होंने ONE में कदम रखा है, ऐसा लगता है मानो उन्होंने अपने करियर में कभी ब्रेक लिया ही नहीं है। इस 33 वर्षीय योद्धा के नाम ONE में परफेक्ट 5-0 का भी रिकॉर्ड शामिल है और वो अपने टाइटल को 2 बार सफल रूप से डिफेंड कर चुके हैं।

तैयारी के लिए सैमापेच लगातार अपने प्रतिद्वंदी की पुरानी फाइट्स की वीडियो देख रहे हैं जिससे उन्हें नोंग-ओ की कमजोरी समझने में मदद मिल सके।

ट्रेनिंग को लेकर उन्होंने कहा है कि, “वो एक महान योद्धा हैं लेकिन मैं भी हर चुनौती के लिए तैयार हूँ। उनके तेज मूव्स और परफेक्ट टाइमिंग की मैं सराहना करता हूँ, यानी मुझे भी अपनी टाइमिंग पर फोकस रखना है। इसके अलावा मैं कंडीशनिंग पर भी काम कर रहा हूँ क्योंकि मुझे पता है कि यह इस फाइट में सबसे बड़ा हथियार साबित होने वाला है।”

नोंग-ओ की कमजोरी को लेकर सैमापेच ने कहा है कि, “मुझे लगता है कि उनकी बढ़ती उम्र मुझे फायदा और उन्हें नुकसान पहुँचा सकती है। उम्र हमेशा एक बड़ा फैक्टर होता है यानी 5-7 साल पहले वो जिस तरह का प्रदर्शन करने में सक्षम थे, वो उसे आज नहीं दोहरा सकते।”

पिछली कई बाउट्स में सैमापेच ने दिखा दिया है कि फिलहाल बेंटमवेट डिवीजन में उनसे बेहतर फाइटर कोई नहीं है और उनका स्टेमिना गजब का है। हालांकि उन्होंने टॉपिक को हराने के बाद कोई मुकाबला नहीं लड़ा है लेकिन इस बारे में सैमापेच का कहना है कि इसका असर उनके प्रदर्शन पर नहीं पड़ेगा।

यहाँ तक कि उन्होंने कहा कि, “थोड़ा आराम मेरे लिए अच्छा ही था और मैं काफी हद तक फ्रेश महसूस कर रहा हूँ क्योंकि मैंने बाहर रहते भी जिम वर्कआउट नहीं छोड़ा था। अपनी बेस्ट स्थिति में बने रहने के लिए मैं लगातार खुद को ट्रेन करता रहा हूँ।”
खैर अब सैमापेच अपने करियर की सबसे बड़ी फाइट लड़ने के लिए पूरी तरह कमर कस चुके हैं और उन्हें इस बार का डर नहीं है कि वो अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे या नहीं।

उन्होंने कहा कि, “नोंग-ओ मेरे आयडल हैं लेकिन इससे मैं पीछे नहीं हट सकता, मैं दुनिया को दिखाना चाहता हूँ कि मैं क्या करने में सक्षम हूँ और मेरा पहला लक्ष्य उनसे उस टाइटल को लेना है और नोंग-ओ की ही तरह बड़ा सुपरस्टार बनना है।”