मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

3 भारतीय एथलीट्स जो रेसलिंग से मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में आए

Jul 21, 2020

मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स- जैसा नाम से ही प्रतीत हो रहा है कि ये कई सारे मार्शल आर्ट्स का मिश्रण होता है। इसमें ग्राउंड गेम के साथ-साथ स्टैंड अप गेम भी होता है।

किसी भी एथलीट को इस खेल में महान बनने के लिए इन दोनों ही गेमों पर महारथ हासिल होनी चाहिए। कभी मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट का सामना ऐसे एथलीट से हो सकता है, जो स्टैंड अप/स्ट्राइकिंग गेम में जबरदस्त हो तो कभी ग्राउंड गेम में तगड़े एथलीट से सामना हो सकता है।

मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में आने के लिए रेसलिंग एक अच्छा बेस होता है। कोई भी खिलाड़ी जो रेसलिंग से इस खेल में आता है, उसके लिए चीज़ें थोड़ी आसान हो जाती हैं क्योंकि ऐसा खिलाड़ी ग्राउंड गेम के साथ-साथ स्टैंड अप और क्लिंचिंग करना बखूबी जानता है।

ONE Championship की ग्लोबल स्टेज और दुनिया में बहुत सारे बड़े मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट हुए जो रेसलिंग बैकग्राउंड से मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में आए और इस खेल को नई ऊंचाइयों पर ले गए। आप यहां उन तीन भारतीय सुपरस्टार्स के बारे में जान सकते हैं, जो ग्लोबल स्टेज पर रेसलिंग में कामयाबी हासिल करने के बाद आए।

ऋतु फोगाट

आइए जानते हैं आख़िर कैसे Ritu Phogat ???????? रेस्लिंग से मार्शल आर्ट्स तक का सफ़र तय किया! ????

आइए जानते हैं आख़िर कैसे Ritu Phogat ???????? रेसलिंग से मार्शल आर्ट्स तक का सफ़र तय किया! ????

Posted by ONE Championship India on Monday, April 20, 2020

ऋतु “द इंडियन टाइग्रेस” फोगाट का जन्म एक रेसलिंग परिवार में हुआ। फोगाट को रेसलिंग भले ही विरासत में मिली हो लेकिन उन्होंने खुद की मेहनत के दम पर देश-विदेश में नाम कमाया और अपनी बड़ी बहनों गीता-बबीता की कामयाबी को दोहराया।

26 वर्षीय स्टार ने कई बार नेशनल रेसलिंग चैंपियनशिप जीती। उन्होंने 2016 में सिंगापुर में हुई कॉमनवेल्थ रेसलिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल हासिल किया। अगले साल पोलैंड में हुई वर्ल्ड अंडर-23 रेसलिंग चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल अपने नाम किया और वो ये उपलब्धि हासिल करने वाली देश की पहली महिला रेसलर बनीं।

अंतरराष्ट्रीय लेवल पर इतनी जबरदस्त कामयाबी की वजह से उन्हें टोक्यो ओलंपिक के लिए मेडल का दावेदार माना जा रहा था, लेकिन फोगाट के मन में कुछ और कर गुजरने की चाह थी। उन्होंने 2019 में रेसलिंग छोड़ मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में देश का नाम रोशन करने का फैसला किया और ONE Championship का हिस्सा बन गईं। उनका ये फैसला सही साबित हुआ और वो अभी तक अपने दोनों मुकाबले शानदार अंदाज में जीत चुकी हैं। फोगाट का सपना देश की पहली मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स चैंपियन बनना है।



अर्जन भुल्लर

कॉमनवेल्थ गेम्स गोल्ड विजेता Arjan Singh Bhullar ???????? के बारे में जानने योग्य बातें!????

कॉमनवेल्थ गेम्स गोल्ड विजेता Arjan Singh Bhullar ???????? के बारे में जानने योग्य बातें!????

Posted by ONE Championship India on Wednesday, May 6, 2020

कनाडाई-भारतीय सुपरस्टार को भी रेसलिंग विरासत में मिली थी। उनके पिता भारत में एक जाने-माने रेसलर थे, जिन्होंने कुश्ती की दुनिया में खूब नाम कमाया। “सिंह” ने छोटी उम्र में ही अपने पिता से ही रेसलिंग सीखी।

हेवीवेट सुपरस्टार ने अपने पिता से विरासत में मिली रेसलिंग को जारी रखा और कई सारे खिताब अपने नाम किए। उन्होंने साइमन फ्रेज़र यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया और दो बार के NAIA रेसलिंग चैंपियन बने। 2010 में दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में कनाडा की तरफ से हिस्सा लेते हुए 120 किलोग्राम भार वर्ग में गोल्ड मेडल प्राप्त किया। इसके अलावा उन्होंने 2012 लंदन ओलंपिक्स में भी हिस्सा लिया।

रेसलिंग छोड़ने के बाद भुल्लर ने 2014 में मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में कदम रखा और उनका प्रोफेशनल मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में 10-1 का शानदार रिकॉर्ड है। उनका सामना ONE हेवीवेट चैंपियनशिप के लिए ब्रेंडन “द ट्रुथ” वेरा से होगा।

रोशन मैनम

रोशन मैनम ने अपनी पहली ही मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स फ़ाइट जीतने के बाद क्या कहा! ???????? ????

भारतीय रेसलिंग चैंपियन Roshan Mainam ने अपनी पहली ही मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स फ़ाइट सबमिशन के ज़रिए जीत ली। कम्बोडियन प्रतिद्वंद्वी, खॉन सिचान के पास रोशन के दावों का कोई जवाब नहीं था और वो पहले ही राउंड में हार गए। मैच के बाद रोशन भावुक हो गए और बताया कि ये जीत उनके लिए क्या मायने रखती है।???????? ————–पूरा मैच यहाँ देखें: ???? https://bit.ly/RoshanVsKhon

Posted by ONE Championship India on Wednesday, July 8, 2020

रोशन मैनम भारत के सबसे तेजी से उभरते हुए मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट्स में से एक हैं। वो भी रेसलिंग में सफलता हासिल करने के बाद मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में आए थे।

मणिपुर के इस स्टार ने 9 साल की उम्र में रेसलिंग शुरु की। वो भारत के सबसे पुराने और मशहूर ‘गुरु हनुमान अखाड़ा’ का हिस्सा रहे। मशहूर अखाड़े का हिस्सा रहते हुए उन्होंने चार बार दिल्ली स्टेट चैंपियनशिप जीती।

रेसलिंग छोड़ने के बाद जल्द ही उनका लगाव मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स की ओर हो गया। मैनम ने एक बेहतरीन मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट बनने के लिए अपने रेसलिंग गेम में ब्राजीलियन जिउ-जित्सु और स्ट्राइकिंग को भी शामिल किया।

मैनम 2016 में प्रोफेशनल बन गए और देश की एक मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स प्रोमोशन का हिस्सा बनकर अच्छा प्रदर्शन किया। यहां सफलता हासिल करने के बाद उन्हें सिंगापुर की Evolve MMA में जगह मिली, ये जगह पाने के लिए उन्होंने ट्रायल में कई सारे एथलीट्स को मात दी। आज वो Evolve में दुनिया के कुछ सबसे बेहतरीन कोच और ट्रेनर्स से अपने गेम में दिन-प्रतिदिन निखार ला रहे हैं।

पिछले साल डेब्यू करते हुए उन्होंने सबमिशन के जरिए अपने विरोधी का मात दी।

ये भी पढ़ें: ONE Championship के भारतीय स्टार्स के ग्लोबल स्टेज पर डेब्यू के शानदार वॉकआउट्स