लाइफ स्टाइल

लिएंड्रो अटाईडिस ने अपनी 5 पसंदीदा फिल्मों के बारे में बताया

लिएंड्रो “वुल्फ” अटाईडिस फिल्मों के दीवाने हैं। खाली समय में वो फिल्में देखकर रिलेक्स करते हैं।

इस ब्राजीलियन स्टार ने काफी सारा समय अपने परिवार व दोस्तों से दूर एशिया में कोचिंग करते हुए बिताया है। स्क्रीन पर कहानी को देखना जिम से बाहर उनके दिमाग को बिजी रखता है।

उनकी पसंद की रेंज काफी काफी बड़ी है। इनमें हंसाकर लोटपोट कर देने से लेकर हैरान कर देने वाली साइंस फिक्शन फिल्में शामिल हैं। यहां तक कि वो फिल्में भी इसमें शामिल हैं, जो अच्छा मनोरंजन कर सकती हैं।

यहां मिडलवेट दावेदार की सभी पांच पसंदीदा फिल्में हैं, जिनके बारे में आप जान सकते हैं।

300

इस बात से हैरानी नहीं होनी चाहिए कि अटाईडिस की पसंदीदा फिल्मों में निर्भय योद्धा, बलिदान और साहस की विशेषता शामिल हैं।

उन्होंने खुलासा किया, “मेरी नंबर 1 मूवी 300 है। ये मुझे काफी ज्यादा इमोशंस देती है।”

2008 की सुपरहिट मूवी में स्पार्टन्स की बेहतरीन टुकड़ी है, जिसे जेरार्ड बटलर, लियोनाइडस के किरदार में लीड करते हैं। उनका सामना थर्मोपाइले की जंग में मौत से होता है।

योद्धाओं की संख्या में बुरी तरह पिछड़ने के बावजूद स्पार्टन्स डटे रहते हैं और अंत तक लड़ाई लड़ते हैं। वो इसकी परवाह नहीं करते हैं कि हालात उनके लिए कितने बुरे हैं।

मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स सुपरस्टार ने बताया, “इससे हमें ये पता चलता है कि जो चीज हमें अपनी जिंदगी में चाहिए, उसके लिए लड़ाई लड़नी पड़ती है।”

“इससे मुझे अपना दिमाग एक आदमी, एक पिता, एक पति और एक इंसान के तौर पर केंद्रित करने की प्रेरणा मिलती है।”

द हैंगओवर

“वुल्फ” की लिस्ट में अगली फिल्म 2009 की कॉमेडी द हैंगओवर है, जिसमें एक दोस्तों का ग्रुप होने वाली शादी का जश्न मनाने के लिए लॉस वेगास की यात्रा करता है।

चीजें उस समय हाथ से निकल जाती हैं, जब “वुल्फपैक” दूल्हे को खो देता है। फिर पिछली रात से उसके कदम तलाशते हुए काफी सारी हंसाने वाले नतीजों को सामना करता है।

पांच बार के ब्राजीलियन जिउ-जित्सु वर्ल्ड चैंपियन बताते हैं, “द हैंगओवर मेरी उन पसंदीदा फिल्मों में से एक है, जिन्हें देखना मुझे बहुत अच्छा लगता है। ये मुझे काफी ज्यादा हंसाती है।”

“एलन, दाढ़ी वाला बंदा, वो मुझे सबसे ज्यादा अच्छा लगता है। मुझे लगता है कि वो काफी मसखरा है। इसे देखने के बाद मैंने उन्हें (जैक गलीफिनेकियस) दूसरी मूवी में भी खोजकर देखा, जिसमें उन्होंने काम किया है। वो बहुत गजब का बंदा है।”



द मैट्रिक्स

1999 की धमाकेदार साइंस फिक्शन हिट फिल्म द मैट्रिक्स में अडाईटिस को फैंटेसी और असलियत का मेल दिखता है। ये फिल्म उनकी सबसे ज्यादा देखी गई फिल्मों की लिस्ट में शामिल है।

इस फिल्म में थॉमस एंडरसन, जो अपने हैकर वाले निकनेम नियो के नाम से भी जाना जाता है। उसको बनावटी सच्चाई का पता चलता कि चालाक मशीनें इंसानों को ऊर्जा के स्रोत के लिए गुलाम बनाए हुए हैं।

रियो डी जेनेरियो के रहने वाले एथलीट ने बताया, “मुझे फैंटेसी फिल्में पसंद हैं जैसे द मेट्रिक्स। जब मैंने इसे पहली बार देखा तो दंग रह गया था। इसे देखकर मैंने कहा ‘वॉव”।”

“अगर मैं अपनी बात करूं तो मुझे टेक्नॉलजी पसंद है। मुझे फोटो खींचना और मूवी बनाना पसंद है। फाइटर बनने से पहले मैंने टेक्नॉलजी और डिवाइस के बारे में पढ़ा है। इस वजह से मुझे लगता है कि ये शानदार है।”

“इसे देखने के बाद मुझे लगा कि पूरी फिल्म काफी शानदार है। मुझे ये मूवी बहुत पसंद है।”

आर्मागेडन

अटाईडिस को साइंस फिक्शन फिल्में इंसानी भावनाओं के साथ पसंद आती हैं।

उन्होंने बताया, “एक और फिल्म, जो मुझे पसंद है वो है आर्मागेडन, जिसमें ब्रूस विलिस हैं। मुझे ये देखकर अच्छा लगा कि कैसे उन्होंने बाकी इंसानों के लिए अपनी जान दे दी।”

वुल्फ को पता है कि दूसरों के लिए खुद का बलिदान करने पर कैसा लगता है और वो विल्स के किरदार हैरी स्टैंपर के इस फैसले की सराहना करते हैं।

हंसी के साथ अटाईडिस इस बात को मानते हैं, “सच कहूं तो हां, इसे देखकर मैं रोया था।”

“क्योंकि उसकी एक बेटी होती है लेकिन वो अपना बलिदान इसलिए करता है, ताकि बाकी सभी खुशी से रह सकें। ये बहुत शानदार है। बहुत भावनात्मक है।”

द पर्सूट ऑफ हैपीनस

अंतिम फिल्म जो ब्राजीलियन एथलीट की लिस्ट में है, वो 2006 बायोग्राफिकल ड्रामा द पर्सूट ऑफ हैपीनस। इसमें विल स्मिथ क्रिस गार्डनर के मुख्य किरदार में हैं।

अटाईडिस ने कहा, “मुझे विल स्मिथ पसंद हैं। वो एक अच्छे एक्टर हैं और वो एक अच्छे आदमी भी मालूम चलते हैं। इस फिल्म से काफी सारे लोगों को प्रेरणा मिल सकती है।”

ये फिल्म सच्ची घटनाओं पर आधारित है। इसमें क्रिस गार्डनर सेल्समैन के तौर पर अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए संघर्ष करते हैं और उनकी शादी टूट जाती है लेकिन उन्हें बिना सैलरी वाली इंटर्नशिप करने का मौका मिलता है। इसके अंत में उन्हें एक अच्छे स्टॉकब्रोकर की जॉब मिलती है।

हालांकि, उनकी बीवी उन्हें छोड़कर चली जाती है। उनका घर छिन जाता है और इन सब कठिनाइयों के बावजूद उन्हें अपने बेटे को पालना होता है। गार्डनर पूरी मेहनत से लगे रहते हैं और 20 कैंडिडेट्स को पछाड़ते हुए जॉब हासिल करते हैं। इसके साथ अपनी व बेटे की जिंदगी बदल देते हैं।

“वुल्फ” इस किरदार के संघर्ष से प्रेरणा लेते हैं और उसे अपनी खुद की जिंदगी पर लागू करते हैं।

उन्होंने बताया, “इस फिल्म से आपको अपने जीवने में कुछ उद्देश्य तो जरूर मिलेगा। ये उस समय भी दिमाग भटकने नहीं देना होगा, जब जीवन में हर चीज बिखरी हुई हो।”

“गार्डनर अपना समय जॉब और बेटे का खयाल रखने में बांटते हैं। वो काफी मेहनत करके अपना काम पूरा करते हैं और अंत में सभी लोग उनकी तारीफ करते हैं।”

ये भी पढ़ें: Flashback Friday: नॉकआउट जिसने लिएंड्रो अटाईडिस के करियर को एक नई राह दिखाई