मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

कैसे पिता के अटूट विश्वास ने एडी अल्वारेज़ को सफलता दिलाई

“द अंडरग्राउंड किंग” एडी अल्वारेज़ चैंपियन के रूप में नहीं जन्मे थे बल्कि उनके पिता ने उन्हें ऊपर उठाया और कम उम्र में उनके अंदर विश्वास जगाया।

यूनाइटेड स्टेट्स में अपने बचपन के दौरान अल्वारेज़ ने कई सारे खेलों में हिस्सा लिया और उनके पिता, लोउ अल्वारेज़ ने हमेशा सिखाया कि उन्हें खुद से सबसे अच्छा पाने की उम्मीद रखनी चाहिए।

36 वर्षीय स्टार ने कहा, “मेरे पिता ने मुझे भगवान की तरह महसूस कराने का सबसे अच्छा कार्य किया।”

“यहां तक कि जब मैं असफल हो गया तो उन्होंने मेरे लिए बहाना बनाया। मेरे पिता एक गौरवशाली व्यक्ति थे। वे थोड़े अहंकारी थे और उन्हें गर्व था। अगर मैं हार जाता था तो वो अपनी हार मानते थे।

“वो मेरी हार पर बहाने बनाते थे लेकिन साथ ही प्रतीत करा रहे थे कि मैं हार नहीं सकता।”



देखकर लग रहा है कि उनके पिता ने उनसे अवास्तविक उम्मीदें रखी थीं लेकिन अल्वारेज़ ऐसा नहीं मानते। इसके बजाय अमेरिकी स्टार मानते हैं कि इससे उन्हें ऊँचे स्तर पर बने रहने के लिए मजबूर किया।

इसका सीधा अर्थ था कि उन्हें जीत के अलावा किसी और चीज़ को नहीं मानना होगा।

लाइटवेट सुपरस्टार ने कहा, “मैं काल्पनिक दुनिया में अपने पिता के साथ बड़ा हुआ क्योंकि मेरे लिए हारना असंभव था। अगर मैं हार जाता था तो वो मेरी हार के काफी अच्छे बहाने बनाते थे।”

“मैं फाइटर के रूप में काफी अच्छे से चीज़ें समझने लगा हूँ। उन्होंने मुझे इस तरह ही आगे बढ़ाया। उन्होंने मुझे ऊँचे स्तर पर रखा और मैं हमेशा अच्छा करना चाहता था और उन्हें गौरवान्वित करना चाहता था, हर जवान लड़के की तरह।”

The United States' Eddie Alvarez puts Eduard Folayang in a guillotine choke and goes for a knee strike

न सिर्फ पिता उनके सबसे बड़े सहयोगी थे बल्कि वो अपने बेटे के एथलेटिक करियर में काफी रुचि रख रहे थे। खास बात तो ये है कि लोउ ने “द अंडरग्राउंड किंग” को अपने पहले बॉक्सिंग ग्लव्स लाकर दिए थे और उन्हें पंच लगाना सिखाया था।

स्कूल के दौरान जब लाइटवेट स्टार ने दूसरे खेलों की ओर रुख किया, तब भी उनके पिता उनके साथ थे। पिता उनके सफर के हर कदम पर सलाहकार बने।

बॉक्सिंग, रेसलिंग और फुटबॉल से लेकर मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स तक लोउ हमेशा अपने बेटे को आवश्यक सलाह देते रहे भले ही कुछ खेलों के बारे में ज्यादा ना जानते हों।

अल्वारेज़ ने बताया, “मेरे पिता मानते थे कि वो हमेशा मुझे किसी दूसरे कोच के बजाय अच्छे से सिखा सकते थे।”

“वो इस प्रकार के पिता थे। वो मानते थे कि रेसलिंग या फुटबॉल या कोई और खेल में उनके पास अच्छा अप्रोच और किसी अन्य के बजाय मुझे सीखने का अच्छा तरीका है।

“इस चीज़ के बारे में बड़े होकर बात करना थोड़ा मजाकिया लगता है लेकिन जो उन्होंने किया, उसने मुझे आज अच्छा प्रतियोगी बना दिया है।”

American martial arts superstar Eddie Alvarez stares at the Manila crowd following his win over Eduard Folayang

उनके सही बचपन ने मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स करियर में उन्हें हमेशा ऊँचाइयों पर रखा।

न सिर्फ अल्वारेज़ के पिता को उनपर अटूट भरोसा था लेकिन वो एक शानदार व्यक्ति बने, जैसे लोग “द अंडरग्राउंड किंग” को अपने आसपास चाहिए थे।

इस वजह से ये अमेरिकी स्टार मानते हैं कि वो अपने पिता-सम्बंधी लोगों के जैसे ही बन गए हैं और इससे वो खुद को 4 बार का लाइटवेट वर्ल्ड चैंपियन बनाने में सफल रहे।

उन्होंने कहा, “मैंने ऐसे लोगों को देखा है जिन्होंने मेरे साथ फाइटर के रूप में पिता जैसा व्यवहार किया और मेरे पिता की तरह कोच ने मुझे ऊँचे स्तर पर रखा। उन्होंने मेरे पूरे करियर में हमेशा आगे बढ़ाना जारी रखा। कई सारे पिता स्वरूप लोगों ने मुझे आज इस स्थान पर पहुँचने में मदद की है।”

ये भी पढ़ें: ONE के भारतीय एथलीट्स से कोरोना वायरस के बचाव, सावधानी और घर पर फिट रहने के तरीके जानें