ओपिनियन

मीशा टेट की कलम से: असफलता में छिपी है सफलता की कुंजी

मार्शल आर्टिस्ट के रूप में खुद को हार से बचाना लगभग नामुमकिन है। अगर आप प्रतियोगिता में कभी नहीं हारे हैं तो जिम में आप कभी भी अजेय नहीं रहेंगे।

मैं मानती हूँ कि असफलता, हार या आप जो भी इसे कहना चाहें, ये आपके करियर और जीवन का जरूरी हिस्सा है क्योंकि ये आपके विकास में मदद करता है।

हार को पचाना हर किसी के लिए मुश्किल है लेकिन मैं आपको इसे सुधार के मौके के रूप में देखने के लिए प्रोत्साहित करूंगी।

जहां तक मेरे करियर की बात की जाए तो मैंने जीत से ज्यादा हार से सीखा है।

मैंने अपने एमेच्योर करियर की शुरुआत 2006 में हार के साथ की थी।

मैं उस समय काफी शर्मिंदा हुई क्योंकि मेरी नाक टूट गयी और आँखों पर बड़े और काले धब्बे पड़ गए। मैं ऐसी दिख रही थी कि जैसे मुझे पूरी तरह धराशाई कर दिया गया हो।

मुझे कई सारी नकारात्मक बातें सुननी पड़ी और लोगों ने मेरे फाइट करने के निर्णय पर भी सवाल उठाए। मैंने शांत दिमाग से इन बातों को सुना लेकिन मेरे दिमाग में मुझे पता था कि मैं और फाइट करना चाहती हूँ। इस बार मुझे साबित करना था कि मुझमें हार से सुधार हुआ है।



मुझे नहीं लगता कि मैंने किसी को निराश किया क्योंकि उस समय किसी को मुझसे उम्मीद नहीं थी।

मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में जाने को लेकर मेरा परिवार काफी चिंतित था और उन्हें इसमें कई सारी शंका थी। इन सबके बावजूद भी मेरी माँ फाइट के लिए आईं। मैं मानती हूँ कि उस रात उनके सारे सवालों के जवाब मिल गए लेकिन इसकी परवाह किए बिना उन्होंने मेरा और मेरे निर्णय का समर्थन किया।

मुझे पता है कि हार को लेकर परेशान न होना असंभव है लेकिन हर किसी को सबक लेने की जरूरत है।

मेरे लिए सबक ये था कि मार्शल आर्ट्स जैसे खेल में सीखने के लिए हार जरूरी है। मुझे फाइट के पहले लंबे समय के लिए कठोर ट्रेनिंग करनी पड़ेगी और सीखा कि गलत चीज़ें करने से मुझे भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

इस मानसिकता ने मुझे ज्यादा प्रेरित महसूस करने में मदद की और मुझमें मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स को अपना करियर बनाने की इच्छा पैदा की। मैं सबको बताना चाहती थी कि मेरी हार सिर्फ एक समय तक ही थी और इसने मुझे प्रहार करने का मौका दिया और ऐसा ही मैंने किया।

सबसे अच्छी बात तो ये थी कि कुछ महीनों बाद मुझे एक जीत मिल गयी। मुझे काफी अच्छा महसूस हुआ क्योंकि ये एक बड़ी हार के बाद आई। मैंने साबित कर दिया कि मेरे पास नए सिरे से आगे बढ़ने का हथियार है। इसने मुझे जीवन में और जोखिम लेने के लिए प्रोत्साहित किया।

एक चीज़ जो हर किसी को सीखनी चाहिए कि कोई भी व्यक्ति हमेशा के लिए नीचे नहीं रहता। हमेशा याद रखें कि आप बार-बार नई शुरुआत कर सकते हैं।

हर बार जब दो एथलीट सर्कल में कदम रखते हैं तो उनमें से एक जरूर हारने वाला होता है। आपके पास हारने की बड़ी संभावना है और मैं मानती हूँ कि ये सोच हमेशा भयंकर रहती है।

इसे भयंकर कहना बिल्कुल गलत होगा। हर कोई जीवन मे हारता है और आप हार से बहुत कुछ सीख सकते हैं।

एडुअर्ड फोलायंग की एडी अल्वारेज़ के खिलाफ हार एक सही उदहारण है। मैं मानती हूँ कि अल्वारेज़ से मिली हार से उनका औधा कम नहीं हुआ क्योंकि फिलीपींस के लोग उन्हें नेशनल हीरो के रूप में देखते हैं।

अगर आप लगातार 2 बाउट भी हार जाते हैं तो एक चीज़ हमेशा यार रखें कि एक दिन आपकी जीत की संभावना जरूर बनेगी।

मैंने जब करियर शुरु किया था तब कभी नहीं सोचा था कि मुझे लगातार 2 हार मिलेंगी लेकिन ऐसा हुआ।

मेरे लिए ये काफी मुश्किल था लेकिन मैंने अपनी पहली हार से बहुत कुछ सीखा। मुझे उन अनुभवों से प्रेरणा की जरूरत थी और अपने वर्तमान और भविष्य पर ध्यान देना था।

किसी को भी हार को अपने विकास के आगे रोड़ा नहीं बनाना चाहिए। मैं हर किसी को असफल होने की सलाह दूंगी। अगर आप सबसे खराब चीज़ें नहीं देखेंगे तो आपको अपने जीवन की सबसे शानदार चीज़ का अनुभव कभी नहीं होगा।

जीत हमेशा असफलता के कड़वे स्वाद से बनती है। आप कभी भी एक के बिना दूसरी चीज़ हासिल नहीं कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: ONE Championship के इतिहास के सबसे प्रभावशाली सबमिशन मूव्स