ओपिनियन

मीशा टेट से जानिए लक्ष्यों का पीछा करने का महत्व

अक्टूबर 21, 2019

पिछले महीने मैंने एक व्यक्तिगत लक्ष्य हासिल किया। यह लक्ष्य था 90 दिनों में 210 किलोमीटर की दौड़ को पूरा करना था। कुछ समय से मैंने ऐसा नहीं किया था लेकिन मुझे इस लक्ष्य को पूरा करना था।

लक्ष्य सप्ताह में तीन बार पांच किलोमीटर दौड़ना था। मुझे इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए खुद को प्रेरित करने और चुनौती देने के लिए अलग-अलग तरीके खोजने थे। जब मैंने अपनी गर्भावस्था का आधा रास्ता पूरा कर लिया तो मैं सही तरह से नहीं चल पा रही थी। इसलिए मुझे बस चीजों को सही दिशा में लाने के लिए कुछ चाहिए था।

दौड़ना कुछ ऐसा नहीं है जिसके लिए मैं तत्पर हूं। यह मेरे लिए एक चुनौती थी। मुझे पता था कि लक्ष्य कुछ ऐसा है जिसे मैं प्राप्त कर सकती हूं। मैंने अपना दिमाग लगाया और किया। मेरी पहले दौड़ का समय 32 मिनट था। दिन-ब-दिन बेहतर होने के मेरे दृढ़ संकल्प से पांच किलोमीटर की दौड़ को 24 मिनट 15 सेकंड में पूरा किया।

View this post on Instagram

Fact of the matter is ALL goals no matter how big or small are accomplished by daily actions ???? I just completed my 90 day challenge of running 5 kilometers 3 × per week ???? -210km or 130mi in total -My 1st run was 32 minutes -My personal best is now 24:15 min! ???? I have never considered myself a "runner" and I still don't but this journey has opened my mind to like running more than I used to ???? 210km might sound like a lot but I'd like to remind you it was all done just 5kms at a time. We can all accomplish our own goals one small step at a time! ???? Id like to share more but this post is already long so check my story for my thoughts on this self imposed 90 day challenge ???? Please comment below if you have any suggestions for a NEW 90 day challenge. Doesn't have to be just physical! I'm curious to see what you all come up with!! ???????????????????????????????????????????????????????????????????????????? #90daychallenge #setgoals #accomplishgoals #newchallenge #challengeyourself #improve #striveforgreatness #begreat #bebetter #goaldigger #strongerthanyesterday #nevergiveup #selfimprovement #challenge #embracethegrind

A post shared by Miesha Tate (@mieshatate) on

यह काफी था मैंने बहुत समय बचाया और इसके लिए कड़ी मेहनत की। मैंने हर हफ्ते खुद को आगे बढ़ाया। यह मेरे लिए सरल है। मैंने सोशल मीडिया पर दूसरों को खुद के सर्वश्रेष्ठ परिवर्तन को बाहर लाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए क्यों पोस्ट किया। लक्ष्य निर्धारित कर उसे पूरा करना बेहतर लगता है।

मैं किसी ऐसे व्यक्ति के साथ हूं जिससे प्रेरणा लेने की आवश्यकता है। जब मैंने पहली बार 90 दिन के लक्ष्य के लिए दौड़ना शुरू किया, तो मुझे पैर में चोट लगी। इससे मुझे परेशान हुई लेकिन कुछ समय बाद इससे परेशान होना बंद हो गई थी। क्योंकि मैंने खुद को इस बात के लिए तैयार किया कि यह परेशानी मुझे रोकने के लिए गंभीर नहीं थी।

मैंने बस चलाना जारी रखा। कई बार थोड़ा असहज भी लगा। मुझे पता था कि मैं सोशल मीडिया पर अपने सभी प्रशंसकों के प्रति जवाबदेह हूं। इससे मुझे प्रेरणा मिली है। मुझे पता था कि इसके माध्यम से मुझे कुछ मिलाता है, तो न केवल मैं खुद के लिए अच्छा महसूस करूंगी, बल्कि मैं दूसरों को भी प्रेरित कर सकती हूं।

मैं ऐसे लोगों से मिलती हूं जो हर दिन लक्ष्य का पीछा करना चाहते हैं। जब मैं मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण करती हूं जहां मेरा जुनून है। जब में ग्रैप्लिंग और स्ट्राइकिंग करती हूं तो अपने लिए छोटे लक्ष्य निर्धारित करती हूं। कुछ लोग दौड़ना पसंद करते हैं तो कुछ अन्य काम करना पसंद करते हैं। लेकिन एक समानता है कि सभी एक परिणाम हासिल करना चाहते हैं।

मेरी एक सेमिनार के दौरान किसी ने मुझसे पूछा कि “क्या आप अभी भी अपने कौशल के स्तर और अनुभव को लेकर नई चीजें सीखती हैं?” मैंने जवाब दिया, “हां हर दिन, मुझे लगता है कि दुनियाभर के ब्लैक बेल्टधारक भी यही कहेंगे कि आप आपकी कला में एक विशेषज्ञ हो सकते हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप और नहीं सीख सकते।

उन सभी के लिए जो व्यक्तिगत लक्ष्य निर्धारित करना चाहते हैं, हमेशा यथार्थवादी और लक्ष्य के साथ शुरुआत करना याद रखें। कभी-कभी लोग पल में अति उत्साहित हो जाते हैं। वे दुनिया को जीतना चाहते हैं। वे इन सभी लक्ष्यों को बनाते हैं और फिर उन्हें एहसास होता है कि कोई रास्ता नहीं है जिससे वे उन्हें हासिल कर सकें। इससे पहले कि यह शुरू हो वे पहले से ही एक असफलता महसूस करते हैं।

मैं प्रेरित, उत्साहित और महत्वाकांक्षी होती हूं लेकिन मैं खुद को असफल होने के लिए तैयार नहीं करना चाहती या ऐसे लक्ष्य निर्धारित नहीं करती जिन्हें पूरा करने में सक्षम नहीं होने पर बुरा महसूस करूं। छोटे यथार्थवादी लक्ष्यों को निर्धारित करना वास्तव में महत्वपूर्ण है जो आप लगातार कर सकते हैं। मैंने हर एक दिन चलने के लिए लक्ष्य निर्धारित नहीं किया क्योंकि मैं अपने व्यस्त कार्यक्रम के साथ यह असंभव होगा।

View this post on Instagram

Today I ran my 200th Kilometer!! ????‍♀️ Since June 1st I've been running 5k's × 3 times/week ????‍♀️ I have 2 more 5k's to run and I'll have completed my 90 day challenge ????‍♀️ Let me clarify I am NOT a runner, but I do believe in getting a bit uncomfortable sometimes and the reward that comes with accomplishing those kinds of goals ????‍♀️ Which has me thinking, what next? I want a new 90 day challenge! ????‍♀️ Any Ideas?? ???? ×××××××××××××××××××××××××××××××××××××××××××× #goaldigger #goal #settinggoals #reachinggoals #accomplishinggoals #motivate #motivational #inspire #inspirational #athlete #running #runner #athleticwomen #athleticwoman #wmma #fighter #fightforit #dreambig #nevergiveup #inspireothers #dogreatthings #onesmallstepatatime #consistancy #improve #improvedaily #strongwomen #celebratewomen

A post shared by Miesha Tate (@mieshatate) on

मुझे पता था कि मैं उस लक्ष्य को वास्तविक रूप से पूरा करने में सक्षम नहीं हूं। इसलिए मैंने एक कार्यक्रम निर्धारित किया। योजना के हिसाब से सप्ताह में तीन बार दौड़ना था, जिसमें हर सप्ताह 15 किलोमीटर का लक्ष्य रखा गया। अब यह एक ऐसा लक्ष्य था जिसे मैं हासिल कर सकती हू। एक और सुझाव जिसे मैं साझा करना चाहती हूं कि अपने लक्ष्यों को हमेशा लिखना। जब आप अपने लक्ष्यों को लिखते हैं तो आप खुद के लिए एक प्रतिबद्धता बनाते हैं और यह महत्वपूर्ण है।

दूसरी सलाह ये है कि अपने लक्ष्यों के बारे में दूसरों को अवगत कराना- चाहे वह आपकी मां हो, सबसे अच्छे दोस्त हों या आपके आस-पास कोई और (या सोशल मीडिया पर भी)। जब आप अन्य लोगों को शामिल करते हुए कदम उठाते हैं तो न केवल आप दूसरों को प्रेरित करते हैं। बल्कि उन्हें आपकी इस छोटी सी यात्रा पर आपका अनुसरण करने और प्रोत्साहित करने की अनुमति देता है।

मैं यह नहीं कहूंगी कि अपने आप को समान विचारधारा वाले लोगों से घिरा रखें, लेकिन उन्हें अपने जीवन में शामिल करें। हमेशा सकारात्मक, समान विचारधारा वाले, लक्ष्य-प्रेरित लोगों से घिरा रहना यथार्थवादी नहीं है। मुझे लगता है कि मैं नायसायेर से अति प्रेरित हूं। इस कारण से मुझे लगता है कि वे एक अहम भूमिका निभाते हैं।

मेरा लक्ष्य उन लोगों को प्राप्त करना है जिनके प्रभाव से मैंने अपने जीवन में सफलता हासिल की है। अगर आप जीवन में सकारात्मक बदलाव लाना चाहते हैं तो आपको ऐसे लोगों की तलाश करनी होगी जो लगातार उसी ऊर्जा को दुनिया में लाते हैं। विश्व चैंपियन बनने में मुझे 10 साल लग गए और आप शर्त लगा सकते हैं कि मेरे पास रास्ते में एक कई विफलताएं थीं। एक बार फिर यही कहूंगी कि अपने लक्ष्यों को सरल रखने के लिए याद रखें।

“मीशा टेट ONE Championship की उपाध्यक्ष हैं। वह एक कई बार की मिक्स्ड मार्शल आर्ट वर्ल्ड चैंपियन के साथ वूमन मिक्स्ड मार्शल आर्ट में अग्रणी भी हैं। “मीशा टेट के दिमाग से” की एक नई किश्त के लिए हर साप्ताहिक देखें।”