विशेष कहानियाँ

एडुअर्ड फोलायंग की मां ने उनकी सफलता की भूख के बारे में बात की

एडुअर्ड “द लैंडस्लाइड” फोलायंग का विश्वास और काम को लेकर निश्चय फिलीपींस में उनके मुश्किल बचपन से पता चलता है।

पूर्व ONE लाइटवेट वर्ल्ड चैंपियन को उनके माता-पिता ने सिखाया था कि उन्हें हर चीज़ अपनी शक्ति के अनुसार करनी चाहिए, जिससे वो भविष्य के लिए खुद को बेहतर बनाएंगे ताकि वो अपने जीवन में सुधार कर पाएं और अपने माता-पिता जितनी मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़े।

उनकी माता मर्सिडीज़ ने बताया कि उनके हालात अच्छे नहीं थे जिससे वो जरूरतों को आसानी से पूरा नहीं कर पाती थीं।

Former ONE Lightweight World Champion Eduard “The Landslide” Folayang

उन्होंने कहा, “मैं [पहाड़ी इलाके] में बड़ी हुई, जहां जीवन काफी मुश्किल रहता है।”

“यहां बागियो में जब आपको खाना बनाना हो तो आपको सिर्फ गैस चालू करना है और आप आसानी से अपना खाना बना सकते हैं लेकिन हमारे इलाके में हमें पहले लकड़ियां ढूंढनी पड़ती थी। अगर लकड़ियां नहीं रहती थी तो हमारे पास पकाने का कोई साधन नहीं था।”

फोलायंग के माता-पिता दोनों की अनपढ़ थे इसलिए जब उन्हें बच्चा हुआ तो उनके पास अपने बच्चे को देने के लिए सीमित चीज़ें थीं।

वो कहती हैं, “जब [एडुअर्ड] छोटे थे, उनके पास सिर्फ कुछ शर्ट थी और पैंट थी क्योंकि उस समय हमारे पास आज जितने कपड़े नहीं थे।”



अच्छी स्वास्थ्य सुविधा न होने की वजह से उनके जीवन में कई सारी बड़ी मुश्किलें आईं।

मर्सिडीज के पहले बच्चे की 14 महीने की उम्र में बुखार की वजह से मृत्यु हो गयी, इसके बाद उन्होंने अपने दो बच्चों को 5 और 7 साल की उम्र में खो दिया। दो और बच्चों ने जन्म के समय ही दम तोड़ दिया।

वो चाहती थीं कि उनके बचे हुए चार बच्चों के साथ जीवन में कुछ ऐसा न हो, इसलिए उन्होंने अपने बच्चों को अच्छा जीवन देने के लिए उन्हें पढ़ाई करने के लिए प्रोत्साहित किया। उनके बच्चों ने सलाह को माना। वो काफी अच्छे विद्यार्थी थे और इसके साथ ही उन्होंने खाने के लिए भी अपने माता-पिता की मदद की।

मर्सिडीज ने कहा, ” जब एडुअर्ड [स्कूल में] थे, वो हमेशा मेरे साथ बोतलें इकट्ठी करने जाते थे।”

“वो कहते थे कि वो मेरी मदद करना चाहते थे और मेरे लिए हर चीज़ उठाने के लिए तैयार रहते थे, मेरा बेटा इस प्रकार का था। एडुअर्ड काफी समझदार थे।

“स्कूल में वो हार नहीं मानते थे। वे धैर्य रखते थे। एडुअर्ड शिक्षक से सफाई के काम लेते थे ताकि वो मुझे खर्चे में मदद कर सके क्योंकि माँ के रूप में मैं उन्हें बोतल उठाने की जॉब और लौंड्री सर्विस को अलग समय निकालकर करती थी और इसी प्रकार से मदद कर सकती थी।”

Eduard “The Landslide” Folayang rains in Baguio City

फोलायंग ने इस सोच को बड़ा होने के बाद भी जारी रखा और वो अपने परिवार की मदद करने में बहुत जल्द सफल हुए, जब उन्होंने अपने सफल करियर से अच्छे पैसे कमा लिये।

उनकी माँ ने कहा, “हम काफी छोटे घर में रहते थे जहां हम मुश्किल से फिट हो पाते थे लेकिन अब चीज़ें सुधर गयी हैं।”

“अब हम बिस्तर के लिए गद्दे खरीद सकते हैं। इसके पहले हम जमीन पर चटाई बिछाकर सोते थे। हमारा जीवन काफी कठिन था। मैं काफी धन्य हूँ।”

“द लैंडस्लाइड” का सही रास्ता यूनिवर्सिटी ऑफ कॉर्डिलेरस से शुरू हुआ जब उन्होंने क्रिमिनोलॉजी के बारे में पढ़ाई की।

उनकी माँ खुश थीं कि वो आगे पढ़ाई करेंगे और डिग्री हासिल करेंगे और ये उन्हें एक स्थिर जॉब दिलाएगा लेकिन उनकी माँ ने बताया कि उन्हें वुशु की ओर से स्कॉलरशिप मिली।

उन्होंने कहा, “जब उन्होंने मुझे इसके बारे में बताया, मैंने सोचा कि क्या वो ये करने के योग्य हैं।”

मैंने उनसे पूछा, “क्या तुम इस प्रकार के खेल में हिस्सा लेना चाहोगे बेटा? और उन्होंने मुझे बताया कि वो कर सकते हैं, तो मैंने उन्हें हिस्सा लेने के लिए अनुमति दे दी।”

उन्हें चिंतित होने की जरूरत नहीं पड़ी। तीन SEA गेम्स में गोल्ड मेडल हासिल करने के बाद उनके बेटे ने मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स पर ध्यान दिया और पहली बार ONE लाइटवेट वर्ल्ड टाइटल जीतकर इस खेल के टॉप पर चले गए।

2016 के दौरान फिलीपींस में जब “द लैंडस्लाइड” ने बेल्ट हासिल की, मर्सिडीज ने गर्व महसूस किया।

उन्होंने कहा, “मैं काफी खुश थी क्योंकि वो बेल्ट जीत गए थे। उनकी जीत के दौरान मैं इतनी खुश थी कि जिसे कभी बयां नहीं किया जा सकता।”

इस स्टार की सफलता जारी रही और वो फिलीपींस के सबसे प्रसिद्ध एथलीट बन गए और वो अपने माता-पिता की उम्मीदों से भी ज्यादा ऊपर उठे।

अब वो अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ उन लोगों के लिए अच्छा कर रहे हैं जिन्होंने उन्हें अच्छा जीवन देने में मदद की। उनके माता-पिता खुश हैं, इसके बावजूद भी उनकी माँ बताती है कि जब भी वो मुकाबला करते हैं तो वो चिंतित हो जाती हैं।

उन्होंने कहा, “मैं काफी खुश रहती हूँ लेकिन कभी-कभी उनकी फाइट के दौरान मैं चिंतित हो जाती हूँ लेकिन मैं प्रार्थना करती हूँ ताकि वो जीत हासिल करें और मैं भगवान को मेरी प्रार्थना सुनने के लिए धन्यवाद करती हूँ। ”

ये भी पढ़ें: हर किसी को प्रोत्साहित करता है एडुअर्ड फोलायंग का गरीबी से महान बनने तक का सफर