मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

हर किसी को प्रोत्साहित करता है एडुअर्ड फोलायंग का गरीबी से महान बनने तक का सफर

एडुअर्ड “लैंडस्लाइड” फोलायंग इस शुक्रवार, 31 जनवरी को बाउट जीतकर बेहतरीन एथलीट्स से भरे लाइटवेट डिविजन में खुद को टॉप पर लाने की कोशिश करेंगे।

फिलीपींस के मनीला के Mall Of Asia Arena में होने वाले ONE: FIRE & FURY में फोलायंग की बाउट पीटर “द आर्केंजल” बस्ट के साथ होगी।

अपने देशवासियों के सामने होने वाली लाइटवेट बाउट से पहले “लैंडस्लाइड” पीछे मुड़कर अपने जीवन के काम, लोग, समुदाय और समाज को देखते हैं, जिन्होंने उन्हें यहां तक पहुंचने के काबिल बनाया।

मार्शल आर्ट्स के जरिए अपने परिवार की मदद की

फिलीपींस के बागियो शहर में फोलायंग का परिवार दुखद रूप से बहुत गरीबी से गुजर रहा था। फिलीपीनो एथलीट अपने पेरेंट्स के नौ बच्चों में से एक थे। उनमें से पांच बच्चे बीमारी की वजह से सिर्फ इसलिए गुजर गए क्योंकि उनका गरीबी की वजह से सही इलाज नहीं हो सका था।

उनके पिता एक मजदूर और पार्ट टाइम किसान के रूप में काम करते थे, जबकि उनकी मां एक लाउंड्री में काम करती थीं। दोनों को पढ़ना और लिखना नहीं आता था। इस वजह से उन्होंने ये निश्चय किया कि वे अपने बच्चों को अशिक्षित नहीं रहने देंगे।

फोलायंग याद करते हुए कहते हैं, “मेरे पेरेंट्स ने हमें स्कूल भेजने के लिए बहुत त्याग किए हैं। कभी-कभी उन्होंने हमारी ट्यूशन फीस भरने के लिए उधार पैसे तक लिए।”

“उन्होंने अपने जीवन में केवल सिर्फ एक काम पर ही ध्यान केंद्रित नहीं किया। उन्हें जो अतिरिक्त काम मिलता गया, वो सब करते गए, ताकि वे हमारी जरूरतों को ठीक से पूरा कर सकें।”

उनके माता-पिता को उम्मीद थी कि वो पढ़ाई पूरी करने के बाद एक पुलिस अधिकारी बनेंगे लेकिन फोलायंग की कुछ अलग ही तमन्ना थी। उन्होंने मार्शल आर्ट्स को चुना और परिवार पर कम बोझ डालने के लिए वुशु कॉलेज से छात्रवृत्ति हासिल की। ये उनका एक ऐसा फैसला था, जिसने उनके पूरे जीवन को ही बदलकर रख दिया था।

फिलीपींस वुशु टीम में काफी प्रतिभाशाली एथलीट साबित होने के बाद फोलायंग ने दक्षिण पूर्व एशियाई खेलों में तीन स्वर्ण सहित ग्यारह बड़े पदक जीते। इसके अलावा, वुशु में सक्रिय रूप से भागीदारी करते हुए 2007 में उन्होंने केज की अपनी स्किल्स को बेहतर किया।

उन्होंने अपने पेरेंट्स से कड़ी मेहनत करने का हुनर सीखा था। इस वजह से उन्होंने विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन करने के बाद हाईस्कूल में इंग्लिश और फिजिकल एजुकेशन पढ़ाने के दौरान ही सारी चीजें कीं।

Team Lakay के सबसे प्रमुख सदस्य के रूप में “लैंडस्लाइड” ने 2007 में फिलीपीनो प्रमोशन के लिए अपना प्रोफेशनल डेब्यू किया। इसमें उन्होंने अपराजित वेल्टरवेट चैंपियन से चुनौती ली थी। उन्होंने पहले ही राउंड में विरोधी को धूल चटाते हुए बेल्ट हासिल कर ली। ठीक उसी तरह मार्शल आर्ट्स की उनकी क्षमताएं दूसरों को प्रेरित करने का एक जरिया बनीं।

फोलायंग कहते हैं, “मैं इसलिए बाउट करता हूं क्योंकि मैं इसके प्रति जुनून रखता हूं। मैं जानता हूं कि ऊपरवाले ने मुझे देशवासियों को प्रेरित करने की क्षमता दी है।”

“फिलीपींस में ढेरों मुश्किलें हैं। हमने फिलीपींस के लोगों में ड्रग्स की लत देखी है।

“एक एथलीट के रूप में अपने देश के युवाओं को ड्रग्स की चपेट में आकर जीवन बर्बाद नहीं करने के लिए प्रेरित करना चाहता हूं। हालांकि, इसके लिए उनके होने के उद्देश्य को तलाशना होगा। ये पता लगाना होगा कि वो किसी स्पोर्ट्स में हुनरमंद हैं या फिर किसी अन्य क्षेत्र में।”

वर्ल्ड चैंपियन और फिलीपींस का हीरो बनना

फोलायंग ने 2011 में ONE के साथ अनुबंध करने से पहले आठ से ज्यादा जीत दर्ज कीं और एक हार का सामना किया था। उन्होंने ONE: CHAMPION VS CHAMPION के उद्घाटन शो के मेन इवेंट में हिस्सा लेते हुए ए-सोल क्वोन को सर्वसम्मत निर्णय से हरा दिया था।

हालांकि, “लैंडस्लाइड” को अगले कुछ साल में मिले-जुले परिणाम हासिल हुए लेकिन उन्होंने अपनी किस्मत को पलटने और मजबूती के साथ वापसी करने के लिए खुद को दृढ़ संकल्पित किया हुआ था।

वो बताते हैं, “मैं कुछ वक्त लेकर अपने विचारों को एक जगह लाकर इकट्ठा करता हूं और फिर अपने करियर का पुनर्मूल्यांकन करता हूं।”

“पहले से ही पता था कि मुझे एक मार्शल आर्ट्स कलाकार के रूप में उभरना है। इसके लिए मुझे ये भी पता था कि इरादे मजबूत रखने होंगे। मुझे मालूम था कि मेरे अंदर का बेस्ट अभी बाहर निकलकर नहीं आया, जो कहीं न कहीं छुपा हुआ था।”

2015 में फोलायंग ने अपनी स्किल्स को और बेहतर करने के लिए अमेरिका की कई नियमित यात्राएं कीं। वो अपने स्ट्राइकिंग और रेसलिंग के कौशल में सुधार के लिए कई जिम में गए और इसके परिणाम जल्द ही नजर भी आने लगे।

फिलीपीनो एथलीट 2016 में ONE में लौटे और ये उनके करियर का सबसे अच्छा साल रहा। उन्होंने डेब्यू करने वाले जापान के टेटसुया यमाडा पर हावी होकर उन्हें पराजित किया। इसके बाद अगस्त में ऑस्ट्रेलिया के एड्रियन “द हंटर” पैंग पर एक रोमांचक जीत हासिल की। नवंबर में उन्होंने ONE लाइटवेट वर्ल्ड चैंपियनशिप पर कब्जा करने के लिए फिर शिन्या “टोबीकन जुडन” एओकी को हरा दिया।

एक महान एथलीट को हराने और वर्ल्ड चैंपियन बनने के अपने आजीवन लक्ष्य को महसूस करके फालोयंग ऐसी स्थिति में पहुंच गए, जिसकी उन्होंने बिल्कुल भी उम्मीद नहीं की थी।

फोलायंग कहते हैं, “चैंपियन होने के नाते मुझे बहुत सी जिंदगियों के बारे में जानने का मौका मिला। एक ही शाम ने मुझे ढेरों चाहने वाले दे दिए। सच कहूं तो अगर आप वास्तव में किसी चीज को चाहते हैं तो एक परफॉर्मेंस ही असंभव को संभव साबित करने के लिए काफी है।”

अब आगे क्या?

36 वर्षीय एथलीट का मकसद वर्ल्ड टाइटल को इसलिए बनाए रखना नहीं है कि उनकी महिमा का बखान होता रहे। बल्कि इसका मकसद ये है कि इसके जरिए वो अपने लोगों को असीमित संभावनओं के प्रति उम्मीद और विश्वास से जोड़े रख सकें।

इसके बाद कुछ समय के लिए वो ONE के लाइटवेट डिविजन में उन बेहतरीन एथलीट्स के बीच में जाकर खड़े हो गए थे, जो इस टाइटल को पाने के लिए तैयार बैठे थे।

2017 के अंत में “लैंडस्लाइड” ने बेल्ट को खुद से दूर जाने दिया। हालांकि, लगातार आगे बढ़ते हुए उन्होंने लाइटवेट डिविजन के शीर्ष पर फिर से खुद को पहुंचा दिया है। इस आने वाले शुक्रवार को वो सर्कल में ये साबित करने के लिए उतरेंगे कि उनसे बेहतर अभी इस डिविजन में कोई नहीं है।

ये भी पढ़ें: ONE: FIRE AND FURY का लाइव प्रसारण कैसे देखें

मनीला | 31 जनवरी | ONE: FIRE & FURY | टिकेट्सयहां क्लिक करें  

*ONE Championship की ऑफिशियल मर्चेंडाइज़ के लिए यहां हमारी शॉप पर आएं