लाइफ स्टाइल

महान एथलीट्स के लिए ब्राजीलियन जिउ-जित्सु क्या महत्व रखता है?

BJJ को ब्राजीलियन जिउ-जित्सु कहते हैं। ये नाम इस कला की बस संक्षिप्त परिभाषा है।

अगर आप इसकी परतें हटाकर देखेंगे तो इसमें आर्मबार, ट्रायंगल चोक, किमूरा जैसी तकनीकों की दुनिया दिखाई देगी। जो एथलीट इनका अभ्यास करते हैं, उनके लिए “जेंटल आर्ट” काफी मायने रखता है।

ONE फ्लाइवेट वर्ल्ड चैंपियन एड्रियानो “मिकीन्यो” मोरेस, पूर्व ONE विमेंस एटमवेट वर्ल्ड टाइटल कंटेंडर मेई “V.V” यामागुची और आठ बार की BJJ वर्ल्ड चैंपियन मिशेल निकोलिनी का ही उदाहरण ले लीजिए।

भले तीन मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट ने इस कला की समान दिखने वाली तकनीक पर काम किया हो लेकिन BJJ इन तीनों के लिए अलग मायने रखता है।

BJJ खुद को सुधारने का तरीका है

Adriano Moraes

ब्राजीलियन एथलीट मोरेस मानते हैं कि BJJ का मतलब बेहतर जिंदगी का रास्ता बनाने से है।

“BJJ में सीखने के लिए काफी कुछ है। इसके जरिए आप अपने सामाजिक पक्ष, खुद का ज्ञान और मानवता को बेहतर ढंग से जान पाते हैं।”

हालांकि, इस तरह से चीजों को देखने के लिए ONE फ्लाइवेट वर्ल्ड चैंपियन को काफी समय लगा।

जब ब्राजीलियाई एथलीट 16 साल के थे, तब वो गलत लोगों के साथ रहते थे और गलियों में मारपीट किया करते थे। एक दोस्त को खोने के बाद उनके साथी ने उन्हें अपने जीवन के ढर्रे को बदलने का अनुरोध किया और “जेंटल आर्ट” सीखने के लिए प्रोत्साहित किया।

उन्होंने बताया, “पर्पल बेल्ट होल्डर किकबॉक्सर दोस्त गिलडासियो फरेरा मुझे ट्रेनिंग के लिए ले गए।”

“BJJ का पहला दिन मुझे बहुत घटिया लगा। उस समय मुझे समझ में नहीं आया कि लोग मार खाने के लिए फीस क्यों भरेंगे। मैं क्योंकि दुबला और कम हाइट का था इसलिए जब तक क्लास चलेगी लोग मुझे ही मारना चाहेंगे।”

लेकिन किसी तरह मोरेस इस खेल में टिके रहे और अंत में अटाएड जूनियर के तहत ब्लैक बेल्ट धारी बन ही गए।

फ्लाइवेट किंग ने बताया, “जिउ-जित्सु हर हफ्ते एक नए स्तर पर पहुंच रहा है। अब BJJ जिस स्तर पर चल रहा है, वो एकदम अलग स्तर है। अगर आपको उससे तालमेल बनाए रखना है तो हर हफ्ते ट्रेनिंग करनी ही पड़ेगी।”

जिस तरह से BJJ का विकास हुआ है, उसी तरह से “मिकीन्यो” भी विकसित हुए। इस ग्रैपलिंग कला ने जल्द ही ब्राजीलियाई एथलीट के लिए नए दरवाजे खोल दिए।

उन्होंने बताया, “BJJ को समझने में मुझे काफी समय लग गया और कई साल तक चली प्रैक्टिस के बाद जाकर मैं इस खेल के मतलब को समझ पाया हूं।”

मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स को समझने के लिए BJJ सबसे अच्छी कला साबित हुई। ये अन्य मार्शल आर्ट्स को हराने के लिए बनाई गई थी और मुझे लगता है कि ये आज भी काम कर रही है।”



तकनीक सीखने का तरीका है BJJ

Mei Yamaguchi

दूसरी ओर, यामागुची का मानना है कि अगर कोई BJJ को सच में जानना चाहता है तो उसे इस कला को समझना, विचार करना और खुद में सुधार करने की कोशिश करनी चाहिए।

उन्होंने बताया, “BJJ में काफी सारी बारिकियां हैं। आप इसमें सुस्त नहीं हो सकते और न ही कोई दांव हटा सकते हैं। अगर आप इसे तरीके से खेलते हैं तो इस बात की ज्यादा संभावनाएं हैं कि मैच आपके पक्ष में खत्म होगा। साथ में आपको दांव-पेंच में भी तेजी दिखानी होगी।”

“इस तरीके से आप हमेशा अपनी तकनीक सुधार पाते हैं। इस तरीके से आप रिलेक्स हो रहे होते हैं। तेजी से ज्यादा फर्क नहीं पड़ता, जो बात जरूरी है, वो ये कि जितने दांव आप लगाएं, वो सब सोचे-समझे और सही हों।”

सुधार के लिए जापानी एटमवेट एथलीट ने दो जरूरी बातों पर जोर दिया।

उन्होंने बताया, “लोग हमेशा ये भम्र पाल लेते हैं कि BJJ एक कड़ा खेल है। ग्रैपलिंग एक कला है। इसमें आपको जिन दो चीजों की जरूरत पड़ेगी वो हैं ताकत और आत्मविश्वास।”

“ताकत इसलिए जरूरी है क्योंकि इससे आप BJJ की सभी बुनियादी तकनीकों को नए स्तर पर ले जा सकते हैं। इस चीज को कभी भी कम नहीं आंका जाना चाहिए।

“इसी की वजह से मुझे कई बेहद काबिल विरोधियों से मुकाबला करने का आत्मविश्वास मिला। साथ ही इसने मुझे मौका दिया कि जो विरोधी इसे कम आंकते हैं, उनके साथ मैं करीबी मुकाबला कर सकूं।”

BJJ जीवन का ही एक रूप है

Michelle Nicolini

निकोलिनी सोते, खाते और सांस लेने के साथ BJJ की सोच में डूबी रहती हैं। वो इसके बिना अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकती हैं।

उन्होंने बताया, “BJJ मेरे लिए सबकुछ है। ये दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण मार्शल आर्ट्स में से एक है। मैंने जब शुरुआत में ट्रेनिंग शुरू की तो इसकी वजह से मेरे जीवन ने सबसे अच्छी दिशा पकड़ी, जिसके बारे में मैं हमेशा कह सकूंगी।”

“जब मैट्स पर मैंने पहली बार कदम रखा, तभी मैं समझ गई थी कि मुझे इससे प्यार होने वाला है। ऐसा इसलिए क्योंकि मैं बिना कुछ जाने कभी हार नहीं मानती। मैं काफी दुबली और शर्मीली थी लेकिन जब भी मैं क्लास में जाती थी तो बहुत अच्छी फीलिंग आती थी।

“कुछ महीनों के बाद मैंने पहला मुकाबला किया और हार गई। उसके बाद से हमेशा ये महसूस हुआ करता था कि मैं और अच्छा कर सकती हूं क्योंकि BJJ में हम कभी रुकना नहीं सीखते हैं।”

इस खेल ने ब्राजीलियाई लोगों की जिंदगी बदल दी। आज वो इसके बारे में लोगों को बताकर “जेंटल आर्ट” को सब तक पहुंचा रही हैं।

इस खेल में 20 साल तक अभ्यास करने के बाद निकोलिनी का मानना है कि ये जरूरी है कि BJJ का प्रचार किया जाए, ताकि दुनियाभर के लोग इसे अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकें।

उन्होंने कहा, “मैं पिछले कई साल से दुनियाभर में यात्रा करके अपनी जानकारी और अनुभव हर तरह के लोगों को दे रही हूं। मैं कई सारे कमाल के लोगों से मिली हूं और उनके साथ ट्रेनिंग भी की है। मुझे लगता है कि BJJ को लेकर वो मेरी बात को समझ रहे हैं।”

“मेरी जिंदगी का बड़ा हिस्सा होने के अलावा, इसने मुझे कभी भी हार न मानना सिखाया, जो कि इस खेल का सही मतलब है।

“ये आसान नहीं था। शुरुआत में हम हर दिन कुछ नया सीखते थे और अगले दिन वो भूल जाते थे। इससे थोड़ी निराशा जरूरी होती थी लेकिन अगर आप अपने मन की बात सुनेंगे ओर अपने सपने को पाने के लिए काम करेंगे तो आप हमेशा आगे ही बढ़ते रहेंगे।”

ये भी पढ़ें: ब्राजीलियन जिउ-जित्सु की ट्रेनिंग को शुरू करने के लिए 7 जरूरी सामग्री