विशेष कहानियाँ

ONE Championship में विमेंस एथलीट्स के टॉप-5 मुकाबले

जब भी ONE Championship की विमेंस एथलीट सर्कल में उतरती हैं तो उनके प्रदर्शन का स्तर भी अपने साथी पुरुष एथलीट्स के मुकाबले कम तो बिल्कुल नहीं रहता। वो भी ऐसे मैचों का हिस्सा रही हैं जिन्हें देख फैंस की आँखें फटी की फटी रह गई थीं।

यहाँ तक कि विमेंस एथलीट्स के बीच में जबरदस्त एक्शन देखे जाने की ज्यादा संभावना होती है।

ग्लोबल स्टेज पर शायद ही आपको ऐसा विमेंस एथलीट्स का कोई ऐसा मैच याद हो जिसमें जबरदस्त एक्शन और शानदार फिनिश ना देखने को मिला हो। खासतौर पर, जब बात वर्ल्ड चैंपियनशिप मैच की आती है तो परफॉर्मेंस का स्तर और भी बढ़ जाता है।

इन्हीं बातों को ध्यान में रख हम ONE की विमेंस एथलीट्स के 5 सबसे बेहतरीन मुकाबलों से आपको अवगत कराने वाले हैं।

#5 स्टैम्प फेयरटेक्स vs अल्मा जुनिकु

ONE: LEGENDARY QUEST में स्टैम्प फेयरटेक्स को अल्मा जूनिकु के खिलाफ ONE एटमवेट मॉय थाई वर्ल्ड टाइटल डिफेंड करना था और इस मैच में स्टैम्प को ग्लोबल स्टेज पर किसी अन्य एथलीट से ज्यादा प्रतिद्वंदिता का सामना करना पड़ा था।

सौभाग्य से, फैंस को उनके ONE करियर की सबसे बेहतरीन जीत का गवाह बनने का मौका मिला।

शुरुआत में स्टैम्प के काउंटर अटैक्स को देखकर ऐसा लग रहा था मानो थाई सुपरस्टार को इस मैच में आसान जीत मिलने वाली है। लेकिन उनकी युवा ऑस्ट्रेलियाई प्रतिद्वंदी को जीत की भूख थी और तीसरे व चौथे राउंड में उन्होंने जबरदस्त वापसी की। इसलिए आखिरी राउंड तक ये कह पाना मुश्किल था कि मैच किसके पक्ष में जाने वाला है।

आखिरी राउंड की शुरुआत में ऐसा लग रहा था जैसे स्टैम्प के पास इस मुकाबले को जीतने के लिए ज्यादा एनर्जी नहीं बची है लेकिन एनर्जी लेवल के कम होने के बाद भी वो जजों पर प्रभाव छोड़ने में सफल रहीं। सर्वसम्मत निर्णय से जीत हासिल कर उन्होंने दर्शाया कि वो ही असली चैंपियन हैं।

ये भी पढ़ें: स्टैम्प फेयरटेक्स ने बताया, वो कैसी झेलती हैं इतना दबाव

#4 एंजेला ली vs मेई यामागुची

पहले ONE विमेंस एटमवेट वर्ल्ड चैंपियनशिप मुकाबले में “अनस्टॉपेबल” एंजेला ली और मेई यामागुची का आमना-सामना हुआ और इन दोनों के बीच एक्शन से भरपूर मुकाबले को 2016 में बाउट ऑफ द ईअर से नवाजा गया था।

5 राउंड तक चले इस मुकाबले में किसी एथलीट को सांस लेना तक का मौका नहीं मिला और 25 मिनट तक चले इस मुकाबले को जीत दर्ज करने के लिए दोनों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। जिस तरह से ली और यामागुची एक-दूसरे पर अटैक कर रही थीं, उससे आमतौर पर मुकाबला बहुत जल्दी फिनिश हो जाता है लेकिन दोनों ही ओर से शानदार डिफेंस भी देखा गया। सबमिशन के प्रयास हुए और कई बार एथलीट्स लड़खड़ाती हुई नजर आईं।

दूसरे राउंड के अंतिम क्षणों में ऐसा प्रतीत हो रहा था कि ली मैच पर पकड़ बना रही हैं लेकिन मैच ने तब रफ्तार पकड़ी, जब सिंगापुर की एथलीट को अपना ध्यान एक जगह केंद्रित रखने में संघर्ष करना पड़ रहा था। इस मौके का फायदा उठाते हुए यामागुची ने दमदार राइट हैंड लगाया जिससे उनकी युवा प्रतिद्वंदी नीचे गिर पड़ीं।

अनुभवी जापानी स्टार के लिए ये दुर्भाग्य की बात रही कि ली ने मैच में डटे रहकर दिखाया कि उन्हें “अनस्टॉपेबल” क्यों कहा जाता है और उसके बाद उन्होंने मैच पर अपनी पकड़ मजबूत करनी शुरू कर दी थी। ये बात भी उन्हें प्रेरित कर रही थी कि इस जीत से वो मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के इतिहास की सबसे युवा चैंपियन बनने वाली थीं और उसके बाद वो अभी तक चैंपियन बनी हुई हैं।

ये भी पढ़ें: डेब्यू मैच में युवा सुपरस्टार्स के लिए एंजेला ली की 5 टिप्स

#3 जेनेट टॉड vs स्टैम्प फेयरटेक्स II

स्टैम्प फेयरटेक्स और जेनेट “JT” टॉड के बीच पहले ONE एटमवेट मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियनशिप मैच में दोनों एथलीट्स की ताकत के साथ-साथ ये भी देखने को मिला था कि वो कितनी शिद्दत से उस मैच में जीत दर्ज करना चाहती थीं। लेकिन उनका रीमैच पहले से भी बेहतर साबित हुआ है।

ONE: KING OF THE JUNGLE में स्टैम्प को ONE एटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल डिफेंड करना था और इस रीमैच में पहले से भी कड़ी टक्कर देखने को मिली। प्रतिद्वंदिता का स्तर चरम पर रहा और मैच दिलचस्प साबित हुआ व इसका श्रेय टॉड द्वारा अपनी स्किल्स में सुधार को जाता है क्योंकि मैच की शुरुआत से ही वो फ्रंटफुट पर रहकर चैंपियन पर दबाव बनाने की कोशिश कर रही थीं।

उनकी आक्रामकता के जवाब में स्टैम्प ने भी आक्रामक रुख अपनाना शुरू कर दिया, जिससे इनके बीच कांटेदार टक्कर और कुछ दमदार स्ट्राइक्स भी देखने को मिलीं।

मैच में दोनों ही ओर से लगातार अटैक होता रहा। इसके बावजूद आखिरी राउंड में मैच में मूवमेंट और भी तेज हो गई थी लेकिन ये उन फैंस के लिए कोई चौंकाने वाली बात नहीं रही जिन्होंने इन दोनों को पहले भी बाउट करते देखा था। पहले से उलट इस बार टॉड की सुधरी हुई स्किल्स ने उन्हें विभाजित निर्णय से जीत दिलाई थी।

ये भी पढ़ें: जेनेट टॉड ने उस वर्ल्ड टाइटल जीत के बारे में बात की जिसने उनकी जिंदगी ही बदल दी है

#2 जिओंग जिंग नान vs एंजेला ली

ONE विमेंस वर्ल्ड टाइटल मुकाबलों में ऐसा कम ही देखा गया है, जब मैच का मोमेंटम लगातार इधर से उधर शिफ्ट हो रहा हो और उस लिस्ट में ONE: A NEW ERA में हुआ “द पांडा” जिओंग जिंग नान और एंजेला ली का ये मुकाबला संभवत ही सबसे ऊपर है। ली ने अपने भार वर्ग में बढ़ोत्तरी की थी और ONE स्ट्रॉवेट वर्ल्ड टाइटल मैच में उन्हें करीबी मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा।

उन संभावनाओं के बीच जब ऐसा कहा जा रहा था कि ली अपनी प्रतिद्वंदी की ताकत को झेल नहीं पाएंगी लेकिन उन्होंने जिओंग के स्ट्राइकिंग गेम का डटकर सामना किया और उन्हें ग्राउंड गेम में लाने में सफल रहीं। चौथे राउंड में उन्होंने अपने गेम प्लान के तहत जिओंग के हाथ को जकड़ने में सफलता पाई थी, जिससे ऐसा प्रतीत होने लगा था कि मैच अब जल्द ही समाप्त होने वाला है।

हालांकि, चीनी स्टार की सहनशीलता देखने वाली रही क्योंकि ली ने करीब 2 मिनट तक उनके हाथ को जकड़ा हुआ था और पूरी ताकत से उन्हें टैप आउट करने पर मजबूर करने की कोशिश कर रही थीं लेकिन राउंड के समाप्त हो जाने के कारण मैच फिनिश होने से बच गया था।

सबसे चौंकाने वाली बात तो ये रही कि ली के उस अटैक का जिओंग पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ा क्योंकि उन्होंने पहले से भी ज्यादा आक्रामक अंदाज में अटैक करना शुरू कर दिया था। ली के सबमिशन के प्रयास से वो थकी हुई नजर आने लगी थीं लेकिन “द पांडा” के पास अभी भी काफी एनर्जी बची हुई थी और इसी का फायदा उठाते हुए उन्होंने अपनी बॉक्सिंग स्किल्स और बॉडी किक्स के तालमेल से TKO जीत दर्ज की।

ये भी पढ़ें: साल 2020 में नई चुनौतियों के लिए तैयार हैं जिओंग जिंग नान

#1 एंजेला ली Vs. जिओंग जिंग नान II

ONE: CENTURY में जब ये एक बार फिर आमने-सामने आईं तो ये कह पाना मुश्किल था कि इनके बीच पहले से भी अधिक दिलचस्प मुकाबला घटित होने वाला है। सभी को चौंकाते हुए दोनों ने पहले से भी जबरदस्त एक्शन से भरपूर मुकाबले को पेश किया।

इस बार जिओंग टेकडाउन डिफेंस की तैयारी के साथ सर्कल में उतरी थीं, जिससे वो अपनी प्रतिद्वंदी के ग्रैपलिंग अटैक से बच पाने में सफल हुईं और अच्छी पोजिशन में रहकर सिर और बॉडी पर दमदार स्ट्राइक्स लगाने में भी सफल हो रही थीं। उनका आत्मविश्वास इस कदर बढ़ चुका था कि वो बिना डरे स्पिनिंग बैक किक भी लगा रही थीं।

बीच के राउंड्स में सिंगापुर की स्टार को जरूर कुछ सफलता मिली क्योंकि वो “द पांडा” पर लगातार सबमिशन और ग्राउंड स्ट्राइक्स से दबाव बना रही थीं। लेकिन चीनी एथलीट मजबूती से इस अटैक का सामना करती रहीं और आखिरी राउंड्स में पहले से भी आक्रामक रुख अपना चुकी थीं।

सौभाग्य से, इस बार ली एटमवेट डिविजन में बाउट कर रही थीं, जहाँ वो किसी अन्य डिविजन से ज्यादा अच्छा महसूस करती हैं। एक तरफ उन्हें कड़ा प्रहार झेलना पड़ रहा था, इसके बावजूद आखिरी राउंड में उन्होंने टेकडाउन करने में सफलता पाई और धैर्य ना खोते हुए रीयर-नेकेड चोक लगाया।

समय तेजी से समाप्त हो रहा था इसलिए इस बार भी ऐसा प्रतीत होने लगा था कि जिओंग किसी तरह राउंड के अंत तक उस सबमिशन के प्रयास को झेलने में सफल रहेंगी। लेकिन केवल 12 सेकंड शेष रहते उन्होंने अपनी प्रतिद्वंदी को टैप आउट करने पर मजबूर कर ONE विमेंस एटमवेट वर्ल्ड टाइटल को सफलतापूर्वक डिफेंड किया था।

ये भी पढ़ें: ONE वर्ल्ड चैंपियन एंजेला ली ने साल 2020 के लिए अपने लक्ष्य गिनाए