किकबॉक्सिंग

जेनेट टॉड ने उस वर्ल्ड टाइटल जीत के बारे में बात की जिसने उनकी जिंदगी ही बदल दी है

28 फरवरी को जेनेट “JT” टॉड ने आखिरकार अपना सपना पूरा कर ही लिया।

अमेरिकी एथलीट ने ONE: KING OF THE JUNGLE के मेन इवेंट में 2-स्पोर्ट वर्ल्ड चैंपियन स्टैम्प फेयरटेक्स पर विभाजित निर्णय से जीत दर्ज कर ONE एटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल अपने नाम किया।

सिंगापुर इंडोर स्टेडियम में धमाकेदार जीत दर्ज करने के बाद अब 34 वर्षीय स्टार कैलिफोर्निया (अमेरिका) लौट चुकी हैं और आराम करने के बजाय वो लगातार अपनी एलीट लेवल की स्किल्स में सुधार करने में जुट गई हैं।

एक तरफ थाई सुपरस्टार को हराकर किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल अपने नाम करना उनके लिए आसान नहीं था, वहीं दूसरी ओर टॉड जानती हैं कि इस टाइटल को अब आगे चलकर डिफ़ेंड कर पाना उससे भी ज्यादा कठिन रहने वाला है।

हाल ही में दिए इंटरव्यू में टॉड ने इस बड़ी जीत के बारे में बात की, चैंपियन बनने के बाद कैसा महसूस कर रही हैं और ये भी बताया कि किस तरह वो ज्यादा समय तक चैंपियन बनी रह सकती हैं।

ONE Championship: पहले तो हम आपको बड़ी जीत पर बधाई देते हैं! आपको ONE एटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन बनने पर कैसा महसूस हो रहा है?

जेनेट टॉड: टाइटल मेरे पास आ चुका है, इस बात पर अभी भी मुझे विश्वास नहीं हो पा रहा है। ये मेरे लिए किसी सपने के पूरे होने जैसा है लेकिन मैं जानती हूँ कि ज़िम्मेदारी अब दोगुनी हो गई है। मेरे कंधों पर अब चैंपियन होने का भार है इसलिए मुझे चैंपियन बने रहने के लिए पहले की तुलना में दोगुनी मेहनत करनी होगी।

ONE: स्टैम्प के साथ रीमैच से पहले आपने कहा था कि आप इस मैच में पूरे आत्मविश्वास के साथ उतरने वाली हैं। ये आपके गेम प्लान के लिए कितना महत्वपूर्ण साबित हुआ?

टॉड: स्टैम्प के साथ पहले मैच (फरवरी 2019) से मैंने सबसे बड़ा सबक यही सीखा था कि मुझे खुद पर भरोसा बनाए रखना है। मुझे लगता है कि उस समय मैं ONE में नई-नई आई थी इसलिए उस समय आत्मविश्वास की कमी मेरे प्रदर्शन में साफ देखी जा सकती थी लेकिन इस बार नहीं।

मुझे लगता है कि मैंने अब ONE में अपना स्थान पक्का कर लिया है जिससे मेरा आत्मविश्वास भी बढ़ा है। पिछले कुछ मैचों से मिला अनुभव, नई स्किल्स सीखने और इस बात का एहसास होना कि इस बार मैंने कड़ी मेहनत कर टाइटल शॉट हासिल किया है, ये सभी चीजें मेरे आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए काफी साबित हुई हैं।

ONE: बीच के राउंड्स में स्टैम्प लगातार किक्स लगा रही थीं जिससे आप लय से भटकी हुई नजर आईं। इसका सामना करने के लिए आपने क्या किया था?

टॉड: मैं अपने गेम प्लान पर बनी हुई थी। मैं अटैक करने के तुरंत बाद उनसे दूर जाना चाहती थी और मुझे लगता है कि जब भी मैं दूर जा रही थी तो स्टैम्प ने किक्स का शानदार तरीके से इस्तेमाल किया।

उनकी किक्स को ब्लॉक कर पाना मेरे लिए कठिन था क्योंकि मैं मूव कर रही थी। उन परिस्थितियों के हिसाब से उन्होंने वही किया जो उस समय उन्हें फायदा पहुंचा सकता था। इसके बावजूद मैंने उनके करीब आकर अटैक कर और मौका मिलते ही उनसे दूर चले जाने के अपने गेम प्लान का साथ नहीं छोड़ा। मुझे ऐसा कुछ एहसास नहीं हुआ कि उनके इन मूव्स ने मुझे कोई नुकसान पहुंचाया था।

लेकिन मैं ये जरूर कहना चाहूंगी कि जिम में वापस लौटते ही मैंने अपनी मूवमेंट के साथ उनकी किक्स पर ध्यान दिया था, इसलिए ये मेरे लिए एक बड़ा सबक है और आने वाले समय में ऐसा बिल्कुल नहीं होने देना चाहती।

ONE: आखिरी राउंड में बेहद कड़ी टक्कर देखने को मिली। आपके कॉर्नर से आपको आखिरी 3 मिनट में क्या रणनीति अपनाने की सलाह मिली थी?

टॉड: वो ढील छोड़ने वाला लम्हा नहीं था, इसलिए मैं मजबूती से डटी रही और उनके करीब जाकर हैंड लगाने की कोशिश कर रही थी।

ONE Atomweight Kickboxing World Champion connects with a roundhouse on Stamp Fairtex

ONE: ये ऐसा भी पहला मौका रहा जब ONE ने खाली एरीना में इवेंट का आयोजन किया हो। क्या एरीना में बिना ऑडियंस से आपको अच्छा महसूस हुआ या बुरा?

टॉड: मुझे नहीं पता कि इसका कोई बुरा प्रभाव भी रहा। अच्छी चीज ये रही कि एरीना काफी शांत था जिससे मैं अपने कॉर्नर से मिल रही सलाह को भी आसानी से सुन सकती थी। इतनी आसानी से अपने साथियों की आवाज को सुन पाना जाहिर तौर पर फायदेमंद साबित हुआ।

इसके अलावा क्राउड की एनर्जी के ना होने को मैं मिस कर रही थी। मैं उम्मीद करती हूँ कि अगली बार तक ये कोरोनावायरस समाप्त हो जाए। वहां जो कुछ भी हो रहा है उससे मुझे बहुत बुरा महसूस हो रहा है, इससे टूरिज़म को बहुत बड़ा झटका पहुंचा है इसलिए बाहर भी ज्यादा लोग मौजूद नहीं थे।

जो लोग कोरोना वायरस से पीड़ित हैं उनके लिए मुझे बहुत बुरा महसूस हो रहा है लेकिन अगली बार के लिए मैं आशा करती हूँ कि ऐसी स्थिति उत्पन्न ना हो क्योंकि मुझे क्राउड की एनर्जी काफी पसंद है।

ONE: जब डोम लाउ ने आपको नया ONE एटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन घोषित किया तो आपके दिमाग में क्या चल रहा था?

टॉड: आमतौर पर जब भी परिणाम विभाजित निर्णय से आता है तो विजेता अधिकतर डिफ़ेंडिंग चैंपियन ही होता है। मैं वहाँ खड़ी ये सोच रही थी कि, “प्लीज़ ब्लू कॉर्नर या न्यू चैंपियन की घोषणा हो।” उनके द्वारा “न्यू” शब्द सुनते ही मुझे खुद पर विश्वास नहीं हुआ और ये किसी सपने के पूरे होने जैसा था।

मैं जानती हूँ कि लोग ये सोच रहे होंगे कि यहाँ तक पहुंचने में मुझे एक साल लगा है लेकिन सच्चाई ये है कि यहाँ तक पहुंचने में मुझे 10 साल लगे हैं। पिछले 10 साल से मैं लगातार ट्रेनिंग कर रही हूँ और कई वर्ल्ड चैंपियनशिप टूर्नामेंट्स में फाइट कर चुकी हूँ लेकिन कभी चैंपियन नहीं बन पाई थी।

इसलिए अब आखिरकार चैंपियन बनना एक अलग ही एहसास है और इस टाइटल को पाने के लिए मैंने कड़ी मेहनत की है। समय के साथ मैं खुद में सुधार करती रही हूँ और वर्ल्ड चैंपियन बनने के लिए मुझे इसी कड़ी मेहनत और सुधार के सफर से गुजरना था।

Stamp Fairtex congratulates Janet Todd

ONE: आपको क्या लगता है कि ऐसी क्या चीज रही जिसने आपको जीतने में मदद की?

टॉड: मुझे लगता है कि फुटवर्क ने संभव ही मुझे जीतने में मदद की है। मैं जहाँ भी स्ट्राइक करना चाह रही थी मेरे शॉट सही निशाने पर लैंड कर रहे थे, साथ ही साथ मैं उनके मूव्स को भी विफल कर रही थी जिससे जाहिर तौर पर मुझे जीत की राह मिल चुकी थी। यही हमारा गेम प्लान था इसलिए मैच जीतने पर मुझे बहुत खुशी महसूस हो रही है।

ONE: जब आप चैंपियन बनकर कैलिफोर्निया वापस गईं तो लोगों की क्या प्रतिक्रिया रही?

टॉड: एयरपोर्ट पर मेरे पति ने मेरा फूलों से स्वागत किया और मेरे पिता ने पिछले करीब 1 साल में कोई पेंटिंग नहीं की है और जब मैं घर लौटी तो वो मेरे लिए स्केच तैयार करके लाए थे। उन्होंने मेरी तस्वीर बनाई और उन्होंने उस स्केच में मेरे सिक्स-पैक एब्स भी बनाए जिस पर “Congratulations” लिखा हुआ था।

परिवार और टीममेट्स के साथ जीत का जश्न मनाना एक सुखद एहसास रहा और बेल्ट को देख सब बेहद अच्छा महसूस कर रहे थे। ये केवल मेरी कड़ी मेहनत ही नहीं थी, इसमें दूसरों द्वारा मुझे दिया गया समय और त्याग भी सम्मिलित है जिससे मैं अपना बेस्ट प्रदर्शन कर पाई। ये बेल्ट मेरे सभी करीबियों को समर्पित है।

Janet Todd poses with her newly-won ONE Atomweight Kickboxing World Title

ONE: पहले आपने कहा कि अब आपके कंधों पर भार दोगुना हो गया है। अब आप एटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन हैं तो आगे के क्या प्लान हैं?

टॉड: जैसा कि मैंने पहले भी कहा, सोमवार को मैं जिम में लौटी तो स्टैम्प द्वारा लगाई गई किक्स पर मेरा फोकस रहा जिससे मुझे आने वाले मैच में ऐसी दिक्कत का सामना ना करना पड़े। किसी अन्य फाइट की ही तरह अभी भी ऐसी कई चीजें हैं जिनमें मुझे सुधार करना है।

चीजें पहले की ही तरह आगे चलती रहेंगी, वीडियो देखना, ये पता लगाना कि मुझे किस क्षेत्र में सुधार की जरूरत है।

मुझे पता है कि अब मुझे चैंपियन बने रहने के लिए पहले से भी कड़ी मेहनत करनी होगी। अब कोई भी मैच आसान तो बिल्कुल नहीं रहने वाला, मुझे दूसरों की तरह लगातार खुद में सुधार करते हुए आगे बढ़ते रहना होगा।

ये भी पढ़ें: ऋतु फोगाट ने दूसरे मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स मैच में मिली जीत के बारे में बात की