किकबॉक्सिंग

2 वॉरियर्स जिनसे सिटीचाई सिटसोंगपीनोंग को प्रेरणा मिलती है

“द किलर किड” सिटीचाई सिटसोंगपीनोंग ONE वर्ल्ड टाइटल मिशन के लिए शुक्रवार, 31 जुलाई से अपनी शुरुआत करेंगे।

उस शाम को उनका मुकाबला अपने पुरानी विरोधी व हमवतन एथलीट सुपरबोन से थाइलैंड के बैंकॉक में हो रहे ONE: NO SURRENDER के फेदरवेट किकबॉक्सिंग कॉन्टेस्ट में होगा।

सिटीचाई को अपने अत्यधिक अपेक्षित ट्रायलॉजी बाउट को जीतना काफी पसंद आएगा, जो उन्हें वर्ल्ड चैंपियनशिप के मौके के एक कदम और नजदीक ले जाएगी।

साथ ही अब बुरीराम के मूल निवासी The Home Of Martial Arts में हैं। ऐसे में उन्हें उन दो एथलीटों से भी मुकाबला करने का मौका मिलेगा, जिन्होंने उनको किकबॉक्सिंगमॉय थाई करियर के दौरान प्रभावित किया है।

जियोर्जियो “द डॉक्टर” पेट्रोसियन

ज्यादातर फैंस की तरह सिटीचाई के पास भी ONE फेदरवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड ग्रां प्री चैंपियन जियोर्जियो “द डॉक्टर” पेट्रोसियन के लिए बहुत सम्मान है।

थाई सुपरस्टार हमेशा ही पेट्रोसियन के अपने विरोधी को पछाड़ने के तरीके के कायल रहे हैं। इस सफलता से “द किलर किड” को ये भी पता चला कि इस स्पोर्ट में साउथ पॉ (बाएं हाथ के) कितने असरदार साबित हो सकते हैं।

सिटीचाई ने कहा, “जब भी किकबॉक्सिंग की बात आती है तो पेट्रोसियन सच में मेरे आदर्श हैं। मैंने जब किकबॉक्सिंग की शुरुआत की थी तो उन्हें देखकर ही की थी।”

“वो काफी अच्छे किकबॉक्सर हैं। वो बेहतरीन एथलीट हैं, जो अपने दिमाग का इस्तेमाल करते हैं। उनके दांव काफी तेज और सटीक हैं। वो भी मेरी तरह साउथपॉ फाइटर हैं। ऐसे में मैं उनकी ओर देखता हूं, उनके जैसा बनना चाहता हूं।”

सिटीचाई वो पल कभी नहीं भूलेंगे, जब उन्होंने पहली बार “द डॉक्टर” के साथ कार्ड शेयर किया था।

बुरीराम में जन्मे स्ट्राइकर अप्रैल 2013 में इटली के मिलान में बाउट के लिए गए थे। उस समय वो अपने किकबॉक्सिंग करियर के शुरुआती दिनों में ही थे और उन्हें लगा कि पेट्रोसियन जैसे आदर्श फाइटर की तरह वो भी बन सकते हैं।

सिटीचाई को याद है, “जब किकबॉक्सर के तौर पर मेरा नाम नहीं बना था, तब मैं उनके होम टाउन में लड़ा था। उस इवेंट में मैं दूसरा प्रीलिम था, जबकि वो मेन इवेंट था।”

“मैंने उन्हें फाइट करते हुए देखा और सोचा कि वाह! ये तो बहुत शानदार है। वो एक बेहतरीन किकबॉक्सर, चालाक और काफी तेज हैं।”

Giorgio Petrosyan punches Samy sAna with a jab

मिलान में उस रात बिना अनुभव वाले सिटीचाई अपनी बाउट एनिरको गोगोखिया से सर्वसम्मत निर्णय के जरिए हार गए थे, जबकि पेट्रोसियन ने सर्वसम्मत निर्णय के जरिए हाफिद एल बाउसटाटी को हरा दिया था।

“द किलर किड” को हमेशा उस मेन इवेंट का प्रदर्शन याद रहेगा। अर्मेनियन-इटेलियन एथलीट के दांव-पेच देखकर वो हैरान रह गए थे और उन्होंने उनके जैसा बनने की ठानी, ताकि वो अपने आदर्श की तरह बेहतर बन सकें।

अब वो अपनी स्किल्स को बढ़ाकर 11 बार के किकबॉक्सिंग व मॉय थाई चैंपियन बन गए हैं। वो देखना चाहते हैं कि “द डॉक्टर” के खिलाफ वो कैसा प्रदर्शन कर पाते हैं।

सिटीचाई ने कहा, “चार या पांच साल पहले मुझे लगता था कि हम अलग-अलग स्तर पर हैं। मैं जीरो पर था जबकि वो दस पर थे।”

“मुझे लगता था कि मैं कभी भी अपनी तुलना उनसे नहीं कर पाऊंगा। हालांकि, इन सालों के दौरान मैंने काफी अनुभव हासिल कर लिया है। मुझे लगता है कि हम अब एक ही लेवल पर हैं और अब मैं उनका मुकाबला करने और उनको हराने के लिए तैयार हूं।”



योडसंकलाई IWE फेयरटेक्स

एक अन्य विरोधी भी हैं, जिनकी “द किलर किड” प्रशंसा करते हैं और वो है “द बॉक्सिंग कंप्यूटर” योडसंकलाई IWE फेयरटेक्स

बल्कि सच तो ये है कि सिटीचाई उनको सबसे ज्यादा सम्मान देते हैं।

बुरीराम के मूल निवासी ने बताया, “योडसंकलाई हमेशा से ही मेरे नंबर वन फाइटर रहे हैं। वो एक जीते-जागते लैजेंड हैं।”

कई सारे लोग इस बात से सहमत होंगे, वो भी अच्छे कारण के चलते।

करीब-करीब पिछले तीन दशकों से योडसंकलाई लगातार किकबॉक्सिंग और माय थाई दोनों में मुकाबला करते आ रहे हैं और उन्हें इसमें शानदार सफलता हासिल हुई हैं।

Muay Thai and kickboxing star Yodsanklai IWE Fairtex displays his trademark left kick on Chris Ngimbi

इस थाई हीरो ने कई प्रतिष्ठित चैंपियनशिप पर कब्जा जमाया है। इसमें 2 Lumpinee Stadium मॉय थाई वर्ल्ड टाइटल्स, दो Lion Fight वर्ल्ड टाइटल्स, दो WMC वर्ल्ड टाइटल्स और एक WBC वर्ल्ड टाइटल शामिल हैं।

कई सारे एथलीट 20 व 30 साल की उम्र के बाद इस खेल को विदा कह देते हैं, जबकि “द बॉक्सिंग कंप्यूटर” अब भी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। इस समय वो 35 साल के हैं और गजब की फॉर्म में हैं। ये वो चीज है, जिसने सिटीचाई का ध्यान खींचा है।

28 साल के एथलीट ने कहा, “वो अब भी काफी बेहतरीन शेप में हैं और उनके दांव धमाकेदार हैं। वो अभी तक एक्टिव फाइटर बने रहे, ये सच में गजब की बात है। मैं भी उनकी उम्र में जाकर उनके जैसा ही बनना चाहता हूं। वो अब भी काफी ताकतवर और टॉप रैंक वाले एथलीट हैं।”

सिटीचाई इन दिग्गज को ONE: NO SURRENDER के दौरान एक्शन में देखेंगे, जब योडसंकलाई ONE फेदरवेट मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन पेटमोराकोट पेटयिंडी एकेडमी को डिविजन के गोल्ड के लिए चुनौती देंगे।

ये भी पढ़ें: इन 5 कारणों से आपको ONE: NO SURRENDER को मिस नहीं करना चाहिए