विशेष कहानियाँ

ONE फ्लाइवेट वर्ल्ड ग्रां प्री – अब तक की कहानी

सितम्बर 28, 2019

जापान के टोक्यो में 13 अक्टूबर को रयोगोकू कोकुगिकन में जब मार्शल आर्ट के सबसे बड़े इवेंट के तहत तीन ग्राउंडब्रेकिंग टूर्नामेंट आयोजित होंगे तो सभी की नजरें उस पर टिकी होंगी।

फिलीपींस के प्रशंसक ONE: CENTURY PART I पर होने वाले एक्शन से चिपके रहेंगे, जब टीम लाकी के युवा फिनोम डैनी किंगड़ “द किंग” ONE फ्लाइवेट वर्ल्ड ग्रां प्री फाइनल में ग्लोबल आइकन डेमेट्रियस जॉनसन “माइटी माउस” को हराकर दुनिया को चौंकाने का प्रयास करेंगे।

टूर्नामेंट की शुरुआत में अमेरिकी हीरो सबसे ज्यादा लोकप्रिय थे, लेकिन जिस तरह से ब्रैकेट ने अब तक अपना प्रदर्शन किया है, उसने साबित किया है कि मिक्स्ड मार्शल आर्ट में निश्चितता जैसी कोई चीज नहीं है और जापान के टोक्यो में अप्रत्याशित चीज दिखाई दे सकती है।

वर्ल्ड ग्रां प्री के फाइनल पहले जो एड्रियानो मोरएस “मिकिन्हो” और ONE फ्लाइवेट विश्व खिताब के लिए अगली चुनौती का निर्धारण करेगा।
आइए एक नजर डालते हैं कि किंगड और जॉनसन ने यहां तक पहुंचने के लिए अभी तक क्या किया है।

क्वार्टरफाइनल की शुरुआत

टूर्नामेंट की शुरुआत मार्च में ONE: A NEW ERA पर हुई थी। जिसमें कैरात अख्मेतोव “द कज़ाख” के शानदार प्रदर्शन करते हुए रीस मक्लारेन “लाइटनिंग” के खिलाफ सर्वसम्मत निर्णय से जीत हासिल की थी।

पूर्व ONE वर्ल्ड फ्लाइवेट चैंपियन ने अपने मुक्केबाजी कौशल का बेहतरीन मुजायरा दिखाते हुए अपने ऑस्ट्रेलियाई प्रतिद्वंद्वी को पहले ही राउंड में एक लूपिंग बाएं हुक के साथ पूरी तरह से हिला दिया। इसके बाद उन्होंने 15 मिनट तक अपने विरोधी पर लगातार हमले करते हुए बढ़त हासिल करना जारी रखा।

मक्लारेन इस बाउट से बाहर नहीं हुए थे और वह भी अपने विरोधी पर लगातार दबाव बना रहे थे और जीत की उम्मीद को बनाए हुए थे, लेकिन लेकिन टाइगर मॉय थाई प्रतिनिधि एक नए ही स्तर पर थे और उन्होंने सेमीफाइन में अपना स्थान पक्का कर लिया।

कुछ ही मिनटों बाद किंगड़ ने 2019 के सर्वश्रेष्ठ मुकाबलों में से एक में जापान के सेन्जो इकेडा के खिलाफ उतकृष्ट प्रदर्शन के साथ आक्रामक अंदाज में अपने बाउट जीतने का क्रम जारी रखा।

फाइट के शुरू होते ही दोनों फाइटरों ने हमले करने में देर नहीं लगाई। दोनों ने फाइट में अपने-अपने कौशल का बेहतरीन मुजायरा पेश किया।पैंक्रेसे वर्ल्ड चैंपियन ने कई हार्ड पंचों के साथ क्लीन लैंड किया, लेकिन “द किंग” ने अपने अंकतालिका को सुधारने के लिए एक अलग ही अंदाज में अपने अप्रत्याशित कौशल दिखाया।

इकेडा को घरेलू दर्शकों का भी साथ मिला था और उन्होंने हार से महज एक सैकंड पहले ही रियर-नैक चोक करने का प्रयास किया था, लेकिन 15 मिनट की नाटकीय फाइट में फिलिपिनो के प्रमुख हमले न्यायाधीशों का निर्णय हासिल करने के लिए पर्याप्त नहीं थे।

अप्रत्याशित परिस्तिथियां

ब्रैकेट के दूसरी ओर जॉनसन ने यूया वाकामत्सु “लिटिल पिरान्हा” के खिलाफ अपने अभियान की शुरुआत की और जिसमें ज्यादा से ज्यादा प्रशंसकों के शामिल होने की संभावना थी।

जापान के 24 वर्षीय फाइटर ने पहले राउंड में शानदार रक्षात्मक प्रदर्शन किया और राउंड खत्म होने तक “माइटी माउस” को कुछ चोट पहुंचाने के लिए कई हमले भी किए।

दूसरा राउंड शुरु होने के बाद पाउंड-फॉर-पाउंड के दिग्गज का बेहतरीन कौशल सामने आ गया और उन्होंने बाउट को ग्राउंड पर लाने के लिए अपने विरोधी को मजबूर कर दिया। पेंक्रेसे फ्लाइवेट टूर्नामेंट चैंपियन को सब्मिशन करने और अपपी ONE चैम्पियनशिप डेब्यू बाउट को जीतने के लिए गिलोटिन चोक हासिल कर लिया।

तात्सुमित्सु वड़ा “द स्वीपर” के मूल प्रतिद्वंद्वी ब्राजील के इवानोइड डेल्फिनो को चोट लगने के कारण आखिरी क्वार्टरफाइनल में कुछ हफ्तों की देरी भी हो गई थी।

गुस्तावो बलार्ट “एल ग्लेडिएटर” ने ONE: ROOTS OF HONOR पर कदम रखा और उन्होंने कम समय के नोटिस के बाद भी वडा को चित करते हुए एक आश्चर्यजनक परिणाम हासिल किया।

इस बाउट में उन्होंने अपनी ग्रीको-रोमन ओलंपिक कुश्ती भी दिखाई, लेकिन DEEP फ्लाईवेट चैंपियन ने आखिरकार अपनी ऊंचाई का इस्तेमाल किया और क्यूबा की आक्रामकता को दूर करने के लिए कुछ बढ़त हासिल की। इसने उन्हें “डीजे” के साथ अगली बाउट तय करने के लिए एक सर्वसम्मत निर्णय की जीत दिलाई।

रेजर-क्लोज कॉल

 

ONE ने जब फिलीपिंस के मनीला में ONE: DAWN OF HEROES के साथ वापसी की तो यह बाउट विश्व ग्रां प्री सेमीफ़ाइनल के लिए सर्कल से रिंग में पहुंच गई।

एक्शन के शुरू होने से पहले अख्मेतोव को हाथ की चोट के कारण नाम वापस लेने के लिए मजबूर किया गया था, लेकिन मक्लारेन को किंगड के खिलाफ मैदान में उतरने को लेकर कोई झिझक नहीं थी। इस दौरान ऑस्ट्रेलियाई ने अपने प्रतिद्वंद्वी की घरेलू भीड़ को अचंभित कर दिया।

फिलिपिनो बाउट के पहले ही मिनट में ब्राजीलियाई जिउ-जित्सू ब्लैक बेल्ट के खिलाफ परेशानी में आ गए। ऐसे में उन्हें लगातार रियर नैक चोक करने वाले प्रयासों को रोकना पड़ा। बाउट के फिर से शुरू होने के बाद उन्होंने जीत हासिल करने के लिए हमले करना शुरू कर दिया, लेकिन “लाइटनिंग” ने उन्हें नीचे गिरा दिया और मांसपेसियों पर फ्लक्सिंग गैपलिंग के जरिए उन्हें करारा जवाब दिया।

किंगड को अंतिम राउंड में अपने कौशल के सभी दाव-पेच दिखाने पड़े। इसके चलते ही उन्होंने आखिरकार सबसे मजबूत हमले किए। ग्राउंड और पाउंड की उनकी धार ने एक रेजर-क्लोज कॉल के जरिए विभाजन निर्णय से जीत हासिल की।

इसने एक और मैच छोड़ दिया और अपने क्वार्टरफाइनल की तरह ही जॉनसन एक कुशल जापानी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ मुश्किल में दिखो। वड़ा एक दौर में 33 साल के हो गए। उन्होंने अपनी पीठ थपथपाई और एक तरह से अमेरिकी को नियंत्रित किया जो कई प्रशंसकों ने पहले कभी नहीं देखा था।

इसका मतलब था कि यदि “माइटी माउस” को फाइनल में पहुंचना है तो उन्हें मनीला में प्रशंसकों को एक और नाटकीय वापसी का इलाज करना होगा। उन्होंने अपने दृष्टिकोण को एक गंभीर-भारी हमले पर स्विच किया। जिससे की उन्हें मैट पर “द स्वीपर” पेपर पर बेहतर स्थिति मिले।

यह एक और करीबी बाउट थी, लेकिन सभी तीन जजों ने किंग्स के साथ अपनी वर्ल्ड ग्रां प्री चैंपियनशिप फाइनल सेट करने के लिए जॉनसन को विजयी घोषित किया। इसके साथ ही उन्होंने जापान के टोक्यो में होने वाले इतिहास के सबसे बड़े इवेंट के लिए अपना स्थान पक्का कर लिया।

Read more: ONE फ्लाईवेट वर्ल्ड ग्रांड प्रिक्स से हमने अभी तक सीखे 5 सबक

टोक्यो | 13 अक्टूबर | ONE: CENTURY | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय लिस्टिंग की जाँच करें | टिकट: https://onechampionship.zaiko.io/e/onecentury

ONE: CENTURY इतिहास की सबसे बड़ी विश्व चैम्पियनशिप मार्शल आर्ट प्रतियोगिता है जिसमें 28 विश्व चैंपियनशिप विभिन्न मार्शल आर्ट शैलियों का प्रदर्शन करेंगे। इतिहास में किसी भी संगठन ने कभी भी एक ही दिन में दो पूर्ण पैमाने पर विश्व चैम्पियनशिप इवेंट आयोजित नहीं किए हैं।

13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में प्रसिद्ध रोयोगोकू कोकूगिकन में कई वर्ल्ड टाइटल मुकाबलों, वर्ल्ड ग्रां प्रिक्स चैंपियनशिप फाइनल की एक तिकड़ी और कई वर्ल्ड चैंपियन बनाम वर्ल्ड चैंपियन मैच लाने के साथ The Home Of Martial Arts नई जमीन पर दस्तक देगा।