मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

Throwback Thursday: एक नौकरी जिससे पीटर बस्ट के जीवन को एक नई राह मिली

करीब एक दशक पहले ONE Championship लाइटवेट कंटेंडर पीटर “द आर्केंजल” बस्ट के पास कोई घर नहीं था और साथ ही कर्ज में भी डूबे हुए थे।

संघर्ष कर रहे पीटर को अपने जीवन का वो हिस्सा बिल्कुल भी पसंद नहीं था और उन्होंने अपनी जिंदगी को एक नया रूप देने की कसम खाई थी। यहाँ तक कि उन्होंने एक प्लान भी तैयार किया, जिसमें वो छोटे-छोटे प्लान बनाकर बड़े लक्ष्य तक पहुंचना चाहते थे।

डच स्टार का एक लक्ष्य नौकरी पाने का था, जिससे उनके रहने का खर्च निकल पाता और मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग पर ध्यान देने का समय भी।

आखिरकार, उन्हें ऐसी नौकरी मिली जिससे वो अच्छे पैसे भी कमा पा रहे थे और अपने सपने की ओर बढ़ने के लिए समय भी मिल पा रहा था।

View this post on Instagram

Never forget what you are worth…… You're priceless your a champion !!! • ???????? • This picture is from 8 years back I was 22 years old just finished my education & I just got my apartment so I was no longer homeless & because of the economic crisis in that time it was hard to find a job, but after some struggle i found a job as Garbage men at @gemeente_breda(thq for everything @gemeente_breda ), it was perfect for me to combine it with my passion and my main focus mma!! I worked 8 hours a day and picked up more than 20000kg a day and next to that I managed to train 2 times a day just to achieve my goals!! I did this for more than 8 years and sins last year I'm a full-time pro mma fighter climbing to the top of the ONE CHAMPIONSHIP lightweight mma ranks to claim that gold !! • ???????? • @onechampionship @yodchatri @victorcui #WeAreONE #family #MartialArts ⠀ ___________________________________________________⠀ #ONEChampionship #WorldChampion #Champion #WarriorSpirit #Knockout #KO #Submission #MuayThai #ThaiBoxing #Kickboxing #Wrestling #Boxing #BJJ #BrazilianJiuJitsu #jesussaves #Grappling #Karate #MMA #MixedMartialArts #Fight #Fitness #Training #Sports #Entertainment #BeastMode #Asia

A post shared by Pieter "The Archangel" Buist (@pieterbuist) on

बस्ट ने स्थानीय नगरपालिका के लिए कूड़ा उठाने का काम किया और इसी की मदद से वो अपनी सफलता की राह पर भी धीरे-धीरे आगे बढ़ने लगे।

नीदरलैंड्स के इस एथलीट ने कहा, “पहले मैं कूड़ा उठाने का काम करता था, मेरे पास घर नहीं था। कभी पार्क में सो जाता था तो कभी किसी के सोफ़े पर।”

“मैंने खुद की जिंदगी पर गौर किया और बड़ा फैसला करने के साथ भगवान से भी एक वादा किया। मैंने ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने का प्लान तैयार किया और उसके बाद नौकरी ढूंढी, इसके साथ-साथ मैं अपनी ट्रेनिंग पर भी ध्यान दे सकता था और मैंने ऐसा ही किया।”

डच स्टार को नगरपालिका में रोजगार का अवसर मिला और उन्हें इस कठिन काम में काफी तेजी देखी।

उन्होंने बताया, “उस काम में शारीरिक मेहनत ज्यादा लगती थी और वो काफी कठिन काम था। मैं जब भी काम पर जाता तो मुझे रोज करीब 35 किलोमीटर चलना पड़ता और करीब 20,000 किलोग्राम कूड़ा उठाना पड़ता था। इसलिए मैं इसे ऐसे काम के रूप में देख रहा था जिससे मुझे शारीरिक मजबूती मिल रही थी और कंडिशनिंग की ट्रेनिंग भी हो रही थी।

“साथ ही वो मेरी मेहनत की कमाई थी। मैं ऐसी जगह पला-बढ़ा जहाँ अधिकतर लोग ड्रग डीलर्स हुआ करते थे लेकिन मैं इस दिशा में आगे नहीं बढ़ना चाहता था। उनके रहन-सहन के तरीके को देख सोचता था कि मुझे ऐसी जिंदगी नहीं चाहिए, इसलिए मैं अपनी मेहनत की कमाई से सब कुछ करना चाहता था और इसी चीज ने मुझे एक अच्छा इंसान बनाया।”



बस्ट ने अपने बॉस के सामने ये चीज पहले ही साफ कर दी थी कि उनका असल लक्ष्य एक मार्शल आर्टिस्ट बनने का है और ये बड़े ही सौभाग्य की बात रही कि उनके सभी सहयोगियों ने उनका साथ दिया और आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित भी किया।

हालांकि, नौकरी के साथ ट्रेनिंग कर पाना काफी मुश्किल काम था। “द आर्केंजल” ने एक रास्ता ढूंढ निकाला जिससे वो काम भी कर सकते थे और जिम में ट्रेनिंग भी कर सकते थे।

उन्होंने कहा, “मैं एक हफ्ते में 5 दिन काम करता और दिन में 2 बार ट्रेनिंग करता था। मैं उठता, काम के लिए जाता और फिर लंच ब्रेक के दौरान जिम में जाकर एक घंटे की ट्रेनिंग करता। ट्रक मुझे जिम से ही पिक कर लेता था और दोबारा काम पर निकल पड़ता, उसके बाद शाम को ट्रेनिंग करता।”

इतनी प्रतिबद्धता से उनकी मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स रैंक्स बढ़ी, कर्जे से बाहर आए और रहने के लिए एक कमरा भी किराए पर ले लिया था। अब उनके पास रहने के लिए छत थी और ये उनके बड़े प्लांस में से ही एक रहा।

32 वर्षीय एथलीट ने बताया, “मैंने 2 साल के लिए काम किया, सभी से ली हुई उधारी को चुकाया और फिर एक कमरा किराए पर लिया इसलिए सफलता की ओर मेरे द्वारा उठाया गया पहला कदम सही साबित हुआ।”

“ट्रेनिंग मेरी पहली प्राथमिकता थी और मेरे बॉस भी ये जानते थे। उन्हें भी मेरी मेहनत का फल नजर आने लगा था क्योंकि मैंने लगभग अपनी सभी फाइट्स में जीत दर्ज की थी। जब मैं यूरोपियन चैंपियन बना तो उन्हें भी एहसास होने लगा था कि मैं वाकई इस खेल में सफलता प्राप्त कर सकता हूँ।”

“द आर्केंजल” ने वेल्टरवेट डिविजन के साथ-साथ लाइटवेट डिविजन में भी यूरोपीयन चैंपियनशिप जीती और उसके बाद उन्होंने WFL लाइटवेट टूर्नामेंट वर्ल्ड चैंपियनशिप भी अपने नाम की।

साल 2019 में उन्हें कई अन्य कंपनियों से ऑफर आने लगे थे लेकिन आखिरकार उन्होंने ONE के साथ जुड़ने का फैसला लिया।

ONE के साथ डील साइन कर उन्हें एक फुल-टाइम एथलीट बनने का गौरव प्राप्त हुआ और अब वो फिलीपींस के लैजेंड एथलीट एडुअर्ड “लैंडस्लाइड” फोलायंग पर जीत हासिल कर ONE लाइटवेट वर्ल्ड चैंपियन बनने की ओर मजबूती से कदम आगे बढ़ा रहे हैं।

डच एथलीट एक लंबा सफर तय कर यहाँ तक पहुँचे हैं लेकिन करीब 8 साल पहले कूड़ा उठाने की नौकरी के साथ ही उनकी सफलता की शुरुआत हो चुकी थी।

उन्होंने कहा, “उस नौकरी ने ही मेरे जीवन को एक नई राह दिखाई थी। मैंने ONE के ऑफर को इसलिए स्वीकार किया क्योंकि मुझे इस कंपनी पर पूरा भरोसा है। ये दुनिया का सबसे बड़ा मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स ब्रैंड है और अब मैं वर्ल्ड टाइटल के लिए टॉप कंटेंडर भी बन चुका हूँ।”

ये भी पढ़ें: लैजेंड को हराने के बाद पीटर बस्ट ने वर्ल्ड चैंपियन को दी चुनौती