मॉय थाई

सुपरलैक, नोंग-ओ और पेटमोराकोट ने सैम-ए के बारे में दिलचस्प बातें बताईं

2-स्पोर्ट ONE वर्ल्ड चैंपियन सैम-ए गैयानघादाओ को 9 अक्टूबर के दिन एक बार खुद को स्ट्रॉवेट डिविजन के सबसे बेहतर चैंपियन के रूप में साबित करने का मौका होगा।

ONE: REIGN OF DYNASTIES के मेन इवेंट में लैजेंड एथलीट को ऑस्ट्रेलियाई सुपरस्टार जोश “टाइमबॉम्ब” टोना के खिलाफ ONE स्ट्रॉवेट मॉय थाई वर्ल्ड टाइटल को डिफेंड करना है।

इससे पहले सैम-ए अपने वर्ल्ड टाइटल को डिफेंड करने रिंग में उतरें, यहां आप उनके बारे में साथी ONE एथलीट्स द्वारा कही गई बातों को जान सकते हैं।

सुपरलैक कियातमू9

Muay Thai fighter Superlek prays in the ring following his victory

वैसे तो “द किकिंग मशीन” सुपरलैक कियातमू9, सैम-ए के असल जिंदगी में भी संबंधी हैं, लेकिन रिश्तेदारी से पहले वो खुद को सैम-ए का बड़ा फैन मानते हैं।

24 वर्षीय स्टार ने कहा, “छोटी सी उम्र से ही मैं उनके मैच देखता आ रहा हूं। वो थाईलैंड में सबसे बेहतरीन मॉय थाई फाइटर्स में से एक हुआ करते थे और वो कई युवा एथलीट्स के लिए बड़ी प्रेरणा का स्त्रोत हुआ करते थे, जिनमें से मैं भी एक हूं।”

“उनकी तकनीक शानदार है, खासतौर पर उनकी लेफ्ट किक्स और पंच। उनकी ये बातें मुझे आज भी याद हैं।”

सुपरलैक आज भी सैम-ए की स्किल्स के कायल हैं और 36 वर्षीय स्टार का बहुत सम्मान करते हैं।

Kiatmoo9 टीम के मेंबर ने ये भी देखा है कि किस तरह सैम-ए ने उनके परिवार को सपोर्ट किया है। इसके अलावा थाई लैजेंड भी युवा स्टार को नई-नई तकनीक सिखाने पर जोर दे रहे हैं।

सुपरलैक ने कहा, “सैम-ए का धैर्य कमाल का है। वो अपने परिवार का बहुत ख्याल रखते हैं और मॉय थाई की वजह से ही अपने परिवार को गरीबी से बाहर ला सके हैं। वो रिंग में ही नहीं बल्कि अपने परिवार के लिए भी बहुत बड़े सुपरस्टार रहे हैं।”

“वो मॉय थाई में मेरी भी बहुत मदद करते हैं। स्किल्स में सुधार के लिए नई सलाह देते हैं। जब भी हमारी मुलाकात होती है तो हम मॉय थाई के बारे में ही बात करते हैं।

“हमने बुरीराम प्रांत में अपने घर में एक मॉय थाई कैंप भी शुरू किया है। वो अभी सिंगापुर में हैं इसलिए कैम्प की देखभाल फिलहाल मैं कर रहा हूं। मैं उनके नक्शेकदम पर चलना चाहता हूं और उनकी तरह बेस्ट मॉय थाई एथलीट्स में से एक बनना चाहता हूं।”

सुपरलैक फिलहाल टॉप रैंक के मॉय थाई फ्लाइवेट कंटेंडर हैं और जल्द ही उन्हें चैंपियनशिप मैच भी मिल सकता है।

लेकिन उससे पहले वो इस शुक्रवार टीवी पर सैम-ए के मैच को बिल्कुल मिस नहीं करना चाहेंगे। सुपरलैक का मानना है कि सैम-ए अपने स्ट्रॉवेट वर्ल्ड टाइटल को सफलतापूर्वक डिफेंड करने वाले हैं।

सुपरलैक ने कहा, “सैम-ए की उम्र चाहे 36 साल हो गई हो, लेकिन COVID-19 के समय में भी उन्होंने ट्रेनिंग करना जारी रखा और खुद को फिट रखा है। मेरा मानना है कि रिंग में अनुभव ज्यादा फायदेमंद साबित होता है और अगले मैच में वो इसी अनुभव की मदद से चैंपियनशिप बेल्ट को डिफेंड करने वाले हैं।”



नोंग-ओ गैयानघादाओ

Nong-O Gaiyanghadao defends his ONE Bantamweight Muay Thai World TItle against Saemapetch Fairtex at ONE EDGE OF GREATNESS

सैम-ए और ONE बेंटमवेट मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन नोंग-ओ गैयानघादाओ अब साथ में ट्रेनिंग करते हैं, लेकिन उनके संबंध पिछले कई सालों से बहुत अच्छे ही रहे हैं।

करीब 10 साल पहले एक तरफ सैम-ए 122-पाउंड और नोंग-ओ 130-पाउंड डिविजन के टॉप पर हुआ करते थे।

सितंबर 2010 में एक कैच वेट कॉन्टेस्ट में Lumpinee Stadium में उनका आमना-सामना भी हुआ।

नोंग-ओ ने कहा, “मुझे याद है कि जब रिंग में एक-दूसरे के प्रतिद्वंदी बने हुए थे और अलग-अलग कैंप्स में ट्रेनिंग करते थे।”

“हम टॉप लेवल के मॉय थाई फाइटर्स थे। हमें हरा पाना आसान नहीं था इसलिए हमें प्रतिद्वंदी मिलने भी बहुत कठिन होते थे। इसलिए Lumpinee Stadium में हमारा आमना-सामना भी हुआ।

“असल में हमारा भार वर्ग अलग था, इसलिए कैचवेट के लिए उन्हें अपना वजन घटाना पड़ा और मुझे बढ़ाना, जिससे दोनों के बीच कड़ी टक्कर हो सके। वो फैंस के लिए एक धमाकेदार मैच रहा।”

नोंग-ओ उस मैच में विजयी साबित हुए, उसके कुछ साल बाद Petchyindee Academy में दोनों की एक बार फिर एक-दूसरे से मुलाकात हुई।

हालांकि, Evolve में आने से पहले वो पक्के दोस्त नहीं हुआ करते थे।

नोंग-ओ ने कहा, “2014 और 2015 में हम एक ही कैंप में ट्रेनिंग कर रहे थे, फिर भी हमारे बीच दोस्ती उतनी गहरी नहीं हो पाई थी जितनी आज है।”

“उसके बाद Evolve में जाकर हमने ट्रेनिंग देने का काम शुरू किया। मैं 2016 और वो 2017 में यहां आए। हमने अपने-अपने जॉब रोल के बारे में बात की और यहीं से हम दोनों के बीच भाई-भाई का रिश्ता जन्म ले चुका था।”

नोंग-ओ भी सैम-ए की स्किल्स और उनके ज्ञान की बहुत सराहना करते हैं, इन्हीं 2 चीजों पर मौजूदा चैंपियन इस शुक्रवार निर्भर रहने वाले हैं।

बेंटमवेट चैंपियन ने कहा, “सैम-ए एक बहुत अच्छे एथलीट हैं। अनुशासन की कोई कमी नहीं है और परिपक्व भी हैं। वो जानते हैं कि उन्हें कब क्या करना है। यही चीजें उन्हें एक महान एथलीट साबित करती हैं।”

“मैंने पेचडम और जोश टोना का पिछला मैच देखा है, इसलिए मुझे लगता है कि सैम-ए को इस मैच में नॉकआउट से भी जीत मिल सकती है।”

पेटमोराकोट पेटयिंडी एकेडमी

Muay Thai superstar Petchmorakot Petchyindee Academy battles Magnus Andersson in a ONE Super Series World Title fight

ONE वर्ल्ड चैंपियन बनने से पहले भी पेटमोराकोट पेटयिंडी एकेडमी मौजूदा स्ट्रॉवेट चैंपियन के बहुत बड़े फैन हुआ करते थे।

बचपन से ही पेटमोराकोट सैम-ए को फॉलो करते आ रहे हैं।

पेटमोराकोट ने कहा, “मैं उन्हें मॉय थाई एथलीट बनने से पहले से ही जानता हूं।”

“वो बहुत लोकप्रिय और बेस्ट एथलीट्स में से एक थे और मॉय थाई से जुड़ा लगभग हर एक व्यक्ति उन्हें जानता था। उन्हें अपनी लेफ्ट किक्स के लिए जाना जाता था।”

कड़ी मेहनत करते हुए पेटमोराकोट भी मॉय थाई फाइटर बने और 2012 में Petcyindee Academy को जॉइन किया।

जिम का हिस्सा बनते ही उन्हें नोंग-ओ और सैम-ए के साथ ट्रेनिंग करने का अवसर मिला। जो युवा और प्रतिभाशाली एथलीट से काफी प्रभावित हुए और पेटमोराकोट को गुरु के रूप में नई-नई तकनीक और मूव्स सिखाने लगे।

पेटमोराकोट ने दोनों अनुभवी एथलीट्स से बहुत कुछ सीखा लेकिन इस बीच सैम-ए के साथ उनके संबंध गहरे होते जा रहे थे।

26 वर्षीय फेदरवेट चैंपियन ने कहा, “मैं उन्हें बड़े भाई सा सम्मान देता हूं।”

“वो मॉय थाई इतिहास के सबसे सफल एथलीट्स में होने के नाते हम सभी के लिए लिए बड़ी प्रेरणा का स्त्रोत रहे हैं।

“मैंने उनसे बहुत चीजें सीखी हैं। उनका व्यवहार बहुत अच्छा है, सभ्य हैं और सभी से अच्छे से बात करते हैं। इसलिए वो केवल एक एथलीट के तौर पर ही नहीं बल्कि मार्शल आर्ट्स से बाहर की दुनिया में भी मेरे आदर्श हैं।”

सैम-ए की उम्र अब बढ़ती जा रही है और उनकी स्किल्स भी उम्र के साथ और भी बेहतर होती गई है और पेटमोराकोट ने भी इस बात पर गौर किया है। अब चाहे सैम-ए सिंगापुर में Evolve में ट्रेनिंग करते हैं और दूसरों को भी सिखाते हैं, फिर भी पेटमोराकोट के संबंध उनके साथ अच्छे ही बने रहे हैं।

पेटमोराकोट ने कहा, “ONE Championship में आने के बाद उन्होंने अपनी तकनीक में बहुत सुधार किया है और उनके मूव्स पहले से भी अधिक प्रभावशाली हो गए हैं।”

वो आक्रामक हैं लेकिन उनके व्यवहार में धैर्य और चपलता भी है। इसलिए मुझे लगता है की वो जोश टोना को हराकर Petchyindee का सिर गर्व से ऊंचा करेंगे।”

ये भी पढ़ें: कैसे मॉय थाई से गरीबी को हराकर महान एथलीट बने सैम-ए