मॉय थाई

अपने होमटाउन के भटके हुए युवाओं को सही रास्ता दिखाना चाहते हैं जोनाथन हैगर्टी

Jan 5, 2020

जोनाथन “द जनरल” हैगर्टी ने अपने होमटाउन में होते बदलावों को देखा है। वो अपनी कम्युनिटी को दिखाना चाहते हैं किस तरह के सपोर्ट से वो मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में कामयाब हो पाए हैं।

22 वर्षीय पूर्व ONE फ्लाइवेट मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन ONE: A NEW TOMORROW में होने वाले रीमैच में रोडटंग “द आयरन मैन” जित्मुआंगनोन के खिलाफ मुकाबला करेंगे।

जोनाथन हैगर्टी का जन्म साउथ लंदन में हुआ था। ये लंदन के बाकी इलाकों की तरह इतना फेमस तो नहीं है, लेकिन इस जगह ने हैगर्टी को एक खुशनुमा बचपन जरूर दिया।

उन्होंने कहा, “वो एक वर्किंग क्लास जगह थी, जिसमें कई सारे कल्चर के लोग रहते थे। मैं वहां ज्यादातर लोगों को जानता था।”

“हमने भी बाकी बच्चों की तरह ही समय बिताया। कभी-कभी थोड़ी शरारत भी करते थे, लेकिन ज्यादातर समय फुटबॉल खेलकर निकालते थे।”

हैगर्टी और उनके दोस्त एक दूसरे के काफी करीबी थी और वो मुसीबतों से दूर रहने के लिए आपस में मदद करते थे।

हालांकि, बड़े होने के साथ-साथ उन्होंने पाया कि इलाके में हिंसा बढ़ने लग रही है और कई सारे युवा उसकी चपेट में भी आ गए हैं।

उन्होंने बताया, “पहले जब मैं छोटा था कि आप कभी भी गलियों में खेल सकते थे और अपनी मनमर्जी से कुछ भी कर सकते थे लेकिन आज हालात खतरनाक हैं।

“मुझे लगता है कि बच्चे मौजूदा ट्रेंंड को फॉलो कर रहे हैं। इन चीज़ों में सोशल मीडिया का बहुत ही ज्यादा प्रभाव होता है। लोग असल जिंदगी में जो नहीं हैं, वो बनने की कोशिश करते हैं और उनको फॉलो करते हैं, जिनको बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।”



हैगर्टी उन युवा लोगों को सही रास्ता दिखाना चाहते हैं, जो कि भटक चुके हैं ताकि उन्हें बताया जा सके कि जिंदगी को जीने के कई सारे अच्छे तरीके भी हैं।

जोनाथन खुद इस रास्ते से पहले गुजर चुके हैं और वो खुद इस बात की बानगी हैं कि अगर सही दिशा में मेहनत की जाए तो काफी कुछ हासिल किया जा सकता है।

“द जनरल” ने कहा, “मैंने खुद इन चीज़ों को महसूस किया है। मैं बाकी युवाओं की भावना समझ सकता हूं कि मैं भी उनमें से एक हुआ करता था।”

“वो मुझे देख सकते है और उन्हें बता सकता हूं कि मैंने किन चीज़ों की वजह से अपनी जिंदगी में सफलता हासिल की है। उन्हें मेरी कहानी पता चले या फिर मैं उन्हें अपनी कहानी बताऊं, ये काफी महत्वपूर्ण चीज़ है।”

22 साल के इस एथलीट की जिंदगी ने नया मोड़ लिया था, जब उन्होंने अपने पिता के नक्शे-कदम पर चलकर मार्शल आर्ट्स शुरु किया। उनका मानना है कि मार्शल आर्ट्स की वजह से युवा सही रास्ते पर चल सकते हैं।

इसके अलावा एक जिम भी लोगों को सही दिशा में लाने का काम कर सकता है। ये एक ऐसी जगह है, जहां सभी लोग बेहतर बनने की दिशा में लगातार कोशिश करते रहते हैं।

मार्शल आर्ट्स में कामयाबी मिलना कोई आसान बात नहीं है, इसके लिए बहुत ही कड़ी मेहनत और त्याग की जरूरत होती है। ब्रिटिश एथलीट उन लोगों को अपना समय देने के लिए भी तैयार हैं, ताकि वो सही रास्ते पर आगे बढ़ सकें।

हैगर्टी ने कहा, “जानता हूं कि कभी-कभी वो लोग उस काम को नहीं करना चाहते, लेकिन हमें उन्हें पुश करने की जरूरत है। उन्हें प्यार और समय देने की जरूरत है ताकि वे खुद को सहज महसूस कर पाएं।

“आपको मेरी तरह जिम जाने की जरूरत है। लोगों को फॉलो करने से अच्छा है खुद के लिए कोई गोल बनाना। ऐसा करते हुए कुछ अच्छे रोल मॉडल भी चुनना बेहद जरूरी है।”

कम्युनिटी (समुदाय) को साथ लाना उनके जिम में मुख्य मकसद है। वो अपने जिम में युवाओं को ट्रेनिंग देते और उन्हें मार्शल आर्ट्स से रूबरू करवाते हुए दिख सकते हैं।

भले ही गलियों में कुछ भी हो रहा हो, अगर बच्चे अंदर ट्रेनिंग करते रहेंगे तो उनकी जिंदगी में सकारात्मक बदलाव आएगा।

उन्होंने बताया, “आओ और लगन के साथ जुट जाओ। हम आपको सही रास्ता दिखाएंगे।”

“अगर कोई लगन के साथ मार्शल आर्ट्स में समय बिताता है, तो उसकी जिंदगी बदल सकती है।”

ये भी पढ़ें: हान ज़ी हाओ को 2020 की शुरुआत धमाकेदार होने की पूरी उम्मीद

ONE Championship के साल 2020 के पहले लाइव इवेंट ONE: A NEW TOMORROW के लिए हो जाइए तैयार!

बैंकॉक | 10 जनवरी | टिकेट्सClick here  |  TV: भारत में दोपहर 3:30 बजे से देखें