Mixed Martial Arts

ONE के 9 एथलीट जिनके माता-पिता मार्शल आर्टिस्ट थे

ONE Championship के कई विश्व स्तरीय मार्शल कलाकार महानता की खोज में अपना जीवन समर्पित करते हैं। यह एक जबरदस्त उपक्रम है जो बेहतरीन एथलीटों के संकल्प को परखता है। इसके लिए परिवार से गहरा सहयोग होना एक अमूल्य संपत्ति है।

हालांकि केवल कुछ चुनिंदा लोग ही भाग्यशाली होते हैं, जिनके माता-पिता मार्शल आर्ट के प्रैक्टिशनर होते हैं। जो उन्हें मार्गदर्शन, प्रभाव और विकास करने में सक्षम होते हैं।

यहां ONE में नौ प्रसिद्ध एथलीट हैं जिन्हें माता-पिता के सहयोग मिला है जो मार्शल कलाकार थे।

#1 स्टैम्प फेयरटेक्स

दो-खेल ONE विश्व चैंपियन स्टैम्प फेयरटेक्स की मार्शल आर्ट में यात्रा थाईलैंड के रेयॉंग में एक बड़े मॉय थाई परिवार में बचपन से ही शुरू हुई। युवावस्था में उन्हें अपने भाई और अन्य बच्चों को परिवार के छोटे से जिम में प्रशिक्षण करते हुए देखने के बाद थाईलैंड के राष्ट्रीय खेल में जाने की प्रेरणा मिली।

स्टैम्प ने अपने पिता और चाचा के मार्गदर्शन में मॉय थाई सीखा। उनके विश्वास ने उन्हें आत्मविश्वास दिया जिसकी उन्हें आवश्यकता थी। उन्होंने अक्टूबर 2018 में ONE एटमवेट किकबॉक्सिंग विश्व खिताब का दावा किया और फिर फरवरी में उद्घाटन ONE एटमवेट मॉय थाई विश्व चैम्पियनशिप पर कब्जा जमाया।

21 वर्षीय रेयॉन्ग मूल निवासी जो पटाया के पौराणिक फेयरटेक्स ट्रेनिंग सेंटर में प्रशिक्षण ले रही है। इस बार मिक्स्ड मार्शल आर्ट में तीसरे विश्व खिताब का लक्ष्य तय किया है।

#2 एम्बर किचन “एके 47”

एम्बर किचन “एके 47” की किस्मत में एक लड़ाकू खेल एथलीट होना लिखा था। उनकी मां जूली किचन को व्यापक रूप से यूके के सबसे सम्मानित खेल के खिलाड़ी के रूप में पहचाना जाता है। वो मॉय थाई की निर्विवादित रानी हैं। ​​जूली “आर्ट ऑफ एट लिम्ब” में 14 बार की विश्व चैंपियन हैं और एक इंटरनेशनल किकबॉक्सिंग फेडरेशन चैंपियन भी हैं।

उनके पिता नाथन किचन टचग्लोव्स जिम के संस्थापक हैं और उन्होंने जूली को प्रशिक्षित किया है। अपने माता-पिता के प्रभाव में मॉय थाई एम्बर के प्रारंभिक वर्षों का एक बड़ा हिस्सा बन गई। वह एक जूनियर के रूप में अपराजित थीं और अंतरराष्ट्रीय मॉय थाई टूर्नामेंट में इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व करती थीं।

“एके 47” ने IFMAs में दो स्वर्ण पदक और एक रजत पदक अर्जित किया। उसने इस वर्ष के प्रारंभ में ONE के साथ हस्ताक्षर किए। एम्बर अपने माता-पिता के साथ कॉर्नवॉल, इंग्लैंड में प्रशिक्षण जारी रखती हैं। वह वैश्विक स्तर पर अपने परिवार की मार्शल आर्ट विरासत काे आगे बढ़ा रही हैं।

#3 रिका इशिगे “टाइनी डॉल”

अपने फैंस को खुश करने और मिलनसार व्यक्तित्व के लिए जानी जाने वाली रिका इशिगे “टाइनी डॉल” मार्शल आर्ट में महिलाओं के लिए प्रेरणा की मूर्ति है।

वह अपने पिता जो एक जूडो पेशेवर थे से मार्शल आर्ट सीखने के लिए बहुत प्रभावित हुई। 14 साल की उम्र में इशिगे ने आत्मरक्षा के लिए आइकीडो और कराटे का प्रशिक्षण शुरू किया।

अपने पिता के सहयोग की बदौलत बैंकॉक मूल निवासी ने “आर्ट ऑफ एट लिम्ब” में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और थाईलैंड की पहली महिला मिक्स्ड मार्शल कलाकार बन गई।

दुर्भाग्य से “टाइनी डॉल” ने सात साल पहले अपने पिता को कैंसर से पीडित होने के कारण खो देना पड़ा। बहरहाल वह दुनिया के सबसे बड़े मार्शल आर्ट संगठन में थाईलैंड का प्रतिनिधित्व करने के लिए अपनी स्मृति को सम्मानित करने का प्रयास करती है।



#4 & #5 सेज नॉर्थकट “सुपर” और कॉलबी नॉर्थकट

वयस्कावस्था में प्रवेश करने से पहले सेज नॉर्थकट “सुपर” और उनकी बड़ी बहन कॉलबे नॉर्थकट ने पहले ही मार्शल आर्ट्स विलक्षण के रूप में प्रसिद्धि हासिल कर ली थी। अमेरिकियों ने बचपन में अपने पिता मार्क नॉर्थकट के निर्देशन में कराटे का प्रशिक्षण शुरू किया। उस समय सागे 4 साल और कॉलबे 7 साल की थी।

मार्क जो कराटे ब्लैक बेल्ट हैं ने अपने बच्चों के लिए घर में एक प्रशिक्षण कक्ष बनाया। उन्होंने उनके सभी कराटे टूर्नामेंट के लिए कोच के रूप में भी काम किया।

सेज और कॉल्बे दोनों ही कई बार कराटे वर्ल्ड चैंपियंस बनेंगे और ब्लैक बेल्ट मैगज़ीन हॉल ऑफ फ़ेम में शामिल होंगे। अब दोनों वैश्विक मंच पर मिक्स्ड मार्शल आर्ट सुपरस्टारडम की तलाश कर रहे हैं।

#6 अर्जन भुल्लर

यह एक जबरदस्त उपक्रम है जो बेहतरीन एथलीटों के संकल्प को परखता है।

भुल्लर के पास महान भारतीय पहलवानों का पारिवारिक इतिहास है। अर्जन भुल्लर “सिंह” उस विरासत को जारी रखे हुए हैं। उनके पिता अवतार भुल्लर 1971 में भारत से वैंकूवर चले गए। वह एक सम्मानित भारतीय पहलवान थे, जिन्होंने 1988 के ग्रीष्मकालीन ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेल और 1998 राष्ट्रमंडल खेल कनाडा में भारत का प्रतिनिधित्व किया था।

छोटी उम्र से अर्जन अपने पिता की सफलता की दास्तां सुनकर बड़ा हुआ। आज तक अवतार उनके बेटे के सबसे सख्त आलोचक हैं, लेकिन अपने बेटे के सबसे मजबूत समर्थक भी हैं।

भले ही “सिंह” उम्मीदों के बोझ तले दबे हुए महसूस करते हैं। हेवीवेट अपने पिता को गौरवान्वित करने और The Home Of Martial Arts में अपनी पैतृक मातृभूमि का प्रतिनिधित्व करने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं।

#7 थान्ह ले

थान्ह ले के पिता ने बहुत बड़ा बलिदान किया ताकि वह संयुक्त राज्य अमेरिका में बेहतर जीवन जी सकें। वह अमेरिका में आकर परिवार के साथ बस गए। वहां उन्होंने अपने बेटे के लिए एक सफल मार्शल कलाकार बनने की नींव रखी।

ले के पिता के पास एक मार्शल आर्ट अकादमी मून कॉलेज ताइक्वांडो थी, जहां उन्होंने 8 साल की उम्र में प्रशिक्षण शुरू किया था।
वियतनामी-अमेरिकी बचपन की सनसनी थी। उन्होंने पूरे देश में मार्शल आर्ट्स टूर्नामेंट में भाग लिया और अपराजित रहे।

ले ने वैश्विक मंच पर इसी तरह की सफलता हासिल की है। एक लिगेसी फाइटिंग एलायंस फेदरवेट चैंपियन बने। वह ONE में अपराजित हैं और ONE फेदरवेट विश्व खिताब के लिए शीर्ष दावेदार बनने का उसका रास्ता है।

#8 & 9 एंजेला ली और क्रिश्चियन ली

केन ली ने आत्मरक्षा के उद्देश्य से अपनी सबसे बड़ी बेटी ONE वूमन एटमवेट वर्ल्ड चैंपियन एंजेला ली “अनस्टॉपेबल” और उनके सबसे बड़े बेटे ONE लाइटवेट वर्ल्ड चैंपियन क्रिश्चियन ली “द वॉरियर” से मार्शल आर्ट की शुरुआत की।

ली परिवार के संरक्षक ब्राजीलियाई जिउ-जित्सू, पेंक्रेशन और तायक्वोंडो में ब्लैक बेल्ट धारक हैं। मार्शल आर्ट्स समुदाय में उनका सम्मान किया जाता है। उन्हें कनाडाई पेंक्रेशन महासंघ का अध्यक्ष और कनाडा के जिउ-जित्सु संघ का मुख्य कोच भी नामित किया गया।

एंजेला और क्रिश्चियन की मां ज्वेलज़ ली भी एक कुशल मार्शल कलाकार हैं। वह एक ब्लैक बेल्ट और ताइक्वांडो में दो बार की कनाडाई रजत पदक विजेता हैं।

अपने पिता के संरक्षण में- वो उनके मुख्य कोच और हवाई में यूनाइटेड एमएमए के मालिक जहां वे रहते हैं और प्रशिक्षित करते हैं। ली भाई-बहनों ने प्रतिस्पर्धी मार्शल आर्ट के अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उत्कृष्ट प्रदर्शन किया।

एंजेला ने मई 2015 में ONE के साथ अपने पेशेवर मिक्स्ड मार्शल आर्ट करियर की शुरुआत की और एक साल बाद मेई यामागुची “वी.वी.” को हराकर खेल की सबसे कम उम्र की विश्व चैंपियन बनने का इतिहास रचा।

मई 2019 में जापानी सब्मिशन सर्वश्रेष्ठ शिन्या एओकी “टोबिकन जुडन” के एक दूसरे राउंड के तकनीकी नॉकआउट के बाद क्रिश्चियन ने जीत हासिल की और ONE लाइटवेट विश्व खिताब जीता। ऐसा करने पर वे मिक्स्ड मार्शल आर्ट इतिहास में पहली भाई-बहन वर्ल्ड चैंपियन जोड़ी बन गए।