विशेष कहानियाँ

रोशन मैनम ने अपने परिवार के लिए देखे बड़े सपने

नवम्बर 3, 2019

भारत के रोशन मैनम का अपने पूरे जीवन में सबसे बड़ा व पहला लक्ष्य अपने परिवार को गरीबी से बाहर निकालने का रहा है।

वह आज अपने परिवार का सहयोग कर रहे हैं और इसके लिए मार्शल आर्ट के लिए आभारी हैं। भारतीय कुश्ती सनसनी को इसी ने अपने परिवार की जरूरतों को पूरा करने व अपने देश का गौरव बढ़ाने का रास्ता दिया है।

अपने राज्य के चैंपियन पहलवान के रूप में अपना करियर बनाने के बाद 23 वर्षीय ने दुनिया की शीर्ष मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स टीमों में से एक में शामिल हो गए हैं। अब उनके पास ONE: MASTERS OF FATE पर खॉन सिचान के खिलाफ ONE Championship के वैश्विक मंच पर अपनी अलग पहचान बनाने का मौका है।

फिलीपींस के मनीला में अगले शुक्रवार, 8 नवंबर को अपने करियर की सबसे बड़ी बाउट से पहले Evolve के प्रतिनिधि ने एक बेहतर जीवन की तलाश में अपनी यात्रा का खुलासा किया है।

शुरुआती संघर्ष

मैनम और उनके तीन भाई-बहनों को उनके माता-पिता ने भारतीय राज्य मणिपुर के एक छोटे शहर थौबल में पाला था। जैसे-जैसे वह बड़े हुए तो उनके पिता की तबीयत खराब रहने लग गई। ऐसे में उनकी मां को परिवार का पेट पालने के लिए एक मिल में काम करना पड़ा।

मैनम ने मवेशियों का पालन किया और अपने पिता के चिकित्सा खर्चों में मदद करने के लिए कई तरह की नौकरियां भी की, इससे परिवार की आर्थिक स्थिति में थोड़ा सहयोग मिला।9 साल की उम्र से उन्होंने कुश्ती में दिलचस्पी लेना शुरू कर दिया जब वह एथलीटों के बल को देखकर प्रभावित हुए।

उन्होंने खेल में प्रतिभा दिखाई और उन्हें जूनियर विश्व चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुन लिया गया, लेकिन प्रतिस्पर्धा का उनका सपना तब धराशायी हो गया जब उनके टखने में चोट लग गई।

किंतु इससे उनके कुश्ती के सपने खत्म नहीं हुए और वह अपने करियर को आगे बढ़ाने के लिए दिल्ली चले गए। वहां उन्होंने भारत के सबसे पुराने और सबसे प्रतिष्ठित कुश्ती शिविर, गुरु हनुमान अखाड़े की सदस्यता ली और फिर दिल्ली की चार राज्य स्तरीय चैंपियनशिप जीती।

हालांकि, खेल में इतना पैसा नहीं मिलता था और वह अपने परिवार के लिए अपनी सख्त आर्थिक तंगी को दूर करने के लिए बेताब थे। ऐसे में मैनम ने एक उभरती हुए खेल की ओर ध्यान दिलाया जिसने उसे समृद्ध होने का मौका दिया।

मैनम ने कहा कि, “मेरी माँ के संघर्ष और मेरे पिता के स्वास्थ्य ने मुझे काफ़ी प्रेरित किया। कई सफल मिक्स्ड मार्शल कलाकार थे जो कुश्ती से आए थे, इसलिए मुझे लगा कि मेरे लिए यह एक अच्छा मौक़ा है और खुद को चुनौती देते हुए वर्ष 2014 में मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स का प्रशिक्षण शुरू कर दिया।”

कठिन संघर्ष

कुश्ती में अपनी सफलता के बावजूद मैनम को दिल्ली में बड़ी मुश्किल से गुजारा हो रहा था। उन पर बहुत ही जल्दी आर्थिक दबाव आ गया।

उन्होंने बताया कि, “दिल्ली जाना, सब कुछ बहुत महंगा था और मुझे नहीं पता था कि क्या करना है। स्कूल, प्रशिक्षण, और काम के बीच अतिरिक्त प्रशिक्षण वास्तव में बहुत कठिन था।”

मैनम को जल्द ही बैंगलोर में एक प्रशिक्षक के रूप में काम करने का मौका मिला, लेकिन उन्हें अपनी आय का अधिकांश हिस्सा बिलों पर खर्च करना पड़ा, जिससे उनके परिवार को घर पैसे भेजने के लिए उनके पास कुछ भी नहीं बचता था।

उनकी स्थिति यह थी जिसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी, लेकिन उनके कुश्ती प्रशिक्षण ने उन्हें बेहतर अवसर मिलने रखने की ताकत और दृढ़ संकल्प दिया ताकि वो अच्छे अवसरों की प्रतीक्षा करें।

उन्होंने कहा कि, “मेरे पास कोई दूसरा विकल्प भी नहीं था। मुझे लगता है कि कुश्ती सबसे भीषण खेलों में से एक है। इसके लिए उच्च तीव्रता वाले प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। इसने मुझे सिखाया है कि विषम परिस्थितियों में भी कभी हार नहीं माननी चाहिए।”

उनके पास उनके घनिष्ठ मित्र और संरक्षक, विशाल सेइगेल भी थे, जो उन्होंने दिल्ली में मिले थे। समृद्धि की ओर अपने जीवन के इस कठिन समय के माध्यम से मार्गदर्शन करने के लिए सहायता और सलाह के लिए उन्होंने पूरा सहयोग किया।

“उनके साथ मेरा एकमात्र लक्ष्य था कि मैं लिए अपने परिवार की मदद करने के लिए लड़ने के माध्यम से एक स्थिर नौकरी को सुरक्षित करूं। जब मैं बैंगलोर में कोच विशाल से दोबारा मिला, तो मेरे लिए सब कुछ बदल गया।”

प्रेरक शक्ति

बैंगलोर के KOI कॉम्बैट एकेडमी के मालिक और संस्थापक सेइगेल ने मैनम को अपने साथ प्रशिक्षित करने के लिए आमंत्रित किया ताकि वह अपने ब्राजील के जिउ-जित्सू में सुधार कर सकें और अपने कुश्ती कौशल को पूरा करने और एक पेशेवर खिलाड़ी के रूप में जिंदगी को आगे बढ़ा सके।

23 वर्षीय मैनम ने कहा कि, “उन्होंने मुझे एथलीट बनने के लिए समय दिया और मुझे आज मिक्स्ड मार्शल आर्ट एथलीट में प्रशिक्षित करते हुए आगे बढ़ाया। उन्होंने मुझे इसके व्यावसायिक पहलू के बारे में और अन्य चीजों के साथ-साथ जीवन कौशल, जैसे कि मेरे जीवन और प्रशिक्षण को कैसे बनाना है – ऐसी चीजें सिखाईं जो मैंने कभी नहीं सीखीं थी।”

मैनम ने अपने करियर की एक शानदार शुरुआत की जहाँ उन्होंने अपनी मातृभूमि में सात शौकिया और तीन पेशेवर जीत में अपने विरोधियों को फिनिश कर दिया था। इसके बाद उन्हें सिंगापुर में Evolve में प्रतियोगिता टीम के लिए ट्रायआउट्स के माध्यम से अपनी यात्रा पर अगला कदम उठाने का मौका मिला।

सेइगेल की मदद से उन्होंने जिम में कोचों को दिखाने का मौका हांसिल किया और बताया कि वह क्या कर सकते हैं।

“कोच विशाल ने मेरी प्रोफ़ाइल बनाई, हर चीज़ का ख्याल रखा और मुझे फिर ट्रायल के लिए 29 लोगों में से एक के रूप में चुना गया। उन्होंने मुझे विश्वास दिलाया कि मैं विश्व चैंपियन बनने के लिए तैयार हूं। उन्होंने मुझे बड़े सपने देखने के लिए प्रेरित किया।”

चुनौतियों के लिए बढ़ रहे आगे

Evolve's Indian wrestler Roshan Mainam

मैनम ने अपने कुश्ती कौशल के साथ इवॉल्व कोचों पर एक त्वरित प्रभाव डाला, और जिम का प्रतिनिधित्व करने के लिए आकर्षक कॉंट्रैक्ट की पेशकश की गई।

“यह एक सपना सच होने जैसा है। मैं Evolve Fight Team का हिस्सा बनने के लिए मैं धन्य हूं। मैंने अपने महान प्रशिक्षकों, प्रशिक्षण भागीदारों और वरिष्ठों की बदौलत यहां तेजी से विकास किया है।”

अब जब उन्होंने अपने सपने को जीने का मौका हासिल कर लिया है और विश्व चैंपियंस के रोस्टर के साथ अपने कौशल को बेहतर बनाने का प्रयास किया है, तो मैनम अब अपने परिवार का समर्थन कर सकते हैं, लेकिन बात यहीं खतम नहीं होती।

वह अन्य होनहार एथलीटों को अवसर देने के लिए भी प्रतिबद्ध है और वह अगली पीढ़ी को अपने नक्शेकदम पर चलने में मदद करने के लिए सेइगेल के साथ काम करते हैं।

उन्होंने कहा कि “मैं कितनी दूर तक आया हूं, हमने कमजोर आर्थिक पृष्ठभूमि से आने वाले एथलीटों के लिए समान रूप से सहयोग किया है।”

“हमने एथलीटों को पूरी तरह से प्रायोजित करने के लिए एक कार्यक्रम बनाया है। कोच उन्हें प्रशिक्षण दे रहे हैं और उन्हें तैयार कर रहे हैं जैसे उन्होंने मेरे साथ किया।”

अब अपने नए घर में जाने के एक साल से भी कम समय बाद, थौबल मूल निवासी एक और मील के पत्थर पर पहुंच जाएंगे, क्योंकि वह वैश्विक स्तर पर ONE: MASTERS OF FATE से अपनी शुरुआत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि “मैं बहुत उत्साहित हूँ। मेरे पास सफल होने के अलावा और कोई चारा नहीं है।

“मैंने बहुत मेहनत की है, और मेरे पूर्व कोच और मेरे गुरु – कोच विशाल – ने मुझ पर इतनी मेहनत करते हुए यहां तक पहुंचाया है। अब विशेष रूप से प्रतिष्ठित Evolve Fight Team का एक हिस्सा होने के नाते मेरे पास सफल होने के अलावा और कोई दूसरा विकल्प नहीं है।”

ये भी पढ़ें: ONE: MASTERS OF FATE में तीन मुकाबले शो पर जमा सकते हैं कब्जा

मनीला | 8 नवंबर | MASTERS OF FATE | टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय लिस्टिंग की जाँच करें | टिकट: http://bit.ly/onefate19