Kickboxing

सैम-ए को क्यों अपने किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल को बनाए रखने के लिए खुद को अधिक प्रेरित करना है

पूर्व ONE फ्लाईवेट मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन सैम-ए गैयानघादाओ ने पिछले शुक्रवार, 6 दिसंबर को ONE: MARK OF GREATNESS में महानता साबित करने के लिए जीड्स और मोंगकोन को अलग रखा।

हालाँकि, इस खेल में यह उनका पहला सशक्त प्रयास था। मलेशिया में कुआलालंपुर के एशिता एरिना में शानदार प्रदर्शन कर उन्होंने 36 वर्षीय वांग जनगुआंग “गोल्डन बॉय” को बाहर कर दिया। इस तरह उन्होंने ONE स्ट्रॉवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड खिताब जीतने की शुरुआत की।

इस जीत के साथ वह दो अलग-अलग भार वर्गों में बेल्ट रखने वाले पहले दो खेल में ONE वर्ल्ड चैंपियन बन गए हैं।

एक सतर्क शुरुआत के बाद सैम-ए ने अपने नए अपनाए गए मार्शल आर्ट्स अनुशासन में अविश्वसनीय मुक्केबाजी कौशल और अधिक सक्रिय स्ट्राइकिंग शैली का प्रदर्शन किया। उन्होंने अपनी लय खोजने और प्रतिद्वंद्वी को अलग करने के लिए चीनी विरोधी की शुरुआती हड़बड़ी से मुकाबले के रुख को भांपा।

उन्होंने कहा, “मेरा प्रतिद्वंद्वी वास्तव में अच्छा था। वह बेहद खतरनाक था। वह युवा था और जीत के लिए भूखा था। मुझे लगा था कि वह हार नहीं मानेगा। यहां तक कि लड़ाई के अंतिम क्षण में वह मुझे चुनौती देने के लिए मेरे पास आ रहा था।”

“मैं अपने प्रतिद्वंद्वी को मजबूत और आगे बढ़ने वाला योद्धा समझते हुए सर्किल में गया था। मेरी योजना उसके इर्द-गिर्द घूमने और उससे दूर रहने की थी। मैं उसके करीब बिल्कुल भी नहीं रहना चाहता था।”

“मेरे कॉर्नरमैन मुझे हर वक्त बता रहे थे कि क्या चल रहा है और मैं जीतता जा रहा था। हालांकि, मैं अपनी जीत सुनिश्चित करना चाहता था इस वजह से हर दौर में कुछ अतिरिक्त कौशल दिखाने की कोशिश कर रहा था। 5वें दौर में जाकर अहसास हुआ कि मैं स्कोरकार्ड में आगे हूं। मैं फिर भी उस दौर को लड़ना और जीतना चाहता था।”

“मेरे मॉय थाई अनुभव ने मुझे इस लड़ाई में बहुत मदद प्रदान की। मैंने अपने गेम प्लान का पालन किया और कोनों से आ रही बातों को अच्छी तरह से सुना।”

सैम-ए इस मुकाबले में कुछ साबित करने के लिए उतरे थे। न केवल नायसेयर्स के लिए बल्कि खुद के लिए भी।

Evolve प्रतिनिधि ने विशेष रूप से लगभग तीन दशक मॉय थाई में प्रतिस्पर्धा करने में बिताए हैं। उन्होंने अपने कौशल को एक समान ही नहीं बल्कि अलग खेल में ले जाने के लिए भी प्रेरित किया।



एक युवा, भूखे और अनुभवी किकबॉक्सिंग विशेषज्ञ जैसे “गोल्डन बॉय” के खिलाफ एक नए नियम के तहत प्रतिस्पर्धा करना आसान नहीं था। खासकर, बेल्ट पाने की कतार में। हालांकि, सिंगापुर मूल का थाई योद्धा इस बात को लेकर आश्वस्त था कि अगर वह ईमानदारी से लड़ा तो विश्व चैंपियन बन सकता है।

अपनी सफलता के बावजूद सैम-ए ने स्वीकार किया कि परिवर्तन उनकी अपेक्षा से बहुत अधिक चुनौतीपूर्ण था।

सैम-ए कहते हैं, “मॉय थाई में जब आप थके हुए होते हैं तो आपके पास कई रास्ते होते हैं। आप थोड़ा सा चारों ओर खेल सकते हैं और आप विपक्षी को पकड़ सकते हैं। अपने प्रतिद्वंद्वी को स्वीप करने जैसे उसमें समय बिताने के गुर हैं। एक बार जब विपक्षी नीचे आता है तो आप कुछ देर आराम कर सकते हैं।”

“किकबॉक्सिंग में आपको पूरी लड़ाई में व्यस्त रहना पड़ता है। यह नॉनस्टॉप है। मैं थका हुआ था लेकिन समझ गया था कि यह मेरी पहली लड़ाई थी। यह मेरी शैली को बदलने के लिए एक बड़ा उपक्रम था लेकिन फिर मुझे लगा कि यह मेरा एक सार्थक प्रदर्शन था।”

“यह मेरा पहला अनुभव था। मुझे सीखने के लिए बहुत कुछ मिला है और मैं किकबॉक्सिंग में सुधार करना चाहता हूं लेकिन मैंने खुद को साबित कर दिया है कि मैं ऐसा कर सकता हूं।”

Evolve प्रतिनिधि दोनों खेलों में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। सैम-ए को पता है कि अपने ONE स्ट्रॉवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड टाइटल को बचाए रखना उनके लिए पूरी तरह से एक चुनौती होगी।

Sam-A Gaiyanghadao defeats Wang Junguang at ONE MARK OF GREATNESS

इस साल की शुरुआत में सैम-ए ने पांच-राउंड की लड़ाई के बाद जोनाथन “द जनरल” हैगर्टी से अपना ONE फ्लाईवेट मय थाई विश्व चैंपियनशिप का खिताब गंवा दिया था। उसके बाद वह नहीं चाहते थे कि फिर से ऐसा हो।

“मुझे अपने मॉय थाई विश्व खिताब के खोने का बहुत अफसोस है। अब, मैं इस बेल्ट को जितनी देर तक रख सकता हूं, रखना चाहता हूं।”

“वक्त के साथ यहां परिपक्व होने के बावजूद मैं एक मार्शल आर्टिस्ट के रूप में विकसित होना चाहता हूं। चाहे वह मॉय थाई हो या किकबॉक्सिंग, मैं तैयार रहूंगा। मैं वास्तव में इस शीर्षक का बचाव करना चाहूंगा।”

सैम-ए के शानदार करियर में अगला कदम आने वाले हफ्तों में निश्चित रूप से सामने आएगा। हालांकि, एक बात स्पष्ट है कि वह हमेशा आभारी हैं कि उन्हें इतिहास बनाने और अपने सपनों को जीवन में लाने का मौका दिया गया।

वह कहते हैं, “मैं वास्तव में इस अद्भुत अवसर के लिए वन चैंपियनशिप और चटरी साइटोडोंग (अध्यक्ष और सीईओ) को धन्यवाद देना चाहता हूं।”

“सभी लड़ाकों के पास अपने करियर में लक्ष्य हैं। अब मुझे इसे पाने और इसमें सक्षम होने से वास्तव में बहुत खुशी मिल रही है।”

और पढ़ें: सैम-ए ने जीती दूसरी ONE Super Series विश्व चैम्पियनशिप