न्यूज़

प्रिसिला हरटाटी लुम्बन गॉल की नजरें रिका इशिगे पर लगीं

इंडोनेशिया की बेहतरीन एथलीट प्रिसिला हरटाटी लुम्बन गॉल ने कभी किसी भी चुनौती से अपना मुंह नहीं फेरा है और ना ही अब भी वो ऐसा करेंगी।

Siam Training Camp की प्रतिनिधि की नजरें विमेंस एटमवेट डिविजन वर्ल्ड चैंपियनशिप पर हैं। ऐसे में वो किसी भी दावेदार से भिड़ने को तैयार हैं, ताकि ये साबित कर सकें कि वो टॉप पर पहुंचने की हकदार हैं।

“ठाठी” ने बताया, “मुझे कभी किसी को मैच के लिए चैलेंज करने की जरूरत ही नहीं पड़ी। दरअसल, जो भी ONE ने मुझे मुकाबला दिया मैंने उसको कभी मना नहीं किया।”

“मेरे कोच ने मुझे बताया कि कभी किसी एक विरोधी का चुनाव मत करना। उन्होंने तो यहां तक भी कहा कि अगर मैं किसी एक विरोधी से बाउट करना चाहती हूं तो मुझे ट्रेनिंग बंद कर देनी चाहिए।

“मेरे कोच और मैनेजर ने मुझसे कहा कि मुझे किसी भी विरोधी के लिए तैयार रहना चाहिए, चाहे वो चैंपियन हो या नहीं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसके लिए किस तरह की ट्रेनिंग की जरूरत पड़े। अब क्योंकि मैं जीत की राह पर हूं तो इसका मतलब ये नहीं कि मैं अपनी मेन ड्यूटी (ट्रेनिंग) भूल जाऊं।”

अगर आप लुम्बन गॉल के करियर पर नजर डालें तो आपको उनके बेखौफ होने के सबूत मिल जाएंगे। वो हमेशा सर्कल में प्रमुख विरोधियों का सामना करने के लिए तैयार रहती हैं।



फरवरी 2017 में अपना डेब्यू करने के बाद से जकार्ता निवासी ग्लोबल स्टेज पर सबसे सक्रिय रहने वाली एथलीट रही हैं। साथ ही उन्होंने टॉप रैंक की एथलीट जैसे टिफनी टियो और जीना इनियोंग का भी सामना किया है।

अपने पिछले नौ मुकाबलों में उन्होंने 7-2 का शानदार रिकॉर्ड कायम कर रखा है। इसके साथ ही उन्होंने खुद को एटमवेट डिविजन के ऊपरी लेवल की ओर बढ़ाया है।

अपनी पिछली दो जीत की लय को आगे बढ़ाने और रास्ते में बने रहना ही लुम्बन गॉल का मुख्य लक्ष्य है। वो किसी एक एथलीट का नाम लेने में थोड़ा हिचकती हैं।

उन्होंने बताया, “जब मैं चोटिल थी तो ONE ने रिका इशिगे के साथ एक बाउट ऑफर की थी। मुझे उस मैच से कोई परेशानी नहीं थी लेकिन अगर मुझे चुनना पड़े तो मैं मुकाबले के लिए उन्हें चुनूंगी।”

“उनका बीजेजे (ब्राजीलियन जिउ-जित्सु) बहुत अच्छा है और वो ग्राउंड में कुशल हैं लेकिन मैंने मैच से पहले कभी कोई गेम प्लान नहीं बनाया है।

“उदाहरण के लिए, अगर मेरी विरोधी की ग्राउंड फाइटिंग में स्किल्स बहुत अच्छी हैं तो इसका ये मतलब नहीं कि मुझे भी इन चीजों में उनके साथ कदम से कदम मिलाना होगा। ये बात निर्भर करती है कि मेरे कोच क्या रणनीति बनाते हैं। मैं जो हूं, वही रहना चाहती हूं क्योंकि बाउट में चीजें कभी भी बदल सकती हैं। इसे हम पहले से नहीं जान सकते हैं।”

चाहे थाइलैंड की “टाइनी डॉल” हों या कोई और एटमवेट दावेदार, लुम्बन गॉल हर उस विरोधी का सामना करने को तैयार हैं, जो उन्हें आगे जाने में मदद करेगा। इस तरह से वो अपने देश के लिए सम्मान पा सकेंगी।

इस समय एटमवेट क्वीन “अनस्टॉपेबल” एंजेला ली और उसके बाद अच्छा करने की चाहत “ठाठी” को जिम में ज्यादा मेहनत करने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

बढ़ते रहना ही खेल का नाम है। इस बात को इंडोनेशियाई एथलीट पक्का करती हैं कि वो हमेशा बेहतर करती रहेंगी, ताकि अगर ONE विमेंस एटमवेट वर्ल्ड चैंपियनशिप का मौका आए तो वो उसका पूरा फायदा उठा सकें।

उन्होंने बताया, “अगर मैं कड़ी ट्रेनिंग करती हूं तो मुझे किसी तगड़े विरोधी का सामना करना चाहिए। इस तरह से अगर भगवान की मर्जी हुई तो मैं जरूर जीत जाऊंगी और ये बात मेरे कोच भी मुझसे कहते रहते हैं। इस वजह से जो चीज मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी है वो है ट्रेनिंग।”

“मैं चाहती हूं कि हम में से कोई एक इंडोनेशियाई एथलीट वर्ल्ड टाइटल जरूर जीते। अगर मुझे वो मौका (एंजेला ली के खिलाफ) मिला तो सिर्फ अपने लिए नहीं बल्कि पूरे इंडोनेशिया के लिए बहुत गर्व होगा।”

ये भी पढ़ें: एंजेला ली ने डेनिस ज़ाम्बोआंगा के साथ होने वाले टाइटल मैच को लेकर बात की