मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

जकार्ता में अपने सबमिशन रिकॉर्ड को बढ़ाने पर हैं इत्सुकी हिराटा की नजरें

ट्रेनिंग कैंप में ली जा रही तैयारियों में तब दिक्कतें आ सकती हैं, जब किसी एथलीट का प्रतिद्वंदी आखिरी वक्त में बदल दिया जाए। हालांकि, इत्सुकी “स्ट्रॉन्ग हार्ट फाइटर” हिराटा आत्मविश्वास से भरी हुई हैं। उन्हें फर्क नहीं पड़ता कि सामने कौन है। वो ONE: WARRIOR’S CODE में अपने प्रदर्शन को लेकर आश्वस्त हैं।

इस शुक्रवार, 7 फरवरी को जापानी जूडोका की इंडोनेशिया के जकार्ता में नायरीन “न्यूट्रॉन बॉम्ब” क्राओली से बाउट होगी। वो इस मैच में उसी तरह के प्रदर्शन और सबमिशन के लिए सर्कल में उतरेंगी, जिस तरह ONE: CENTURY में उन्होंने रिका “टाइनी डॉल” इशिगे को पछाड़ा था।

क्राओली ने इवेंट में बी “किलर बी” गुयेन की जगह ली है। हिराटा वियतनामी-अमेरिकन स्टार्स का सामना ना कर पाने की वजह से थोड़ा निराश हैं। हालांकि, वो इस बात को लेकर खुश भी हैं कि उन्हें अपने परफेक्ट मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के रिकॉर्ड के विस्तार का एक और मौका मिल गया है।

इसके अलावा, वो मानती हैं कि क्राओली की शैली उनके पिछले प्रतिद्वंदी की तरह ही है इसलिए अब उन्हें  Bali MMA प्रतिनिधि के खिलाफ अपने गेम प्लान को पूरी तरह बदलने के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं होगी।

वो कहती हैं, “मैं गुयेन का सामना करना चाह रही थी लेकिन इस बात पर खुश हूं कि मैं अब भी बाउट कर सकती हूं। मैं इतनी उत्साहित हूं कि मैच का इंतजार नहीं कर सकती। फिलहाल, मैं बहुत अच्छी हालत में हूं।”

“भले ही मुझे विरोधी के बदलने से अपने गेम प्लान को बदलना पड़ा हो लेकिन मैं मैच से पहले पूरी तरह से ठीक हूं। मुझे नहीं लगता कि इससे बहुत ज्यादा फर्क पड़ने वाला है।”

टोक्यो की 20 वर्षीय एथलीट अब भी मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट के रूप में अपराजित हैं। उन्होंने बेहतरीन जूडो स्किल्स की मदद से अपने पिछले सभी 5 प्रतिद्वंदियों को सबमिशन के जरिए फिनिश किया। इसमें उनकी ONE डेब्यू में अमेरिका की एंजेली सबानल और इशिगा के खिलाफ जीत शामिल हैं।

हिराटा को अपनी ग्रैपलिंग क्षमता पर बहुत भरोसा है। उनका मानना है कि ग्राउंड तकनीकें इस्तोरा सेनयन एरीना में उनकी सफलता का मंत्र बनेंगी। फिर भी क्राओली ने ONE Warrior Series में अपनी स्किल्स का अच्छा प्रदर्शन किया है। “स्ट्रॉन्ग हार्ट फाइटर” का मानना है कि उन्हें अपनी प्रतिद्वंदी की किकबॉक्सिंग से सबसे ज्यादा सतर्क रहना होगा।



वो कहती हैं, “मैं उनकी स्ट्राइकिंग का सामना करने के लिए रेसलिंग और टेकडाउंस की ट्रेनिंग ले रही हूं। मेरी ग्रैपलिंग पावर स्ट्रॉन्ग है। अगर मैच ग्राउंड पर जाता है तो मैच पर पकड़ बनाने की कोशिश करूंगी।”

“क्राओली एक स्ट्राइकर हैं। मैं उनकी गति को नियंत्रित नहीं कर सकती हूं। मुझे लगता है कि वो अपनी स्ट्राइकिंग का इस्तेमाल करने की कोशिश करेंगी इसलिए अगर मुझे उन्हें जमीन पर ले जाने का मौका मिला तो मैं उन्हें छोड़ूंगी नहीं। ”

“वो अपनी बाईं मिडल किक का इस्तेमाल करेंगी। इस वजह से मुझे जरूरी होगा कि उनसे दूरी बनाए रखूं, जहां वो मुझे घेर ना सकें। उनके पंचेज भी बेहद खतरनाक होते हैं।”

अगर हिराटा अपने पैरों पर सुरक्षित खड़े रहने और और मैच-अप को दायरे में लाने में सक्षम हुईं तो उन्हें पूरा भरोसा है कि वो अपने एक्स्ट्राऑर्डिनरी सबमिशन को छह बाउट तक बढ़ा सकती हैं।

वो आगे कहती हैं, “ग्रैपलिंग ही मेरी ताकत है इसलिए मैं इस कौशल को दिखाना चाहती हूं। इसके अलावा, मैं अपनी नई तकनीकों को भी दिखाना चाहती हूं।”

“अगर मैच ग्राउंड पर जाता है, तो मैं वहां बहुत मजबूत हूं। ग्राउंड पर मेरे हारने की कोई वजह ही नहीं है। मैं बॉटम या टॉप पोजिशन से भी हमला करूंगी। मेरी नजरें उसकी पीठ पर गड़ी होंगी और मैं उसे जकड़ना चाहूंगी। अगर मैं ऐसा कर लेती हूं तो मैं मैच को फिनिश कर सकती हूं।”

Itsuki Hirata dominates Rika Ishige on the gound at ONE CENTURY

ONE: WARRIOR’S CODE में ये जीत उनके रिकॉर्ड को 6-0 से परफेक्ट बना देगी, जो विमेंस एटमवेट डिविजन में सबसे प्रभावशाली रिकॉर्ड में से एक होगा।

ऐसे में K-Clann प्रतिनिधि को इस वजन वर्ग के सबसे बड़े नामों में से कुछ का सामना करने के लिए आगे कर दिया जाएगा। हालांकि, वो किसी का सामना करने के लिए तैयार हैं। उन्हें इससे फर्क नहीं पड़ता कि The Home Of Martial Arts के मैचमेकर उनके सामने कौन सा प्रतिद्वंदी लाकर खड़ा करते हैं।

अगर वो 7 फरवरी को क्राओली की खरतनाक स्ट्राइकिंग पर काबू पा लेती हैं तो वो एक बेहतरीन एथलीट्स की सूची में शामिल हो जाएंगी।

वो कहती हैं, “मुझे एटमवेट डिविजन में टॉप पर पहुंचना है। मैं इस साल स्टैम्प फेयरटेक्स का सामना करना चाहती हूं।”

“अगर जीत जाती हूं तो मैं जल्द ही एक और बाउट करना पसंद करूंगी लेकिन मैं अगले मैच के बाद इस बारे में सोचूंगी। मुझे लगता है कि मेई (यामागुची) मजबूत एथलीट हैं। इसलिए संभावना है कि मैं स्टैम्प से पहले उनका सामना करूं। हालांकि, ये उनकी चोट पर निर्भर करेगा। मुझे गुयेन का सामना करना पसंद है लेकिन मैं किसी का भी सामना करने के लिए तैयार हूं।

“मैं इस मैच में ये साबित करूंगी कि मेरी ग्रैपलिंग क्षमता सबसे स्ट्रॉन्ग है। इस साल मेरा लक्ष्य जापान में स्टैम्प का सामना करना है। इस वजह से मुझे किसी भी कीमत पर जीत हासिल करनी होगी।”

ये भी पढ़ें: ONE: WARRIOR’S CODE के स्टार्स के टॉप-5 सबमिशन

जकार्ता | 7 फरवरी | ONE: WARRIOR’S CODE | टिकेट्सयहां क्लिक करें  

*ONE Championship की ऑफिशियल मर्चेंडाइज़ के लिए यहां हमारी शॉप पर आएं