न्यूज़

हिमांशु कौशिक ने COVID-19 महामारी, उससे बने हालात और खुद के जीवन में आए बदलावों पर बात की

Apr 9, 2020

COVID-19 महामारी की वजह से पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है। विकसित से लेकर विकासशील देशों की इस महामारी ने कमर ही तोड़ दी है। दुनिया की एक बहुत बड़ी आबादी लॉकडाउन की वजह से घरों में बंद हो चुकी है।

भारत में इस महामारी से संक्रमित लोगों का आंकड़ा दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है और पूरा देश लॉकडाउन में है। लोगों के लिए इस मुश्किल हालात में खुद को प्रेरित करना काफी मुश्किल भी हो जाता है।

हमने भारत के उभरते हुए मिक्स्ड मार्शल आर्टिस्ट हिमांशु कौशिक से बात की और पता लगाना चाहा कि वो इस मुश्किल हालात में कैसे खुद को प्रेरित कर रहे हैं और इसकी वजह से उनकी व अन्य लोगों की जिंदगी में क्या बदलाव देखने को मिल रहे हैं।

ONE Championship: कोरोनावायरस की वजह से पूरा देश इस समय लॉकडाउन में है। आप इस मुश्किल हालात में कैसे खुद को पॉजिटिव रख रहे हैं?

हिमांशु कौशिक: मैं उसके लिए लिए हर रोज सुबह मेडिटेशन (ध्यान लगाना) करता हूं। इस समय मेडिटेशन सभी के लिए बहुत ही ज्यादा जरूरी है।

ONE: आप सकारात्मक मानसिकता बनाए रखने के लिए और क्या करते हैं?

हिमांशु कौशिक: मैं घर पर ही रहकर अपनी ट्रेनिंग कर रहा हूं ताकि खुद को ज्यादा से ज्यादा व्यस्त रख सकूं। ट्रेनिंग के बाद अच्छी और लंबी नींद भी आती है, जो फिट रहने में मदद करती है।

ONE: इस कठिन समय में आपको किन चीज़ों से प्रेरणा मिल रही है?

हिमांशु कौशिक: मुझे प्रेरणा काफी सारी जगहों से मिलती है, जैसे मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स की वीडियोज़ देखकर लेकिन सबसे ज्यादा प्रेरणा मुझे मेरी मां से मिलती है। COVID-19 महामारी के बावजूद मेरी मां का शेड्यूल अभी भी वही है, वो सुबह-शाम घर का काम करती हैं। उन्हेंं देखकर मुझे प्रेरणा मिलती है कि मुझे भी रेगुलर ट्रेनिंग करते रहना चाहिए, हालात चाहे जो कुछ भी हों।



ONE: आप किन चीज़ों को सबसे ज्यादा मिस कर रहे हैं?

हिमांशु कौशिक: मैं इस समय ONE Championship के लाइव इवेंट्स को सबसे ज्यादा मिस कर रहा हूं। कोरोनोवायरस की वजह से काफी लंबे समय से इवेंट्स नहीं हो पाए हैं। अभी कुछ पता भी नहीं है कि इवेंट होने में कितना समय और लगेगा। मैं इसके अलावा अपने जिम को भी बहुत मिस कर रहा हूं।

ONE: जब ये महामारी खत्म होगी तो आपके हिसाब से लोगों के जीवन में किस तरह के बदलाव देखने को मिल सकते हैं? अगर बदलाव हुए तो वो क्या हो सकते हैं?

हिमांशु कौशिक: कोरोना से हम अकेले नहीं जीत पाएंगे, इसमें पूरी दुनिया को मिलकर एक साथ लड़ना है। इस महामारी के बाद पूरी दुनिया के लोगों में एकता और प्यार काफी बढ़ सकता है।

ONE: आपकी जिंदगी में इसका क्या प्रभाव देखने को मिल सकता है?

हिमांशु कौशिक: COVID-19 की वजह से पैदा हुए हालात के कारण मेरी ट्रेनिंग पर काफी प्रभाव पड़ रहा है क्योंकि जिस तरह का वर्कआउट स्टेडियम या जिम में होता है, घर में उसका 10 प्रतिशत भी नहीं हो पाता। हमें हर हाल में लॉकडाउन के नियम मानने हैं क्योंंकि इस महामारी को मात देने का यही एक रास्ता है।

Himanshu Kaushik posing after victory

ONE: आपने इस मुश्किल समय से सबसे महत्वपूर्ण बात कौन सी सीखी है?

हिमांशु कौशिक: इस मुश्किल समय को देखकर एहसास हो रहा है कि धैर्य और एकता में कितनी ताकत होती है। ये एक ऐसी लड़ाई है जिसे घर पर रहकर सबको लड़ना है और धैर्य बनाए रखना है।

ONE: हर बुरी चीज अपने साथ कुछ न कुछ अच्छा भी लाती है, हम देख रहे हैं कि लॉकडाउन की वजह से पर्यावरण पर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। ऐसे में महामारी खत्म होने के बाद लोगों को क्या बातें ध्यान में रखनी चाहिए, जिससे पर्यावरण के प्रति लोग और ज्यादा सजग हो सकें?

हिमांशु कौशिक: पहले तो मैं चाहता हूं कि कोरोना दुनिया से जल्द से जल्द खत्म हो। इस मुश्किल हालात में पर्यावरण पर अच्छा प्रभाव पड़ा है, ऐसे में COVID-19 महामारी के खत्म होने के बाद सबको मिलकर पर्यावरण को अच्छा बनाए रखने में साथ देना है।

ये भी पढ़ें: COVID-19 महामारी के दौरान सुरक्षित और स्वस्थ रहने के टिप्स