न्यूज़

गुरदर्शन मंगत ने सच्ची मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स भावना से फैंस को रूबरू करवाया

Jul 22, 2020

अक्सर लोगों को मार्शल आर्ट्स के बारे में गलत धारणा रहती है। उनका मानना होता है कि मार्शल आर्ट्स का मतलब मार-पिटाई और हिंसा होता है। यकीनन, मार्शल आर्ट्स में किक, पंच और खुद को बचाने की तकनीक सिखाई जाती है लेकिन मार्शल आर्ट्स का सही अर्थ शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से खुद में लगातार सुधार लाना है।

सर्कल में जब दो प्रतिद्वंदी आमने-सामने होते हैं, तो वे भले ही मैच जीतने के लिए सब कुछ करने को तैयार रहते हों, लेकिन उनके मन में जीत या हार की स्थिति में भी अपने विरोधी के प्रति मान-सम्मान होता है और यही मार्शल आर्ट्स है।

मार्शल आर्ट्स की इसी सच्ची भावना से गुरदर्शन मंगत ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट कर फैंस को रूबरू करवाया। इस पोस्ट में “सेंट लॉयन” ने बताने की कोशिश की कि वो अपने प्रतिद्वंदी को किस तरह देखते हैं।

View this post on Instagram

To the Warrior who Stands Across from Me: Greatest respect I can give you is bringing the best part of myself into that ring. I believed you had the tools and skills to defeat me, to derail my path and my vision, to keep my people from celebrating. I believed you were that man who would defeat me under the bright lights. Which is why every hour I had leading to the day we met, I made every sacrifice , put myself in every uncomfortable situation , broke myself mentally/physically daily only to go home and piece myself together to repeat the next day. I believed you were a monster, I made you to be my greatest challenge and therefore I cut no corners. I handled my broken mind in private, and smiled like nothing can break me. This was all thanks to you, the man I owe the greatest respect to. Cause without you, the challenger, I got no opportunity to grow my spirit, I got no adversary i must rise against to grow . You took the challenge, as did I , and after all the scars and pain we leave upon eachother, there is a moment and a bond that only we shared and hold that the rest of the world could only witness outside the ring. We stepped into a world of no illusion, the realest place we both know, the ring. Our intentions were clear, our strength was to be determined. I thank all the past and the future challengers who stand in front of me, I lose a piece of myself every time I step in there but I gain a fire to my spirit that will carry over lifetimes . Thank you…respect in victory or defeat. ????????❤️ @onechampionship

A post shared by Gurdarshan "Saint Lion" Mangat (@saintlion) on

उन्होंने पोस्ट में लिखा, “मैं रिंग में खुद का बेस्ट वर्ज़न लाकर ही आपको (कोई भी प्रतिद्वंदी) सबसे बड़ा सम्मान दे सकता हूं। मैं जानता हूं कि आप में मुझे हराने और मेरे जुनून को भटकाने की काबिलियत है। मैं इसी वजह से त्याग करता हूं, खुद को कड़े हालातों में डालता हूं, खुद को शारीरिक और मानसिक रूप से तोड़ता ताकि घर जा सकूं और फिर अगले दिन यही करने के लिए तैयार हो सकूं।”

“मैं आपका बहुत सम्मान करता हूं क्योंकि मैं आपके बिना खुद को आगे नहीं बढ़ा पाता। मैं अपने सभी पुराने और भविष्य के प्रतिद्वंदियों का आभार व्यक्त करता हूं। जब भी सर्कल में उतरता हूंं तो खुद के एक हिस्से को भले ही खो देता हूं लेकिन एक ऐसा जज्बा हासिल करता हूं, जो जिंदगी भर मेरे साथ रहेगा।”

ये भी पढ़ें: गुरदर्शन मंगत ने अपनी ट्रेनिंग, डाइट में आए बदलाव और भविष्य के प्रतिद्वंदी के बारे में बात की