मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

शेनन विराचाई ने होनोरियो बानारियो से कांटे के मुकाबले की उम्मीद जताई

शेनन “वनशिन” विराचाई और होनोरियो “द रॉक” बानारियो को भले ही ONE: KING OF THE JUNGLE में आमने-सामने कर दिया गया हो लेकिन दोनों ही एथलीट इस महत्वपूर्ण मैच को किसी भी कीमत पर जीतना चाहते हैं।

लाइटवेट में अपने हालिया अभियान के बाद थाई स्टार शुक्रवार, 28 फरवरी को फेदरटवेट बाउट में Team Lakay के दिग्गज एथलीट के खिलाफ विनिंग स्ट्रीक के साथ शुरुआत करके शीर्ष पर पहुंचना चाहेंगे।

फिलीपींस के हीरो के साथ अपनी बाउट को लेकर “वनशिन” का मानना है कि – जो कि फेदरवेट में भी वापसी कर रहे हैं – मैच को रोमांचक बनाने की इसमें सारी चीजें मौजूद हैं। ये वही है, जिस पर 2012 में ONE जॉइन करने के बाद से उनकी नजरें गड़ी हुई हैं।

वो कहते हैं, “हम दोनों लंबे समय से ONE से जुड़े हुए हैं। मैंने जब शुरुआत की थी, तो वो उसी कार्ड पर थे।”

“मुझे यकीन था कि भविष्य में एक दिन हम दोनों सर्किल में जरूर आमने-सामने आएंगे। हम अब एक दोस्त की तरह हैं – मैं जब भी उन्हें देखता हूं तो मुझे सुखद अहसास होता है और हम इसी तरह का अनुभव एक-दूसरे के प्रति साझा करते हैं – लेकिन अब मैं उनका सामना करने के लिए उत्साहित हूं।”

“वो फेदरवेट में चैंपियन थे। मैंने प्रशंसकों को उनसे ये कहते हुए सुना है कि सच में आप अपने पहले डिविजन में वापस आ गए हैं। अब सब कुछ अच्छा होने वाला है। अब बस मुझे उन्हें याद दिलाना है कि मैं भी अपने बेस्ट डिविजन में वापस आ रहा हूं इसलिए ये मुकाबला और भी मजे़दार होने वाला है।”

अपने मूल वजन वर्ग में वापसी, बाउट के लिए उनकी प्रतिबद्धता के अगले स्तर को दिखाती है। खासकर कि तब जब विराचाई ने बताया था कि वो कुछ किलो अपना वजन कम करने के बाद खुद को बेहतर महसूस कर रहे हैं।

वो ये मानते हैं कि प्रमोशन बेंटमवेट के एक एनकाउंटर में उन्हें सीखने को मिला कि बड़े शरीर वाले लोगों के खिलाफ बाउट करके वो लगातार गलती कर रहे थे।



वो बताते हैं, “मुझे खुशी है कि मैं लाइटवेट में उन लोगों के साथ काम कर चुका हूं – जो बहुत मजूबत हैं – लेकिन मुझे ये किसी को साबित करने की जरूरत नहीं है कि मैं उनके आसपास रह सकता हूं। देखना चाहता हूं कि मैं कहां तक अपना बेस्ट दे सकता हूं।”

“मैं अपने कोचों से बात कर रहा था। मैंने इस पर बहुत चर्चा की। मेरे स्ट्रेंथ और कंडिशनिंग कोच ने कहा कि मैं अपने शरीर से फैट के पर्सेंटेज को आसानी से कम कर सकता हूं।”

“मुझे लगता है कि Fairtex के मार्क एबेलार्डो के साथ मैं जब लॉकर रूम में था, तब मुझे इसका अहसास हुआ था। मुझे ये पसंद आया था। वो शरीर में मेरे आकार के थे और मैं लाइटवेट में लड़ रहा था। मैं तब शॉक्ड रह गया था लेकिन वो मेरे लिए एक संदेश की तरह था, जिसने मुझे फेदरवेट में जाने के लिए कहा था।”

भले ही दोनों के आपस में रिश्ते अच्छे हों लेकिन न तो बानारियो और न ही विराचाई जीतने का जरा सा भी मौका एक-दूसरे को देना चाहते हैं।

थाई एथलीट को एक ऐसे मैच की उम्मीद है, जिसे वो थोड़े से अंतर से जीत जाएंगे क्योंकि दोनों ही मजबूत स्ट्राइकर स्टैंड-अप एक्सचेंज की बदौलत जीत का रास्ता खोजने की कोशिश करेंगे।

Shannon Wiratchai knocks out Rahul Raju at ONE: IRON WILL

बैंकाक के मूल निवासी कहते हैं, “वो Team Lakay से हैं और उनके पास अधिक रेंज वर्क के साथ वुशु स्टाइल है। हालांकि, एक बॉक्सर और मॉय थाई योद्धा के रूप में उनके पंचेज बहुत अधिक सटीक नहीं होते हैं।”

“उनकी साइड-किक बहुत मजबूत है और ऐसे में उनके करीब से गुजरने की कोशिश करना भी नुकसानदायक हो सकता है। Team Lakay के दूसरे सदस्यों की तुलना में अपने लंबे हाथों की वजह से उनकी बॉक्सिंग और डिफेंस ज्यादा बेहतर है।

“मुझे लगता है कि हमारे बीच यही अंतर है कि हम डिस्टेंज बनाकर खेलना पसंद करते हैं। हालांकि, अगर कोई रेंज में आता है तो हम मशीनगन की तरह उस पर प्रहार करना शुरू कर देते हैं। मेरे लिए यही मेरी सटीकता है- मुझे नॉकआउट के लिए सही शॉट मारने का इंतजार होगा। ये बिल्कुल क्वालिटी वर्सेज क्वान्टिटी की तरह ही होगा।”

सिंगापुर में कुछ लाइन पर आने और सेक्रिफाइज करने के बाद उन्होंने वापस फेदरवेट में जाने का फैसला किया। ट्रेनिंग के दौरान जो हार्ड वर्क उन्होंने किया और क्षमता हासिल की, विराची एक बार उसका प्रदर्शन करना चाहते हैं। वो साबित करना चाहते हैं कि वो अब भी अपनी दम के लिए जाने जाते हैं।

उन्होंने कहा, “पिछली बार हारने के बाद मुझे पता चल गया था कि अब क्या काम करना है और कैसे खुद को ठीक करना है।”

“मैंने कड़ी मेहनत की है। मैं अब खुद को पहले से ज्यादा फोकस्ड महसूस कर रहा हूं। मैं उस पूरे वक्त और सारी मेहनत को बर्बाद नहीं करना चाहता हूं। मुझे लगता है कि मेरे सभी कोचेज और ट्रेनिंग पार्टनर्स ने मेरे साथ काम करने में अपना सबकुछ लगा दिया है इसलिए मैं उन्हें गर्व करने का मौका देना चाहता हूं।”

“मैं विरोधी पर दबाव बनाना चाहता हूं और लगातार उसे कायम रखना चाहता हूं। उसके बाद मैं उन्हें फिनिश करनी की कोशिश करूंगा लेकिन आप नहीं जानते कि उस वक्त क्या परिस्थितियां बनेंगी।”

ये भी पढ़ें: सैम-ए गैयानघादाओ का मानना है कि उनके अनुभव को नहीं झेल पाएंगे रॉकी ओग्डेन