मॉय थाई

सैम-ए गैयानघादाओ Vs. रॉकी ओग्डेन – जीत के 4 तरीके

ONE: KING OF THE JUNGLE में सैम-ए गैयानघादाओ अपने करियर का तीसरा ONE Super Series वर्ल्ड टाइटल जीतकर इतिहास रचना चाहते हैं लेकिन उभरते हुए सितारे रॉकी ओग्डेन का स्टाइल भी बड़ा उलटफेर करने में सक्षम है।

शुक्रवार, 28 फरवरी को पहला ONE स्ट्रॉवेट मॉय थाई वर्ल्ड टाइटल दांव पर लगा होगा। थाई लैजेंड और युवा ऑस्ट्रेलियाई स्टार, दोनों ही अपना बेस्ट प्रदर्शन करते हुए वर्ल्ड चैंपियन बनने का प्रयास करने वाले हैं।

लेकिन सच्चाई यही है कि कोई एक ही एथलीट रिंग से चैंपियन बनकर बाहर निकल सकेगा लेकिन दोनों के पास स्किल्स और मूव्स हैं जिनसे वो चैंपियन बन सकते हैं। यहाँ आप देख सकते हैं कि इस मुकाबले में किन 4 तरीकों से इन्हें जीत मिल सकती है।

#1 सैम-ए की ट्रेडमार्क लेफ्ट किक

साउथपॉ स्टांस में रहते सैम-ए की लेफ्ट किक उनका ट्रेडमार्क मूव है और इसके प्रयोग से वो अपने करीब ढ़ाई दशक लंबे करियर में काफी सारे प्रतिद्वंदियों को घुटने टेकने पर मजबूर कर चुके हैं।

अब वो खुद से उम्र में 16 साल छोटे यानी 20 वर्षीय ओग्डेन की एनर्जी को अपने ट्रेडमार्क स्ट्राइक से निचोड़ने की कोशिश करेंगे। अगर Evolve टीम के मेंबर ओग्डेन को थका पाते हैं तो जरूर जजों के स्कोरकार्ड्स में वो अपने अनुभव के चलते बढ़त बना सकते हैं।

ONE स्ट्रॉवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन द्वारा बॉडी पर दमदार अटैक से वो ऑस्ट्रेलियाई एथलीट को हतोत्साहित कर सकते हैं। जब भी ओग्डेन राइट हैंड लगाने के लिए आगे आएंगे तो संभव ही सैम-ए अपनी किक्स से उनकी बॉडी को खूब क्षति पहुंचाने की कोशिश करेंगे।

अगर ओग्डेन किक्स को पकड़कर काउंटर करने की कोशिश करते हैं तो सैम-ए अपने प्रतिद्वंदी को भ्रम में डालकर बॉडी किक के बजाय हेड-किक का रुख कर सकते हैं और ऐसा करने से उन्हें मैच में जल्दी जीत भी मिल सकती है।

#2 ओग्डेन के दमदार पंच

ओग्डेन को भरोसा है कि वो 36 वर्षीय थाई सुपरस्टार को अपने खतरनाक बॉक्सिंग अटैक से दबाव में ला सकते हैं।

Boonchu Gym से आने वाले ओग्डेन जब भी फ्रंटफुट आकर पंच लगाते हैं तो उन्हें रोक पाना बेहद मुश्किल हो जाता है। इसी के साथ वो ताकतवर राइट हैंड, जैब और लीड हुक लगाते हैं।

वो इससे पहले कई अनुभवी थाई प्रतिद्वंदियों को उनके सिर और बॉडी पर पंच लगाते हुए फिनिश कर चुके हैं और उनके कोच जॉन वेन को भरोसा है कि ओग्डेन इस बार भी ऐसा करने में पूरी तरह सक्षम हैं। खासतौर पर जब 4-आउंस ग्लव्स की बात आती है तो ओग्डेन और भी खतरनाक साबित होते हैं।

#3 सैम-ए का काउंटर अटैक

सैम-ए के प्रतिद्वंदियों को सबसे बड़ा खतरा इस बात से होता है कि उन्हें थाई लैजेंड के काउंटर-अटैक्स का सामना करना पड़ता है जो एकदम सटीक निशाने पर जाकर अपना प्रभाव छोड़ते हैं।

वो 400 से ज्यादा मैचों का हिस्सा रह चुके हैं, 2-डिविजन Lumpinee Stadium मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन रहे हैं और उन्होंने अपने करियर में हर तरह के स्टाइल का सामना किया है और आज भी जब वो पूरी फॉर्म में होते हैं तो उन्हें रोक पाना नामुमकिन हो जाता है।

उनका फुटवर्क और हेड मूवमेंट उन्हें अपने प्रतिद्वंदी के अटैक से मिलने वाले खतरे से दूर रखती है और उसके बाद वो खुद लेफ्ट स्ट्रेट और लेफ्ट एल्बो लगाकर मैच में बढ़त बनाने की कोशिश करते हैं। कुछ ऐसा ही वो डैरन रोलैंड और सर्जियो वील्ज़न के खिलाफ कर चुके हैं।

#4 ओग्डेन की अनोखी तकनीक

ओग्डेन की ट्रेनिंग बैंकॉक में ही हुई है जिसे मॉय थाई का गढ़ माना जाता है और यहीं पर वो अपने ही अंदाज में थाई एथलीट्स का सामना करते आए हैं। लेकिन सैम-ए की तुलना में केवल एक दहाई अनुभव होना उन्हें इस मैच में कमजोर साबित कर रहा है।

हालांकि, उनके पास दूसरे मूव्स हैं और अपने अनोखे अटैक से वो अनुभवी मॉय थाई स्टार को चौंका सकते हैं।

WPMF मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन के पास स्पिनिंग बैक किक्स हैं जिन्हें वो अपने प्रतिद्वंदी की बॉडी और सिर पर लगाना अच्छे से जानते हैं। इस तरह के अटैक का सैम-ए ने अपने करियर में कम ही सामना किया है, इसलिए अगर ओग्डेन की किक्स सही जगह पर लैंड करती हैं तो जरूर थाई लैजेंड के लिए मुश्किल खड़ी हो सकती है, ये भी संभव है कि ओग्डेन अपने प्रतिद्वंदी को नीचे गिराने में सफल रहें।

ये भी पढ़ें: सैम-ए को हराकर स्टार बनना चाहते हैं रॉकी ओग्डेन