मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

नोउ श्रे पोव के परिवार ने उन्हें अपने सपनों को पूरा करने के लिए प्रेरित किया

25 साल की उम्र में ही नोउ श्रे पोव ने खुद को ONE Championship के विमेंस एटमवेट डिविजन में देखने लायक नामों में स्थापित किया है।

फरवरी 2019 में कम्बोडिया की स्टार ने बैंकॉक, थाईलैंड में होमटाउन स्टार रिका “टाइनी डॉल” इशिगे को हराकर मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स जगत को चौंका दिया था।

The Home Of Martial Arts में इस ऐतिहासिक डेब्यू ने श्रे पोव के करियर को आगे बढ़ा दिया है। इसने उन्हें अपने परिवार के जीवन को बदलकर बेहतर बनाने का मौका दिया।

निजी चुनौतियां

श्रे पोव एक बड़े परिवार से आती हैं। उनकी चार बड़ी बहनें, दो बड़े भाई और एक छोटी बहन हैं।

भले ही उनके परिवार में कई सारे बच्चे थे लेकिन वो अपने बचपन को एक साधारण बचपन की तरह मानती थीं लेकिन जैसे ही वो बड़ी हुईं, चीज़ें बदल गईं।

उन्होंने कहा, “मैं खुश थी लेकिन मैं नहीं जानती थी कि मेरे परिवार में क्या हो रहा है। जब तक मैं बड़ी हुई तो मुझे मेरे परिवार की मुश्किलों के बारे में पता चला।”

खासकर, श्रे पोव समझने लगीं कि उनके माता-पिता को काफी संघर्ष करना पड़ता था।

फ्नोम पेन के ग्रामीण इलाके में रहने वाला परिवार खेती और मछलियों के कारोबार पर निर्भर रहता था लेकिन उनका जीवन काफी मुश्किल हो गया था, जब परिवार के मुखिया को 6 सालों पहले स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियां होने लगी। उनके पिता की जठरांत्रयों से खून निकलने लग गया और फिर उन्हें स्ट्रॉक आया।

कम्बोडियाई स्ट्राइकर ने कहा, “सबसे बड़ी चुनौती आई, जब मेरे पिता काफी बीमार पड़ गए।”

इस वजह से श्रे पोव ने अपने निजी लक्ष्य को अलग रखा और उन लोगों की मदद की जिन्होंने उन्हें ऊपर उठाया।

उन्होंने कहा, “मैंने उस समय पढ़ाई करना बंद कर दिया और कपड़ों की फैक्ट्री पर काम करना शुरू कर दिया ताकि मैं पैसे कमा सकूं और अपने परिवार को पैसे दे सकूं। उस समय किसी ने हमारी मदद नहीं की। सिर्फ मेरा परिवार और मैं जीवित रहने की कोशिश कर रहे थे।”



जुनून को ढूंढना

Cambodian Kun Khmer World Champion Nou Srey Pov cracks Rika Ishige with a punch

श्रे पोव अपने माता-पिता को सपोर्ट करने के लिए तैयार थीं लेकिन वो अपने करियर के रास्ते को लेकर पूरी तरह उत्साहित नहीं थी।

गारमेंट फैक्ट्री का जीवन मुश्किल था और एक साल से भी ज्यादा समय तक काम करने के बाद वो वहां से चली गईं। ये वो समय था जब उन्होंने मार्शल आर्ट्स में ध्यान लगाया और ये निर्णय भी उन्होंने अपने परिवार से प्रेरित होकर लिया।

फ्नोम पेन की निवासी ने बताया, “मैंने मेरे भाई की वजह से फाइटिंग के बारे में जाना क्योंकि वो भी एक फाइटर थे। मैंने उन्हें ट्रेनिंग करते हुए देखा और मैंने उनकी फाइट्स देखना शुरू किया। इसके बावजूद मेरे पिता ने मुझे ट्रेनिंग और फाइट करने के लिए प्रेरणा दी।”

श्रे पोव ने कुन खमेर सीखना शुरू किया और कुछ शुरुआती बाउट्स के बाद भी उन्होंने अपनी रुचि को कायम रखा।

उन्होंने कहा , “कभी-कभी मैंने हार मानने का निर्णय लिया क्योंकि फाइट करने के लिए मेरे पास कोई विरोधी नहीं था। इसके बावजूद मैंने खुद को कहा, ‘मुझे कुछ-न-कुछ तो हासिल करना ही होगा और मैं जब तक कर नहीं लेती, मैं हार नहीं मानूंगी।'”

इस कम्बोडियाई को थोड़ा अंदाजा जरूर था कि वो “कुछ” से ज्यादा ही हासिल करेंगी।

इस स्टार ने जल्द ही अपना नाम बनाया। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत जीत के साथ की और कुन खमेर में उनका प्रोफेशनल रिकॉर्ड 91-8-2 का हो गया।

उनके शानदार रिकॉर्ड में वर्ल्ड लेथवेई चैंपियनशिप में लड़ते हुए कुन खमेर वर्ल्ड टाइटल जीत भी शामिल है और इस वजह से वो 2018 में “फीमेल फाइटर ऑफ द ईयर” बनीं और फिर उन्होंने बॉक्सिंग में 2019 के दक्षिण-पूर्वी एशियाई खेलों में अपने देश का प्रतिनिधित्व किया।

सर्कल में एंट्री

फरवरी 2019 में श्रे पोव का कठोर परिश्रम रंग लाया, जब उन्होंने ONE Championship में अपना डेब्यू किया।

उनका डेब्यू इससे अच्छा नहीं हो सकता था क्योंकि उन्होंने इशिगे पर बड़ी जीत दर्ज की और अपनी ताकतवर स्ट्राइकिंग को दर्शाया, जिसने उन्हें कुन खमेर वर्ल्ड चैंपियन बनाया था।

हालांकि, श्रे पोव के माता-पिता के लिए चीज़ें अभी भी आसान नहीं हुई हैं।

अब तक उनके पिता को हर समय देखभाल की जरूरत है क्योंकि अभी भी उन्हें गले में परेशानियां है और उन्हें जठरांत्रयों से खून निकलने की समस्या भी है। उनकी परिस्थिति सही नहीं हो सकती और उन्हें हर महीने जांच के लिए अस्पताल जाना पड़ता है।

साथ ही पिछले कुछ सालों में उनकी मां का स्वास्थ्य भी खराब हो रहा है। उनकी मां भी काम नहीं कर पा रही हैं लेकिन वो घर रहकर अपने पोतों की देखभाल करने में सक्षम हैं।

इतनी मुश्किल परिस्थिति के बाद भी श्रे पोव अपने परिवार के लिए चट्टान बनी हुई हैं और ग्लोबल स्टेज पर मुकाबला करने से वो अपने माता-पिता का समर्थन और अपने सपनों को पूरा कर पाई है।

उन्होंने कहा, “ONE ने मेरे जीवन को लोकप्रियता और पैसों से बदलने में काफी मदद की है।”

“लोग मुझे [ONE Championship] डेब्यू के बाद जानने लगे हैं और मैं हर फाइट के ज्यादा पैसे पा रही हूं, जिसका अर्थ है कि मैं मेरे परिवार की मदद करना जारी रख सकती हूं।”

“मैं जानती हूं कि [मेरे लिए अपना लक्ष्य] हासिल करना मुश्किल होगा और मुझे पता नहीं है कि मैं इसे करने में सफल रहूंगी या नहीं। इसके बावजूद मैं कोशिश करती रहूंगी।”

ये भी पढ़ें: ONE के स्टार्स ने माता-पिता से लेकर अच्छे अजनबियों को दिया हीरो वाला सम्मान