न्यूज़

ONE: ड्रीम्स ऑफ गोल्ड में तकनीकी नॉकआउट जीत के बाद लेर्डीसिला ने इलियास इन्नाहाचि को ललकारा

Aug 21, 2019

लेर्डीसिला फुकेत टॉप टीम का मानना ​​है कि लगातार चौथी ONE सुपर सीरीज़ जीत उसके वर्ल्ड खिताब लक्ष्य को हासिल करने के लिए पर्याप्त होनी चाहिए।

पिछले शुक्रवार 16 अगस्त को थाई लीजेंड ने अपने पेशेवर करियर की 190 वीं जीत दर्ज की। जिसमें वह अपने फ्लायवेट मय थाई मैच में सव्वास “द बेबी फेस किलर” माइकल के खिलाफ ONE: ड्रीम्स ऑफ गोल्ड के मुकाबले में दूसरे दौर में तकनीकी नॉकआउट की बदौलत जीता हासिल की।

38 साल के आठ बार के मय थाई वर्ल्ड चैंपियन ने पहले दौर में भी अपने शानदार कौशल की झलक दिखाई। क्योंकि उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी के हमलों का किक, स्वीप और डंप के साथ जवाब दिया लेकिन वह दूसरे स्टेंजा के शुरुआती क्षणों तक अपने सबसे निर्णायक हथियार को बचाए रखेंगे।

उन्होंने माइकल का दाहिना पैर पकड़ा और उसे सख्ती से कैनवास पर गिरा दिया, जिससे साइप्रेट के बाएं हाथ में चोट लग गई और वह लड़ाई को जारी रखने में असमर्थ हो गया।

हालांकि वह प्रतियोगिता खत्म होने के तरीके पर पछतावा करता है। लेर्ड्सिला अभी भी द होम ऑफ मार्शल आर्ट्स में अपनी जीत के साथ रिकॉर्ड को सही बनाए रखने को लेकर खुश था। विशेष रूप से तैयारी के दौरान प्रतिकूल परिस्थिति आने के बावजूद उसने ऐसा किया।

एक बार बैंकाक के इम्पैक्ट एरिना में मुकाबला समाप्त हो जाने के बाद उसने खुलासा किया कि उसे प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए सर्किल में प्रवेश करने के लिए कितना संघर्ष करना पड़ा था। वर्षों में पहली बार थाईलैंड में प्रतिस्पर्धा करना उसके लिए गौरव की बात है जो वह अपने अगले मैच में सामना करना चाहता है।

ONE चैम्पियनशिप: आपको इस लड़ाई में कैसा लगा?

लेर्डसिला फुकेट टॉप टीम: मैं वास्तव में लड़ाई से पहले घायल हो गया था। पैड पर मारते हुए मेरे पैर की एक मांसपेशी खिंच गई इस कारण में करीब दो सप्ताह तक अभ्यास नहीं कर सका। मैं बस या तो बाइक की सवारी कर सकता था या फिर तैराकी कर सकता था।

डॉक्टर ने मुझे तीन महीने तक आराम करने के लिए कहा और मेरे जिम के मालिक भी मुझे बाहर निकालना चाहते थे लेकिन इस लड़ाई को लेकर पहले से ही बहुत प्रचार किया गया था। इसके साथ ही मैं कड़ी ट्रेनिंग भी कर रहा था। इस कारण मैं बाहर नहीं निकलना चाहता था, इसलिए मैंने मुकाबले के लिए आगे बढ़ने का फैसला किया। हालांकि मैं वजन कम करने के लिए दौड़ नहीं सका। इसलिए मैं बस कम खाना खाता था।

Lerdsila Phuket Top Team defeats Savvas Michael at ONE DREAMS OF GOLD

ONE: प्रतियोगिता की शुरुआत में आपकी चोट ने आपके दृष्टिकोण को कैसे प्रभावित किया?

लेर्डसिला: पहले चरण में मुझे अपने पैर में दर्द महसूस हुआ था लेकिन मुझे बस इसे सहन करते हुए आगे बढ़ना था। ठीक है मैंने देखा कि वह मुझसे कितना धीमा था। मुझे बस उससे तेज होना था और इससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ा।

ONE: दूसरे दौर की शुरुआत के बाद आपको कैसा लगा?

लेर्डसिला: दूसरे दौर में जाने से मुझे वास्तव में आत्मविश्वास महसूस हुआ लेकिन अभी भी अपने चोटिल पैर को लेकर थोड़ा चिंतित था। मैंने अपने आप से कहा कि अब केवल छह मिनट और हैं! ‘इसलिए मैं अपना ध्यान सिर्फ उसे पीछे धकलने पर केंद्रित किया।

Lerdsila Phuket Top Team defeats Savvas Michael at ONE DREAMS OF GOLD

ONE: आपने तकनीकी नॉकआउट परिणाम कैसे हासिल किया?

लेर्डसिला: मैंने उसके घुटने पर सही हुक मारा और एक मुक्का भी जड़ दिया। फिर मैंने पैर पकड़ कर उसे दबोच लिया। मुझे पता था कि हुक ने उसे चोट पहुंचाई क्योंकि मैंने महसूस किया कि उसने थोड़ा नियंत्रण खो दिया है। जब मैंने उसे गिराया तो उसने अपना हाथ बाहर रखा और गलत तरीके से गिरा। मुझे नहीं पता था कि उसके बाद क्या हुआ था लेकिन उसे उठने में काफी समय लगा। मैंने देखा कि उसकी कोहनी में कोई समस्या थी। उसके बाद रेफरी ने इसे रोक दिया।

ONE: यह जीत हासिल कर आपको कैसा लगा?

लेर्डसिला: मुझे जीत की खुशी है। मुझे प्रतिस्पर्धा करना पसंद है। परिणाम की परवाह किए बिना अपने कौशल का प्रदर्शन करना मुझे खुशी देता है। प्रत्येक लड़ाई मेरे लिए महत्वपूर्ण है। इसके लिए मैं कड़ी मेहनत करता हूं। जब मैं प्रशिक्षण और तैयारी के लिए प्रतिस्पर्धा करता हूं तो बहुत सारे काम करता हूं। माइकल के हाथ का क्या हुआ, यह मुझे बुरा लगा। मुझे ऐसा होने की उम्मीद नहीं थी। उसे ठीक होने में कम से कम तीन महीने का समय लगने वाला है।

Lerdsila Phuket Top Team defeats Savvas Michael at ONE DREAMS OF GOLD

ONE: इतने लंबे समय के बाद थाईलैंड में प्रतिस्पर्धा करने का आपके लिए क्या मायने थे?

लेर्डसिला: थाई दर्शकों के सामने थाईलैंड में लड़ना मेरे लिए बहुत गर्व का क्षण था।

ONE: अब आप के लिए आगे क्या है?

लेर्डसिला: मैं वास्तव में ONE चैम्पियनशिप के साथ विश्व खिताब के लिए लड़ना चाहता हूं। मैं एक किकबॉक्सिंग वर्ल्ड खिताब हासिल करना पसंद करूंगा और नए वर्ल्ड चैंपियन इलियास एन्नाहाची से लड़ूंगा। मेरे भार वर्ग में रोडांग जितमूआंगन मय थाई विश्व चैंपियन है और मैं विश्व खिताब के लिए थाई से लड़ना नहीं चाहता।

मैंने चीन में किकबॉक्सिंग में बहुत संघर्ष किया है और उस अनुशासन में बहुत सक्षम महसूस करता हूं। मेरी शैली भी किकबॉक्सिंग के अनुरूप है। मुझे लगता है कि इलियास एन्नाहाची को हराने के लिए मेरे पास क्या है।