समाचार

जोश टोना ने केएल में योशीहिसा मोरिमोटो को हराकर की वापसी

जुलाई 18, 2019

ONE: मास्टर ऑफ डेस्टीनी तेज और शानदार शुरुआत के लिए उतरे। ऑस्ट्रेलिया के जोश “टाइमबॉम्ब” टोना और जापान के योशीहिसा “मैड डॉग” मोरिमोटो के बीच ONE सुपर सीरीज किकबॉक्सिंग फाइट के लिए धन्यवाद।

मलेशिया के कुआलालंपुर में आशिता एरिना में 12 जुलाई, शुक्रवार को तीन राउंड के नॉन-स्टॉप एक्शन के बाद टोना ने शानदार जीत हासिल की। हालांकि, ऑस्ट्रेलियाई ने जीत हासिल करने के लिए कई बार वापसी की।

“टाइमबॉम्ब” ने जल्दी से रिंग के केंद्र में जगह बनाई को अपने आप को सैट किया, लेकिन उन्होंने अपने फ्लाईवेट प्रतिद्वंद्वी को प्रतियोगिता में अपने तरीके से कुछ करने के लिए थोड़ा समय भी दिया।

मोरीमोतो जो पैराएस्ट्रा एकेके का प्रतिनिधित्व करते हैं ने अपनी रफ्तार को बढ़ाया, लेकिन थोड़ा ढीला पड़ गए, क्योंकि उन्होंने अपनी आक्रामकता को मिलाने का प्रयास किया। सिर और शरीर पर ताकतवर पंच विशेष तौर पर उनकी दाहिनी रैंड पर प्रहार करते हुए 28 वर्षीय टोक्यो निवासी को पहले तीन मिनट के बाद शुरुआती बढ़त दिलाई।

हालांकि, टोना की धीमी शुरुआत के लिए जाने जाते हैं और आईएसकेए के-1 विश्व चैंपियन ने दूसरे राउंड में अपनी रफ्तार बढ़ा ली जिसमें “मैड डॉग” को वापसी करनी पड़ी।

जापानी एथलीट ने जल्द ही अपनी में आ गया और फाइट को एक दूसरे पर बराबर प्रहार करने पर ले आए, लेकिन “टाइमबॉम्ब” की ओर से किए गए एक बड़े काउंटर राइट हुक ने मोरिमोटो को हिला कर रख दिया। हालांकि वह इस प्रहार से जल्द ही संभल गए और फिर से रिंग में अपने एक्शन से आग उगलना शुरू कर दिया, लेकिन यह हमला इतना भी कारगर नहीं रहा कि वह ऑस्ट्रेलियाई को राउंड अपने नाम करने से रोक सके।

दोनों ही योद्घा जैसे ही अंतिम चरण की फाइट के लिए अपने-अपने कोने से बाहर आए वैसे ही फाइट का परिणाम अधर में लटक गया।”मैड डॉग” ने कैनबरा के फाइटर को जल्दी ही रस्सियों के बीच फंसा दिया, लेकिन टोना ने फिर से अपने आप को संभालते हुए बड़े हमलों के साथ के आगे बढ़ना शुरू कर दिया।

वो दोनों आखिरी बैल तक आगे-पीछे होते रहे, लेकिन “टाइमबॉम्ब” की ओर से सिर द्वारा बेहतरीन तरीके से किए गए प्रहार ने उसकी आंख पर चोट पहुंचा दी। उस समय ऐसा लगा कि वह अपना संतुलन खो बैठेंगे।

इसके बार सभी तीनों जजों ने 31 साल के पक्ष में सर्वसम्मति से फैसला दिया और उन्होंने वन चैम्पियनशिप में अपनी दूसरी जीत दर्ज की।

इसने स्टॉकडे ट्रेनिंग सेंटर और म्यूयू प्रतिनिधि के रिकॉर्ड में 33-17 तक का सुधार कर दिया।