मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स

एलन गलानी ने अपने छिपे हुए टैलेंट से पर्दा उठाया

एलन ”द पैंथर” गलानी को ONE Championship के प्रशंसक उनकी बेहतरीन स्ट्राइकिंग के लिए जानते हैं लेकिन कैमरून के स्टार के फुटवर्क और लचीलेपन के कारण भी अब सर्कल में सबकी नजरें उनकी ओर चली गई हैं।

चार बार के किकबॉक्सिंग और मॉय थाई वर्ल्ड चैंपियन डांस फ्लोर पर अपने मूव्स और जानी-मानी स्पिनिंग किक्स से सबकी नजरों में छा गए हैं।

गलानी डांस करने वालों के आस-पास पले बढ़े हैं और ये उनका पसंदीदा टाइमपास भी है।

 

उन्होंने बताया, ”ये मेरी फैमिली का हिस्सा था। मेरी मां को डांस करना बहुत अच्छा लगता था। उनका कहना था कि ये खुश रहने और तनाव से दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है।”

”हम हमेशा डांस करते रहते थे। मां मेरे भाई को हर सप्ताह सालसा सिखाती थीं और हम ऐसे ही माहौल में बड़े हुए हैं।”

ज्यादातर चीजों की तरह ”द पैंथर” अपना दिमाग उन्हीं चीजों में लगाते हैं, जिसमें लगता है कि वो अच्छा कर सकते हैं। ऐसे में उन्होंने ब्रेकडांसिंग में हाथ आजमाना किशोरावस्था से ही शुरू कर दिया था। अपने इस हुनर को उन्होंने प्रतियोगिताओं में भी अच्छे से परखा है।

पुराने दिनों की याद करते हुए उन्होंने बताया, ”मुझे प्रतियोगिता करना हमेशा से अच्छा लगता था इसलिए मैंने ब्रेकडांसिंग की प्रतियोगिताओं में 13 साल की उम्र से ही हिस्सा लेना शुरू कर दिया था।”

”ज्यादातर जिन प्रतियोगिताओं में मैंने हिस्सा लिया, उनमें अच्छा प्रदर्शन किया। मैं ये देखकर बहुत खुश था कि भले ही वो डांसिंग थी, लेकिन मैं उसमें अव्वल था।”



गलानी को जो भी सोशल मीडिया पर फॉलो करता है, वो उनकी सुपरमैन जैसी एथलेटिज्म को जानता है खासकर कि उनके हेवीवेट लंबे-चौड़े कद को जानता है।

अपनी युवावस्था के दौरान भी वो काफी बड़े दिखते थे लेकिन उन्हें लचीलेपन को लेकर कोई दिक्क्त नहीं हुई क्योंकि उन्होंने अपनी मसल्स को ढीला रखा और बॉडी को मूव करते रहे। ऐसे में उन्हें किक मारने या खींचतान करते समय किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं होती थी।

44 वर्षीय एथलीट ने बताया, ”मैं बचपन से ही काफी बड़ा और लंबा-चौड़ा था। मैं जब टीनेज में आया, तब भी काफी भारी और गठीला था। इसके बावजूद मैं काफी चुस्त और लचीला भी था।”

”मैं अपने बड़े कद, भारी वजन और बनावट के मुकाबले काफी फुर्तीला और लचीला हूं। डांस में भी काफी लचीला था। मैं अपनी कमर को आसानी से हिला सकता था।”

गलानी ने 6 साल की उम्र से जूडो के साथ मार्शल आर्ट्स का प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया था। उम्र बढ़ने के साथ उन्होंने किकबॉक्सिंग, मॉय थाई और सवाटे पर भी हाथ आजमाना शुरू कर दिया था।

कई तरह के मार्शल आर्ट्स में पुरस्कार जीतने के साथ वो डांस भी करते रहे। उनका मानना है कि हर विधा एक-दूसरे की पूरक होती है।

 

”द पैंथर” कहते हैं, ”अगर कहीं म्यूजिक बज रहा हो तो मैं तुरंत उसके रिदम महसूस करके उसी के अनुसार डांस कर लेता हूं और ये मार्शल आर्ट्स के लिए भी जरूरी है।”

”आपका खुद से फिजिकली, मेंटली और फ्लेक्सबिल तरीके से जुड़ना बहुत जरूरी है। आपको उसी तरह चीजों को अपनाना होता है जैसा कि मैं म्यूजिक सुनते समय अपनाता हूं। मैंने मार्शल आर्ट्स को इसी तरह से अपनाया है।’

”अगर आपकी स्थितियां बदलती हैं या पोजिशन चेंज होती है या विरोधी बदलता है तो आपको भी चीजों में बदलाव करना होता है। ये चीजें एक-दूसरे से जुड़ी होती हैं।”

आप अब भी पाएंगे कि गलानी हर मौके का पूरा फायदा उठाते हैं। चाहे वो ONE में उनका मुकाबला किसी अच्छे विरोधी से हो या जिम में मुश्किल दिनों को अच्छे से बिताना हो। वे ये सुनिश्चित करते हैं कि डांस के प्रति उनका उत्साह कभी कम न हो।

”मुझे डांस की हर चीजों से प्यार है। मैंने ऐसा करना कभी बंद नहीं किया है और ये मुझे खुश रखता है।”

ये भी पढ़ें: आंग ला न संग कैसे बने म्यांमार के चमकते हुए सितारे

हमारे सर्वे में हिस्सा लेकर VVIP अनुभव जीतें!