न्यूज़

अब्दुलेव: पूर्व वेल्टरवेट वर्ल्ड चैंपियन के खिलाफ मैच से पहले कोई दबाव महसूस नहीं हो रहा

जनवरी 21, 2021

अधिकतर एथलीट्स के लिए ग्लोबल स्टेज पर डेब्यू करना किसी सपने के पूरे होने जैसा होता है। डेब्यू मैच में ही पूर्व वर्ल्ड चैंपियन से सामना हो रहा हो तो मुश्किलें बढ़ जाती हैं, लेकिन गाज़ीमुराद अब्दुलेव घबराने वाले एथलीट्स में से एक नहीं हैं।

शुक्रवार, 22 जनवरी को ONE: UNBREAKABLE में अपराजित रूसी स्टार का सामना ज़ेबज़्टियन “द बैंडिट” कडेस्टम से होगा और उन्हें इस बड़े मैच से पहले कोई घबराहट नहीं हो रही है।

अपने मैच से पहले अब्दुलेव ने कहा, “मुझे कोई दबाव महसूस नहीं हो रहा है। हर रोज मैं 2 बार ट्रेनिंग करता हूं इसलिए मैं मानसिक और शारीरिक रूप से भी मैच के लिए तैयार हूं।”

अब्दुलेव चाहे अपना डेब्यू कर रहे हों, लेकिन ONE Championship फैंस उन्हें पहले से जानते हैं। जून 2019 में ONE Warrior Series 6 में उन्होंने कार्लोस प्रेट्स को सर्वसम्मत निर्णय से हराया था।

उसी मैच ने Team Wildhearts के प्रतिनिधि को प्रोत्साहन दिया कि वो किसी भी चुनौती से पार पाने में सक्षम हैं।

उन्होंने कहा, “वो मेरे करियर का सबसे कठिन मुकाबला रहा।”

“मेरा मैच गुरुवार को था। रविवार रात मॉस्को से उड़ान भरी और मैच से पहले मुझे फ्लू हो चुका था। मैच के दिन भी मेरी तबीयत बहुत खराब थी।

“मैं डॉक्टर के पास नहीं गया क्योंकि मैं किसी भी हालत में रिंग में उतरना चाहता था। उस स्थिति ने मुझे अंदर से बहुत मजबूत बनाया।”



अब्दुलेव दागेस्तान से आते हैं, जिसे दुनिया में टॉप लेवल के रेसलर्स और कॉम्बैट स्पोर्ट्स एथलीट्स को तैयार करने के लिए जाना जाता है।

माखाछकला निवासी एथलीट का ग्रैपलिंग गेम वर्ल्ड-क्लास है और इसी की मदद से वो “द बैंडिट” को हराने की उम्मीद कर रहे हैं।

24 वर्षीय स्टार ने कहा, “मेरे हिसाब से मेरी शारीरिक ताकत, कंडिशनिंग और रेसलिंग मेरे सबसे बड़े हथियार हैं।”

“ग्रैपलिंग और रेसलिंग मेरी सबसे बड़ी ताकत हैं, अब मैं दूसरी स्किल्स में भी सुधार की कोशिश कर रहा हूं। मैं बॉक्सिंग और अपनी किकिंग स्किल्स में भी सुधार करने का प्रयास कर रहा हूं।

“मैंने सही मौके का इंतज़ार कर उन्हें टेकडाउन करने के बाद हराने का प्लान बनाया है।”

अब्दुलेव ने चीन में सांडा की ट्रेनिंग करते हुए अपनी स्ट्राइकिंग में भी सुधार किया है, लेकिन कडेस्टम का स्टैंड-अप गेम काफी अच्छा है। रूसी स्टार को इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि उनके प्रतिद्वंदी कितने खतरनाक एथलीट हैं और वो उन्हें कड़ी चुनौती देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

अब्दुलेव ने कहा, “उन्होंने अपना अलग गेम प्लान तैयार किया है और मैंने अपने हिसाब से रणनीति बनाई है। इसलिए देखते हैं कौन अपने गेम प्लान को सही तरीके से अमल में ला पाता है।”

“ज़ेबज़्टियन धैर्य से काम लेते हैं और मैं एक लंबे मैच की उम्मीद कर रहा हूं। मुझे भी उनके खिलाफ धैर्य अपनाते हुए अपने मूव्स का इस्तेमाल करना होगा।”

ये अब्दुलेब के लिए बड़ी चुनौती होगी क्योंकि डेब्यू मैच में ही उनका सामना पूर्व ONE वेल्टरवेट वर्ल्ड चैंपियन से हो रहा है।

उनका रिकॉर्ड 5-0 का है, लेकिन अपराजित रूसी एथलीट को अपने रिकॉर्ड या अपने प्रतिद्वंदी के रिकॉर्ड से ज्यादा फर्क नहीं पड़ता।

उन्हें केवल इस बात से मतलब है कि इस मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स मैच में उनकी स्किल्स की भिड़ंत में किसे बढ़त मिलेगी।

अब्दुलेव ने कहा, “मैं अपने अगले मुकाबले को अपने पिछले मैचों की ही तरह देख रहा हूं। मैं हर बार की तरह रिंग में उतरूंगा और दिखाऊंगा कि मैं क्या करने में सक्षम हूं।”

“मुझे अपने रिकॉर्ड से कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं केवल अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने पर ध्यान देना चाहता हूं और यही बात मेरे लिए सबसे ज्यादा मायने रखती है।”

अब्दुलेव के आत्मविश्वास ने उन्हें अभी तक अपने करियर की सबसे बड़ी चुनौती के लिए तैयार किया है।

अब बात उनकी स्किल्स पर निर्भर करती है। मैच में वो अपनी स्किल्स का जिस तरीके से इस्तेमाल करेंगे, परिणाम भी वैसा ही आएगा।

अगर अपने डेब्यू में रूसी स्टार ने यादगार प्रदर्शन किया तो संभव ही डिविजन के अन्य एथलीट्स के लिए बड़ा खतरा बनकर उभरेंगे।

अब्दुलेव ने कहा, “अगर मैं अपनी काबिलियत का 80% प्रदर्शन भी कर पाया तो मुझे बहुत खुशी होगी और जीत की संभावना भी ज्यादा होगी।”

“इस जीत के बाद मुझे डिविजन के अन्य एथलीट्स पहचानने लगेंगे। ज़ेबज़्टियन को हराने के बाद मेरा लक्ष्य वर्ल्ड चैंपियनशिप के एक कदम करीब पहुंचना होगा।”

ये भी पढ़ें: कडेस्टम एक बार फिर वर्ल्ड चैंपियन बनने के सफर पर निकलने को हैं तैयार