लाइफ स्टाइल

5 तरीके जिनसे क्रॉसफिट आपकी मार्शल आर्ट्स स्किल्स में सुधार ला सकता है

नवम्बर 25, 2019

मार्शल आर्ट्स एक ऐसा स्पोर्ट है जहाँ समय के साथ बड़े से बड़े एथलीट को भी लगातार अपने स्किल सेट, मूव सेट में बदलाव करना जरुरी होता है। वैसे तो अनुभवी लोगों के साथ काम करने से ज्यादा सीख मिलती है लेकिन क्रॉसफिट ट्रेनिंग भी ज्यादातर मौकों पर कारगर साबित होती है।

सही तरीके से ट्रेनिंग करना और क्रॉसफिट ना केवल आपकी ताकत को बढ़ाती है बल्कि स्टेमिना और काफी अन्य चीजों में इससे फायदा पहुंचता है।

यहाँ आप पढ़ सकते हैं उन 5 तरीकों के बारे में कि किस तरह क्रॉसफिट आपको बेहतर मार्शल आर्टिस्ट बनने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें: भारतीय स्टार राहुल राजू ने बताया, खुद पर भरोसा हो तो कुछ भी असंभव नहीं

#1 तेज और ताकतवर किक्स

क्रॉसफिट में आमतौर पर ज्यादा ध्यान लेग वर्क पर दिया जाया है। अपने पैरों को मजबूत बनाने के लिए डेडलिफ्ट्स, क्लींस, स्क्वॉट, रोइंग, वॉल बॉल्स और भी कई एक्सरसाइज कर सकते हैं जो आपकी बॉडी के निचले हिस्से को मजबूत बनाए।

इस तरह की एक्सरसाइज से ना केवल पैरों की ताकत बढ़ती है बल्कि कुछ समय बाद आप महसूस करेंगे कि आप बेहद तेजी से अपने पैरों को मूव कर पा रहे हैं।

क्रॉसफिट शुरू करने के बाद कुछ ही महीनों में इसका असर दिखना शुरू हो जाता है। जैसे ताकत बढ़ना, शरीर और पैरों में चुस्ती जो किसी भी मार्शल आर्टिस्ट के लिए सबसे जरुरी होता है।

यह भी पढ़ें: कैसे नोंग-ओ ने पेटमोराकोट को महान बनने में मदद की

#2 स्टांस में बदलाव ज़रूरी

mixed martial arts stances

किक्स के मजबूत होने के बाद दूसरा पड़ाव होता है कि किस तरह अपने स्टांस को बेहतर किया जाए। दुनिया में सभी तरह के मार्शल आर्ट में यह सबसे जरुरी होता है कि आप किस मुद्रा में खड़े हैं।

क्रॉसफिट करने से पहले आमतौर पार आर्टिस्ट हॉर्स स्टांस और ट्विस्ट स्टांस का ज्यादा प्रयोग करते हैं लेकिन क्रॉसफिट ट्रेनिंग शुरू करने के बाद एथलीट्स की पहुंच बढ़ जाती है जिससे वो बेहतर से भी बेहतर टेकडाउन से बचने में सक्षम हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: कॉलबी नॉर्थकट ने मार्शल आर्ट्स वर्ल्ड चैंपियन बनने के लिए किया कड़ा संघर्ष

#3 शरीर में चुस्ती लाता है

agility for mixed martial arts

लेग वर्क काफी हद तक आपकी किक्स और स्टांस को तगड़ा करने में मदद करता है। क्रॉसफिट इससे अलग कंधों को भी मजबूती देता है और साथ ही अच्छे एब्स बनाने में भी मदद मिलती है।

पुल-अप्स, पुश प्रेस, क्लीन एंड प्रेस और कंधों को मजबूत बनाने वाली एक्सरसाइज भी शरीर के उपरी हिस्से को मजबूती देते हैं।

सोचिए अगर आप एक पुल-अप बार पर लटक रहे हैं, इससे आपके शरीर के ऊपरी हिस्से को मजबूती और चुस्ती दोनों मिलती हैं।

यह भी पढ़ें: जोरिना बार्स ने अपने बचपन के सपने को जिंदगी में किया शामिल

#4 डिफेंसिव तकनीक में सुधार

mixed martial arts defense

एक तरफ क्रॉसफिट से आप अपने पैरों को मजबूत करते हैं तो दूसरी तरफ कंधे और चेस्ट भी मजबूत होते जा रहे हैं। साथ ही आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि क्रॉसफिट मार्शल आर्टिस्ट की डिफेंसिव तकनीक को भी बेहतर बनाता है।

अगर किसी तरह फाइट के दौरान आप अपने प्रतिद्वंदी की स्ट्राइक को ब्लॉक करने में सफल नहीं हो पाए, तो भी क्रॉसफिट आपको उसे झेलने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें: ऋतु फोगाट का रेसलिंग फीनोम से ONE सुपरस्टार बनने तक का सफर

#5 धैर्य क्षमता और स्टेमिना को बढ़ाता है

endurance for mixed martial arts

किसी भी तरह की एक्सरसाइज से कोई भी व्यक्ति थका हुआ महसूस करने लगता है लेकिन मार्शल आर्ट्स में जल्दी थकने का सीधा मतलब हार होता है।

वहीँ क्रॉसफिट ट्रेनिंग की शुरुआत में भी थकान लाज़िमी है मगर जैसे-जैसे दिन बीतते जाएंगे आप अपने स्टेमिना में भी सुधार महसूस करने लगते हैं। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि फाइट के दौरान काफी एथलीट जल्दी थक जाते हैं लेकिन क्रॉसफिट ना केवल स्टेमिना बल्कि धैर्य रखने की क्षमता को भी बढ़ाता है।