विशेष कहानियाँ

सुनौटो का अंतिम उद्देश्य है अपनों की मदद करना

अक्टूबर 6, 2019

सुनोटो “टर्मिनेटर” जब ONE: CENTURY PART I के रिंग में उतरेंगे तो उनका प्रमुख लक्ष्य खुद की पहचान बनाने से कहीं अधिक बड़ा होगा।

अगले रविवार, 13 अक्टूबर, ONE Championship की सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले इंडोनेशियाई दिग्गज का सामना क्वॉन वोन इल “प्रिटी बॉय” से होगा। इस मुकाबले में मिली जीत उन्हें The Home Of Martial Arts में नई ऊंचाइयों पर पहुंचा सकती है।

हालांकि, वर्ल्ड टाइटल शॉट के लिए अपने तरीके से जीतने और गर्व के साथ अपने देश का प्रतिनिधित्व करने की उनकी महत्वाकांक्षाएं उनके चाहने वालो को सुरक्षित भविष्य प्रदान करने के उनके सपनों का एक जरिया है।

मध्य जावा के ब्लोरा में एक गरीब परिवार में जन्मे और पले-बढ़े सुनौटो को माता-पिता के स्कूल की फीस भरने में असमर्थ होने के कारण प्राथमिक स्कूल के बाद ही अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी थी।

यहां तक ​​कि जब वह स्कूल में था तो वह अपने पिता के टूटे हुए जूते ही पहना करते थे। इसका कारण था कि उनके घर में वही एकमात्र जोड़ी जूते थे। परिवार के सामने आई कठिनाइयों के बाद भी 34 वर्षीय फाइटर हमेशा चीजों को सकारात्मक के साथ देखते हैं।

उन्होंने कहा कि हम जेलम से बने एक घर में रहते थे। वह इतना जर्जर था कि बारिश में हमेशा परेशानी होती थी, लेकिन फिर वह खुदकिश्मत है कि वह बांस से बने घरों से कहीं अधिक बेहतर था।

जब वह छोटे थे तो उनका परिवार उनकी दिवंगत दादी द्वारा बनाए गए पुलाव [कसावा का एक पारंपरिक स्नैक] का नाश्ता करते थे। उस दौरान उनका परिवार चावल खरीदने तक के लिए सक्षम नहीं था। वह बहुत बुरी स्थिति थी, क्योंकि वह आपको नियमित खाना पड़ता था, लेकिन इसके अलावा उनके पास दूसरा कोई विकल्प भी नहीं था।

“टर्मिनेटर” ने उन हालातों में भी उम्मीदों को नहीं छोड़ा और आज उसी जज्बे ने उन्हें कठिनाइयों से जीतते हुए मार्शल आर्ट का बड़ा दिग्गज बना दिया।



उन्होंने कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह रिंग में किसके खिलाफ उतर रहे हैं। इसके अलावा उन्हें मुक्केबाजी के लिए की जाने वाली कड़ी मेहनत में भी थकावट महसूस नहीं होती है। यह सब उनके बचपन में किए गए संघर्षों के आगे कुछ भी नहीं है।

उन्होंने बताया कि आर्थिक कमजोरी के कारण वह स्कूल नहीं जाते थे। ऐसे में उन्हें खुद के परिवार को जीवित रखने के लिए कम उम्र में ही नौकरी ढूंडनी पड़ी थी। उनका पूरा परिवार उन्हीं पर निर्भर था और उनका छोटा भाई खुद की देखभाल करने में भी असक्षम था।

इंडोगिअम और टीम फैंटम के प्रतिनिधि ने बताया कि किस तरह उनका भाई मानसिक रूप बीमार है और उसे बोलने में परेशानी होती है। इसलिए वह स्कूल नहीं जा सका, या नौकरी छोड़ कर स्वतंत्र रूप से अपना समर्थन नहीं कर सका।

सुनौटो पड़ोसी शहर सुरबाया में कपड़े धोने की सफाई सेवा प्रदाता कंपनी लिए एक चरवाहे और एक कूरियर के रूप में काम करने गए थे। यह ग्लैमरस काम नहीं था, लेकिन इसने उन्हें मार्शल आर्ट में अपना भविष्य बनाने के लिए प्रेरित किया।

नियति उसे सुरबाया के एक गली में एक ताइक्वांडो जिम में ले गई, जब वह अपना दौर बना रहा था, और उनकी जिज्ञासा ने उसे खेल के बारे में और जानने के लिए प्रेरित किया।

उन्होंने जब अपनी मेहनत और कीमती समय से कमाए हुए पैसे खर्च किए तो वह हक्के-बक्के रह गए। वह रात में प्रशिक्षण लेते थे और वह उनकी नौकरी को प्रभावित भी नहीं करता था।

"The Terminator" Sunoto lands a big right hand at ONE: DAWN OF HEROES.

प्रशिक्षण के बाद उन्होंने जल्द ही अपने पहले टूर्नामेंट में हिस्सा लिया और फिर बीजेजे जैसे अन्य कौशलों को सीखना शुरू कर दिया। उन्होंने जब अपने देश में प्रशिक्षण को छोड़ दिया, तो वह 2012 में अपने मार्शल आर्ट के सपनों को आगे बढ़ाने के लिए जकार्ता चले गए।

उनका मानना ​​था कि एक पेशेवर मिक्स्ड मार्शल हीरो के रूप में वह जो पैसा कमा सकते हैं, वह पारंपरिक विषयों में से किसी में भी अधिक है। यह सही साबित हुआ जब उन्होंने अपने पहले दो पेशेवर मुकाबलों में जीत हासिल की, और वैश्विक मंच पर प्रतिस्पर्धा करने के लिए गए।

सुनौटो के पास दुनिया के सबसे बड़े मार्शल आर्ट संगठन में 15 मुकाबले हैं – जो किसी भी अन्य इंडोनेशियाई से अधिक है, और इस संख्या से बेहतर रिकॉर्ड केवल पांच अन्य एथलीटों के पास ही है।

34 वर्ष की आयु में भी उनका जोश उतना ही बना हुआ है। वह अपने राष्ट्र और उसके भाई जैसे युवाओं को प्रेरित करने और अपने परिवार के लिए एक समृद्ध भविष्य को सुरक्षित करने के लिए वैश्विक मंच पर अधिक सफलता के लिए आगे बढ़ना जारी रखेंगे।

उन्होंने कहा कि उनका सबसे बड़ा सपना अपने गृहनगर ब्लारा में रहना और जीना है। कुछ नई [मार्शल आर्ट] प्रतिभाओं की तलाश के अलावा, वह अपने माता-पिता की देखभाल भी करना चाहता हैं, जो अब वृद्घावस्था में पहुंच गए हैं।

इसके अलावा वह अपने भाई की देखभाल कर रहे हैं। उन्हें विश्वास है कि वह धीरे-धीरे स्वस्थ हो जाएगा। सुनौटो केवल यही चाहते हैं कि वह स्वतंत्र हो और अपनी रक्षा करने में सक्षम हो। इससे उन्हें खुशी होगी।

यह भी पढ़ें: क्रिश्चियन ली को हराने के लिए सायिद हुसैन अर्सलानअलीएव के पास है एक ‘सीक्रेट’ प्लान

ONE: CENTURY | ONE Championship का 100 वां लाइव इवेंट | टिकट खरीदने के लिए यहां क्लिक करें

  • यूएसए में PART I 12 अक्टूबर को 8 ईएसटी पर और PART II 13 अक्टूबर को सुबह 4 बजे ईएसटी पर देखें
  • भारत में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 5:30 बजे IST और PART II 1:30 बजे IST पर देखें
  • जापान में PART I को 13 अक्टूबर को सुबह 9 बजे JST और PART II को शाम 5 बजे JST में देखें
  • इंडोनेशिया में PART I को 13 अक्टूबर को सुबह 7 बजे WIB और PART II 3pm WIB पर देखें
  • सिंगापुर में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 8 बजे एसजीटी और PART II 4 बजे एसजीटी पर देखें
  • फिलीपिंस में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 8 बजे पीएचटी और PART II 4 बजे पीएचटी पर देखें

ONE: CENTURY इतिहास की सबसे बड़ी विश्व चैम्पियनशिप मार्शल आर्ट प्रतियोगिता है जिसमें 28 विश्व चैंपियनशिप विभिन्न मार्शल आर्ट शैलियों का प्रदर्शन करेंगे। इतिहास में किसी भी संगठन ने कभी भी एक ही दिन में दो पूर्ण पैमाने पर विश्व चैम्पियनशिप इवेंट आयोजित नहीं किए हैं।

13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में प्रसिद्ध रोयोगोकू कोकूगिकन में कई वर्ल्ड टाइटल मुकाबलों, वर्ल्ड ग्रां प्रिक्स चैंपियनशिप फाइनल की एक तिकड़ी और कई वर्ल्ड चैंपियन बनाम वर्ल्ड चैंपियन मैच लाने के साथ The Home Of Martial Arts नई जमीन पर दस्तक देगा।