विशेष कहानियाँ

डैनी किंगड पहले विश्व खिताब की तुलना में अब बदल गया

सितम्बर 16, 2019

डैनी “द किंग” किंगड ने जब प्रशिक्षण शुरू किया था तब ही मिक्सड मार्शल आर्ट वर्ल्ड चैंपियन बनने का सपना देखा था। अब डेमेट्रियस “माइटी माउस” जॉनसन के खिलाफ उतरकर उनके पास इसे सच करने का मौका है।

रविवार 13 अक्टूबर को ONE: सेन्चुरी भाग I में टीम लेकी की जवान तोप यकीनन सबसे बड़े एथलीट को चुनौती देगा जो कभी वन फ्लाईवेट वर्ल्ड ग्रांड प्रिक्स चैम्पियनशिप के फाइनल में देखा गया।

फिलीपीनो स्टार का प्रतिष्ठित एथलीट के खिलाफ दबदबा होना निश्चित है लेकिन दो साल पहले एक रचनात्मक अनुभव के कारण उसे टोक्यो, जापान में सामने आने वाली चुनौती को लेकर कोई डर नहीं है।

नवंबर 2017 में 22 साल की उम्र में किंगड को एड्रियानो “मिकिन्हो” मोरेस के साथ ONE फ्लाईवेट वर्ल्ड खिताब मुकाबले में डाल दिया था, लेकिन वो मानते हैं कि यह एक ऐसा मौका था जिसके लिए वह तैयार नहीं थे।

उसने स्वीकार किया कि “कुछ याद आ रही है। उसने मुझे पीटा था। सबसे पहले और महत्वपूर्ण बात ये है कि उस मुकाबले में मेरी कमी मेरी घबराहट है। यह विश्व खिताब शॉट के लिए पहली बार था। इसलिए मैं वास्तव में घबरा हुआ था। मैं अपने खेल की योजना का पालन करने में असमर्थ था। क्योंकि जब में पिंजरे के अंदर लड़ रहा था तो यह मेरे दिमाग में से निकल गया।”

यह वह आदमी नहीं था जिसे हम उस समय से जानते हैं जब वह ऊर्जावान, सभी मुकाबलों में मनोरंजन करने वाला। जिसने अपने विभाजन में सर्वश्रेष्ठ में से कुछ के खिलाफ ONE इतिहास में सबसे शानदार 15 मिनट संघर्ष पेश किया।

मोरेस के खिलाफ वह थोड़ा हिचकिचा रहा था। वह अपने प्रतिद्वंद्वी के सामने सही से खड़ा था। उन्होंने अपने शॉट्स नहीं लगाए। इसलिए “मिकिन्हो” ने आसानी से लो किक को पकड़कर उन्हें पहले राउंड में नीचे गिराने में सफलता हासिल की। “द किंग” ब्राजील के जिउ-जित्सु ब्लैक बेल्ट के खिलाफ मैदान पर हार गया।

बचने के लिए एक हताश प्रयास में उसने अपनी पीठ को छोड़ दिया। इसने विश्व चैंपियन को फिनिश के लिए एक सुनहरा मौका दे दिया। कुछ ही क्षणों के बाद मोरास ने एक रियर-नेक्ड चोक लगा दिया तो किंगड जल्दी ही टैप करना पड़ा।

वह कहते हैं कि “मैंने उस लड़ाई में जो सीखा वो ये है कि मेरी घबराहट मुझे सही नहीं लगती। आपका दिल और दिमाग लड़खड़ाना नहीं चाहिए। यदि आप संकोच करते हैं तो सब कुछ गंवा देंगे। यही नहीं आप अपना गेम प्लान भी भूलकर और कमजोर पड़ जाओगे। मैंने गेम प्लान को ध्यान में रखना सीखा। घबराना नहीं चाहिए, अन्यथा तुम अपना गेम प्लान बर्बाद कर दोगे।”

वह हार बगुइओ सिटी के व्यक्ति के लिए विनाशकारी हो सकती थी लेकिन इसने उसे लंबे समय तक हतोत्साहित नहीं किया। सब कुछ ठीक करने के लिए उसने जिम में वापसी की- जिसमें उसने पिछली बार कमियां छोड़ी थी। जिसमें उसके दांव-पेंच के प्रदर्शनों फेहरिस्त में पूरा कायाकल्प शामिल था।

किंगड ने सीधे लगातार जीत के साथ वापसी की लेकिन हर मुकाबले के बाद उसने अपने प्रदर्शन की समीक्षा की। यह देखा कि उसे और क्या काम करने की ज़रूरत है ताकि वह अपने खेल में जितनी भी कमियां है उन्हें ठीक कर सके।

इसने उन्हें उत्कृष्ट विपक्ष के खिलाफ लगातार छह जीत हासिल करने के लिए प्रेरित किया और ONE फ्लाईवेट वर्ल्ड ग्रांड प्रिक्स विश्व चैम्पियनशिप फाइनल में पहुंचाया।

उसने कहा कि “पिछले दो वर्षों में मैं एक मिक्सड मार्शल कलाकार के रूप में विकसित हो गया था। क्योंकि मैंने अपनी सभी कमियों को देखा और जिम में उन पर काम किया ताकि अपने अगले मुकाबलों में उन्हें फिर से होने से रोक सकूं। मैं बहुत आवेगी हुआ करता था लेकिन अब मुझे एहसास हो गया है कि मैं और अधिक तनाव रहित और चालक हूं। मैंने अपने ग्राउंड गेम में भी सुधार किया है।”

अब नया और बेहतर डैनी किंगड ONE: सेन्चुरी पर जॉनसन का सामना करने और प्रतियोगिता का ताज पहनने के लिए तैयार है। 12 बार के फ्लाईवेट वर्ल्ड चैंपियन के रूप में अमेरिकी अपने इतिहास के लिए शुक्रगुजार होगा, लेकिन फिलिपिनो को इसमें संदेह नहीं है कि वह परेशान हो सकता है, गोल्ड जीत सकता है, और ONE फ्लाईवेट वर्ल्ड चैम्पियनशिप के लिए मोरास के साथ रीमैच तय कर सकता है।

उसने बताया कि “यह उस हार के बाद एक अलग डैनी किंगड है। हम अब अलग तरह से प्रशिक्षण ले रहे हैं। मैंने अब और अधिक ध्यान केंद्रित किया। मैं विश्व खिताब पाने के लिए अधिक दृढ़ हूं। उस नुकसान ने मुझे और अधिक परिपक्व होने के लिए विकसित किया। मैं उस विश्व खिताब को हासिल करने के लिए तैयार हूं।”

और भी पढ़ें: डैनी किंगड के सभी शीर्ष 5 एक्शन मुकाबले

टोक्यो | 13 अक्टूबर | ONE: सेन्चुरी| टीवी: वैश्विक प्रसारण के लिए स्थानीय सूची का अवलोकन करें | टिकट: http://bit.ly/onecentury19

ONE: सेन्चरी इतिहास की सबसे बड़ी विश्व चैम्पियनशिप मार्शल आर्ट प्रतियोगिता है जिसमें 28 विश्व चैंपियनशिप विभिन्न मार्शल आर्ट का प्रदर्शर करेंग। इतिहास में किसी भी संगठन ने कभी भी एक ही दिन में दो पूर्ण पैमाने पर विश्व चैम्पियनशिप के आयोजनों को बढ़ावा नहीं दिया।

13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में प्रसिद्ध रयोगोकु कोकुगिकन में कई वर्ल्ड टाइटल मुकाबलों, वर्ल्ड ग्रांड प्रिक्स चैंपियनशिप फाइनल की एक तिकड़ी और कई वर्ल्ड चैंपियन बनाम वर्ल्ड चैंपियन मैच के साथ-साथ The Home Of Martial Arts नई जमीन तलाश करेगा।