संघर्ष के दौर से निकलने के बाद पैट्रिक श्मिड अपने ONE डेब्यू के लिए हैं तैयार

Patrick Schmid throws up a fist

पैट्रिक “बिग स्विस” श्मिड ने अपने जीवन के कई साल मार्शल आर्ट्स को समर्पित किए हैं और अब ग्लोबल स्टेज पर अपने सपने को पूरा करने के इरादे से आगे बढ़ रहे हैं।

गुरुवार, 8 अप्रैल को होने वाला “ONE on TNT I” एक बहुत बड़ा इवेंट है, जिसमें श्मिड और उनके प्रतिद्वंदी राडे ओपाचिच हेवीवेट किकबॉक्सिंग कॉन्टेस्ट के जरिए उत्तर अमेरिकी प्राइम-टाइम टेलीविजन पर छाने को तैयार होंगे।

ये एक धमाकेदार मुकाबला होगा, जिसमें “बिग स्विस” के पास अपने प्रोमोशनल डेब्यू को यादगार बनाने का मौका है।

इस बड़े मुकाबले से पहले यहां जानिए श्मिड के ONE में आने तक के सफर के बारे में।

ज़्यूरिख से न्यूयॉर्क और वहां से वापसी का सफर

34 वर्षीय स्टार का जन्म स्विट्जरलैंड के ज़्यूरिख नाम के शहर में हुआ और वहीं पले-बढ़े हैं। उनके पिता बैंकिंग क्षेत्र में काम करते थे और मां घर पर रहकर उनका और उनकी 3 छोटी बहनों का ख्याल रखती थीं।

श्मिड ने बताया, “हम शहर से बाहरी इलाके में रहते थे, जंगलों के पास। वो अच्छा अनुभव था। हम जंगलों में बाइक चलाने जाते थे और हमेशा माता-पिता की निगरानी में रहने की जरूरत नहीं होती थी।”

“बिग स्विस” पढ़ाई में खास अच्छे नहीं थे। उन्हें बाहर घूमना ज्यादा पसंद था, खेलना पसंद था और मार्शल आर्ट्स से भी जुड़े। बचपन में उन्होंने जूडो और कराटे सीखा था।

जब वो 10 साल के थे, उनके पिता को जॉब ऑफर मिलने के कारण उनका परिवार अमेरिका में न्यूयॉर्क में आकर बस गया। श्मिड ने एक इंटरनेशनल स्कूल में दाखिला लिया, जहां वो अच्छी अंग्रेजी भी सीख सकते थे, लेकिन यहां का माहौल उनके पुराने अनुभव से बहुत अलग था।

वो अभी भी खेलों से जुड़े रहे। सॉकर, अमेरिकी फुटबॉल और टायक्वोंडो में भी हाथ आजमाए, लेकिन उनकी दिनचर्या को कुछ बदलावों की जरूरत थी।

उन्होंने कहा, “हम वेस्टचेस्टर काउंटी में रहते थे, जो न्यूयॉर्क शहर में नहीं आता। वो एक बड़ा नगर था, लेकिन काफी अलग। यूरोप में हमें बाहर जाकर खेलने से कोई नहीं टोकता था। लेकिन न्यूयॉर्क में अकेले बाहर जाने पर लोग पूछने लगते कि, ‘तुम्हारे माता-पिता कहां हैं?'”

“मेरा उधर कोई दोस्त नहीं था क्योंकि आसपास के घरों से ज्यादा बच्चे बाहर नहीं घूमते थे।”

“मैं हमेशा कहता आया हूं कि मैंने अंग्रेजी कार्टून नेटवर्क देखकर सीखी है। हमने स्विट्जरलैंड में इस भाषा को नहीं सीखा था बल्कि टीवी देखकर और लोगों से बात करते हुए सीखा।”

5 साल बाद उनका परिवार वापस ज़्यूरिख लौट गया, जहां श्मिड को एक बार फिर खुद की रहन-सहन के तरीके में बदलाव करने की जरूरत थी।

मार्शल आर्ट्स करियर की शुरुआत हुई

स्विट्जरलैंड वापस आने के बाद श्मिड यहां के माहौल से सामंजस्य नहीं बैठा पा रहे थे। लेकिन 3 साल बाद उन्हें अच्छा महसूस होने लगा और एक बार फिर उनका जीवन स्थिर हो चुका था।

उन्होंने कहा, “मेरे जीवन को दोबारा स्थिर होने में 3 साल लगे। मेरे साथ कई अलग-अलग तरह की घटनाएं घटित हो रही थीं, इस बीच मैंने बिजली के मिस्त्री होने का भी काम किया।”

“ये करीब 2005 की बातें हैं, उस समय मैं 18 साल का था और बस स्टैंड से घर जाते समय मेरी नजर एक खास जगह पर पड़ती। मुझे मार्शल आर्ट्स पसंद था और धीरे-धीरे मेरा लगाव इससे बढ़ता जा रहा था।

“उस जगह सिलेट की ट्रेनिंग दी जाती थी। मेरे कोच हमेश मुझसे कहते, ‘पंच का प्रभाव अलग होता है और किक का अलग,’ इसलिए हम सभी चीजों पर फोकस करते थे। 5 महीने बाद मुझे पहला मैच मिला और उसके बाद मैंने सांडा, सिलेट, किकबॉक्सिंग, बॉक्सिंग और मॉय थाई भी सीखना शुरू किया।”

उनके कोच हफ्ते में केवल 3 दिन ही ट्रेनिंग देते थे, लेकिन ट्रेनिंग उनके जीवन का अभिन्न हिस्सा बन चुकी थी। मैचों में अच्छा करता देख उनके कोच ने उन्हें फुल-टाइम कोचिंग देनी शुरू की।

श्मिड ने कहा, “मुझे लगातार जीतता देख कोच ने कहा, ‘मुझे लगता है कि अब हमें गंभीरता से काम लेना होगा और हर रोज ट्रेनिंग करनी होगी।’ मैंने तुरंत ऑफर को स्वीकार कर लिया और हफ्ते में 6 दिन ट्रेनिंग करने लगा।”

“मुझे पहले मैच से पूर्व की घबराहट याद है, उसके बाद थकान हुई लेकिन अंत में जीत हासिल की। मुझे हार भी मिली हैं, लेकिन सफलता प्राप्त करने के चक्कर में जल्दबाजी हो ही जाती है और आप जल्द से जल्द बड़े स्तर पर परफॉर्म करने के सपने देखने लगते हैं।”



करियर खत्म होते-होते बचा

एमेच्योर करियर से प्रोफेशनल लेवल पर आने तक का श्मिड का रिकॉर्ड शानदार रहा है। इस दौरान उन्होंने कई टाइटल्स भी जीते।

“बिग स्विस” ने 10 महीने थाईलैंड में परफॉर्म करने के दौरान 7 लगातार मैच जीत, इनमें से 5 उन्होंने हाथ के चोटिल रहने के बाद भी जीते थे, अंत में इस वजह से उन्हें स्विट्जरलैंड वापस आना पड़ा। एमेच्योर करियर में उनका सामना कई बार के बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन एंथनी जोशुआ से भी हुआ।

वो दृढ़ता से आगे बढ़ रहे थे, लेकिन 2020 की शुरुआत में उनका करियर समाप्त होने के करीब आ पहुंचा था।

उनके कोच ने उन्हें प्रोफेशनल बॉक्सिंग में हाथ आजमाने को कहा। सब अच्छा चल रहा था, लेकिन तभी एक जांच में पता चला कि उनके दिमाग में खून का प्रवाह सामान्य स्थिति से नहीं दौड़ रहा है।

उन्होंने बताया, “MRI जांच के बाद मुझसे कहा गया कि मेरी रक्त वाहिकाओं में कुछ समस्या है। स्नोबोर्डिंग, बंजी जम्पिंग या कोई भी खेल जिससे मेरा सिर इधर से उधर मूव करे, ऐसी चीजों से मुझे दूर रहना था।”

उनके लिए जैसे सभी चीजें ठहर से गई थीं। 3 महीने तक वो काफी परेशान रहे, उसके बाद उन्होंने एक और स्पेशलिस्ट से राय लेना ठीक समझा।

श्मिड ने कहा, “डॉक्टर ने बताया, ‘ये शायद गलती हुई है।’ उन्होंने एक और MRI जांच की और कहा कि सब ठीक है और घबराने की कोई बात नहीं है।”

“मैं खबर को सुन पागल सा हो गया। मैं खुश था, लेकिन नई जांच के एक हफ्ते बाद ही लॉकडाउन लग गया इसलिए फाइटिंग के रास्ते बंद हो चुके थे। लेकिन मैं अभी भी रुकने को तैयार नहीं था।”

“बिग स्विस” COVID-19 महामारी के कारण फाइट नहीं कर सकते थे, लेकिन तभी ONE Super Series ने उनके सपनों को नई उड़ान दी।

उन्होंने कहा, “मैंने अपने सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की है, लेकिन समय मेरी कठिन परीक्षा ले रहा था।”

“मुझे अंदाजा हुआ कि जब कोई चीज आपके पास नहीं होती तो आप उसे कितना याद करते हैं। इससे मुझे शानदार अंदाज में वापसी का प्रोत्साहन मिल रहा था इसलिए अब मैं अपने वापसी मैच को हर तरीके से यादगार बनाना चाहता हूं।”

ONE में परफॉर्म करना बड़े सम्मान की बात

अब श्मिड अपनी शानदार स्ट्राइकिंग से ONE पर छाने को तैयार हैं।

पहले मैच में उन्हें ओपाचिच की कड़ी चुनौती से पार पाना होगा, जो ONE में लगातार 2 नॉकआउट जीत दर्ज कर चुके हैं। “बिग स्विस” का ध्यान अभी केवल अपनी वापसी को यादगार बनाने पर है।

उन्होंने कहा, “ये मेरे लिए सबसे बड़ी उपलब्धि है। फिलहाल दुनिया में ONE जैसा कोई प्रोमोशन नहीं है। यहां आप अपने सभी सपनों को पूरा कर सकते हैं।”

“मैं एक बार में एक ही चीज पर ध्यान देना चाहता हूं। मैं इस खेल में सफलता प्राप्त करने को लेकर प्रतिबद्ध हूं और आगे बढ़ने के लिए कड़ी मेहनत की है। इसी लम्हे के लिए मैं सालों से खुद को तैयार करता आ रहा हूं।”

ओपाचिच की शानदार लय ने उन्हें ONE Super Series के सबसे उभरते हुए स्टार्स में से एक बना दिया है। श्मिड भी जानते हैं कि ओपाचिच के शानदार मोमेंटम का उन्हें भी बहुत फायदा मिल सकता है।

वो अपनी जीत को यादगार बनाना चाहते हैं, जिससे लोग उन्हें याद रखें और मैचमेकर्स भी उन्हें एक टॉप कंटेंडर के रूप में देखें।

श्मिड ने कहा, “उनके खिलाफ जीत से मुझे अच्छी पहचान प्राप्त होगी।”

“अप्रत्याशित तरीके से कोई भी नॉकआउट हो सकता है, लेकिन अच्छा मुकाबला वही होता है जहां आपके द्वारा कई महीनों की कड़ी मेहनत काम आए। कड़े संघर्ष के बाद आई जीत का अपना अलग महत्व है।”

ये भी पढ़ें: राडे ओपाचिच की हेवीवेट डिविजन को चेतावनी: ‘अब मेरा समय आ चुका है’

किकबॉक्सिंग में और

Elias Mahmoudi Edgar Tabares ONE Fight Night 13 28
Ok Rae Yoon Alibeg Rasulov ONE Fight Night 23 36
Tye Ruotolo Jozef Chen ONE Fight Night 23 32
Kulabdam Sor Jor Piek Uthai Nabil Anane ONE Friday Fights 69 34
OkRaeYoon AlibegRasulov 1920X1280
Kulabdam NabilAnane CeremonialFaceoff 1920X1280
Oumar Kane Marcus Almeida ONE Fight Night 13 95
BoucherKetchup 1200X800
Kulabdam Sor Jor Piek Uthai Wins 1200X800
Oumar Kane Marcus Almeida ONE Fight Night 13 61
Prajanchai PK Saenchai Jonathan Di Bella ONE Friday Fights 68 77
Prajanchai PK Saenchai Jonathan Di Bella ONE Friday Fights 68 48