मैथ्यूस गेब्रियल की दादी ने उन्हें BJJ स्टार बनाया – ‘ये सब मेरी दादी के कारण संभव हो पाया’

MatheusGabriel Grandma Pose 1200X800

मैथ्यूस गेब्रियल शनिवार, 3 दिसंबर को अपने ONE Championship डेब्यू में एक खतरनाक ब्राजीलियन जिउ-जित्सु फाइटर का सामना करने के लिए तैयार हैं।

25 वर्षीय स्टार ONE Fight Night 5 में केड रुओटोलो को उनके ONE लाइटवेट सबमिशन ग्रैपलिंग वर्ल्ड टाइटल के लिए चैलेंज करेंगे और वो जिंदगी भर ऐसे ही अवसर के लिए खुद को तैयार करते रहे हैं।

गेब्रियल अभी तक 2 बार IBJJF वर्ल्ड चैंपियन रहे हैं, लेकिन ONE वर्ल्ड टाइटल जीतना उनकी अभी तक सबसे बड़ी उपलब्धि होगी।

यहां ब्राजीलियाई स्टार के मॉल ऑफ एशिया एरीना में डेब्यू करने से पहले जानिए उनके करियर के संघर्षपूर्ण सफर के बारे में।

सही और गलत में अंतर करना सीखा

गेब्रियल का जन्म ब्राजील के मनाउस में 1997 में हुआ, जहां उन्हें और उनकी बड़ी बहन को दादी ने पाल-पोसकर बड़ा किया।

उनके माता-पिता नौकरी किया करते थे, जिससे अपने बच्चों को गरीबी के अनुभव से दूर रख सकें।

ब्राजीलियाई स्टार ने बताया:

“मेरा बचपन अच्छा रहा। मेरे माता-पिता हमेशा अलग रहे। मैं कुछ समय अपनी मां और कुछ समय पिता के पास रहा, लेकिन दादी मेरे साथ बचपन से रही हैं। मैं दादी द्वारा मिली शिक्षा से ही सही और गलत चीज़ों में अंतर करना सीख पाया हूं।

“मेरा परिवार बहुत विनम्र है, लेकिन हमें कभी गरीबी नहीं झेलनी पड़ी। मेरे पिता अपना काम करते हैं और मां सेल्स की नौकरी करती हैं। उन्होंने मुझे हमेशा सपोर्ट किया है, लेकिन जैसा कि मैंने कहा, वो दादी हैं जिनका मुझे बचपन से सबसे ज्यादा सपोर्ट मिला है।”

कई युवा मार्शल आर्ट्स में ऊंचे लेवल पर पहुंचे हैं, उसी तरह सॉकर और अन्य खेलों में एक्टिव रहने के कारण गेब्रियल का एनर्जी लेवल भी शानदार रहा है और वो अधिकांश समय बाहर बिताया करते थे।

ऐसा नहीं है कि खेलों के कारण वो पढ़ाई में अच्छा नहीं कर रहे थे या उनका व्यवहार गलत था, लेकिन वो हमेशा अपने सिद्धांतों पर आगे बढ़े।

उन्होंने बताया:

“मैं अक्सर अपने दोस्तों के साथ खेलता रहता था। मैं उनके साथ सॉकर खेलता और टैग समेत कई अन्य खेल भी खेलते थे। वो समय बहुत अच्छा था।

“मैं स्कूल के दिनों में बहुत शरारती था और पढ़ाई में ज्यादा मन नहीं लगता था। मेरा स्वभाव चाहे शरारत भरा था, लेकिन मैंने कभी किसी का अनादर या किसी को परेशान नहीं किया और ना ही मुझे दूसरे बच्चों को कमजोर पड़ते देखना पसंद था। मैं अक्सर दूसरे बच्चों को शरारती तत्वों से बचाने के लिए आगे आता था।”

मार्शल आर्ट्स ने अनुशासित रहना सिखाया

गेब्रियल की एनर्जी और व्यवहार को देखते हुए उनकी दादी ने उन्हें BJJ जिम में दाखिला दिलाया।

युवा स्टार को पहले ये खेल अच्छा नहीं लगा, लेकिन जैसे-जैसे उन्होंने ज्यादा ट्रेनिंग की, वैसे-वैसे उनका कॉम्बैट खेलों से लगाव बढ़ता जा रहा था।

उन्होंने बताया:

“मैंने 8 साल की उम्र में जिउ-जित्सु सीखना शुरू किया था। मेरा व्यवहार बेकार होता जा रहा था इसलिए मेरी दादी ने मुझे जिउ-जित्सु जिम में दाखिला दिलाया।

“पहले मुझे ट्रेनिंग अच्छी नहीं लगी क्योंकि मुझे जकड़ने जैसी चीज़ अजीब लगती थी, लेकिन मुझे सॉकर खेलना पसंद था। मगर मेरी दादी ने मुझे ट्रेनिंग के लिए मजबूर किया, लेकिन अंततः मुझे इस खेल से लगाव होने लगा था।”

मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग से गेब्रियल में ना केवल शारीरिक बदलाव बल्कि उनका जीवन जीने का तरीका भी बदलने लगा था।

वो स्कूल में अच्छा कर रहे थे, लड़ाई-झगड़ों से दूर रहते और एक जगह पर ध्यान केंद्रित कर पा रहे थे। वहीं ये सब एक अच्छे भविष्य की शुरुआत थी।

गेब्रियल ने कहा:

“जिउ-जित्सु शुरू करने के बाद मेरे जीवन में अनुशासन ने खास जगह बना ली थी और मैं पढ़ाई में भी अच्छा करने लगा था।

“मुझे जिउ-जित्सु से लगाव हुआ, जिसकी वजह से मुझे अनुशासित रहने में मदद मिली। मेरे अंदर दूसरों के प्रति सम्मान बढ़ने लगा था और जब मैंने सफर करना शुरू किया, तब मेरी पहली ट्रिप भी जिउ-जित्सु के कारण आई थी।

“मैं सोचता था कि मैं पूरे ब्राजील का भ्रमण करूंगा। उस समय मैंने फाइटिंग करने का सपना भी नहीं देखा था, खासतौर पर अपने देश से बाहर। मुझे लगता था कि उस समय मेरा जीवन बहुत अच्छा बीत रहा था।”

अपने टैलेंट के जरिए आगे बढ़े 

गेब्रियल के जुनून और प्रतिबद्धता ने उन्हें एक अच्छा स्टूडेंट और फाइटर बनाया।

उनकी BJJ में सफलता को एक बड़े प्रोमोशन ने परखा, जो युवा एथलीट्स को बड़े प्लेटफॉर्म पर छाने का मौका देती थी। 15 साल की उम्र में वो पूरा समय ट्रेनिंग को समर्पित करने के लिए ब्राजील की राजधानी रियो डी जेनेरियो आ गए।

अब उन्हें पैसों के लिए ज्यादा परेशान नहीं होना पड़ रहा था इसलिए वो अपना पूरा ध्यान ट्रेनिंग पर लगाकर अपने करियर में आगे बढ़ने पर दे सकते थे।

गेब्रियल ने कहा:

“मैंने प्रोफेसर मार्सियो रोड्रीगेज़ द्वारा चालाए गए एक सोशल प्रोजेक्ट के अंडर ट्रेनिंग शुरू की। उस प्रोजेक्ट में उनके पास ब्राजील के हर राज्य से एक एथलीट था। इसमें मैंने लूक ‘हल्क’ बारबोसा और इरबर्थ सेंटोस समेत कई अन्य BJJ वर्ल्ड चैंपियंस से मुलाकात की।

“मेरे परिवार के पास पैसे नहीं थे इसलिए मैंने पैसा कमाने के लिए नाइटक्लब में नौकरी शुरू की। इस प्रोजेक्ट में हमें खाने-पीने की चीज़ें मिल रही थीं, चैंपियनशिप्स के लिए रजिस्ट्रेशन की भी हमें परेशानी नहीं थी, लेकिन अन्य चीज़ें हमें खुद करनी थीं।”

कुछ सालों के बाद इस प्रोजेक्ट को फंडिंग नहीं मिल पा रही थीं इसलिए गेब्रियल को वापस घर लौटना पड़ा, लेकिन उनका टैलेंट अब लोगों को दिखने लगा था।

कुछ समय बाद ही उन्हें Exclusive BJJ नाम के जिम से जुड़ने का मौका मिला, जिसके तहत उन्हें अमेरिका में ट्रेनिंग का अवसर प्राप्त हुआ।

उन्हें अपनी दादी का साथ मिल रहा था इसलिए वो अपने सपनों को पूरा करने के लिए अमेरिका आ गए, जहां उन्होंने खूब सफलता प्राप्त की।

गेब्रियल ने कहा:

मैं Exclusive BJJ टीम और उनके कोच जोआ पाउलो बर्तुचेली का हमेशा आभारी रहूंगा। ये स्पॉन्सरशिप मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण थी और इस पहले स्पॉन्सर के कारण मुझे अच्छा पैसा कमाने को मिला। पैसा सीधा मेरे ब्राजील के अकाउंट में गया, लेकिन मैंने इसका इस्तेमाल नहीं किया क्योंकि मैं परिवार की मदद करना चाहता था।

“उन्हीं के साथ के कारण मैं अपने लक्ष्य तक पहुंच पाया। मैं पर्पल से ब्लैक बेल्ट होल्डर और BJJ वर्ल्ड चैंपियन बनने तक उनके साथ जुड़ा रहा।

“मैं अमेरिका में फाइट कर पाया और अब अमेरिका में जिउ-जित्सु की ट्रेनिंग दे रहा हूं। ये सब मेरी दादी के कारण संभव हो पाया। मैं जब भी कोई फाइट जीतता, मैं भगवान के साथ दादी का भी शुक्रिया अदा करता। अपने पिछले कॉम्पिटिशन में मैंने 20 हजार यूएस डॉलर्स जीते और ये सारा पैसा मैंने दादी को दे दिया था।”

ग्लोबल स्टेज पर वर्ल्ड चैंपियन बनना है लक्ष्य

गेब्रियल इस समय BJJ के सबसे उभरते हुए स्टार्स में से एक हैं। वो अगर रुओटोलो को हराकर ONE लाइटवेट सबमिशन ग्रैपलिंग वर्ल्ड चैंपियन बन पाए तो उनका करियर उन्हें एक नए मुकाम पर ले जाएगा।

Prime Video Sports पर यूएस प्राइमटाइम पर आने वाले इस मैच पर लाखों लोगों की नजर होगी और ब्राजीलियाई स्टार इस बड़े मंच के जरिए दुनिया भर में अपनी छाप छोड़ना चाहते हैं।

उन्होंने कहा:

ONE Championship से जुड़ना मेरे लिए सम्मान की बात रही। ये मेरे करियर का एक अहम चरण है। ONE Championship दुनिया के सबसे बड़े मार्शल आर्ट्स प्रोमोशंस में से एक है।

“ग्रैपलिंग डिविजन अभी नया है, लेकिन इसमें गैरी टोनन और रुओटोलो ब्रदर्स जैसे बड़े नाम शामिल हो चुके हैं। उनके साथ परफॉर्म करना मेरे लिए सम्मान का विषय होगा और ONE का हिस्सा बनकर खुश हूं।

“मेरे साथ यहां कई MMA और ग्रैपलिंग लैजेंड्स काम कर रहे हैं इसलिए मैं अगर ONE वर्ल्ड चैंपियन बन पाया तो मुझे बहुत खुशी होगी। मैं अपने सबमिशन गेम पर निर्भर करूंगा इसलिए मैं सबमिशन से जीत दर्ज कर बेल्ट अपने नाम करूंगा।”

सबमिशन ग्रैपलिंग में और

Danielle Kelly in the Circle against Mariia Molchanova
Mikey Musumeci holds Gantumur Bayanduuren leg at ONE Fight Night 6
Evolve BJJ Class Air Squats 1298X834
Superbon Singha Mawynn and Chingiz Allazov attacks each other
Superbon Singha Mawynn Chingiz Allazov ONE Fight Night 6 1920X1280 98
Referee declares Mikey Musumeci winner against Gantumur Bayanduuren at ONE Fight Night 6
Superbon ChingizAllazov Faceoff OFN6 1920X1280
267626401_455098189352410_8650012728357103411_n.v1
Superbon Singha Mawynn celebrating his win
Mikey Musumeci Cleber Sousa ONE on Prime Video 2 1920X1280 56
GantumurBayanduuren SubGrappling 1200X800
Mikey Musumeci Cleber Sousa ONE on Prime Video 2 1920X1280 65