विशेष कहानियाँ

कठोर प्रशिक्षण ने जियोर्जियो पेट्रोसियन को बनाया और बेहतर

अक्टूबर 3, 2019

एरम्स डि फ्रांसेस्का एक घरेलू नाम नहीं हो सकता है लेकिन यह जियोर्जियो पेट्रोसियन “द डॉक्टर” के पुनर्जीवन और ONE चैम्पियनशिप की सफलता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहे हैं।

13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में ONE: CENTURY PART II पर ​​किकबॉक्सिंग सुपरस्टार अपने फेदरवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड ग्रां प्री फाइनल मुकाबले में सैमी सना “एके47” के खिलाफ अपने कोच के कठोर और वैज्ञानिक दृष्टिकोण से प्रशिक्षण में ताकत को शिखर पर पहुंचाएंगे।

पेट्रोसियन ने अपने करियर को सही दिशा देने के लिए डि फ्रांसेस्का को श्रेय दिया। वो कहते हैं कि उनके बिना वो अपने करियर में हासिल की गई ऊंचाइयों तक नहीं पहुंच सकते थे। उनकी साझेदारी से पहले पेट्रोसियन मानसिक और शारीरिक रूप से सही स्थिति में नहीं थे। उसे अपने करियर को सही दिशा देने के लिए अपने जीवन में कुछ कठोर बदलाव करने की जरूरत थी।

“द डॉक्टर” बताते हैं कि “इस दौरान मैं एक दौर से गुजरा। इसके बारे में सोच-सोच कर ही मैं ना तो नींद ले पा रहा था ना ही प्रशिक्षण पर ध्यान केन्दि्रत कर पा रहा था। मैं इस परेशानी से निकलकर पहली और सबसे बड़ी और नई जगह मिलान पहुंचा, जहां मेरा भाई और मैंने ने जिम में प्रशिक्षण शुरू किया। मैं अपने नए कोच एरम्स डि फ्रांसेस्का से मिला। जिन्होंने मुझे नए सिरे से प्रेरणा और नई शुरुआत दी।”

डि फ्रांसेस्का इतालवी मार्शल आर्ट प्रदर्शन भूमि में सम्मानित व्यक्ति हैं जिन्होंने किकबॉक्सिंग और मुक्केबाजी में 25 साल से अधिक समय से अपना प्रशिक्षण शुरू किया था। उन्होंने दोनों विषयों में प्रतिस्पर्धा की लेकिन ज्यादातर “स्वीट सांइस” पर ध्यान केंद्रित किया। जब तक कि चोट ने उनकी प्रतिस्पर्धी उम्मीदों को रोक नहीं दिया।

मिलान मूल निवासी अपने जीवन के इस जुनून को भुला नहीं सकता। वह वापसी करना चाहता था। उनके विश्लेषणात्मक दिमाग और निरंतर ज्ञान पाने की लालसा ने उन्हें एक कोच के रूप में दूसरों की मदद करने के लिए प्रोत्साहित किया। वो अगली पीढ़ी के कौशल से संतुष्ट नहीं थे। फिट स्क्वायर बॉक्सिंग टीम के लीडर का मानना ​​था कि उनके एथलीटों में से सर्वश्रेष्ठ चुनने के लिए शरीर रचना का ज्ञान महत्वपूर्ण था। इसलिए उन्होंने तकनीकी और शारीरिक प्रशिक्षण के सम्मिश्रण के लिए एक अद्वितीय प्रतिष्ठा विकसित की।

डि फ्रांसिस्का ने विभिन्न विषयों में चैंपियन को एक व्यवस्था में ढाला है। इसलिए जब “डॉक्टर” अपने घर शहर में चले गए तो उन्हें टीम पेट्रोसियन में शामिल किया गया। वे बताते हैं कि “मैं एक समारोह के दौरान जियोर्जियो से मिला। उनके कोच बनने से पहले मैं उनका प्रशंसक रहा हूं। फिर 2014 में उनके मैनेजर की मदद से हमने कलैबरेशन किया। उनके प्रबंधक ने मुझे बताया कि जियोर्जियो मिलान में जाने वाला था और उसे एक कोच की जरूरत थी। मुझे इस काम के लिए अनुमति मिल गई।”



पेट्रोसियन को चोट के कारण एक लंबी छंटनी का सामना करना पड़ा था लेकिन डि फ्रांसेस्का के वैज्ञानिक दृष्टिकोण के कारण उसने जल्द ही वापसी की। वे कहते हैं कि “सबसे पहले मैंने जियोर्जियो पर के कुछ टेस्ट किए। क्योंकि वह हाथ की चोट के कारण एक साल तक बाहर रहे थे।

“यह एक पूर्ण संपर्क खेल है जहां दर्दनाक चोटें एक लड़ाई के बाद अध्ययन के लिए होती हैं। प्रशिक्षक का काम एथलीटों को स्वस्थ रखने की कोशिश करना है। इसलिए एक कोच के रूप में किसी भी दर्द को महसूस किए बिना उसे प्रशिक्षित करने के लिए सक्षम करना था।”

पेट्रोसियन के स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित किया गया था। इसलिए जब वह फिर से रिंग में प्रवेश करने के लिए सही स्थिति में वापस आया तो वह पहले की तुलना में अधिक तंदुरुस्त था। इससे उसे मानसिक बढ़ावा मिला। अपने दिमाग को फिर से जीवंत करने के साथ वह और अधिक प्रतिस्पर्धा और सफलता हासिल करने के लिए पहले से कहीं अधिक प्रेरित था। उन्होंने उस रूप को दोबारा हासिल किया जो उन्हें शीर्ष पर ले गया।

अब पांच साल बाद वह पहले से बेहतर हैं और अपने खेल के इतिहास में सबसे बड़े पुरस्कार का दावा करने के लिए तैयार हैं। उनके कोच ने निस्संदेह उनके करियर के सबसे निचले पायदान से ऊपर तक पहुंचाने अहम भूमिका निभाई है। वे उच्चतम स्तर पर निरंतर सफलता के लिए अर्मेनियाई-इतालवी की प्रतिभा, साहस और दृढ़ संकल्प को श्रेय देते हैं।

डि फ्रांसेस्का बताते हैं कि “जियोर्जियो सबसे ऊपर है। कुशल कौशल के कारण वह एक अच्छा फाइटर है। उन्होंने मुक्केबाजी, मॉय थाई और किकबॉक्सिंग सहित विभिन्न मार्शल आर्ट का अभ्यास करके वर्षों से अपने खेल-विशिष्ट संचालक कौशल को ठीक किया है। वह एक ऐसा एथलीट है जिसने कई तरह की चुनौतियों का सामना करने के बावजूद कभी हार नहीं मानी।

“बलिदान की भावना, खेल में हमेशा शीर्ष पर रहने का दृढ़ संकल्प- यह कुछ ऐसा है जो स्पष्ट रूप से उनके अंदर है। मैं उसे शीर्ष पर बने रहने के लिए साधन देने पर ध्यान केंद्रित करता हूं। ”

ये भी पढ़ें: जियोर्जियो पेट्रोसियन कैसे बने ‘डॉक्टर’

टोक्यो | CENTURY | ONE Championship का 100वां लाइव इवेंट | टिकट: Purchase here

  • यूएसए में PART I 12 अक्टूबर को 8 ईएसटी पर और PART II 13 अक्टूबर को सुबह 4 बजे ईएसटी पर देखें
  • भारत में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 5:30 बजे IST और PART II 1:30 बजे IST पर देखें
  • जापान में PART I को 13 अक्टूबर को सुबह 9 बजे JST और PART II को शाम 5 बजे JST में देखें
  • इंडोनेशिया में PART I को 13 अक्टूबर को सुबह 7 बजे WIB और PART II 3pm WIB पर देखें
  • सिंगापुर में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 8 बजे एसजीटी और PART II 4 बजे एसजीटी पर देखें
  • फिलीपिंस में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 8 बजे पीएचटी और PART II 4 बजे पीएचटी पर देखें

ONE: CENTURY इतिहास की सबसे बड़ी विश्व चैम्पियनशिप मार्शल आर्ट्स प्रतियोगिता है जिसमें 28 विश्व चैंपियनशिप विभिन्न मार्शल आर्ट्स का प्रदर्शर करेंग। इतिहास में किसी भी संगठन ने कभी भी एक ही दिन में दो पूर्ण पैमाने पर विश्व चैम्पियनशिप के आयोजनों को बढ़ावा नहीं दिया।

13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में प्रसिद्ध रयोगोकु कोकुगिकन में कई वर्ल्ड टाइटल मुकाबलों, वर्ल्ड ग्रां प्री चैंपियनशिप फाइनल की एक तिकड़ी और कई वर्ल्ड चैंपियन बनाम वर्ल्ड चैंपियन मैच के साथ-साथ The Home Of Martial Arts नई जमीन तलाश करेगा।