विशेष कहानियाँ

ONE: MARK OF GREATNESS के सितारों के टॉप-5 प्रदर्शन

नवम्बर 27, 2019

ONE: EDGE OF GREATNESS के बाद अब ONE चैंपियनशिप का ध्यान 6 दिसंबर को होने वाले ONE: MARK OF GREATNESS पर केंद्रित हो गया है। कुआलालंपुर, मलेशिया में होने वाले इस इवेंट में फैंस को कई नए चेहरे देखने को मिलने वाले हैं।

कुछ नए चेहरों के साथ-साथ काफी ऐसे योद्धा भी इस इवेंट का हिस्सा हैं जो हमेशा से फैन फेवरेट रहे हैं। इसलिए यहाँ हम ONE: MARK OF GREATNESS के सितारों के टॉप-5 प्रदर्शन से आपको अवगत करवाने वाले हैं।

यह भी पढ़ें: 5 चीजें जो हमें ONE: EDGE OF GREATNESS से सीखने को मिलीं

#1 रामज़ानोव ने बैंकॉक को हैरान किया

पिछले साल अक्टूबर में अपने ONE सुपर सीरीज डेब्यू में रूस के अलावेर्दी रामज़ानोव ”बेबीफेस किलर” ने थाईलैंड के पेटमोराकोट पेटयिंडी एकेडमी को उनके ही घरेलू दर्शकों के सामने हराया था।

पहले तो रामज़ानोव ने थाईलैंड के फाइटर को लो किक्स से लगातार परेशानी में डाले रखा और फिट बेहतरीन पंचिंग कॉम्बिनेशन से उन्होंने दुनिया को अपने स्किल और मूव सेट से अवगत कराया। साथ ही उन्होंने कुछ जोरदार एल्बोज लगाने में भी कोई हिचक नहीं दिखाई थी।

दूसरे राउंड में पेटमोराकोट की एल्बो एकदम सटीक निशाने पर जाकर लगी थी जिससे उन्हें लगने लगा था कि अब उनकी जीत पक्की हो चुकी है लेकिन रामज़ानोव किसी तरह बाउट को तीसरे राउंड तक ले जाने में सफल रहे और आखिर में तीन जजों ने उन्हें विजेता घोषित किया।

पिछले एक साल में रामज़ानोव ने अपने प्रदर्शन में काफी सुधार किया है और इसी का नतीजा है कि ONE: MARK OF GREATNESS में उन्हें झांग चेंगलोंग के खिलाफ ONE बेंटमवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन बनने का मौका मिल रहा है।

#2 जिहिन के पास स्टार बनने की काबिलियत

पिछले साल जुलाई में जब जिहिन राडज़ुआन का सामना प्रिसिला हरटाटी लुम्बन गॉल से हुआ था और इस एक फाइट के जरिए ही उन्होंने दर्शा दिया था कि उनमें मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स का स्टार बनने की काबिलियत है।

हालांकि जिहिन के पास उस समय अपनी प्रतिद्वंदी से काफी कम अनुभव था लेकिन उन्होंने बिना डरे इस चुनौती का डटकर सामना किया।

जिहिन को अपनी बेहतरीन ग्रैपलिंग स्किल्स का फायदा पहुंचा और फाइट के शुरुआती दौर में उन्होंने प्रिसिला को टेकडाउन कर बाउट पर अपनी पकड मजबूत कर ली।

एकतरफा अंदाज में उन्होंने कई बार अपनी प्रतिद्वंदी पर सब्मिशन लगाने का प्रयास भी किया और आखिर में उन्हें तीसरे राउंड के बाद विजेता घोषित किया गया था।

अब उनका रिकॉर्ड 5-1 का है और ONE: MARK OF GREATNESS में डेनिस जंबोअंगा का सामना करना है और इस जीत से वो विमेंस एटमवेट वर्ल्ड टाइटल की ओर एक और कदम आगे बढ़ा देंगी।

#3 अगिलान थानी के करियर की नई शुरुआत

अगिलान थानी “एलीगेटर” अपने करियर में संघर्ष कर रहे थे लेकिन इसी साल जुलाई में जब उनका सामना योशिहिरो अकियामा से हुआ तो उनके करियर को एक नई शुरुआत मिली थी।

मलेशियाई फैंस के हीरो अगिलान को पता था कि उन्हें जीत के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा और इसी बात को ध्यान में रखते हुए उन्होंने अपनी बॉक्सिंग स्किल्स से योशिहिरो के सामने कड़ी चुनौती पेश की।

हालांकि योशिहिरो ने भी अपनी आक्रामकता से थानी पर लगातार दबाव बनाए रखा लेकिन मलेशियाई स्टार ने जबरदस्त वापसी करते हुए टेकडाउन करने शुरू कर दिए। आखिरकार एक संघर्षपूर्ण फाइट के बाद थानी को राहत की सांस मिली क्योंकि कई बार हारने के बाद उन्हें यह जीत मिली थी।

ONE: MARK OF GREATNESS में अब वो मोहम्मद काराकी से भिड़ने वाले हैं जिससे उन्हें वेल्टरवेट डिवीजन का नया स्टार बनने में मदद मिलेगी।

#4 म्यांमार के नए स्टार टिअल थांग

म्यांमार के थुवुन्ना इंडोर स्टेडियम में क्राउड़ की प्रतिक्रिया ऐसी होती है जो बड़े-बड़े स्टार एथलीट्स को भी घुटने टेकने पर मजबूर कर सकती है। अपने मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स डेब्यू में म्यांमार के टिअल थांग ने इसी क्राउड़ का फायदा उठाते हुए जीत दर्ज की थी।

4 बार के चिन स्टेट रैसलिंग चैंपियन से लोग उम्मीद कर रहे थे कि वो ग्रैपलिंग पर ज्यादा ध्यान देंगे लेकिन फाइट के दौरान वो स्ट्राइक करने में एक बार भी नहीं हिचके।

पहले राउंड में टिअल को काफी चोट पहुंची और इस वजह से दूसरे राउंड में उन्हें अपना पूरा प्लान बदलना पड़ा। तकनीक में बदलाव से थांग को काफी फायदा हुआ और वो आंग ला न संग पर जोरदार पंच, एल्बो और नी लगाने में भी सफल साबित हो रहे थे।

अब डेब्यू के बाद 9 महीने में उन्होंने खुद में काफी सुधार किया है और उन्हें उम्मीद है कि किम वून क्यूम “द किड” के खिलाफ उनकी जीत तय है।

#5 इलयास महमूदी की स्ट्राइकिंग स्किल्स के सामने टिक पाना मुश्किल

इस साल जनवरी में इलयास महमूदी ने युकीनोरी ओगासवारा पर धमाकेदार जीत हासिल की थी। बेहतरीन स्ट्राइकिंग स्किल्स के साथ-साथ इलयास स्पिन बैक एल्बोज और किक्स लगाने में महारथ रखते हैं।

दूसरे राउंड की शुरुआत में ही इलयास ने कुछ जोरदार पंच लगाते हुए ओगासवारा को नॉकआउट कर दिया था।

अब ONE: MARK OF GREATNESS में देखना दिलचस्प होगा कि लर्डसीला फुकेत किस तरह इलयास के आक्रामक मूव्स का सामना करते हैं।

यह भी पढ़ें: 5 तरीके जिनसे क्रॉसफिट आपकी मार्शल आर्ट्स स्किल्स में सुधार ला सकता है