लाइफ स्टाइल

जापान में सबसे लोकप्रिय तीन मार्शल आर्ट्स शैलियां

सितंबर 27, 2019

जापान में मार्शल आर्ट्स को दुनिया भर में उसके “बुशिडो” गुणों के प्रति निष्ठा, अनुशासन, करुणा और कर्तव्य के प्रति समर्पण के लिए बहुत सम्मान दिया जाता है।

जापानी मार्शल आर्ट सामंती युग में समुराई योद्धाओं के साथ शुरू हुआ था, लेकिन उसके बाद से उसमें लगातार विकास हुआ और आधुनिक दुनिया में इसका नया प्रारूप सामने आ गया।

जैसे की जापान के टोक्यो में ONE: CENTURY का आयोजन नजदीक आ रहा है। तो चले जापान की तीन सबसे प्रसिद्ध मार्शल आर्ट पर शैलियों के बारे में जानते हैं जो आधुनिक दौर की कसौटी पर बाहें ताने खड़ी हैं और व्यापक रूप से प्रचलित हैं।

कराटे

Hiroki Akimoto

कराटे शायद सभी जापानी मार्शल आर्ट कलाओं में सबसे प्रतिष्ठित है। यह उस समय से प्रभाव में है जब ओकिनावा द्वीप ने पहली बार व्यापार के शुरुआती दिनों में चीन की कुंग फू कला को ग्रहण किया था। जैसे-जैसे ये कलाएं विकसित हुई, वैसे ही कराटे के रूप में सामने आ गया।

कराटे का जापानी शाब्दिक अर्थ “एमपीटी हैंड” होता है। इसमें आक्रामक और रक्षात्मक तकनीकों दोनों के लिए पंच, किक, स्ट्राइक और ब्लॉक का उपयोग किया जाता है। कराटे की चालें प्रत्यक्ष और तेज़ होती हैं। इसमें प्रतिद्वंद्वी की कमजोरी का फायदा उठाने के लिए काउंटर हमलों का उपयोग करने पर जोर दिया जाता है।

कराटे का प्रशिक्षण लेने वाले अपने शरीर के हर हिस्से को एक हथियार के रूप में तैयार करते हैं और एक विशिष्ट लक्ष्य पर यथासंभव शक्तिशाली हमला करते हैं। यह अभ्यास किसी एक की स्ट्राइकिंग की एकाग्रता को संपर्क के एक बिंदु में बदल देता है और यह मेई यामागुची “वी.वी.”, हिरोकी सुजुकी और हिरोकी अकीमो सहित कई ONE सुपरस्टार्स के लिए खासा मददगार रहा है।

स्थापना के बाद से इस शैली का चलन काफी बढ़ा है। वर्तमान में दुनिया भर में करीब 60 मिलियन लोग कराटे का अभ्यास करते हैं। वर्ल्ड कराटे फेडरेशन मुख्य शासी निकाय है और कराटे को ओलंपिक मान्यता प्राप्त खेल बनाने में मदद करता है। इतिहास में पहली बार वर्ष 2020 में टोक्यो में होने वाले ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में ओकिनावा मार्शल आर्ट को शामिल किया जाएगा।

इसके अलावा, पॉप संस्कृति में कराटे जापानी मार्शल आर्ट फिल्मों में दिखाए जाने वाले सबसे लोकप्रिय विषयों में से एक है। जैकी चैन की एक्शन फिल्मों ने यामागुची को अनुशासन में प्रशिक्षण शुरू करने के लिए प्रेरित किया है।

जूडो

Ayaka Miura

जूडो एक आत्म-रक्षा जूझ कला है जो समुराई जुजुत्सु से विकसित हुई है। मध्यकाल के अंत और समुराई के बाद की गिरावट के बाद जुजुत्सु का महत्व काफी कम हो गया।

पश्चिमी संस्कृति के प्रभाव में आने के दौरान जिगोरो कानो के समय पर हस्तक्षेप के कारण जापानी मार्शल आर्ट खत्म नहीं हुआ था। कानो ने 1882 में खेल को पुनर्जीवित और लोकप्रिय बनाया और अब उन्हें जूडो के संस्थापक के रूप में जाना जाता है।

जापानी भाषा में जुडो शब्द का अर्थ “जेंटल वे” होता है। जैसे जुडोका अपने विरोधियों के खिलाफ अपनी व्यक्तिगत ताकत पर भरोसा करने के बजाय विरोधियों की ताकत का इस्तेमाल करते हैं।

जूडो में में मुख्य लक्ष्य अपने प्रतिद्वंद्वी को मैदान में फेंकना या दूर ले जाना है और उसे चित करना होता है। ग्रिप और थ्रो जैसे हमलों को त्वरित और सटीक करना होता है। इसका पूरा फोकस एक विरोधी के सबसे कमजोर बिंदु पर होता है।

आज दुनिया भर में जूडो का अभ्यास किया जाता है। 190 से अधिक देश अंतर्राष्ट्रीय जूडो महासंघ में पंजीकृत हैं। इसे 1964 में टोक्यो ओलंपिक में एक आधिकारिक ओलंपिक खेल के रूप में मान्यता दी गई थी। इसके लिए प्रयास करने के लिए कानो का आभार जताया जाता है।

इसके अलावा, अयाका मिउरा, शिन्या एओकी “तोबीकान जुडान” और योशिहिरो अकियामा “सेक्सी यामा” जैसे नायक गर्व के साथ इस कला का प्रतिनिधित्व करते हैं। जूडो की लोकप्रियता लगातार बढ़ती रहेगी।

एकिडो

एकिडो एक और अत्यधिक लोकप्रिय अनुशासन है और इसे जापानी आत्मरक्षा मार्शल आर्ट में से एक माना जाता है। मोरीही उशीबा ने ऐकिडो के इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कला को अधिक जुझारू मार्शल आर्ट के शांतिपूर्ण विकल्प के रूप में विकसित किया।

वह चाहते थे कि विशेषज्ञ अपने हमलावरों को बहुत नुकसान या जोखिम में डाले बिना खुद का बचाव करें। यह कला यह समझाने में मदद करती है कि एकिडो तकनीक में कलाई और हाथ-संयुक्त रूप से क्यों शामिल होते हैं।

कई एकिडो टूर्नामेंट होते हैं और रीका इशिगे जैसे सितारों ने अपने बुलियन पर काबू पाने में मदद करने के लिए मार्शल आर्ट का अभ्यास किया। एक प्रतिद्वंद्वी को नियंत्रित करने के लिए शैली की आत्मरक्षा और सद्भाव पर जोर होता है। यही कारण है कि जापानी समाज के सदस्यों ने मार्शल आर्ट को गले लगाया है।

आप देख सकते हैं कि जब वह ONE: CENTURY PART I में प्रतियोगिता में लौटेंगी तो इशिगे इस कला में अपने कौशल का प्रदर्शन करेगी। उनके अलावा यामागुची और एकोई अपनी क्षमताओं को ONE: CENTURY PART II में कुछ घंटे बाद प्रदर्शित करेंगे।

ONE: CENTURY | ONE Championship का 100 वां लाइव इवेंट | टिकट खरीदने के लिए यहां क्लिक करें

  • जापान में PART I को 13 अक्टूबर को सुबह 9 बजे JST और PART II को शाम 5 बजे JST में देखें
  • इंडोनेशिया में PART I को 13 अक्टूबर को सुबह 7 बजे WIB और PART II 3pm WIB पर देखें
  • सिंगापुर में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 8 बजे एसजीटी और PART II 4 बजे एसजीटी पर देखें
  • फिलीपिंस में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 8 बजे पीएचटी और PART II 4 बजे पीएचटी पर देखें
  • भारत में PART 1 13 अक्टूबर को सुबह 5:30 बजे IST और PART II 1:30 बजे IST पर देखें
  • यूएसए में PART I 12 अक्टूबर को 8 ईएसटी पर और PART II 13 अक्टूबर को सुबह 4 बजे ईएसटी पर देखें

ONE: CENTURY इतिहास की सबसे बड़ी विश्व चैम्पियनशिप मार्शल आर्ट प्रतियोगिता है जिसमें 28 विश्व चैंपियनशिप विभिन्न मार्शल आर्ट शैलियों का प्रदर्शन करेंगे। इतिहास में किसी भी संगठन ने कभी भी एक ही दिन में दो पूर्ण पैमाने पर विश्व चैम्पियनशिप इवेंट आयोजित नहीं किए हैं।

13 अक्टूबर को जापान के टोक्यो में प्रसिद्ध रोयोगोकू कोकूगिकन में कई वर्ल्ड टाइटल मुकाबलों, वर्ल्ड ग्रां प्रिक्स चैंपियनशिप फाइनल की एक तिकड़ी और कई वर्ल्ड चैंपियन बनाम वर्ल्ड चैंपियन मैच लाने के साथ The Home Of Martial Arts नई जमीन पर दस्तक देगा।

और लोड करें

Stay in the know

Take ONE Championship wherever you go! Sign up now to gain access to latest news, unlock special offers and get first access to the best seats to our live events.
By submitting this form, you are agreeing to our collection, use and disclosure of your information under our Privacy Policy. You may unsubscribe from these communications at any time.